पूजा के जरुरी नियम : जाने पूजा कब नहीं करनी चाहिए ? | Puja kab nahi karni chahiye

पूजा कब नहीं करनी चाहिए Pooja kab nahi karni chahiye : हेलो दोस्तों नमस्कार आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से पूजा कब नहीं करनी चाहिए इसके बारे में बताएंगे आई अभी बताएंगे कि सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए वैसे तो पुराने समय से ही सभी मनुष्य पूजा-पाठ करते आ रहे हैं सभी लोग अपने परिवार की सुख शांति के लिए ईश्वर की पूजा करते हैं घर में सुबह और शाम के समय पूजा की जाती है.

पूजा कब नहीं करनी चाहिए,,, तुलसी की पूजा कब नहीं करनी चाहिए,,, भगवान की पूजा कब नहीं करनी चाहिए,,, सूतक के समय पूजा नही करनी चाहिए,,, शाम को कितने बजे पूजा करनी चाहिए,,, रात को कितने बजे पूजा करनी चाहिए,,, शाम की पूजा कितने बजे करनी चाहिए,,, क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए,,, सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए,,, पूजा करने के फायदे क्या होते हैं ?,,, puja karne se kya fayda hota hai,,, puja karne se kya labh hota hai,,, puja karne se kya hota hai,,, puja karne se kya labh milta hai,,, puja karne se kya fayda,,, puja karne ke fayde,,, pipal ki puja karne se kya fayda hota hai,,, hanuman ji ki puja karne se kya fayda hota hai,,, पूजा पाठ करने से क्या फायदा होता है,,, पूजा करने से क्या फायदा होता है,,, subah kitne baje puja karni chahiye,,, subah kitne baje puja karni chahie,,, subah kitne baje puja karna chahie,,, subah puja karne ki vidhi,,, subah ki puja kitne baje karni chahie,,, subah kab uthana chahie,,, subah puja kitne baje karni chahie,,, sham ko kitne baje puja karni chahie,,, sham ko kitne baje puja karna chahie,,, sham ko puja kitne baje karni chahie,,, sutak mein pooja karni chahie ya nahin,,, sutak me puja karni chahiye ya nahi,,, sutak mein kya nahin karna chahie,,, sutak me kya nahi khana chahiye,,, sutak kal me kya nahi karna chahiye,,, sutak kaal me kya nahi karna chahiye,,, sutak ke baad kya kare,,, pooja kab nahi karni chahiye,,, pooja kab karni chahiye,,, puja karni chahie ya nahin,,, puja karni chahie,,, puja kab karni chahie,,, puja karna chahie ki nahin,,, pooja karne ka tarika in hindi,,, pooja karne ka tarika,,, pooja karne ka right time,,, pooja karne ka samay kya hai,,, pooja karne ka sahi time,,, pooja karne ka time,,, दोपहर 12 से 4 बजे के बिच पूजा नही करनी चाहिए,,, dopahar 12 baje ke bad puja nahi karni chhiye,,, दोपहर 12 बजे तक,,, दोपहर 12 बजे पूजा,,, dopahar 12 baje am or pm,,, dopahar ke 12 baje ko kya kehte hain,,, dear ka result 12 baje ka,,, ,,, ,,,

अगर मंदिर में देखा जाए तो वहां भी सुबह शाम दोनों समय पूजा की जाती है लेकिन कुछ लोग तो कभी भी पूजा ही नहीं करते पूजा करने के कई सारे नियम और उसका समय निश्चित होता है अगर पूजा भी समय पर नहीं की जाती है तो वह अशुभ मानी जाती है और अगर सही समय पर पूजा हो जाए तो वह शुभ फल प्राप्त करवाती है.

इसीलिए आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से पूजा करने का सही समय और पूजा कब नहीं करनी चाहिए अगर सही समय पर पूजा की जाए तो पूजा का अधिक शुभ फल मिलता है अगर आप इसके बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अंत तक सही तरीके से पढ़ें आज हम आप लोगों को इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त करवाने वाले हैं।

पूजा कब नहीं करनी चाहिए | Pooja kab nahi karni chahiye

अगर आप यह जानना चाहते हैं कि पूजा कब नहीं करनी चाहिए तो आज हम आप लोगों को हिंदू शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसे समय निश्चित किए गए हैं जब पूजा करना वर्जित माना जाता है।

