कामसूत्र : असली वजह जानें क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा ? | Jane kyo hoti hai Mahilao ko sambandh banane ki Ichha

जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा  | Jane kyo hoti hai Mahilao ko sambandh banane ki Ichha : शारीरिक संबंध बनाने में महिला ज्यादा इच्छा रखती है या पुरुष। शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा क्यों होती है आइए इन तमाम मन में उठने वाले सवालों का जवाब हम इस आर्टिकल में अपेक्षित जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा  | Jane  kyo hoti hai Mahilao ko sambandh banane ki Ichha

शारीरिक संबंध एक कुदरती प्रक्रिया है जिससे हर व्यक्ति हर प्राणी गुजरता है अन्य प्राणियों की अपेक्षा मनुष्य का अपने जीवन में शारीरिक संबंध बनाने का एक अलग अंदाज है। जहां स्त्री और पुरुष दोनों शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा रखते हैं तो यह बात जरूर मन में आती है कि कौन अधिक शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा रखता है।

शारीरिक संबंध बनाना स्त्री और पुरुष दोनों के लिए मन का संबंध माना जाता है जहां पुरुष केवल शारीरिक रूप से स्त्री से जुड़ना चाहता है वही स्त्री पुरुष से संबंध बनाने के लिए मन से जुड़ती है परंतु पुरुष इस बात को महसूस नहीं कर पाते हैं जिसकी वजह से कभी ना कभी महिलाएं संबंध का पूरा आनंद नहीं ले पाती है।

जानें क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा ? | Jane  kyo hoti hai Mahilaon ko sambandh basnane ki Ichha ?

कई अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने में ज्यादा रुचि लेती हैं। इस मामले में अगर महिलाएं कभी किसी भी पुरुष से बात करती हैं तो पुरुष उसे भला बुरा कहता है बल्कि स्त्री को लोग गलत समझ बैठेते हैं। जबकि सर्वे इस बात की पुष्टि करते हैं कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाएं संबंध बनाने की इच्छा ज्यादा रखती है।

क्या महिलाओ संबंध बनाना अच्छा लगता है क्या संबंध बनाने से केवल संतान उत्पत्ति करना मात्र है क्या संबंध बनाने से केवल जॉन आनंद मिलता है क्या पुरुषों को यौन संतुष्टि के लिए संबंध महिलाएं बनाती हैं आइए जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा?

1. महिलाओं का संबंध मन से जुड़ा होता है.

अधिकतर पुरुष महिलाओं के शारीरिक संबंध पर ध्यान नहीं देते अगर महिलाएं अपनी तरफ से पुरुष से शारीरिक संबंध जैसे विषय पर बात करती हैं तो उन्हें गलत समझा जाता है ऐसे में महिलाओं को महसूस होता है कि पुरुष अपनी यौन संतुष्टि के लिए सोचता है।

यह सत्य है कि पुरुष शारीरिक संबंधों को मन से नहीं लेता है बल्कि वह केवल एक संतुष्टि के रूप में शारीरिक संबंध रिलेशन कायम करता है दूसरी तरफ महिलाएं शारीरिक रिलेशन बनाने में मन से जोड़ देते हैं क्योंकि जब किसी भी महिला के अंदर पुरुष के प्रति अधिक से अधिक प्यार उम्र ता है तभी वह संबंध बनाने के लिए तैयार होती है।

गर्भ

 

महिलाएं जब तक इच्छा जाहिर नहीं करते तब तक उन्हें संबंध बनाने में दिक्कत होती है परंतु पुरुष हमेशा अपनी इच्छा से और बिना किसी प्यार के संबंध बनाने के लिए स्त्री के साथ तैयार रहता है। अगर आप किसी भी स्त्री के साथ शारीरिक संबंध बनाने से पहले अनुभव करेंगे तो पाएंगे कि स्त्रियां संबंध बनाने से पहले कई प्रकार के फोरप्ले के लिए प्रेरित होती हैं।

‘]”]

