नीलम रत्न धारण करने के क्या फायदे है ? neelam ratna ke fayde

Neelam ratna pahnne ke kya fayde hote hai ? नीलम कब पहने ? नीलम किस राशि को पहनना चाहिये ? आज के इस आर्टिकल Article में हम आपको नीलम रत्न धारण करने के फायदे के बारे में जानकारी देने वाले हैं, तो अगर आप इसके बारे में जानना चाहते हैं तो अंत तक अवश्य पढ़ें| कभी-कभी हमारी जिंदगी में ग्रहों की दृष्टि खराब Poor eyesight हो जाती है, जिसके कारण हमारी जिंदगी में कई परेशानियां आने लगती हैं|

ऐसे में ज्योतिष उपाय के तौर पर हमें उन ग्रहों से संबंधित रत्न Related gems धारण करने की सलाह दी जाती है,जिन ग्रहों के कारण हमारे जिंदगी में परेशानी हो रही होती है| आपको बता दें कि, नीलम को शनि देवता का रत्ना माना जाता है और नीलम रत्न को धारण करने से शनि ग्रह Saturn का बल मिलता है| neelam pahanne ke labh kya hai ?

शनि ग्रह न्याय का कारक होता है और अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि ग्रह अच्छी स्थिति में होता है और वह व्यक्ति नीलम रत्न धारण करता है, तो शनि से संबंधित सभी कारक तत्वों में बढ़ोतरी होती है|

इसके अलावा शनि ग्रह की जन्म कुंडली जिस भाव में होती है, जिन भावों में शनि की राशि मकर और कुंभ होती हैं या फिर जिनकी भावों पर शनी की 3 दृष्टियां होती है, शनि का रत्न नीलम धारण करने से उस भावो के फलों में भी बढ़ोतरी होती है|

, नीलम रत्न किस राशि को धारण करना चाहिए, नीलम रत्न के नुकसान, नीलम रत्न के फायदे और नुकसान, नीलम रत्न की कीमत क्या है, नीलम रत्न का उपरत्न, नीलम धारण करने का शुभ मुहूर्त, नीलम रत्न की कीमत 2020, नीलम रत्न के प्रकार, नीलम रत्न कितने रत्ती का पहनना चाहिए, नीलम रत्न के चमत्कार, नीलम कब धारण करना चाहिए, असली नीलम रत्न की कीमत, नीलम रत्न के फायदे और नुकसान, नीलम रत्न की कीमत 2020, नीलम रत्न का उपरत्न, नीलम रत्न की कीमत 2021, असली नीलम रत्न की कीमत, नीलम रत्न के चमत्कार, नीलम किस राशि को पहनना चाहिए, पुखराज कितने रत्ती का पहनना चाहिए, कितने दिन में असर दिखाते हैं रत्न, गोमेद कितने रत्ती का पहने, ओपल कितने रत्ती का पहनना चाहिएneelam pahanne , neelam pehenne ki vidhi, neelam pehnne ke fayde, neelam pahanne ki vidhi, नीलम पहनने की विधि, नीलम पहनने के फायदे, नीलम पहनने का तरीका, नीलम पहनने से क्या फायदा, नीलम पहनने के लाभ, नीलम पहनने का समय, neelam kapda, neelam garments, neelam khargwansi, neelam nag original, नीलम पहनने से क्या फायदा होता है, नीलम पहनने के क्या फायदे हैं, नीलम पहनने से फायदे और नुकसान, नीलम पहनने से, नीलम पहनने से क्या लाभ होता है, नीलम पहनने से लाभ, neelam pant, neelam kb phene, ,

परंतु हम आपको बता दे कि किसी भी रत्न को धारण करने के कुछ नियम होते हैं और इसीलिए अगर आप नीलम रत्न को धारण करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको कुछ नियमों का पालन करना होगा|

अगर किसी किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि की बुरी स्थिति है और वह नीलम रत्न धारण करता है, तो उसे फायदे की जगह पर नुकसान हो सकता है|


इसलिए नीचे हम आपको नीलम रत्न धारण करने के नियम बता रहे हैं, ताकि अगर आप नीलम रत्न धारण करना चाहते हैं,तो नियमों का पालन करते हुए उसे धारण कर सकें|

शनि रत्न नीलम धारण करने के नियम क्या होते है ? Rules for wearing Shani Ratna Sapphire ?