दोपहर 12 से 4 बजे के बिच पूजा नही करनी चाहिए

पूजा कब नहीं करनी चाहिए पीपल की पूजा कब नहीं करनी चाहिए तुलसी की पूजा कब नहीं करनी चाहिए भगवान की पूजा कब नहीं करनी चाहिए पीपल के पेड़ की पूजा कब नहीं करनी चाहिए तुलसी माता की पूजा कब नहीं करनी चाहिए तुलसी जी की पूजा कब नहीं करनी चाहिए pooja kab nahi karni chahiye pooja kab karni chahiye puja karni chahie ya nahin puja karni chahie puja kab karni chahie puja karna chahie ki nahin pooja karne ka tarika in hindi pooja karne ka tarika pooja karne ka right time pooja karne ka samay kya hai pooja karne ka sahi time pooja karne ka time pipal ki puja kab nahi karni chahiye pipal ki puja kab karni chahie pipal ki puja kis din nahi karni chahiye pipal ki puja kis din nahin karni chahie pipal ki puja kab karni chahiye pipal ki puja roj karni chahiye tulsi ki puja kab nahi karni chahiye tulsi ji ki puja kab nahi karni chahie tulsi ki puja kab karni chahiye tulsi ki puja kab karni chahie tulsi ki puja kis din nahi karni chahiye tulsi ji ki puja kis din nahi karni chahiye

वैसे तो हिंदू धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ऐसा कहा गया है कि अगर आप दोपहर के 12 से 4 के बीच के समय पूजा करना वर्जित माना गया है इस समय पूजा नहीं करनी चाहिए या समय भगवान को विश्राम करने का समय माना गया है वैसे आप लोगों ने देखा होगा कि मंदिर में दोपहर समय मंदिर के फाटक बंद कर दिए जाते हैं क्योंकि ऐसा कहा गया है कि इस समय मनुष्य का मन एकाग्र नहीं होता है तो पूजा करने का फल भी नहीं मिल पाता हैं।


रात को 12 बजे से 1 बजे के बिच पूजा नही करनी चाहिए

ऐसा कहा गया है कि रात के 12 से 1 के बीच में हनुमान भगवान लंका में होते हैं इसीलिए 12 से 1 के बीच में पूजा नहीं करनी चाहिए अगर आप हनुमान जी की पूजा करते हैं तो ऐसा कहा गया है।

सूतक के समय पूजा नही करनी चाहिए | Sutak ke samya pooja nahi karni chahiye

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा गया है कि अगर सूतक लगा होता है तो पूजा नहीं की जा सकती है सूतक के समय पूजा करना अशुभ माना जाता है क्योंकि यह एक अशुभ काल होता है इसकी वजह से पूजा करना वर्जित माना जाता है सूतक के समय देव दर्शन के लिए भी नहीं जाया जाता है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा गया है  कि सूर्य ग्रहण के 12 घंटे बाद सूतक लग जाते हैंजिसकी वजह से इस समय मंदिर के फाटक बंद हो जाते हैं जैसे ही सूतक खत्म हो जाता है.

chhath पूजा

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 810 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

महिलाओं को चूड़ियाँ क्यों पहननी चाहिए? चूड़ी पहनने के नुक्सान | किस दिन कौन से रंग की चूड़ी पहने ?
चौथे महीने में गर्भ में लड़का होने के लक्षण | लड़का पैदा होने के लक्षण | 4 month pregnancy me ladka hone ke lakshan hindi

स्नानादि करने के बाद आप पूजा स्थल को पवित्र करने के बाद पूजा की जा सकती है। अगर किसी व्यक्ति के घर में संतान ने जन्म लिया है तो उस समय पूजा करना वर्जित माना जाता है इसे एक प्रकार से सूतक का प्रकार माना जाता है जब तक संतान 10 दिन की नहीं हो जाती तब तक पूजा नहीं करनी चाहिए आपके घर में किसी भी सदस्य की मृत्यु हो जाए तो उस समय भी सूतक लग जाता है तो मृत्यु के 13 दिन तक पूजा नहीं करनी चाहिए यह वर्जित माना जाता है।

स्त्री के मासिकधर्म के दौरान पूजा नही करनी चाहिए

ऐसा कहा जाता है कि अगर कोई स्त्री मासिक धर्म से गुजर रही है तो उसे पूजा पाठ नहीं करना चाहिए धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस समय पूजा पाठ करना वर्जित माना जाता है।

शाम को कितने बजे पूजा करनी चाहिए ?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

अगर आप शाम के समय पूजा करना चाहते हैं तो आपको सूर्यास्त के बाद ही पूजा करनी चाहिए सूर्यास्त का समय 6:30 से 7:30 के बीच का होता है अगर आप इस समय पूजा करते हैं तो बहुत ही शुभ माना जाता है।

क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए ?