2. संबंध बनाने से पहले और बाद में एक साथ रहना

ज्यादातर पाया गया है कि पुरुष स्त्री से संबंध बनाने के पहले फोरप्ले और अन्य कई प्रक्रियाएं करता है लेकिन संबंध बनाने के बाद किसी भी प्रकार कि कोई प्रक्रिया नहीं दोहराता है परंतु स्त्री चाहती है कि संबंध बनाने के बाद भी साथी पुरुष उसके साथ कुछ पल उसी तरह से रहे जिस तरह से संबंध बनाने से पहले रहे हैं।

hasband wife

सभी महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने के बाद भी चाहती हैं कि उनका पति उनके साथ पहले जैसा महसूस कराएं अर्थात संबंध बनाने के बाद उसी तरह से कुछ नाजुक अंगों को स्पर्श करें जैसे बॉडी पार्ट का छूना किस करना कुछ पल के लिए प्रेम करना आदि। ऐसा करने से संतुष्टि मिलती है और स्त्री के मन में पति के प्रति प्यार होता है।

शारीरिक संबंध को लेकर के महिलाओं में कई प्रकार की इच्छाएं और जरूरतें उत्पन्न होती हैं जिसे वह पति से प्राप्त करना चाहती और एक पति को उसकी इच्छाओं को पूरा करने का प्रयास करना चाहिए इस प्रकार से अगर आप एक महिला के मन को समझने में कामयाब होते हैं तो महिलाएं संबंध बनाने की इच्छा ज्यादा रखती है।

3. हार्मोनल परिवर्तन ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन के कारण

जिंदगी के उतार-चढ़ाव में हार्मोन परिवर्तन होता रहता है बहुत सी ऐसी समस्याएं होती हैं जिनकी वजह से स्वास्थ्य में परिवर्तन होता है और कई बार कुछ ऐसी स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जो शारीरिक संबंधों को अलग व्यक्त करती हैं। कुछ अध्ययन इस बात की पुष्टि करते हैं कि महिलाएं सामाजिक और सांस्कृतिक तत्वों से प्रभावित होती हैं।

breast

शारीरिक संबंध ड्राइव करने में पर्यावरण प्रभावित करता है जिससे उनकी यौन व्यवहार और इच्छाएं भी प्रभावित होती हैं इसीलिए देखा जाए तो महिलाएं संबंध बनाने की इच्छा ज्यादा रखती हैं। एक उम्र तक महिलाओं मैं संबंधों को प्रेरित करने वाले हार्मोन अधिक इच्छा को व्यक्त करते हैं।

महिलाओं में कामोत्तेजना को पैदा करने वाले यूटिलाइजिंग हार्मोन अधिक बनते हैं जिससे एक ही समय में कई बार शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा होती है। महिलाओं में जितना अधिक प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन स्रावित होगा उनके अंदर शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा होती ही प्रबल होती है।

4. ऑर्गेज्म करने में हैं सक्षम

महिलाओं में ऑर्गेज्म पुरुषों की अपेक्षा ज्यादा उत्पन्न करने की क्षमता होती है कई बार पुरुष एक बार संबंध बनाने के बाद महिलाओं से दूर हो जाते हैं यहां तक कि देखा गया है कि अक्सर लोग सो जाते हैं परंतु महिलाएं पुरुषों की अपेक्षा ऑर्गेज्म का अनुभव करना चाहती हैं। जिसकी वजह से महिलाओं में संबंध बनाने की इच्छा अधिक होती है.

5. उम्र के उतार-चढ़ाव

अगर आप एक अनुभवी व्यक्ति हैं तो आप अनुभव कर सकते हैं कि जब लड़कियों की उम्र 12 साल से 18 वर्ष के बीच होती है तो इस दौरान मासिक धर्म आने के बाद भी शारीरिक संबंध बनाने की वह उत्तेजना नहीं पाई जाती है जो शादी के बाद होती है।

12 से 16 वर्ष की आयु तक अगर कोई भी महिला अर्थात लड़की किसी भी प्रकार से शारीरिक संबंध नहीं बनाती है तो उसके अंदर अत्यधिक शारीरिक संबंध बनाने की क्षमता नहीं होती लेकिन अगर एक बार भी कोई भी लड़की शारीरिक संबंध बनाती है तो उसके अंदर क्षमता बढ़ जाती है।

eye goggles

 

शादी के बाद महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने में अधिक इच्छा व्यक्त करते हैं क्योंकि इस दौरान उनके अंदर कई प्रकार के हार्मोन उन्हें उत्तेजित करते हैं और इच्छा को बढ़ा देते हैं यह इच्छा लगभग 30 साल तक अत्यधिक होती है लेकिन 30 साल के बाद शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा में कमी आती है।

