तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं : तुलसी पूजा विधी, नियम और फायदे

Tulsi mata ko sindoor lagana chahiye ya nahi : नमस्कार दोस्तों आमतौर पर सभी लोग तुलसी का पौधा अपने अपने घरों में लगाते हैं हिंदू धर्म में धार्मिक परंपराओं की मान्यता के अनुसार सभी लोग तुलसी की पूजा करते हैं.

तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं तुलसी पूजन के फायदे तुलसी जी की पूजा कैसे करें tulsi pooja mantra tulsi ji ki puja kaise karni chahie

सनातन धर्म में तुलसी पूजा को विशेष महत्व दिया गया है और लोग इसे बहुत ज्यादा पसंद करते हैं कुछ लोग तुलसी पूजन रोजाना करते हैं तुलसी का पौधा लगभग सभी लोग अपने अपने घर में लगाते हैं और उसकी पूजा अर्चना करते हैं.

लेकिन कभी-कभी हमसे कुछ गलतियां हो जाती हैं या फिर हमें कुछ बातें ऐसी होती हैं जो पता नहीं होती हैं इनके कारण हम पूजा को विशेष महत्व नहीं दे पाते हैं और इसे सही ढंग से संपन्न नहीं कर पाते जिस वजह से हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

लेकिन दोस्तों आपको बिल्कुल परेशान होने की आवश्यकता नहीं है आज हम इस आर्टिकल में तुलसी से जुड़े कई सवालों के जवाब देने का प्रयास करेंगे इसलिए आजकल को पूरा पढ़ें.

और तुलसी के बारे में जानिए बहुत सारे रहस्य तो आइए जानते हैं कि तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं लगाना चाहिए इस विषय पर हम विस्तार से चर्चा करते हैं

तुलसी माता की पूजा कैसे की जाती है ?

सभी लोग अपने अपने तरीके से तुलसी पूजन करने हैं कुछ लोगों को इसका सही तरीका पता होता है वह इसे पूरे विधि विधान से करते हैं और कुछ लोग अपने हिसाब से तुलसी पूजन करते हैं तुलसी माता को विशेष महत्व इसलिए दिया जाता है.

क्योंकि तुलसी माता भगवान विष्णु का अवतार है तुलसी में सदैव भगवान विष्णु और माँ लक्ष्मी विराजमान रहती हैं जब कोई व्यक्ति की पूजा करता है तो उसे सुख शांति और समृद्धि प्रदान करती हैं इसलिए लोग तुलसी माता को पूछते हैं.

सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करके पूजा पाठ करके जल लेकर तुलसी माता को प्रणाम करके अर्पित करना चाहिए उसके पश्चात परिक्रमा करनी चाहिए इस प्रकार आप तुलसी माता को प्रसन्न करते हैं तुलसी माता की पूजा करने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है.

और नकारात्मक ऊर्जा का नाश होता है तुलसी माता की पूजा करने से घर में सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है घर में तुलसी का पौधा लगाने से घर में कुछ ऐसे औषधीय गुण उत्पन्न होते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक होते हैं.

तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं

प्राचीन समय से तुलसी माता को पूजने की परंपरा चली आ रही है जिस का मान रखते हुए हिंदू धर्म में सभी लोग तुलसी माता की पूरे विधि विधान के साथ पूजा पाठ करते हैं वह कई तरीकों से मां तुलसी को प्रसन्न करने का प्रयास करते हैं.

ऐसे में कई बार कुछ चीजों के बारे में नहीं जान पाते हैं और उन्हें करने से पहले सोचते हैं कि पता नहीं वह कोई शुभ कार्य कर रहे हैं या अशुभ इसी प्रकार एक और सवाल आता है कि तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं लगाना चाहिए.

तो दोस्तों आपको मैं बता दूंगा की तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए आप अपने आराम से सिंदूर लगा सकते हैं उन्हें भगवान विष्णु की अर्धांगिनी माना जाता है उनमें भगवान विष्णु का स्वरूप नजर आता है.

शास्त्रों और ग्रंथों में माता तुलसी भगवान विष्णु की पत्नी थी ऐसा उल्लेख किया गया है तुलसी माता को हिंदू लगाने के साथ-साथ शादी का जोड़ा श्रृंगार का सामान आदि सारा कुछ चढ़ाया जा सकता है.

इसमें कोई समस्या आने वाली बात नहीं है इससे मां तुलसी प्रसन्न होकर आपकी मनोकामना ओं को पूरी करेंगे और भगवान विष्णु की दया दृष्टि आप पर बनी रहेगी.

