ज्योतिष में राशि क्या होती है ? राशि के प्रकार और राशी कितनी होती है ? | Rashi in astrology

राशि क्या होती है | Rashi kya hoti hain ? दोस्तों , जैसा कि हम सभी जानते हैं की पृथ्वी पर हमें जीवन जीने के लिए कई सारी चीजों की आवश्यकता होती है लेकिन आवश्यक चीजों में जो सबसे जरूरी है वायु ( हवा ) यानी ऑक्सीजन

यदि हमारी इस धरती पर ऑक्सीजन ना हो तो जीवन जीना असंभव है । जिस प्रकार हमें इस संसार में जीवन जीने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत होती है उसी तरह से ज्योतिष शास्त्र को राशि की जरूरत होती है ।

raashi kya hoti hain thumbnail

ज्योतिष शास्त्र में राशि का बहुत ही बड़ा महत्व है। साथ ही साथ ही यह हमारे जीवन में भी महत्वपूर्ण स्थान रखती है । आज के इस लेख में हम पूरे विस्तार के साथ जानेंगे की राशि क्या होती है ? कितनी तरह की होती है? इनके क्या नाम है ?

राशियों का क्या महत्व है ? ये सभी सवाल जो आपके मन में आज तक उठते आए हैं उन सभी सवालों के संतुष्टि पूर्ण जवाब इस लेख में मिलेंगे । तो हमारे साथ इस लेख में अंत तक बने रहे. राशि को समझने से पहले हमें समझना होगा कि जातक किसे कहते हैं – जिस व्यक्ति विशेष की कुंडली या राशि का अध्ययन किया जाता है उसे जातक कहते हैं । 

राशि क्या होती है ? | Rashi kya hoti hai ?

वैदिक ज्योतिष में किसी जातक की राशि को बताने के लिए कुल 12 राशियां है । इन 12 राशियों में से किसी जातक की जन्म राशि क्या होगी यह चंद्रमा की स्थिति के आधार पर बताया जाता है । हर राशि का अपना एक स्वभाव , गुण, व्यवहार और प्रतीक चिन्ह होता है ।

इन राशियों को नियंत्रित करने के लिए इन के स्वामी ग्रह भी होते हैं। वैदिक ज्योतिष के अनुसार सूर्य, चंद्रमा, मंगल बुध, गुरु, शुक्र और शनि यह सात स्वामी ग्रह है ।


zodiac raashi

सूर्य और चंद्रमा एक-एक राशि के स्वामी हैं जबकि बाकी पांच ग्रह दो दो राशियों के स्वामी हैं ।

राशियों की संख्या कितनी है ?

rashi zodiac

राशियों की गिनती करने के लिए आपको ज्योतिष शास्त्र का ज्ञान होना आवश्यक है , लेकिन फिर भी मैं आपको समझाने का पूरा प्रयास करूंगा। विद्वानों के अनुसार आकाश में 360 अंश का एक चक्र उपस्थित है जिसे 12 राशियों और 27 नक्षत्र में विभाजित किया गया है। इस तरह से एक राशि 30 अंश की होती है।

राशियों की गिनती सूर्य राशि , चंद्र राशि और नाम राशि द्वारा की जाती है। इन तीनों राशियों में अधिकतर सूर्य राशि और चंद्र राशि का प्रचलन ज्यादा है । जब किसी जातक की जन्म तिथि और समय की सही जानकारी नहीं होती है तो उसे उसके नाम से भी राशि को बताया जा सकता है।

राशियों के क्या नाम हैं ? Name of zodiac 

zodiac name raashi

आकाश में स्थित ग्रहों के नक्षत्रों की मुख्य आकृति और उपस्थिति को ही राशि कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पहली राशि मेष को माना जाता है ।

राशि के नाम         राशि के नाम इंग्लिश में 
 मेष राशि     Aries
 वृषभ राशि  Taurus
 मिथुन राशि  Gemini
कर्क राशि  Cancer
सिंह राशि  Leo
 कन्या राशि   Virgo
 तुला राशि  Libra
वृश्चिक राशि  Scorpio
 धनु राशि    Sagittarius
 मकर राशि Capricorn
कुम्भ राशि Aquarius
मीन राशि      Pisces

राशि कितने प्रकार की होती है ?

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया है कि राशियों का निर्धारण सूर्य , चंद्रमा और नाम के आधार पर किया जाता है । इसी के अनुसार राशियों को अलग-अलग भागों में बाटा जा सकता है । मुख्य रुप से राशियां सूर्य, राशि, चंद्र राशि और नाम राशि ये तीन प्रकार की होती हैं।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 873 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

नवरात्रि में लौंग के टोटके : ये 5 अचूक टोटके बदल सकते है आपकी किस्मत
झाड़ू से नजर कैसे उतारे : झाड़ू से बुरी नज़र उतारने का अचूक उपाय व सही समय

हर एक राशि में किसी खास तत्व की प्रमुखता होती है। इसके आधार पर  राशियों को चार भागों में बाटा गया है इन तत्वों में जल, वायु, अग्नि और पृथ्वी तत्व शामिल हैं।

types of raashi

जैसे कि मीन , कर्क , वृश्चिक इन तीनों राशि के नाम से पता चलता है कि इसमें जल तत्व की विशेषताएं पाई जाती हैं । मेष, सिंह और धनु में अग्नि तत्व की प्रमुखता होती है। मिथुन तुला और कुंभ राशि में वायु की प्रधानता होती है। वृषभ कन्या और मकर राशि में पृथ्वी तत्व की प्रधानता होती है।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

