जाने पुलिस कॉल डिटेल कैसे निकालती है ? | Police call details और CDR क्या है ?

Police call details kaise nikalti hai ? किसी भी प्रकार की आपराधिक जांच में कोई भी न्यायालय या पुलिस टीम अथवा सरकार द्वारा अधिकृत जांच टीम किसी भी व्यक्ति की कॉल डिटेल को निकालने का अधिकार रखती है किसी भी तरह के संगीन आपराधिक मामलों में टेलीकॉम कंपनियों द्वारा कॉल डिटेल का विवरण जांच टीम को देती है जो जांच टीम द्वारा मांगा गया है| call details kiske pas hoti hai ?



, मोबाइल सीडीआर क्या है, Call detail record format, Call detail Record, mobile carrier/service provider meaning, mobile carrier/service provider facebook, CDR full form in Police, CDR in telecom, किसी दूसरे नंबर की कॉल डिटेल कैसे निकाले, जानिये सिम owner का नाम साथ में 3 महीने का कॉल हिस्ट्री, कॉल OTP बिना विवरण अन्य नंबर, जिओ फोन की कॉल डिटेल कैसे निकाले, कॉल डिटेल रिकॉर्ड, एयरटेल नंबर की कॉल डिटेल कैसे निकाले, E2pdf कॉल विवरण अन्य नंबर, कीपैड मोबाइल की कॉल डिटेल कैसे निकालेजिओ नंबर की कॉल डिटेल कैसे निकाले?, , कॉल डिटेल कितने दिनों तक निकल सकती है?police call detail , police call detail kaise nikalte hai, police call detail, delhi police call detail, call detail records by police, what are call detail records, how to get call detail records, how to call delhi police, police call history, police call detail kaise nikalti hai, police wale call detail kaise nikalte hain, police call details kaise nikalti hai, police call details, delhi police call detail record, police can get call details, police mobile call details, , , एयरटेल की कॉल डिटेल कैसे निकाले?, , वोडाफोन सिम की कॉल डिटेल कैसे निकाले?पुलिस कॉल डिटेल , , पुलिस कॉल डिटेल कैसे निकालते है, पुलिस कॉल डिटेल कैसे निकलती है, पुलिस कॉल डिटेल कैसे निकालती है, कॉल डिटेल पुलिस, get police call details?, how police get call details, how police get call details in india, police can get call details, can police get call history, how to get call details by police, how to get call details from police, how police track call details, police call details kaise nikalti hai, can police get call history of any number, how police get call records, , ,

अगर पुलिस किसी भी व्यक्ति के नंबर की कॉल डिटेल देखना टेलीकॉम कंपनी को पहले एक लेटर कंपनी के नाम लिखकर भेज देती है साथ ही जांच टीम या पुलिस द्वारा उस लेटर में यह लिखा जाता है कि कॉल डिटेल क्यों मांगी जा रही है। यदि केस कोई संगीन नहीं है या कोई बहुत बड़ा आपराधिक मामला नहीं है तो पुलिस किसी भी प्रकार की कॉल डिटेल नहीं निकलवा सकती है|

कॉल डिटेल किसके पास होती है | पुलिस कॉल डिटेल कैसे निकालती है

कॉल डिटेल केवल कंपनी के पास होता है व्यक्ति जिस कंपनी का सिम कार्ड प्रयोग कर रहा है उस कंपनी के पास उस व्यक्ति की कॉल डिटेल होती है कि व्यक्ति ने कितने समय में कितने लोगों से बात किया।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

किसी बड़े अपराध के मामले में पुलिस टेलीकॉम कंपनियों से कॉल डिटेल जांच के लिए मांगती है कभी-कभी किसी भी व्यक्ति की कॉल डिटेल निकालने के लिए पुलिस को न्यायालय का सहारा लेना पड़ता है|


यदि न्यायालय पुलिस को कॉल डिटेल निकालने का आदेश नहीं देती है तो पुलिस किसी भी व्यक्ति कार्ड का डिटेल कंपनी से नहीं ले सकता है|

कॉल डिटेल का डाटा कितने साल का कंपनी के पास रहता है ?

किसी भी कंपनी के पास व्यक्ति की कॉल डिटेल का डाटा केवल 3 साल तक रखती है अतः किसी भी व्यक्ति की कॉल डिटेल केवल 3 साल तक की ही मिल पाती है।

क्या पुलिस कॉल डिटेल बदल सकती है ? 

किसी भी व्यक्ति की सीडीआर या मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर जिले के एसपी को मेल पर प्राप्त है और यस पी संबंधित पुलिस अधिकारी को भेजता है इसके अलावा मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर सीडीआर कंपनी के पास होती है|

इस तरह से देखा जाए तो कॉल डिटेल तीन जगह होती है जिसे बदल पाना असंभव है इसीलिए पुलिस किसी भी कॉल डिटेल को कभी भी बदल नहीं सकती है।

CDR क्या है ? | What is CDR ?

