आप के नजदीकी अनाथ आश्रम का पता और फोन नंबर | Anath ashram near me

Anath ashram near me दोस्तों आज दुनिया में हजारों बच्चे ऐसे हैं जो माता-पिता के बगैर जीवन यापन कर रहे हैं उनके माता-पिता या तो किसी दुर्घटना में खो गए अथवा बचपन में ही मर गए जिसकी वजह से बेसहारा होकर बच्चे अनाथालय में चले जाते हैं यदि किसी शहर में गांव में ऐसे बेसहारा बच्चे है तो लोग उन्हें अनाथालय में डाल देते हैं।



anath ashramkaise pata

भारत भर में अनेकों अनाथालय से खुले हुए हैं जहां पर इन बेसहारा बच्चों को सहारा मिलता है यही अनाथालय ऐसे लोगों को बच्चे भी दान कर देते हैं जिनके पास संताने नहीं है क्योंकि अनाथ बच्चों का सहारा देने वाले अनाथालय का उद्देश्य होता है कि बच्चों का पालन पोषण सही से हो सके और सही दिशा में जीवन यापन कर के एक अच्छे नागरिक के रूप में रहे।

ऐसे बहुत से अनाथालय हैं जिनमें बच्चों को गोद लेने के लिए वह लोग संपर्क करते हैं जिनके पास कोई बच्चा नहीं है और यह अनाथालय ऐसे लोगों को बच्चे भी उपलब्ध करा देते हैं उनके पास संताने नहीं है क्योंकि अनाथालय में कुछ ऐसे बच्चे पल रहे होते हैं जो माता-पिता विहीन होते हैं और उन बच्चों को सहारा माता पिता के मिल जाए इसलिए संतानों की आवश्यकता वाले व्यक्ति इनसे संपर्क करके संतान गोद ले सकते है।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

वे दंपत्ति जो किसी भी बच्चे को अनाथालय से प्राप्त करके किसी बच्चे को अपना बना सकते हैं ऐसे लोगों को यदि अनाथालय के नाम नहीं पता है और वह अपने आसपास के अनाथालय से बच्चा गोद लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अनाथालय के बहुत से ऐसे पता दिया जाता है जहां पर पहुंचकर अनाथालय से बच्चा प्राप्त कर सकते हैं.

इसके अलावा जो बच्चे आसपास बेसहारा हो गए हैं उनको अनाथालय तक पहुंचाने के लिए जो भी लोग चाहते हैं वह लोग इन अनाथालय में बच्चों को पहुंचा कर एक पुण्य का काम कर सकते हैं यदि आपको आसपास के अनाथ बच्चों को अनाथालय भेजना है तो आप इन अनाथालय में के नाम कैसे पता करें आपके आसपास के अनाथालय कौन-कौन से हैं.


इस विषय में हम आपको यहां पर बताएंगे कि आप अनाथालय को कैसे खोज पाएंगे।

नवजात शिशु अनाथालय की सूची सरकारी वेबसाइट

ऐसे बहुत से कपल होते हैं जो किसी कारणवश अपनी संतान को जन्म नहीं दे पाते हैं या फिर उनकी कोई संतान नहीं होती है जिसकी वजह से वह नवजात शिशु को गोद लेना चाहते हैं क्योंकि नवजात शिशु को गोद लेने का एक सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि वह बचपन से ही उन्हें अपना माता-पिता मानते है और यदि वह थोड़ा बड़े बच्चों को गोद ले तो उसे संभालना तथा उस बच्चों को उन दोनों दंपतियों को एक्सेप्ट करना दोनों ही मुश्किल हो जाता है.

इसीलिए नवजात शिशु को लोग अधिकतर गोद लेते हैं यहां पर हम आपको कुछ ऐसे अनाथ आश्रम की सूची देंगे जहां से आप नवजात शिशुओं को गोद ले सकते हैं.