इसके अलावा लिंग के आधार पर भी राशियों को बांटा जाता है । जिसमे मेष, मिथुन, कुंभ, तुला, सिंह और धनु राशियां पुरुष जाति की मानी जाती हैं वही पर वृषभ, कन्या, मकर, वृश्चिक, कर्क और मीन राशियां स्त्री जाति की मानी जाती हैं।

नाम राशि क्या है ?

name raashi

नाम राशि से तात्पर्य है कि आपके नाम का पहला अक्षर किस राशि के साथ संबंधित है । ज्योतिष शास्त्र में जातक के नाम का बहुत बड़ा महत्व होता है । जातक के नाम की राशि उसके स्वभाव , गुण और व्यक्तित्व के बारे में काफी कुछ बताता है , इसलिए नाम राशि का ज्योतिष शास्त्र में एक प्रमुख स्थान है ।

चंद्र राशि क्या है ?

moon rashi

वैदिक ज्योतिष में सभी ग्रहों में चंद्र ग्रह को सबसे ज्यादा महत्त्व दिया जाता है । इसे कभी कभी नाम राशि के नाम से भी जाना जाता है , क्योंकि जब किसी शिशु या बालक का जन्म होता है तो उसका नाम इसी चंद्र राशि के आधार पर रखा जाता है । बालक के जन्म के समय चंद्र जिस नक्षत्र में स्थित होता है उसी चरण के वर्ण के अनुसार शुरू होने वाला नाम बालक की जन्म राशि नाम निर्धारित करता है ।

सूर्य राशि क्या है ?

sun raaashi

जैसा कि मैंने चंद्र राशि में आपको बताया कि वैदिक ज्योतिष चंद्र राशि को अधिक महत्व देते थे और उसे जातक की नाम राशि कहते है । उसी प्रकार पाश्चात्य ज्योतिष के ज्ञाता सूर्य राशि को अधिक महत्व देते है और मानते हैं कि जातक की नाम राशि सूर्य राशि होती है क्योंकि जातक की जिंदगी में सूर्य आत्मा का कारण होता है ।

ज्योतिष शास्त्र में राशि की  क्या प्रमुखता है  ?

importance of raashi

यदि ज्योतिष शास्त्र से राशि को हटा दिया जाए तो ज्योतिष शास्त्र का कोई अर्थ नहीं रह जाता तो इस बात से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि ज्योतिष शाष्त्र में राशि का कितना बड़ा महत्व है। ये 12 राशियां जातक के जीवन को काफी प्रभावित करती है

इन राशियों की स्थिति की गणना के अनुसार ज्योति शास्त्र केे ज्ञाता जातक की कुंडली में जन्म राशि , राशि ग्रह और राशि स्वामी का पता लगाकर जातक के स्वाभाव , व्यक्तित्व गुण और उसे उसके जीवन में कितनी सफलता मिलेगी इस बात का पता लगा लेते हैं।

जन्म राशि के आधार पर जातक की आने वाली वर्ण के अनुसार उसके निवास स्थान का नाम, व्यापार, बिजनेस का नाम और व्यापार स्थल का नाम रखना बहुत ज्यादा ही शुभ माना जाता है ।

अक्षर के आधार पर राशि का चार्ट | Name letar ki rashi chart

क्रम संख्या राशि अक्षर
1. मेष अ, ल , ई
2. वृषभ ब , व , उ
3. मिथुन क , छ , घ
4. कर्क ड , ह
5. सिंह म , ट
6. कन्या प ,ठ ,ण
7. तुला र , त
8. वृश्चिक न , य
9. धनु फ , ध , भ. , ढ
10. मकर ख ,ज
11. कुंभ ग , स , श , ष
12. मीन द , च, झ , थ

निष्कर्ष

दोस्तों उम्मीद करता हूं कि आज राशि के ऊपर बताई गई यह जानकारी आप को अच्छी लगी होगी और राशि के बारे में आपको जितनी जानकारी रही होगी उसमें कुछ ना कुछ बढ़ोतरी जरूर हुई होगी।राशि का हमारे जीवन में बड़ा ही महत्व होता है ।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इन राशियों के आधार पर हम किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व, स्वभाव और गुण का आकलन कर सकते हैं. जिसके अनुसार हमें किस प्रकार के व्यक्ति से संबंध रखना है इसका पता आप बड़ी ही आसानी के साथ कर सकते हैं.

osir news

जिससे  हमें उस व्यक्ति से अच्छे विचारों का आदान प्रदान हो सके और अपने जीवन में सफलता की ऊंचाइयों तक पहुंच सके। ऐसी  ही जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

Kiss ओठों को चूमने के 12 फायदे जानकार आप अपने लवर से चिपके रहोगे : Kiss karne ke fayde
भगवान को पाने के लिए क्या करें | Bhagwan ko kaise paye
नई दुकान या नया व्यापार के उद्घाटन की तैयारी, संपूर्ण पूजा विधि और मंत्र | दुकान उद्घाटन पूजा विधि
शिवलिंग का जल पीना चाहिए या नहीं : जल क्यों चढ़ाया जाता है और लाभ | Shivling ka jal pina chahiye ki nahin
हजारो फायदों में ये 5 नुकसान भी है ब्रह्मचारी जीवन के | ब्रह्मचर्य के नुकसान
★ सम्बंधित लेख ★