सही दिशा- वास्तु शास्त्र से घर में शौचालय Toilet कहां पर बनवाये ? Right Direction of toilet in the house from Vastu Shastra

Toilet / latrine kis disha me banana chahiye ? अभी अपना घर का निर्माण करते हैं तो हमेशा हमें इस बात का ध्यान देना होगा कि कौन सी चीज कहां पर बनाने से हमारे घर में किसी प्रकार की वास्तु दोष की समस्या उत्पन्न तो नहीं होगी इसलिए अगर आप भी अपने घर का निर्माण कर रहे हैं और सोच रहे हैं कि घर में शौचालय यानी शौचालय कहां पर क्योंकि गलत दिशा में बनाई गई | Toilet ki seat kis disha me rakhe ? vastu shastra ke mutabik shauchalaya kidhar bnana chahiye ?

घर में शौचालय किस दिशा में होना चाहिए, आग्नेय कोण में शौचालय के उपाय, पश्चिम मुखी घर में शौचालय, स्नानघर किस दिशा में होना चाहिए, रसोई घर किस दिशा में होना चाहिए, शौच करते समय मुख किस दिशा में होना चाहिए, मॉडल शौचालय का नक्शा, बाथरूम किस दिशा में होना चाहिए, वास्तु शास्त्र के अनुसार स्नानघर किस दिशा में होना चाहिए, किचन किस दिशा में होना चाहिए, वास्तु शास्त्र के अनुसार शौचालय किस दिशा में होना चाहिए, आग्नेय कोण में शौचालय उपाय, बाथरूम किस दिशा में होना चाहिए, ईशान कोण में शौचालय के उपाय, वास्तु टिप्स फॉर टॉयलेट सीट इन हिंदी, किस दिशा में नहाना चाहिए, toilet kis disha me banaye , toilet kaise banaye , toilet ki seet kaisee rakhe , toilet seet price , vastru shastra se toilet kis disha me hona chahiye ,

चीजों से आपके घर के ऊपर गलत दुष्प्रभाव पड़ता है इसलिए अगर आप नहीं जानते हैं कि घर में शौचालय यानी लैट्रिन कहां बनाने से आपको किसी प्रकार के आर्थिक परेशानी और तकलीफों का सामान्य करना पड़ेगा तो मैं आज आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताऊंगा कि घर में latreen कहां और कैसे बनाएं? आइए मैं उसके बारे में आपको बताता हूं-

घर में शौचालय किस दिशा में बनवाना चाहिए ? In which direction should the toilet be built in the house?

पहले के समय में शहर और ग्राम में लोगों का विश्वास था कि लेकिन हमेशा घर के बाहर होना चाहिए क्योंकि घर में देवी देवताओं का वास होता है और ऐसे में इन चीजों को घर में रखने से अनेकों प्रकार की तकलीफ और कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था लेकिन बदलते वक्त के साथ आज के इस दौर में कई लोग अपने घर के अंदर ही लैट्रिन यानी शौचालय का निर्माण करते हैं |

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 735 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

अपना भाग्य कैसे देखें ? भविष्य जानने की 10 तरीके Apna future kaise jane
घुटनों के दर्द में दही खाना चाहिए या नहीं ? क्या खायें क्या नहीं जाने | ghutno ke dard me dahi khana chahiye ya nhi
( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

लेकिन वह एक चीज की गलती करते हैं जिनके कारण को काम काफी आर्थिक परेशानी और मानसिक रूप से कई चीजों का उन्हें सामना करना पड़ता है। आप जब भी अपने घर में लैट्रिन बनाए तो उसकी दिशा का विशेष ध्यान दें क्योंकि घर के वास्तु शास्त्र में शौचालय की दिशा क्या होनी चाहिए उसका भी उल्लेख किया गया है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार शौचालय घर के दक्षिण – पश्चमी दिशा के बीच में बनवाना चाहिए।वास्तु के अनुसार शौचालय की दिशा यही है। शौचालय वास्तु के अनुसार इस दिशा में शौचालय बनवाना लाभकारी होता है।


अगर शौचालय सही दिशा में ना हो तो क्या होगा ? What happens if the latrine is not in the right direction

osir news
  • घर वालों के बीच में आपसी मनमुटाव होता है।
  • अगर आपने नहीं शादी किए तो आपके रिश्ते आपके पत्नी के साथ खराब रहेंगे
  • व्यापार में हानि होती है
  • अगर नौकरी करते हैं तो उसमें अनेकों प्रकार के दिक्कत परेशानी का आपको सामना करना पड़ेगा
  • परिवार के लोग और स्वयं भी आप किसी बीमारी से पीड़ित रहेंगे
  • आप में आत्मविश्वास की कमी रहेगी।

वास्तु शास्त्र के अनुसार लैट्रिन (शौचालय) किस दिशा में होना चाहिये ?  According to Vastu Shastra, in which direction should the latrine (toilet) be located?

