पतंजलि में दूध बढ़ाने की दवा और सेवन विधि एवं अन्य 5 आयुर्वेदिक दवा | दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali : Doodh badhane kee aayurvedik dava patanjali

दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali | Doodh badhane kee aayurvedik dava patanjali : नमस्कार दोस्तों आज हम आपको अपने इस आर्टिकल के माध्यम से दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali के बारे में बात करेंगे क्योंकि किसी भी शिशु के लिए मां का दूध का संपूर्ण पोषण होता है और बच्चा और मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है क्योंकि आज के दौर में लगभग 70% महिलाएं दूध की कमी से बच्चे को पूर्ण आहार नहीं दे पा रही है।

दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali,, Doodh badhane kee aayurvedik dava patanjali,, दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali,, दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि,, ayurvedic testosterone booster patanjali,, ayurvedic vitamin d patanjali,, ayurvedic medicine patanjali,, patanjali ki bhukh badhane ki dawa,, doodh patanjali biscuits,, patanjali ki davaiyan,, patanjali dudh powder ke fayde,, patanjali takat ki dawa,, doodh patra patanjali,, दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाएं,, doodh aane ki tablet,, dudh badhane ke liye medicine,, dudh badhane ki tablet,, dudh badhane ka tablet,, dudh ka dawai,, dudh badhane ke liye dava,, dudh badhane ke liye dawai,, ,,

यह बात पता होना चाहिए कि बच्चे को जन्म देने के बाद हर महिला का स्तनपान कराना जरूरी होता है जिससे बच्चा कई प्रकार की शारीरिक और मानसिक बीमारियों से बच जाता है परंतु दूध की कमी के चलते महिलाएं एक या दो माह तक बच्चे को स्तनपान कराते हैं लेकिन उसके बाद महिलाओं में दूध की कमी के चलते स्तनपान कराना बंद कर देते हैं इस स्थिति में बच्चे को बाहर का दूध देना पड़ता है।

महिलाओं के स्तनों में दूध की वृद्धि करने के लिए प्रोलैक्टिन हार्मोन का होना विशेष जरूरत है क्योंकि यह हार्मोन महिलाओं ने दूध की मात्रा को वृद्धि करता है स्तनपान कराना लेक्टेशन कहलाता है परंतु hormone disbalance के कारण दूध में कमी पाई जाती है। दूध की कमी को दूर करने के लिए दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali एक रामबाण दवा है।

दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali | Doodh badhane kee aayurvedik dava patanjali

ब्रेस्ट मिल्क बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि क्या है इसका शरीर पर कैसे असर पड़ता है दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि महिलाओं के लिए कितना लाभकारी है आइए हम इस संबंध में जानकारी देने का प्रयास करते हैं। मां के दूध को आयुर्वेद में अमृत माना गया है जो बच्चे को पोषण देता है तथा शारीरिक ताकत मजबूती और विकास करता है।

ऐसे में मां के स्तनों में दूध की कमी के चलते हैं बच्चे को पोषण नहीं मिलता है तो आप कई प्रकार की आयुर्वेदिक दवाओं के माध्यम से ब्रेस्ट मिल्क वृद्धि कर सकती हैं आइए हम आपको पहले दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि के बारे में बताते हैं।

1. पतंजलि शतावरी चूर्ण

जिन माताओं बहनों को ब्रेस्ट मिल्क बिल्कुल सूख गया हो या बहुत कम मात्रा में बनता हो तो उन महिलाओं को पतंजलि शतावरी चूर्ण प्रतिदिन सुबह-शाम एक-एक चम्मच दूध के साथ देने से ब्रेस्ट मिल्क बनना प्रारंभ हो जाता है और लगभग 1 महीने लगातार लेने से महिलाओं में अत्यधिक मात्रा में दूध निकलने लगता है जिससे बच्चों को पूर्ण पोषण प्राप्त हो जाता है।


पतंजलि शतावरी चूर्ण

जिन महिलाओं के स्तनों में दूध पूरी तरह से सूख गया हो उन महिलाओं को शतावरी चूर्ण के साथ जीरे को हल्का भून लें और पीसकर चूर्ण बना लें और इस चूर्ण को भी एक चम्मच प्रतिदिन देना प्रारंभ करें इससे महिलाओं के स्तनों में अत्यधिक मात्रा में दूध वृद्धि हो जाती है।

दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवाएं | Doodh badhane ki ayurvedic dawa

दोस्तों जहां बाद दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि की आती है वही पतंजलि में केवल शतावरी चूर्ण ही एक महत्वपूर्ण आयुर्वेदिक दवा महिलाओं के दूध बढ़ाने के लिए दी जाती है इसके अलावा अन्य भी कई दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा हैं.