कई लोग मुझसे यह सवाल पूछते हैं कि क्या हम लोग दोपहर में पूजा कर सकते हैं आज हम आप लोगों को बता दें कि दोपहर 12 से 4 के बीच में पूजा करना वर्जित माना जाता है क्योंकि यह समय भगवान के विश्राम करने का होता है अगर आप इस समय भगवान की पूजा करते हैं तो एक प्रकार से उन्हें उनकी नींद से उठाते हैं तो ऐसा करना वर्जित नहीं होता है।

सुबह कितने बजे उठकर पूजा करनी चाहिए ? | Subah kitne baje puja karni chahiye

जो भी व्यक्ति सुबह जल्दी उठकर भगवान की पूजा करता है वह सर्वश्रेष्ठ माना जाता है अगर कोई व्यक्ति सुबह उठकर स्नान आदि करने के बाद 6 से 8 के बीच में पूजा करता है तो यह शुभ माना जाता है आप चाहे तो 8 बजे के बाद भी पूजा कर सकते हैं लेकिन अगर आप 6 से 8 के बीच में पूजा करते हैं तो यह ज्यादा शुभ माना जाता है इस समय आपका मन एकदम शांत रहता है जिसकी वजह से आप पूरे श्रद्धा और भक्ति के साथ भगवान की पूजा कर सकते हैं।

recitation of durga saptashati

अगर आप सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि से संपन्न होने के बाद 6 से 8 के बीच में पूजा करते हैं तो आपके शरीर में पूरी एनर्जी बनी रहती है और उस समय आपके शरीर में सकारात्मक ऊर्जा प्रवेश करती है जिसकी वजह से हम पूरे मन से और भगवान के प्रति मन को एकाग्र करने के साथ पूजा कर सकते हैं।

पूजा करने के फायदे क्या होते हैं ? | Puja karne se fayda kya hote hai ?

1. अगर आप सुबह जल्दी उठकर पूजा करते हैं तो आपका मानसिक रूप काफी शांत हो जाता है तथा आपका मन पूरा दिन प्रसन्न रहता है।
2. अगर आपके घर में अधिक पूजा की जाती है तो आपके घर का वातावरण शुद्ध रहता है।
3. आप जिस भी भगवान को मानते हैं जिसकी भी पूजा करते हैं अगर आप रोज पूजा करते हैं तो उनके प्रति आपका विश्वास और भी ज्यादा बढ़ जाता है उसके साथ आपका मन मिल जाता है।
4. पूजा करने से आपके घर में सुख शांति और समृद्धि बनी रहती है।
5. पूजा करने से आपकी इच्छा तो पूरी ही होती है उसके साथ आपका मानसिक तनाव दूर हो जाता है पर आप इसके साथ किसी भी मंत्र का जाप करते हैं तो आपकी बुद्धि तेज हो जाती है।

osir news

FAQ : पूजा कब नहीं करनी चाहिए ?

शाम की पूजा का सही समय क्या है?

शाम को पूजा करने का सही समय सूर्य अस्त के बाद 6:30 से लेकर 7:30 का होता है कभी भी संध्या काल की पूजा रात्रि में नहीं करनी चाहिए

पूजा करने का सही टाइम क्या है?

पूजा करने का सही समय हिंदू धार्मिक शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना गया है स्नानादि करने के बाद सुबह और शाम को पूजा करना अनिवार्य माना जाता है श्रद्धा भाव से अपने इष्ट की पूजा करनी चाहिए कई बार कुछ लोग पूजा-पाठ का सही समय नहीं जानते हैं ऐसे में वह गलत समय पर पूजा कर लेते हैं और पूजा करने के कुछ नियमों में भी गड़बड़ी कर देते हैं।

मासिक धर्म के कितने दिन बाद पूजा करनी चाहिए?

जो भी महिलाएं मासिक धर्म से गुजरी है उन्हें नियम अनुसार पूजा नहीं करनी चाहिए इस समय महिलाओं को मंदिर में भी जाना वर्जित माना जाता है मासिक धर्म के 7 दिन के बाद सारी महिलाएं पूजा करने जा सकती हैं।

निष्कर्ष

आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से पूजा कब नहीं करनी चाहिए इसके बारे में बताया और यह भी बताया कि सुबह के समय 6 से 8 के बीच का समय पूजा करने का होता है और शाम के समय सूर्यास्त यानी कि 6:30 से 7:30 के बीच में पूजा करना शुभ माना जाता है हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित हुई होगी।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

50+ लड़कीयों के फोन नंबर, व्हाट्सएप नंबर और लड़कियों के ग्रुप लिंक | kisi ladki ka number do
राशि कैसे पता करें : अपने नाम या जन्मतिथि से अपनी राशि जाने | Rashi kaise pata kare : apni rashi kaise jane
कमर दर्द का टोटका ,मंत्र एवं 10 सावधानियां और 4 उपाय | Kamar dard ka totka
बिना जन्म तिथि के भविष्य कैसे जाने | Type of astrology in hindi
राहू बीज मंत्र के लाभ : शुभ दिन, राहू मंत्र प्रयोग विधि और उपाय | benefits of rahu beej mantra
★ सम्बंधित लेख ★