तुलसी पूजन के नियम

आमतौर पर किसी भी पूजा पाठ के दौरान हमसे कुछ गलतियां हो जाते हैं जिनको बाद में सुधारना नामुमकिन होता है इसलिए तुलसी पूजन में ध्यान रखने योग्य बातें.

और तुलसी पूजन के नियम आपको पहले ही बता दिया जाए ताकि आपसे ऐसी कोई गलतियां ना हो और नियमित रूप से तुलसी की पूजा कर सकें.

  1. तुलसी माता की पूजा प्रतिदिन करनी चाहिए.
  2. तुलसी माता को नियमित रूप से जल अर्पित करना चाहिए.
  3. तुलसी पूजा के दौरान परिक्रमा जरूर लगाएं.
  4. तुलसी माता को गाय के शुद्ध घी का दीपक अवश्य जलाएं.
  5. तुलसी की पत्तियां दौड़ने के लिए सुबह का समय सही रहता है.
  6. तुलसी पूजा करने से पहले तुलसी को प्रणाम करना चाहिए.
  7. तुलसी माता के आसपास का एरिया हमेशा साफ सुथरा रखना चाहिए.

तुलसी पूजन मंत्र

तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी।
धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।।
लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।
तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।

तुलसी स्तुति मंत्र

देवी त्वं निर्मिता पूर्वमर्चितासि मुनीश्वरैः
नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।।

तुलसी नामाष्टक मंत्र

वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी।
पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी।।
एतभामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम।
य: पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलमेता।।

तुलसी की पत्तियां तोड़ने के मंत्र

ॐ सुभद्राय नमः

ॐ सुप्रभाय नमः

मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।

तुलसी में जल देने का मंत्र

महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

तुलसी पूजन के फायदे

धार्मिक मान्यताओं को आगे बढ़ाने के लिए तुलसी पूजन को हिंदू धर्म में विशेष महत्व दिया जाता है तुलसी पूजन घर के लिए अत्यंत शुभ माना जाता है सनातन धर्म में सभी लोग अपने घरों में तुलसी का पौधा स्थापित कर के प्रति दिन उसकी पूजा करते हैं.

जिसके बहुत सारे लाभ को प्राप्त होते हैं तुलसी माता में भगवान विष्णु और मालक्ष्मी विराजमान होते हैं जिस कारण तुलसी की पूजा करने वाले व्यक्ति की सभी मनोकामनाएओ की पूर्ति होती है तुलसी पूजन करने वाले व्यक्ति के घर में धनधान्य की कोई कमी नहीं होती है.

और तुलसी माता को घर में स्थापित करने से घर में हमेशा सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है घर के कई दोषों का निवारण होता है और घर में कोई नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं कर पाती है.

तुलसी को आयुर्वेद में बहुत लाभदायक माना गया है लेकिन इसे घर में लगाने से घर में औषधीय गुण उत्पन्न होते हैं जो कई रोगों के निवारण के लिए लाभकारी साबित होते हैं.

FAQ : तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए

Q. तुलसी माता में किस का स्वरूप होता है?

Ans. तुलसी माता को भगवान विष्णु जी की अर्धांगिनी माना गया है भगवान विष्णु माता में विराजमान होते हैं.

Q. तुलसी माता का पूर्व जन्म किस कुल में हुआ था?

Ans. तुलसी माता का पूर्व जन्म एक राक्षस कुल में हुआ था और तुलसी माता भगवान विष्णु की पूरे श्रद्धा भाव से भक्ति करती थी.

Q. तुलसी माता को क्या भोग लगाना चाहिए?

Ans. तुलसी माता को प्रतिदिन जल अर्पित करना चाहिए और गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए.

निष्कर्ष | Conclusion

हम आशा करते हैं कि आप ने तुलसी माता को सिंदूर लगाना चाहिए या नहीं यह अच्छे से जान लिया होगा और तुलसी माता से संबंधित कई अन्य जानकारियां भी आपने प्राप्त कर ली होगी.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों व अन्य जानने वालों के साथ अवश्य शेयर करें ताकि उनको भी इस विशेष महत्वपूर्ण जानकारी का लाभ प्राप्त हो सके.

यदि से संबंधित आपका कोई अन्य सवाल है तो आप हमारे कमेंट सेक्शन पूछ सकते हैं हम जल्द से जल्द आपके सवाल का जवाब देने का प्रयास करेंगे.

Leave a Comment