जिनका सेवन करने मात्र से महिलाओं के स्तनों में पर्याप्त मात्रा में दूध बनने लगता है जिससे बच्चे को पूर्ण पोषण के रूप में दूध प्राप्त हो जाता है आइए हम आपको कुछ अन्य आयुर्वेदिक दवाओं के बारे में बताते हैं।

1. Fenugreek seeds या मेथी दाना

जिन महिलाओं के स्तनों में दूध बिल्कुल नहीं बनता है या कम मात्रा में बनता है तो ऐसे में मेथी दाना का सेवन एक रामबाण आयुर्वेदिक औषधि है जो महिलाओं में उचित मात्रा में दूध की वृद्धि करता है।

मेथी दाना महिलाओं में दूध बढ़ाने के लिए एक सप्लीमेंट की तरह काम करता है आज दुनिया में मेथी दाना को दूध बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है अमेरिका के सर्वे के अनुसार दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा के रूप में मेथीदाना 3 सप्ताह तक प्रयोग करने से लगभग 50% से अधिक दूध में वृद्धि होती है।

merthi

मेथी दाना का प्रयोग करने के लिए आपको कम से कम एक चम्मच मेथी दाना को एक कप पानी में 15 से 20 मिनट तक उबालना है और इस पानी को पी लेना है चाहे तो आप बीजों को भी खा ले यह प्रक्रिया आप दिन में दो से तीन बार कर सकती हैं जिससे आपके ब्रेस्ट में मिल्क अत्यधिक मात्रा में बनना प्रारंभ हो जाता है।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 895 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

इच्छापूर्ति टोटका : आप की मनोकामना पूरी करने वाला सबसे अच्छा टोटका और मंत्र | icchapurti ke totke
कैसे शुक्रवार को लक्ष्मी पूजा करने की विधि,नियम और उपाय | Shukrawar ko Lakshmi puja karne ki vidhi aur upay

इसके अलावा Fenugreek seeds से बने कैप्सूल भी मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध है अगर आपके पास समय नहीं रहता है तो आप इन मेथी दाना के कैप्सूल को मेडिकल स्टोर से मंगा कर भी सेवन कर सकती हैं यह कैप्सूल सुबह-शाम दूध के साथ अथवा गर्म पानी के साथ ले सकती हैं।

2. Cratus Lactacrat syrup

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

Cratus Lactacrat syrup महिलाओं के दूध बढ़ाने के लिए एक रामबाण दवा है इसमें विदरीकंद, कृष्णजीरक, एप्पल जूस तुलसी यष्टिमधु जैसी जड़ी बूटियों का मिश्रण है जो महिलाओं के स्तनों को खिला देता है और दूध बढ़ा देता है।

Cratus Lactacrat syrup

Cratus Lactacrat syrup ऐसी महिलाओं के लिए रामबाण दवा है जिन महिलाओं के स्तन बहुत छोटे हैं और दूध की मात्रा कम निकलती हैं इस सिरप को लेने के बाद स्तनों का आकार भी बढ़ता है हार्मोन संतुलन होता है और दूध में भी वृद्धि हो जाती हैं।

3. Mummy knows capsule

ऐसी महिलाएं जो पहली बार स्तनपान कराने जा रही हैं और उनके स्तनों में दूध की मात्रा की कमी पाई जा रही है तो Mummy knows capsule का सेवन कर सकते हैं जो दूध बढ़ाने के लिए एक बेहतर कैप्सूल है। यह कैप्सूल शतावरी से निर्मित है यदि महिलाओं के स्तन छोटे हैं जिनकी वजह से दूध नहीं बनता है तो वह महिलाएं Mummy knows capsule का प्रयोग करें।