6. यौन इच्छा पूरा होने की संभावनाएं

जब कोई भी महिला एक अपने साथी पुरुष के साथ एक बार संबंध बना लेती है तो उसके अंदर संबंध बनाने में कोई हिचकिचाहट नहीं होती और भी अपनी यौन इच्छा को पूरा करने की संभावनाएं पुरुष से अधिक रखती हैं इसीलिए महिलाओं में संबंध बनाने की इच्छा अधिक होने लगती है।

sleep lover

सही मायने में देखा जाए तो शादी के बाद साथ ही पुरुष के साथ संबंध बनाने मैं उन्हें किसी प्रकार की कोई शर्म या हिचकिचाहट नहीं रह जाती है जिससे उन्हें लगता है कि वे जब चाहेंगी तब उनकी यौन इच्छा पूरा हो सकती है इसीलिए उनके अंदर संबंध बनाने की इच्छा अधिक प्रबल हो जाती है।

7. संतानोत्पत्ति के लिए

शादी से पहले अगर कोई भी लड़की यौन संबंध ज्ञापित करती है तो उसके अंदर साथ ही पुरुष से संबंध बनाने की इच्छा प्रबल हो जाती है परंतु शादी से पहले अगर कोई भी लड़की शारीरिक संबंध नहीं बनाती है और वह शादी के बाद शारीरिक संबंध बनाती है तो उसे एक इच्छा संतानों की होती है ऐसे में वह शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा अधिक रखती है।

गर्भ में पेट पर लाइन

महिला और पुरुष के जननांगों के बीच मैथुन करते समय कुछ आंतरिक परिवर्तन होते हैं जो स्वयं अनुभव किए जा सकते हैं और इन परिवर्तनों के कारण दोनों के बीच एक अजीब सी सिरहन पैदा होता है जिसमें लैंगिक संबंध का आनंद प्राप्त होता है और इसी आनंद को प्राप्त करने के लिए महिलाओं में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा अधिक होती है।

दूसरी तरफ महिलाओं को संतान की चाहत होती है जिससे वह हर बार संबंध बनाकर सफल करना चाहती हैं कई बार ऐसा होता है कि संबंध बनाने के बावजूद भी संतान नहीं हो पाती है लेकिन वह अपने प्रयास करने में कोई भी अवसर गवाना नहीं चाहते इसीलिए उनके अंदर संतान की चाहत के कारण संबंध बनाने की इच्छा अधिक बनती है।

8. फर्टिलिटी पॉवर के कारण

जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा तो दोस्तों इस बात से को नकारा नहीं जा सकता है कि महिलाओं में जिस दौरान मासिक स्टार्ट होता है और जब मासिक बंद होता है तो उसके अगले 7 से 8 दिन तक महिलाओं का फर्टिलिटी पावर का समय होता है इस दौरान महिलाओं में गर्भधारण की क्षमता अधिक होती है.

गर्भाशय

 

शरीर का तापमान भी बढ़ जाता है जिसकी वजह से कामेच्छा अधिक बढ़ती है।फर्टिलिटी पावर जो अवेलेबल पीरियड होता है जिसमें ओर्गेज्म अधिक होता है और इसी कारण महिलाएं संबंध बनाने की इच्छा अधिक रखती है । ओवुलेशन पीरियड में महिलाओं के शरीर में प्रोजेस्ट्रोन लेवल बढ़ जाता है जो शरीर में अधिक संबंध बनाने की क्षमता को बढ़ा देता है।

9. पुरुष संपर्क और स्पर्श

जब कोई भी महिला पुरुष के संपर्क में रहने लगती है तो शारीरिक स्पर्श होता रहता है जिसके कारण महिलाओं में और पुरुषों में उत्तेजना पैदा करने वाले luteinizing hormone स्रावित होते हैं यह हार्मोन संपर्क और इस वर्ष से महिलाओं को संबंध बनाने के लिए प्रेरित करते हैं।

old friends

जब कोई भी पुरुष स्त्री के संग में रहकर उसे स्पर्श करता है तो स्त्रियों में उत्तेजना बन जाती है और भी संबंधी बनाती हैं दूसरी तरफ जब महिलाओं में मासिक चक्र प्रारंभ होता है तब भी उनके अंदर हार्मोन परिवर्तन होते हैं अवैध संबंध बनाने के लिए इच्छुक होती हैं।