घर में हमेशा लैट्रिन यानी शौचालय वास्तु शास्त्र में उल्लेख किए गए दिशा के अनुसार होना चाहिए मैं आज आपको कुछ ऐसे ही दिशा के बारे में बताऊंगा जहां आपको कभी भी लैट्रिन यानी टॉयलेट का निर्माण नहीं करना चाहिए इसका विवरण में नीचे दे रहा हूं-

  • पश्चिम दिशा में कभी भी लैट्रिन यानी शौचालय का निर्माण नहीं करना चाहिए क्योंकि अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको मनोवांछित फल की प्राप्ति नहीं होगी।
  • उत्तर की दिशा में लैट्रिन यानी शौचालय कभी ना बनाएं क्योंकि ऐसा करने से आपको नौकरी में तकलीफ और दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा।
  • उत्तर पूर्व दिशा में भी आप कभी भी शौचालय ना बनाएं क्योंकि ऐसा करने से आपको स्वास्थ्य संबंधित कई गंभीर बीमारी का सामना करना पड़ेगा।
  • घर के पूर्व दिशा में कभी भी शौचालय ना बनाएं इससे आपके घर में सामाजिक रिश्तो में दूरी और खटास आ सकती है।
  • रसोई घर के सामने कभी भी शौचालय ना बनाएं क्योंकि रसोई घर में मां अन्नपूर्णा का निवास होता है।

लैट्रिन toilet की सीट किस दिशा में होनी चाहिए ? In which direction should the toilet seat be located?

  1. पश्चिम या दक्षिण दिशा में टॉयलेट सीट होना चाहिए।
  2. टॉयलेट सीट का प्रोयग करते वक़्त आपका मुख दक्षिण या पश्चिम दिशा की तरफ होना चाहिए
  3. टॉयलेट सीट का प्रयोग करते वक़्त कभी भी मुख पूर्व दिशा की तरफ नहीं रखें। यह दिशा सूर्य भगवान् की है। अगर आप इस दिशा की तरफ मुख करके शौच करते है तो सूर्य देव का अपमान होता है। ऐसा करने से आपको कानूनी मुसीबतों का सामना करना पड़ सकता। इसके अलावा आपको आर्थिक परेशानी का भी सामना करना पड़ेगा।

घर में लैट्रिन यानी शौचालय बनाते समय किन बातों का ख्याल रखना चाहिये ? What are the things to be kept in mind while making latrine in the house?

  • आज के आधुनिक युग में कई लोग अपने घर में नहाने का स्नान घर और लैट्रिन यानी शौचालय एक साथ अटैच करते हैं जो कि वास्तु शास्त्र के अनुसार काफी गलत है। क्योंकि स्नान गाना चंद्रमा का कारक माना जाता है और वही लैट्रिन राहु का इसलिए दोनों के मिलने से आपके घर में इसका दुष्प्रभाव पड़ता है और आपको अनेकों प्रकार की आर्थिक परेशानी और डिप्रेशन जैसी चीजों का सामना करना पड़ता है।
  • अगर आपने घर में शौचालय बनाया है लेकिन उसका इस्तेमाल नहीं करें तो आप हमेशा अपने शौचालय का दरवाजा बंद करके रखे जिससे आपके घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं हो सके क्योंकि शौचालय के अंदर काफी मात्रा में नकारात्मक ऊर्जा होती है जिससे आपके घर का माहौल खराब हो सकता है इसलिए आप हमेशा इस बात का ध्यान दें।
  • आप कभी भी अपने घर के अध्ययन कक्ष को शौचालय के सामने ना बनाएं इससे आपको पढ़ाई में मन नहीं लगेगा और आपका स्वास्थ्य भी खराब हो सकता है।
  • आप जब शौचालय बनाते हैं तो उसमें टाइल्स का प्रयोग करते हैं इसलिए आप हमेशा इस बात का ध्यान दें कि हरे रंग का टाइल्स कभी भी अपने शौचालय में ना लगाएं क्योंकि ऐसा करना वास्तु शास्त्र के अनुसार गलत है।
  • आप अपनी शौचालय में हमेशा नीले रंग की बाल्टी का प्रयोग करें ऐसा करना शुभ माना जाता है।
  • सप्ताह में आप दो बार अपने शौचालय की साफ-सफाई विशेष रूप से करें इससे आपके घर में उपस्थित नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती है और घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है।
  • घर में  सीढ़ियों और पूजा घर के सामने कभी भी शौचालय का निर्माण ना करें।
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

पति परेशान करे तो क्या करें तो करे? 6 टिप्स पति प्यार करने लगेगा | Pati pareshan kare to kya kare : अगर पति परेशान करे तो क्या करें ?
बुधवार के मंत्र जप और प्रयोग विधि : मनोकामना पूर्ति, संकट निवारण | Budhwar Mantra : इस मंत्र के जाप से मिलेगी सारी परेशानियाँ
देर तक करने और टाइमिंग बढ़ाने की देसी दवा का नाम और सेवन विधि | Timing badhane ki desi dawa
दुश्मन को पागल करने का टोटका : 5 कारगर टोटके और मंत्र | Dushman Ko Pagal karne ke totka
मारण क्रिया क्या है ? नींबू से मारण क्रिया कैसे की जाती है ?
★ सम्बंधित लेख ★