आपको बता दें कि अगर जन्म कुंडली में शनि ग्रह योग कारक होकर किसी अच्छे भाव में विराजमान हो तभी व्यक्ति को नीलम रत्न धारण करना चाहिए |

और अगर शनि ग्रह जन्म कुंडली में योगकारक होकर 6,8,12 भाव में विराजमान हो, तो व्यक्ति को किसी ज्योतिष की सलाह के अनुसार ही नीलम रत्न को धारण करना चाहिए|

gemstones-NEELAM
अगर आपकी जन्म कुंडली में शनि ग्रह मारक होकर बैठा हो तो आपको भूल कर भी नीलम रत्न को नहीं धारण करना चाहिए |

 नीलम रत्न क्यों धारण किया जाता है ? Why gems are worn ?

अगर ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए, तो हर व्यक्ति अपने पिछले जन्म में किए गए कर्मों को साथ लेकर ही अपने नए जन्म में पैदा होता है और उसके पिछले जन्म के कर्मों के अनुसार उसकी जन्मकुंडली का ही निर्माण होता है |

और फिर उस व्यक्ति को उसके कर्मों के हिसाब से ही उसकी कुंडली में ग्रह उसे अच्छा और बुरा फल देने के लिए अलग-अलग भाव में बैठते हैं|

और जैसा कि आप जानते हैं कि ग्रह कई प्रकार के होते हैं, इसीलिए जो ग्रह हमारी जन्म कुंडली के जिस भाव में बैठते हैं, वह उसी के अनुरूप फल देते हैं जिसके अनुसार हमारी जिंदगी में सुख या दुख चलता रहता है|

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार देखा जाए, तो नवग्रहों की राशियां हर व्यक्ति को प्रभावित करके उसे अच्छा या फिर बुरा रिजल्ट देती हैं|

शास्त्र गणित हमें यह जानकारी देता है कि हमारे जन्म कुंडली में कौन से ग्रह योग कारक यानी कि अच्छे फल देने वाले हैं और कौन से ग्रह मारक यानी कि खराब फल देने वाले हैं और जब हमें इस बात की जानकारी हो जाती है |

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 810 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

आप के नजदीकी अनाथ आश्रम का पता और फोन नंबर | Anath ashram near me
स्पर्म की स्पीड कैसे बढ़ाये : 11 तरीके और 8 धीमे होने के कारण | स्पर्म की स्पीड कैसे बढ़ाये : Sperm ki speed kaise badhaye
( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

कि, हमारे लिए कौन-कौन से ग्रह अच्छे हैं और कौन-कौन से ग्रह खराब है, तो यह संभावित बात है कि अच्छे ग्रह यानि कि अच्छा फल देने वाले ग्रहों की अधिक प्रभाव में राशियां हमारे ऊपर पड़ेगी तो हमें ज्यादा अच्छे रिजल्ट प्राप्त होंगे|

rhinestone garland sphatik mala anguthi patthar

और अगर कम पड़ेगी, तो हमें कम अच्छे रिजल्ट प्राप्त होंगे| ऐसे ही अगर कुंडली में किसी अच्छे ग्रह का बल कम होता है, तो वह सूरज के साथ अस्त हो या कमजोर हो, तब उस ग्रह से संबंधित रत्नों को धारण करके उस ग्रह के बल को बढ़ाया जा सकता है|

सभी ग्रहों से संबंधित रत्न अलग-अलग होते हैं| इसीलिए शनि ग्रह की शांति के लिए नीलम रत्न धारण किया जाता है तथा अन्य ग्रहों की शांति के लिए अन्य विभिन्न प्रकार के रत्न धारण किए जाते हैं|