Gov. NGO Directory official site

1. दिल्ली के अनाथ आश्रम

दिल्ली के अनाथ आश्रम पता
आर्य बाल गृह पटौदी हाउस, दरियागंज, दिल्ली
बाल सहयोग

मार्केट, एल ब्लॉक के सामने, कनॉट प्लेस, New Delhi, Delhi 110001

किलकारी घर एनसीसी बिल्डिंग, सीनियर सेकेंडरी गर्ल्स स्कूल के पास, चाबीगंज,

2. मुंबई के अनाथ आश्रम

मुंबई के अनाथ आश्रम
पता
बालिका आश्रम
दादर ईस्ट (बालिका आश्रम)
नवीन आशा सहकारी आवास समिति,
124, दादा साहब फाल्के मार्ग,
दादर पूर्व, मुंबई, महाराष्ट्र 400014
शिशु भवन
मिशनरीज़ ऑफ चैरिटी – बच्चों का अनाथालय,
स्टेशन, चर्च रोड, एलआईसी कॉलोनी, सुरेश कॉलोनी,
विले पार्ले वेस्ट, मुंबई, महाराष्ट्र 400056
बल आनंद वर्ल्डचिल्ड्रन वेलफेयर ट्रस्ट इंडिया
नंबर 93, साईं कृपा बिल्डिंग,
ऑपोजिट मराठी म्यूनिसिपल स्कूल,
घाटला गांव रोड, नागेश पाटिलवाड़ी
चेंबूर, मुंबई, महाराष्ट्र 400071

3. कोलकाता के अनाथ आश्रम

कोलकाता के अनाथ आश्रम
पता
कल्यान आश्रम
F8X9+GMG, ऑडी बागान बस्ती,
बेहाला, कोलकाता, पश्चिम बंगाल 700034
श्री रामकृष्ण आनंदा आश्रम
दुर्गा प्रसन्ना परमहंस रोड,
नकटाला, गरिया, कोलकाता,
पश्चिम बंगाल 700047
अनाथ आश्रम अस्सी, कोलकाता
केस्टोपुर, चांदीबेरिया दक्षिण,
अंकुर क्लब के पास, न्यूटाउन,
कोलकाता, पश्चिम बंगाल 700102

4. चेन्नई के अनाथ आश्रम

चेन्नई के अनाथ आश्रम
पता
ओंगारा आश्रम
चेन्नई (ओंगारा आश्रम)
M 14, 1B, East एवेन्यू, कोराट्टूर,
चेन्नई, तमिलनाडु 600080
साई बाबा गुरूकुलम
2nd St, मूकाम्बिकाई नगर,
पुलिस कमिश्नर कॉलोनी, पोझिचलूर,
चेन्नई, तमिलनाडु 600074
गुड लाइफ सेंटर
7-बी, लोगनाथन St, Near विद्या थिएटर के पास ए/सी आरजीबी लेजर,
तांबरम पश्चिम, चेन्नई,
तमिलनाडु 600045

दिल्ली के प्रसिद्ध अनाथ आश्रम

दिल्ली जैसे बड़े शहर में आपको बहुत से अनाथ आश्रम देखने को मिल जाते हैं जो नवजात शिशुओं की सेवा करते हैं जिन बच्चों के माता-पिता उन्हें जन्म के पूर्व कहीं पर छोड़ देते हैं वह उन बच्चों की सेवा तथा उनकी देखरेख करने का जोखिम स्वयं उठाते हैं यदि आप अपने लिए किसी नवजात शिशु को गोद लेना चाहते हैं.

तो आप दिल्ली के इन अनाथ आश्रम में जाकर उसकी खोज कर सकते हैं क्योंकि यहां पर आपको हर उम्र के नवजात शिशु दिखाई देंगे जो भी आपको पसंद आए आप उसे सारी फॉर्मेलिटी को पूरा करने के बाद गोद ले सकते हैं तथा उसे अपनी संतान के रूप में पाल सकते हैं यहां पर नीचे हमने आपको दिल्ली के अनाथ आश्रम की लिस्ट और उनका पता भी दिया है. इसके अलावा इन अनाथ आश्रम से आप छोटे से बड़े किसी भी उम्र के बच्चों को गोद ले सकते हैं.