4. खजूर और बादाम

दोस्तों महिलाओं के स्तनों में दूध की कमी को देखते हुए खजूर और बादाम का सेवन एक रामबाण आयुर्वेदिक उपाय है अगर आप चाहती हैं कि आप के स्कूलों में बच्चों के पोषण के लिए पर्याप्त मात्रा में दूध बड़े तो खजूर और बादाम का सेवन प्रतिदिन करें।

Almond

खजूर में कैल्शियम फाइबर जैसे महत्वपूर्ण तत्व बहुत अधिक मात्रा में होते हैं प्रतिदिन लगभग 10 खजूर और 10 बादाम दूध के साथ उबालकर खाने से स्तनों में अत्यधिक मात्रा में दूध बनेगा तथा शरीर भी हष्ट पुष्ट होगा।

5. लहसुन और नमक खाएं

जिन माताओं बहनों को बच्चे को स्तनपान कराने के दौरान दूध की कमी दिखाई दे रही है ऐसी महिलाओं को प्रतिदिन 8 से 10 लहसुन की कलियों को तेल में बिना छीले उबालने और उसके बाद जब लहसुन की कलियां में भूरापन आ जाए तो निकाल कर स्वादानुसार नमक मिलाकर दिन में तीन से चार बार खाएं। प्रतिदिन लहसुन और नमक खाने से प्रतिरोधक क्षमता में भी वृद्धि होगी।

6. सौंफ का पानी

सौंफ का प्रयोग अक्सर लोग घरों में मसाले के रूप में प्रयोग करते हैं परंतु आपको यह पता होना जरूरी है कि साउंड किसी भी महिला के स्तनों में दूध की मात्रा को भी बढ़ा देता है ऐसी महिलाएं जिनके दूध की मात्रा की कमी पाई जा रही है.

वह एक चम्मच सौंफ को रात भर पानी में भिगो दें और सुबह है इस सॉन्ग को चबा चबा कर खाएं तथा पानी पी ले इसे दिन में दो बार खाएं थोड़े दिन बाद आपके स्तनों में दूध बहुत अधिक मात्रा में बनेगा।

FAQ : दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा patanjali

मां का दूध नहीं उतरता है तो क्या करें ?

किसी भी महिला को अगर दूध नहीं उतर रहा है तो महिलाओं को चाहिए कि बच्चों को दिन में 10 से 15 बार दूध पिलाएं और दूध पिलाते समय अपने स्तनों को हाथों से हल्के हल्के दबाएं तथा स्तनों की मालिश करें

दूध बढ़ाने के लिए जीरा का इस्तेमाल कैसे करें ?

अगर कोई भी महिला दूध बढ़ाने के लिए जीरा का प्रयोग करना चाहती है तो कम से कम एक चम्मच जीरा को हल्की आंच में भून ले भूलने के बाद उसे पीसकर गर्म पानी के साथ खाएं।

क्या जौ से दूध बढ़ाया जा सकता है ?

जो एक प्रकार का गैलेक्टगॉग है जिसे स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध बढ़ाने के लिए प्रयोग किया जाता है इसमें बीटा ब्लू केन और एंजाइम डायस्टेस होता है जो दूध बढ़ाता है।

निष्कर्ष

दोस्तों मां के दूध का महत्व हर व्यक्ति जानता है जन्म के बाद हर बच्चे को मां का दूध पूर्ण पोषण करता है शरीर के विकास में सहायक होता है और मानसिक मजबूती देता है। परंतु ज्यादातर महिलाएं बच्चे को जन्म देने के बाद स्तनों में दूध की कमी के कारण सही से बच्चे को दूध नहीं पिला पाते हैं.

osir news

तो हम अपने इस आर्टिकल के माध्यम से दूध बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि के साथ-साथ अन्य कई उपायों के बारे में भी जानकारी दिया है जो आपके लिए काफी कारगर साबित होंगे।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

दुश्मन को दोस्त बनाने का मंत्र क्या है ? How to make an enemy a friend mantra?
सर्दियों में धूप लेने के फायदे क्या है? Dhoop lene ke fayde in hindi
लड़कियों से फ्लर्ट कैसे करें ? लड़की से बात करना सीखे ! How to flirt with girls in hindi ?
क्या भूत होते है : असली सच्चाई जाने – kya bhoot hote hai
त्राटक के 6 चमत्कार जाने : त्राटक के नुकसान और 8 सावधानियां | त्राटक के चमत्कार और नुकसान जाने
★ सम्बंधित लेख ★