किसी भी ग्रह का रत्न एक चुंबक की तरह काम करता है और किसी भी ग्रह से संबंधित रत्न को धारण करने से व्यक्ति में उस ग्रह से संबंधित प्रभाव पड़ने लगते हैं|

अगर किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में कोई ग्रह जिस भाव में बैठा हो और जिन भावों में उसकी दृष्टि हो तो ग्रह उसका ही फल देते हैं| ऐसे ही अगर कुंडली में मारक ग्रह यानि कि बुरा फल देने वाले ग्रहों से संबंधित रत्न को अगर धारण किया जाए, तो उस ग्रह का बल बढ़ जाता है जिससे कि बुरे परिणाम ज्यादा मिलने चालू हो जाते हैं| इसलिए कभी भी आपको मारक ग्रहों के रत्न को धारण नहीं करना चाहिए|

नीलम रत्न की पहचान कैसे करे ? How to identify Sapphire gemstone ?

नीलम रत्न मुख्य तौर पर तीन चार प्रकार का मार्केट में मौजूद होता है और अगर हम भारत की बात करें, तो हमारे भारत देश में पाडर नीलम की कीमत सबसे ज्यादा होती है|

इसकी कीमत की बात की जाए तो इसकी कीमत ₹5000 से लेकर ₹50000 प्रति रत्ती होती है| इसके बाद श्रीलंका का नीलम सबसे बढ़िया माना जाता है जिसे सलोनी नीलम कहा जाता है| इस नीलम की कीमत 1200 से लेकर ₹10000 प्रति रति के आसपास होती है|

इसके बाद बैंकॉक का नीलम सबसे बढ़िया माना जाता है| बैंकॉक के नीलम की कीमत ₹250 से लेकर ₹700 प्रति रति पर बिकता है| नीलम रत्न की क्वालिटी उसकी पारदर्शिता के ऊपर निर्धारित होती है|

नीलम रत्न जितना ज्यादा साफ होता है, उसकी कीमत भी उतनी ज्यादा ही लगती है और अगर नीलम रत्न के अंदर रेशे कम होते हैं, तो उसकी कीमत कम लगती है| आपको बता दें कि ज्यादा पारदर्शिता वाला नीलम ज्यादा अच्छा लाभ देता है, क्योंकि उसमें से प्रकाश ज्यादा गुजरता है|

नीलम रत्न कब और कैसे धारण करना चाहिये ? When and how to wear Blue Sapphire Stone ?

NEELAM

आपको बता दें कि अगर आप नीलम रत्न को धारण करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको शनिवार के दिन का चयन करना चाहिए, क्योंकि नीलम रत्न शनिदेव से संबंधित होता है| इसीलिए शनिवार के दिन नीलम रत्न को धारण करना चाहिए|

osir news

नीलम रत्न को धारण करने से पहले आपको इसे चांदी की अंगूठी में जड़वा लेना चाहिए और उसके बाद शनिवार को इसे धारण करने से पहले गंगाजल से धोना चाहिए और फिर इसे अपने पूजा स्थान में रख कर 108 बार सनी भगवान के बीज मंत्रों का जाप करना चाहिए| उसके बाद श्रद्धा पूर्वक इसे धारण करना चाहिए|

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

5 उत्तेजना पैदा करने की दवा और आयुर्वेदिक नुस्खे : Uttejana paida karne ki dawa | उत्तेजना बढ़ाने की दवा : Uttejna badhane ki dawa
नवरात्रि सम्पूर्ण पूजन सामग्री की सूची : पूजन मंत्र और कलश स्थापना – Navratri puja samagri
कुंजिका स्तोत्र से हवन के फायदे और विधि : सम्पूर्ण श्री सिद्ध कुंजिका स्तोत्र | Kunjika stotram hindi
गायत्री मंत्र का जादू : गायत्री मंत्र जाप कब और कैसे करें नियम जाने
16 संकेत : सपने में मछली देखना का मतलब जाने शुभ-अशुभ | sapne me machli dekhna
★ सम्बंधित लेख ★