अनाथ आश्रम के नाम अनाथ आश्रम के बारे में पता
स्वीट होम गर्ल्स आश्रम इस अनाथ आश्रम में आपको 18 वर्ष या उससे अधिक उम्र की लड़कियां मिल जाती हैं जिनके देखभाल के साथ-साथ उन्हें एक अच्छे स्कूल में पढ़ाया भी जाता है यहां पर रहने वाले लड़कियों को उनकी रुचि के अनुसार सिलाई सफाई हाउस कीपिंग आदि कार्य दिए जाते हैं
गवर्नमेंट सर्वोदय को-एजुकेशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल 1 मेट्रो स्टेशन नजफगढ़, धरमपुरा, नजफगढ़, दिल्ली, 110043
किलकारी बालिका रेन्बॉ होम जिन लड़कियों को उनके घर से निकाल दिया जाता है या फिर बचपन से ही उन्हें सड़क पर मरने के लिए छोड़ दिया जाता है इस अनाथ आश्रम के लोग उन लड़कियों की सेवा तथा उनके जीवन की जिम्मेदारी लेते हैं यहां पर बच्चियों को वह सारी चीज मिलती हैं जो एक आम जिंदगी जीने वाली लड़कियों को मिलती है.
एनसीसी बिल्डिंग, सीनियर सेकेंडरी गर्ल्स स्कूल के पास, चाबीगंज, कश्मीरी, गेट, नई दिल्ली, दिल्ली 110006
बाल सहयोग इस अनाथ आश्रम की स्थापना श्रीमती इंदिरा गांधी ने 1954 में किया था इसमें 8 वर्ष से 17 वर्ष के लगभग 140 अनाथ बच्चे रहते हैं जिन्हें पढ़ने, रहने और खाने के सुविधा दी जाती है
मार्केट, एल ब्लॉक, कनॉट प्लेस, नई दिल्ली, दिल्ली 110001।
बाल सेवा संस्थान अनाथ आश्रम में बच्चों को वह सारी सुविधाएं दी जाती हैं जो एक आम बच्चों को मिलनी चाहिए यहां पर बच्चों को रहने के लिए छत पढ़ने के लिए स्कूल तथा खाने के लिए स्वादिष्ट और सेहत पूर्ण खाना दिया जाता है
हाउस नंबर 2, मेट्रो पिलर 719, स्ट्रीट, शिव मंदिर मार्ग, फेज़ 1ए, ओम विहार, उत्तम नगर, दिल्ली, 110059

अनाथ आश्रम कैसे खोजे ?

अब हम आप को अपने नजदीकी अनाथ आश्रम कैसे खोजे इसके बारे में जानकारी देंगे .

1. अनाथालय के नाम से गूगल पर सर्च करे  

भारत जैसे देश में लगभग हर साल 5 से 6 लाख बच्चे अनाथ हो जाते हैं इन बच्चों के माता-पिता का सहारा प्राप्त करने के लिए अनाथालय में भेज दिया जाता है जिससे उनकी उचित देखरेख हो सके और उनका जीवन सुचारु रुप से सही मार्गदर्शन में जा सके।

google search

 

इसके लिए आप यदि किसी बच्चे को दान लेना चाहते हैं या फिर बच्चे को अनाथालय में डालना चाहते हैं तो आप गूगल पर सर्च करेंगे तो आपके आसपास के अनाथालय ओं के नाम और पता व फोन नंबर सब कुछ मिल जाएगा जहां से संपर्क करके आप अनाथ बच्चों से संबंधित सेवा कर सकते हैं।

गूगल एक ऐसा सर्च इंजन है जिसके माध्यम से दुनिया भर की तमाम खोज खबर को पल भर में दिखा देता है ऐसे में आप जब अपने आसपास के अनाथालय के नाम पता करना चाहते हैं तो गूगल सर्च करके निकाल सकते हैं और बेसहारा बच्चों को वहां पर पहुंचा सकते हैं .

2. यूट्यूब के माध्यम से अनाथालय के नाम खोजें 

अपने आसपास के अनाथालय के नाम पता करने के लिए आप यूट्यूब का सहारा ले सकते हैं आपको यूट्यूब पर ऐसे तमाम वीडियो मिल जाएंगे जिनमें आपके आसपास के कई सारे अनाथालय के नाम पता और फोन नंबर सब कुछ यूट्यूब वीडियो में कर बता देता है जहां पर आप बेसहारा बच्चों का सहारा बन सकते हैं.