CDR यानी कॉल डिटेल रिकॉर्ड एक प्रकार का व्यक्ति द्वारा किए गए फोन कॉल और रिसीव किए गए फोन काल का विवरण होता है तथा साथ में किसी भी नंबर से कितने समय तक फोन और मैसेज किए गए हैं अथवा मैसेज रिसीव किए गए हैं इन सभी का विवरण सीडीआर के अंतर्गत होता है


सीडीआर में मिस्ड कॉल या डेड कॉल का रिकॉर्ड भी दर्ज होता है

क्या हर कोई CDR हासिल कर सकता है ?

प्रत्येक व्यक्ति किसी भी नंबर की कॉल डिटेल या सीडीआर कानूनी तौर पर बिल्कुल नहीं निकाल सकता है| सीडीआर या कॉल डिटेल निकालने का अधिकार केवल जांच एजेंसियों जैसे सीबीआई इनकम टैक्स डिपार्टमेंट इंटेलिजेंस ब्यूरो पुलिस एटीएस एनसीबी अथवा न्यायालय द्वारा अधिकृत किए गए अधिकारियों द्वारा ही सीडीआर निकाली जा सकती है |

इन लोगों को भी सीडीआर निकलवाने से पहले सरकारी अनुमति लेना आवश्यक होता है|

बॉम्बे हाईकोर्ट ने Securities and Exchange Board of India यानी SEBI को CDR एक्सेस प्राप्त करने की अनुमति दी गई है जिससे किसी भी प्रकार की मार्केट में होने वाले फ्रॉड की जांच करके उसे रोका जा सके ।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

सीडीआर कानून के नियमों के अनुसार एसपी डीसीपी रैंक के अधिकारी अथवा जांच टीम में शामिल व्यक्तियों को निकालने का अधिकार तभी मिलता है|

जब यह किसी नोडल अधिकारी को लिखित देकर अनुशंसा प्राप्त करें इसके बाद पुलिस अधिकारी उस नंबर की कॉल डिटेल के लिए कंपनी को ईमेल करते हैं तब जाकर सी डी आर मिलती है।

जांच एजेंसियों को CDR कब तक मिल जाता है ? 

यदि कोई गंभीर मामला है किसी की हत्या होती है या किसी बलात्कार का मामला है और आरोपी फरार होते हैं तो उन्हें गिरफ्तार करने के लिए जांच एजेंसी अथवा पुलिस टीम मोबाइल नेटवर्क सर्विस देने वाली कंपनियों को सीडीआर के लिए ईमेल कर सकती हैं ई-मेल का जवाब आने पर वीसीडीआर प्राप्त कर सकते हैं।

किसी व्यक्ति की सीडीआर कितने दिनों में उपलब्ध होती है ?

कोई भी मोबाइल कंपनी किसी भी व्यक्ति की सीडीआर जांच एजेंसियों को 1 हफ्ते के अंदर दे देता बहुत इमरजेंसी होने पर वह तत्काल सीडीआर देने के लिए ही बाध्य होती है।

कॉल डिटेल से एकदम सही लोकेशन पता चल जाती है ? 

सभी प्रकार की मोबाइल कंपनियां जो नेटवर्क के लिए टावर लगाती हैं उन टावरों में मोबाइल की लोकेशन छिपी होती है जब कभी भी मोबाइल कंपनी सीडीआर देती है तो सबसे पहले ट उस टावर का को पूछती है |

location- gps map naksha

जहां से मोबाइल से बात की गई है यानी कि बात करते वक्त जिस टावर से नेटवर्क उसने प्राप्त किया है उस जगह का जिक्र करती है क्योंकि एक मोबाइल टावर कम से कम 500 मीटर तक के रेडियंस को कवर करता है ऐसे में व्यक्ति की एग्जैक्ट लोकेशन जीपीएस के माध्यम से पता चल जाती है|

क्या CDR कोर्ट में मान्य है ? 

एविडेंस एक्ट अट्ठारह सौ 72 की धारा 65 बी के अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक रिकार्डों को सबूत के तौर पर हलफनामे के साथ पेश करने पर मान्य किया जाता है |

hammer- court case adaalat

हलफनामे में इस बात का सबूत मांगा जाता है कि दिए जाने वाला रिकॉर्ड एकदम सही वक्त वक्त पूर्ण है तथा किसी प्रकार का हस्तक्षेप या छेड़छाड़ नहीं किया गया है|

सीडीआर सबूत के तौर पर कोर्ट में मान्य होता है परंतु सबूत और साबित होना जरूरी है मोबाइल कंपनी उसे यदि सर्टिफाई और अटेस्ट करके देती है तथा कोर्ट में स्वयं उपस्थित होकर गवाही देता है तो इसे सबूत के रूप में मान्य किया जाता है।

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन