टाइफाइड में पेरासिटामोल कब और कैसे खाये : जाने फायदे और नुकसान | Typhoid me paracetamol

टाइफाइड में पेरासिटामोल Typhoid me paracetamol : हेलो दोस्तों नमस्कार आज मैं आप लोगों को इसलिए के माध्यम से टाइफाइड में पेरासिटामोल दवा से संबंधित जानकारी प्रदान करूंगी, जिसमें मैं आप लोगों को बताऊंगी टाइफाइड पेरासिटामोल इंजेक्शन या फिर टैबलेट टाइफाइड मरीज को किस अवस्था में और कितने दिनों के लिए लिया जाता है.

टाइफाइड में पेरासिटामोल Typhoid me paracetamol

क्योंकि टाइफाइड एक बहुत ही गंभीर बीमारी मानी गई है जो कि एक जीवाणु संक्रमण है जो साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया से होता है. यह बैक्टीरिया व्यक्ति के मुख या मल के माध्यम से शरीर में प्रवेश करके आंतो पर प्रभाव डालता है. जब यह मतीरे किसी व्यक्ति को अपना शिकार बना लेता है तो उस व्यक्ति को 8 से 72 घंटे के बीच में उल्टी, दस्त, सिर दर्द, पेट दर्द, मांसपेशियों में दर्द, ठंड लगना, अधिक तापमान, घबराहट, बेचैनी, उलझन जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

इसीलिए डॉक्टर के चरणों में समय रहते इस बैक्टीरिया से बचाव करना बेहद आवश्यक है नहीं तो यह बैक्टीरिया शरीर के अन्य हिस्सों को भी प्रभावित करेगा जिससे व्यक्ति बहुत ज्यादा कमजोर हो जाएगा यहां तक कि कई बार मृत्यु भी हो जाती है. हालांकि टाइफाइड बुखार को लेकर आपको कई प्रकार की एंटीबायोटिक दवा आ गई है जिनके माध्यम से टाइफाइड को ठीक किया जा सकता है.

लेकिन हर प्रकार की एंटीबायोटिक दवा टाइफाइड मरीज की कंडीशन को देख कर दिया जाता है क्योंकि हर किसी की कंडीशन अलग-अलग होती है. इसीलिए आज हम साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया से होने वाले टाइफाइड बुखार को ठीक करने के लिए पेरासिटामोल दवा इंजेक्शन दोनों से संबंधित जानकारी बताएंगे. क्योंकि पेरासिटामोल टाइफाइड बुखार में 24 घंटे के अंदर अंदर पूरी तरह से बाहर दिला देती है बस इसके लिए आपको टाइफाइड मैं पेरासिटामोल को किस समय किस तरीके से सेवन में लेना है.

इसकी जानकारी होनी चाहिए उसके पश्चात आप पेरासिटामोल दवा से टाइफाइड बुखार को पूरी तरह से ठीक कर सकते हैं. ऐसे में अगर आप लोगों टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल दवा से संबंधित सारी जानकारी अच्छे से प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख कुछ शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें

टाइफाइड में पेरासिटामोल | Typhoid me paracetamol

पेरासिटामोल दवा शरीर के अधिक तापमान को कम करने के साथ-साथ शरीर में दर्द की समस्या से भी राहत दिलाने का कार्य करती है. जिसे पेरासिटामोल नाम के अलावा अल्वेडॉन®; कैलपोल®; डिस्प्रॉल®; हेडेक्स®; मंडनॉल®; मेडिनोल®; पैनाडोल® आदि नामों से भी जाना जाता है


जोकि टेबलेट ,इंजेक्शन, कैप्सूल, घुलनशील टेबलेट ,इन-दि-माउथ’ टैबलेट, ओरल लिक्विड, मौखिक तरल पाउच, सपोसिटरी आदि लिखित रूप में उपलब्ध रहती है, जो कि बढ़ते बुखार के तापमान को कम करने के लिए डॉक्टर द्वारा दी जाती हैं इसीलिए आइए जानते हैं टाइफाइड बुखार में पेरासिटामोल को कब और किस प्रकार से लिया जाता है

टाइफाइड में पेरासिटामोल लेने से पहले ध्यान देने योग्य बातें

अधिकांश लोगों को जरा सा भी बुखार आने पर या फिर कोई छोटी मोटी समस्या होने पर तुरंत पेरासिटामोल खा लेते हैं लेकिन आपको ऐसा नहीं करना चाहिए पेरासिटामोल को निम्न लिखित बातों को ध्यान में रखते हुए सेवन में लेना चाहिए जैसे :

Paracetamol

  1. यदि आप प्रेग्नेंट है या फिर प्रेग्नेंट होने के लिए योजना बना रही है तो आपको इस दौरान पेरासिटामोल टेबलेट इंजेक्शन कैप्सूल इन सभी को डॉक्टर की सलाह के मुताबिक ही लेना चाहिए क्योंकि इस दवा का असर आपके गर्भ में पल रहे बच्चे के ऊपर बुरा प्रभाव डाल सकता है.
  2. अगर आप स्तनपान करा रही हैं तो इस दौरान भी पेरासिटामोल दवा को डॉक्टर की सलाह के बिना ना लें क्योंकि आपके स्तन से निकलने वाले दूध में पेरासिटामोल दवा को सेवन में लेने से परिवर्तन आ सकता है जिसकी वजह से बच्चे को परेशानी हो सकती है.
  3. अधिक शराब सेवन करने वाले लोगों को भी इस दवा को बिना डॉक्टर की सलाह कि नहीं लेना चाहिए.
  4. अगर आप पहले से ही किसी बीमारी को लेकर दवाओं का सेवन कर रहे हैं तो इस दौरान आप पेरासिटामोल दवा को उन दवाओं के साथ में बिल्कुल भी सेवन में ना लें और अगर लेना है तो डॉक्टर से सलाह लेकर करें.
  5. अगर आपको दबाव से किसी भी प्रकार के एलर्जी होती है जैसे स्किन एलर्जी या फिर जी मिचलाना ऐसे कई एलर्जी होती है जो व्यक्ति को दबाव के माध्यम से हो जाती है इसीलिए आप पेरासिटामोल दवा को डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही खाएं.

टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल को सेवन में कैसे लें ?

पेरासिटामोल दवा को टाइफाइड के मरीज को निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखते हुए सेवन में लेना चाहिए जैसे,

  • पेरासिटामोल दवा को सेवन में लेने से पहले दवा लेने का जो लेबल होता है उसे अच्छे से पढ़ ले उसके पश्चात ही इस दवा को सेवेन में ले.
  • इसके विपरीत जब आप डॉक्टर के पास जाएंगे तो डॉक्टर आपको खुद बताएंगे इस दवा को किस तरह से कितने समय खाना खाने के बाद या खाना खाने के पहले लेना है इसकी जानकारी अच्छे से प्रदान करेंगे और फिर आप डॉक्टर के निर्देशों का पालन करते हुए इस दवा का सेवन करें तो आपको 24 घंटे के अंदर इस दवा से टाइफाइड बुखार में आराम महसूस होगा.
  • लेकिन हर मरीज की अवस्था अलग-अलग होती है इसलिए हम यहां पर उम्र के हिसाब से टाइफाइड बुखार में पेरासिटामोल को किस तरह से लेना चाहिए इसके विषय में बताएंगे.

टाइफाइड में पैरासिटामोल को लेने का तरीका

आइए जान लेते हैं पेरासिटामोल दवा को कितनी उम्र के लोगों को टाइफाइड बुखार में लेना चाहिए जैसे :

Paracetamol

  • वयस्क लोगों को यानी कि जो 16 साल से अधिक उम्र के लोग हैं उन्हें टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल दवा को चार से 6 घंटे में 50 मिलीग्राम यानी कि 1 दिन में 1 ग्राम अधिकतम 4 ग्राम इससे ज्यादा नहीं लेना चाहिए.
  • जिन लोगों की उम्र 12 से 15 साल के बीच में है उन लोगों को टाइफाइड बुखार के दौरान इस दवा को चार से 6 घंटे के अंदर 480 मिलीग्राम अधिकतम 4 खुराक लेना चाहिए.
  • जिन लोगों की उम्र 10 से 11 वर्ष की है उन लोगों को टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल को चार से 6 घंटे में अधिकतम 500 मिलीग्राम 4 खुराक में लेना चाहिए.
  • 8 से 9 वर्ष के बच्चों को टाइफाइड बुखार के दौरान पेरासिटामोल दवा को 360 मिलीग्राम चार खुराक के अंदर लेना चाहिए.
  • 4 से 5 वर्ष की आयु के बालक को टाइफाइड बुखार के दौरान पेरासिटामोल दवा को चार से 6 घंटे के बीच में 20 मिलीग्राम खुराक के दौरान लेना चाहिए.
  • 6 महीने से 1 साल के बच्चे को टाइफाइड बुखार के दौरान पेरासिटामोल दवा का सेवन 4 से 6 घंटे में 120 मिलीग्राम 4 खुराक के अंदर लेना चाहिए.
  • 3 से 5 महीने की बच्चे को टाइफाइड बुखार के दौरान इस दवा को 6 से 4 घंटे के अंदर 60 मिलीग्राम अधिकतम 4 से 5 को खुराक में देना चाहिए.
  • 2 महीने से अधिक आयु वाले बच्चे को टीकाकरण के बाद पेरासिटामोल दवा को 4 से 6 घंटे में 60 मिलीग्राम चार खुराक में देना चाहिए

कहने का सीधा तात्पर्य है पेरासिटामोल दवा को टाइफाइड के दौरान लेने पर आप 1 दिन में 4 घंटे का गैप करके इस दवा को ले यानी 1 दिन में आप पेरासिटामोल को चार खुराक में ले सकते हैं लेकिन उस दौरान चार से 6 घंटे का गैप होना.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 893 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

ऑनलाइन फ्रॉड कैसे होता है? कैसे बचें? ठगी करने के तरीके जाने | Online fraud kaise hota hai ?
राशि कैसे पता करें : अपने नाम या जन्मतिथि से अपनी राशि जाने | Rashi kaise pata kare : apni rashi kaise jane

टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल को किस समय लेना चाहिए ?

जैसा कि हमने बताया है पेरासिटामोल दवा कैप्सूल इंजेक्शन टैबलेट घुलनशील इन-दि-माउथ’ टैबलेट, ओरल लिक्विड, मौखिक तरल पाउच, सपोसिटरी आदि लिखित रूप में उपलब्ध रहती है और इन सभी प्रकार की पेरासिटामोल दवाओं को लेने का अलग-अलग समय होता है. हालांकि टाइफाइड बुखार के दौरान आप पेरासिटामोल के कैप्सूल टेबलेट इन दोनों को खाना खाने के पहले या खाना खाने के बाद ले सकते हैं.

thermometerfever bukhar febris

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

इसके विपरीत अगर आप पेरासिटामोल का इंजेक्शन या फिर घुलनशील आदि रूप में पेरासिटामोल को ले रहे हैं तो इससे पहले डॉक्टर से संपर्क करें कि इस दवा को खाना खाने के पहले लेना है या फिर बाद में. क्योंकि बिना सलाह के पेरासिटामोल को ले लेने से आपके यकृत को नुकसान हो सकता है.

इसीलिए पेरासिटामोल की दवा को किसी भी रूप में लेने से पहले डॉक्टर से परामर्श तथा इस दवा को लेने के लेबल को अच्छे से पढ़ कर ही इसे सेवन में ले. दवा लेने के लिए लेबल में जितनी मात्रा में इस दवा को लेने के लिए निर्देश दिए गए हो आप उससे अधिक मात्रा में इस दवा को सेवन में ना लें खास करके आप अपने बच्चों को निर्देशों के अनुसार ही दवा का सेवन कराएं.

क्या पेरासिटामोल टाइफाइड में किसी प्रकार का नुकसान कर सकती है ?

हालांकि अभी तक पेरासिटामोल दवा को टाइफाइड बुखार में लेने के किसी भी प्रकार के साइड इफेक्ट नहीं मिले हैं लेकिन कई बार इस दवा को गलत समय और गलत तरीके से सेवन में लेने से कुछ लोगों को स्किन एलर्जी, जी मिचलाना, सिरदर्द जैसे समस्याओं का सामना करना पड़ा है.

इसीलिए अगर आपको इस दवा को लेने के पश्चात किसी भी प्रकार की दिक्कत महसूस होती है, तो आप अपने डॉक्टर से तुरंत संपर्क करें और इस दवा से आपको जिस प्रकार की परेशानी है उस परेशानी को अपने डॉक्टर के साथ शेयर करें.