10. 30 से 40 की उम्र में

एक सर्वे के अनुसार यह पता किया गया क्या 30 से 40 साल की उम्र में महिलाओं के अंदर शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा अधिक होती है 40 साल के बाद कई बार महिलाएं यह सोचती हैं कि यौन इच्छा समाप्त हो सकती है लेकिन सर्वे कहते हैं कि 20 साल की लड़की की अपेक्षा 40 साल की उम्र की महिलाओं में शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा अधिक पाई गई हैं।

girl beauty phone

40 साल के बाद महिलाओं को लगता है कि पुरुष यौन इच्छाओं को पूरा नहीं कर पाएंगे ऐसे में वे डरती रहती हैं लेकिन उनके अंदर यौन संबंधों की प्रबल इच्छा होती है विज्ञान कहता है कि ज्यों ज्यों महिलाओं में रजोनिवृत्ति होती है उनके अंदर यौन संबंध बनाने की इच्छा भी अधिक होती है।

11. मासिक धर्म के कारण

महिलाओं में सबसे ज्यादा संबंध बनाने की इच्छा मासिक धर्म के दौरान होती क्योंकि मासिक धर्म के दौरान महिलाओं में हार्मोन अत्यधिक सक्रिय हो जाता है शरीर का ताप बढ़ जाता है और उस दौरान महिलाओं को केवल और केवल संबंध बनाने पर ही मन मस्तिष्क में विचार आने लगते हैं इसीलिए मासिक धर्म के दौरान महिलाएं संबंध बनाने की इच्छा रखती है।

ultrasound

मासिक धर्म से पहले और बाद में लगभग 7 से 8 दिन ओवुलेशन पीरियड होता है ओवुलेशन पीरियड के कारण लोगों को प्रेगनेंसी के अवसर भी होते हैं इसीलिए इस दौरान शारीरिक संबंध बनाना अच्छा लगता है और वह इसके लिए प्रेरित रहती हैं।

12. मानसिक सोच और शारीरिक क्षमता

यदि हमारे मन में यह सवाल आता है कि जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा यह बात मानसिक सोच और शारीरिक क्षमता पर निर्भर करती है अगर कोई महिला शारीरिक संबंध के प्रति अक्सर सोचती रहती है और उसके शरीर में संबंध बनाने के प्रति किसी प्रकार की कोई सुविधा नहीं है तो वह संबंध अधिक बनाती हैं।

mental illness

FAQ : जानें क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा

क्या पराई स्त्री से संबंध बनाना पाप है ?

हिंदू सनातन धर्म के अनुसार पराई स्त्री से संबंध बनाना पाप माना जाता है। क्योंकि हिंदू धर्म में शादी को एक संस्कार माना जाता है और शादी के बाद दूसरी स्त्री के साथ संबंध बनाना पाक की श्रेणी में गिना जाता है।

महिलाओं में लड़कियों को संबंध बनाने की इच्छा कितनी बार होती है ?

किसी भी महिला या लड़की की शारीरिक संबंध बनाने की इच्छा उसकी मानसिक सोच पर निर्भर करती है। शारीरिक संबंध व्यक्तिगत सोच पर निर्भर होते हैं।इसके अलावा अन्य कई छोटे-छोटे कारकों में स्वास्थ्य शारीरिक क्षमता एवं विकास जैसे तथ्य महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा को बढ़ावा दे सकते हैं।

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र क्या होती है?

शारीरिक संबंध बनाने की सही उम्र 22 साल से प्रारंभ होती है और अधिकतम 35 से 40 साल तक शारीरिक संबंध बनाने की एक अच्छी स्थिति में हर महिला होती है।

निष्कर्ष

दोस्तों हम अपनी इस आर्टिकल के माध्यम से आपको इस विषय पर चर्चा करके जानकारी देने का प्रयास किया कि जाने क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा? इस विषय पर लगभग यही कहा जा सकता है कि कुछ उपरोक्त कारण ही महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा को प्रेरित करने के लिए उत्तरदाई होते हैं।

इसके अलावा अन्य कई छोटे-छोटे कारकों में स्वास्थ्य शारीरिक क्षमता एवं विकास जैसे तथ्य महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा को बढ़ावा दे सकते हैं।

Leave a Comment