YouTube

यूट्यूब पर सर्च करने के बाद आप उन अनाथालय के फोन नंबर पता आदि लेकर अनाथालय से बच्चा दान ले सकते हैं और यदि आपके आसपास कोई अनाथ बच्चा है जिनके ऊपर से माता पिता का साया उठ चुका है उनको अनाथालय में डाल सकते हैं।

3. गृह मंत्रालय की वेबसाइट से अनाथालय के नाम पता करें

किसी भी अनाथालय का रजिस्ट्रेशन हमेशा गृह मंत्रालय से ही होता है ऐसे में गृह मंत्रालय के पास भारत के सभी अनाथालय के नाम पता और फोन नंबर दर्ज होते हैं यदि आपको किसी भी अनाथालय का नाम पता करना है तो ऐसे में गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर जाकर अनाथालय को सर्च कर सकते हैं।

ministry home

गृह मंत्रालय द्वारा जारी किया गया रजिस्ट्रेशन नंबर और सर्टिफिकेट पर अनाथालय के मालिक का नाम पता और फोन नंबर दर्ज होता है जिसकी वजह से अनाथालय का पता प्राप्त किया जा सकता है।

किसी भी अनाथालय में बच्चों की हालत और उनके जीवन संबंधी सभी प्रकार की समस्याओं की देखरेख गृह मंत्रालय भी रखता है यदि आपको बच्चा प्राप्त करना है या बेसहारा बच्चे को अनाथालय में डालना है तो गृह मंत्रालय की वेबसाइट पर अनाथालय के नाम पता करके वहां से संपर्क करके बच्चे से संबंधित समस्या को दूर किया जा सकता है।

4. विभिन्न प्रकार की सेवा समिति से अनाथालय के नाम पता करें

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

हमारे देश में प्रत्येक जिले में समाज कल्याण ऑफिस होता है समाज कल्याण ऑफिस से अनाथालय का रजिस्ट्रेशन प्राप्त होता है ऐसे में यदि आप अपने आसपास के अनाथालय में के नाम जानना चाहते हैं और वहां पर अनाथालय से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी जानना चाहते हैं तो अपने जिले के समाज कल्याण ऑफिस से भी पता कर सकते हैं.

ngo tree pedh

इसके अलावा अनाथालय का संरक्षण प्रत्येक जिले के जिलाधिकारी के अधिकार में भी होता है यदि आपको अपने आसपास के अनाथालय के नाम पता प्राप्त करना है और अनाथालय से किसी प्रकार की सेवा लेना चाहते हैं तो आज जिलाधिकारी को भी पत्र के माध्यम से फोन के माध्यम से या फिर जिला अधिकारी ऑफिस में स्वयं उपस्थित होकर अनाथालय संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

5. प्रतिष्ठित लोगों से अनाथालय के विषय में जानकारी ले 

अनाथालय में बहुत सारे बच्चे आपके क्षेत्र के जनप्रतिनिधि जैसे विधायक सांसद थाना अध्यक्ष जिला पंचायत अध्यक्ष क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष और तमाम पार्टियों के जिला अध्यक्ष युवा ब्लॉक अध्यक्ष आदि के माध्यम से भी बच्चे अनाथालय में पहुंचते हैं ।

gentleman

ऐसे में यदि किसी भी अनाथालय से संबंधित कोई सेवा प्रदान करना चाहते हैं या लेना चाहते हैं तो इन लोगों से भी संपर्क कर के अनाथालय के विषय में नाम पता व फोन नंबर जाना जा सकता है।

बहुत से बेसहारा बच्चे पुलिस के ही माध्यम से अनाथालय में पहुंचते हैं क्योंकि जब किसी भी पुलिस विभाग के व्यक्ति को कोई अनाथ बच्चा मिलता है तो पुलिस उसे हमेशा अनाथालय में भेज देती है ऐसे में आप पुलिस विभाग से संपर्क करके अपने आसपास के अनाथालय के नाम पता और फोन नंबर आदि को प्राप्त कर सकते हैं।