पेरासिटामोल इंजेक्शन

Paracetamol

पेरासिटामोल इंजेक्शन एंटीपीयरेटिक एजेंटों नामक दवाओं के समूह से संबंधित है, इस इंजेक्शन को व्यक्ति के शरीर के अधिक तापमान को कंट्रोल में करने के लिए उपयोग में लिया जाता है जैसे कि जब बुखार का तापमान 102 ,104 डिग्री तक पहुंच जाता है तो इस अवस्था में पेरासिटामोल इंजेक्शन पीड़ित व्यक्ति को लगाया जाता है

पेरासिटामोल इंजेक्शन प्रोस्टाग्लैंडिंस नामक रासायनिक दूतों के गठन को रोकता है, जो सूजन शरीर में दर्द अधिक तापमान को कंट्रोल में करने का कार्य करता है. इसीलिए या इंजेक्शन टाइफाइड बुखार के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद माना गया है हालांकि इस इंजेक्शन को टाइफाइड के दौरान मरीज को देने से किसी भी प्रकार के साइड इफेक्ट नजर नहीं आते हैं.

लेकिन कई बार लोगों को जी मिचलाना, कब्ज, उल्टी जैसे समस्याएं हो सकती हैं इसीलिए आप इस इंजेक्शन को लगवाने के बाद डॉक्टर के द्वारा बताए गए सभी बातों को ध्यान में रखते हुए उनके निर्देशों का पालन करें.

FAQ : टाइफाइड में पेरासिटामोल

टाइफाइड के लक्षण बताइए

टाइफाइड के दौरान टाइफाइड मरीज को सिर दर्द ठंड लगना जी मिचलाना मांसपेशियों में दर्द शरीर का अधिक तापमान कब्ज की समस्या , आदि लक्षण नजर आते हैं.

टाइफाइड के दौरान कैसा भोजन करना चाहिए ?

टाइफाइड के मरीज को तरल पदार्थों का सेवन करना चाहिए जो आपके शरीर में पानी की कमी को पूरा करते हो क्योंकि टाइफाइड बुखार में दस्त, उल्टी, कब्ज की समस्या हो जाती है जिसके दौरान शरीर का पानी बाहर निकल जाता है इसीलिए आप इस दौरान पानी की कमी पूरा करने वाले तरल पदार्थों का सेवन करें

टाइफाइड कैसे होता है ?

हेल्थ केयर डॉक्टर के अनुसार टाइफाइड बुखार दूषित पानी पीने तथा उसी पानी से बने भोजन को करने से शरीर में अधिक तापमान को बढ़ाता है.

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आज हमने इस लेख में आप सभी लोगों को टाइफाइड में पेरासिटामोल से संबंधित जानकारी प्रदान की है जिसमें हमने आप लोगों को टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल दवा को किस उम्र के व्यक्ति को कितनी मात्रा में कितनी खुराक में लेना चाहिए इसके विषय में विस्तार पूर्वक से बताया है इसी के साथ में पेरासिटामोल से संबंधित जानकारी प्रदान की है.

osir news

अगर आप लोगों ने इस लेख शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को टाइफाइड के दौरान पेरासिटामोल दवा किस समय किस तरीके से लेना है यह सारी जानकारी प्राप्त हो गई होगी, तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी और उपयोगी भी साबित हुई होगी.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

दुकान के बंधन को काटने के अचूक उपाय और मंत्र Gharelu asan upay
माँ दुर्गा के टोटके : ये 10 टोटके आप के जीवन को सुख और समृद्धि से भर देंगे
कबूतर के पंख से प्रचंड वशीकरण कैसे करें ? मंत्र टोटका और उपाय How to vashikaran by pigeon feathers in hindi ?
हीरा पहनने के फायदे और नुकसान : अपनी राशी से जाने हीरा पहनने का असर | हीरा क्या है ? : Diamond stone benefits in hindi
1 महीने में 10 किलो वजन बढ़ाने के लिये खाएं ये 8 सुपर फ़ूड | कैसे 1 महीने में 10 किलो वजन बढ़ाने के लिए
★ सम्बंधित लेख ★