6. समाज सेवा करने वाले व्यक्तियों से अनाथालय के विषय में जानकारी प्राप्त करें

mantra anath old man

लगभग हर गांव में हर शहर में तथा आपके आसपास कहीं ना कहीं पर ऐसे कुछ न कुछ व्यक्ति मिल जाएंगे जो समाज सेवा से जुड़े हुए होते हैं यह जन कल्याण और मानव कल्याण समिति के सदस्य भी होते हैं ऐसे में इन लोगों से संपर्क करके अनाथालय के विषय में जानकारी प्राप्त की जा सकती है अपने आसपास के अनाथ लोगों के नाम पता फोन नंबर आदि जानने के लिए इन समाजसेवी लोगों से संपर्क किया जा सकता है।

7. सोशल नेटवर्क से अनाथालय की जानकारी प्राप्त करें

आज के दौर में फेसबुक व्हाट्सएप इंस्टाग्राम जैसे सोशल नेटवर्क के प्लेटफार्म बहुत सारे उपलब्ध है यदि आपके पास मोबाइल है तो आपको सोशल मीडिया के माध्यम से अनाथालय से संबंधित हर प्रकार की जानकारी उपलब्ध हो जाती है अपने आसपास के अनाथालय को पता करने के लिए सोशल नेटवर्क का सहारा ले सकते हैं.

Social Media Expert Skill

अक्सर आप लोगों ने देखा होगा कि सोशल मीडिया पर अनाथालय से संबंधित बहुत सारी खबरें लोग प्रेषित करते रहते हैं जिनमें अपना फोन नंबर भी दे देते हैं यदि आपको अपने आसपास के अनाथालय से संबंधित किसी भी जानकारी करना चाहते हैं तो आप सोशल मीडिया के माध्यम से ऐसे लोगों से संपर्क करके ढेर सारी जानकारी मिल जाती है।

8. प्रिंट मीडिया अखबार के माध्यम से अनाथालय की जानकारी प्राप्त करें

लेकिन प्रकार की खबरों को प्रसारित करने वाले प्रिंट मीडिया सभी क्षेत्रों में काम करते हैं ऐसे में कभी-कभी अनाथालय में से संबंधित भी अखबार में अपनी खबर प्रसारित करते हैं जहां पर आपको अनाथालय से संबंधित फोन नंबर पता तथा अन्य कुछ जानकारियां सामान्य रूप से दी जाती हैं।

NEWSPPAPER AKHBAR

यदि अपने आसपास के अनाथालय के विषय में जानकारी प्राप्त करना है तो प्रिंट मीडिया अखबार वालों से संपर्क करके बहुत सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

9. इलेक्ट्रॉनिक मीडिया या टेलीविजन के माध्यम से अनाथालय की जानकारी लें 

टेलीविजन या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया आज के दौर में सभी प्रकार की खबरें प्रकाशित करते रहते हैं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया भी कभी-कभी अनाथालय से संबंधित जानकारी अपने न्यूज़ चैनल पर प्रसारित करता है।

tv

सभी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक मीडिया अनाथालय से संबंधित जानकारी वहां के मालिक पता फोन नंबर आज तक कुछ देते हैं ऐसे में इन लोगों से संपर्क करके अपने आसपास के अनाथालय के विषय में जानकारी प्राप्त की जा सकती है।

अनाथालय का मुख्य उद्देश्य क्या है ? 

ngo children bachhe

जैसा कि आपको पता है कि अनाथालय का सीधा उद्देश्य ऐसे बच्चों से या बूढ़े बुजुर्गों से संबंधित है जिनका कोई सहारा नहीं रह जाता है ऐसे बच्चे जिनके माता पिता का साया बचपन में ही उठ जाता है अथवा किसी प्रकार की दुर्घटना का शिकार हो जाने की वजह से बेसहारा हो गए हैं ऐसे बच्चों का पालन पोषण अनाथालय का मुख्य उद्देश्य होता है।

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन