पुत्र प्राप्ति की दवा का नाम और पुत्र न होने के कारण और 6 आसान नुस्खे | Putra prapti ki dawa

Putra prapti ki dava पुत्र प्राप्ति की दवा : स्त्री और पुरुष जब वैवाहिक बंधन में बनते हैं तो सबसे पहले उन्हें संतान की कामना रहती है हर घर यही चाहता है कि उसके घर में एक पुत्र की किलकारियां गूंजे। यदि किसी भी स्त्री को संतान उत्पन्न नहीं होपाती है तो गांव समाज घर परिवार उस पर उंगली उठाते हैं.



baby ladaka son beta putra

जब किसी स्त्री पुरुष के वैवाहिक जीवन में 1 पुत्र या संतान उत्पन्न नहीं हो पाती है तो वह तमाम तरह की दवाइयां करती हैं जिससे उसको एक पुत्र प्राप्त हो सके। ऐसे तमाम लोग आज होंगे जो पुत्र नहीं प्राप्त कर पा रहे हैं जिससे उनका जीवन पुत्र के लिए तड़पता रहता है.

हमारे समाज में सबसे बड़ी बात यह होती है कि घर परिवार और वंश चलाने के लिए एक पुत्र की आवश्यकता है अर्थात वंश को चलाने के लिए पुत्र का होना जरूरी है इसलिए लोग पुत्र की चाह में तमाम तरह के दवाइयां तरीके उपाय करते रहते हैं।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

ऐसे बहुत से लोग हैं जिनको कई बार पुतरिया ही हुई है मैं भी लोग पुत्र की चाह रखते हैं और पुत्र प्राप्ति के लिए दवाओं का सहारा लेते हैं फिर भी यह पुत्र नहीं होते हैं उनके लिए एक समस्या बन जाती है।

पुत्र ना होने के कारण | Putra na hone ke karan

अधिकांश लोगों को यदि पुत्र प्राप्त नहीं होता है तो उनके कारणों को देखा जाए जिससे पता चल जाता है कि पुत्र नहीं होता है। कारणों को देखते ही पाया जाता है कि पुत्र प्राप्त ना होने के कुछ कारण इस प्रकार है


1. पहला कारण वैज्ञानिक

यदि पुत्र किसी को प्राप्त नहीं होते हैं तो उसका वैज्ञानिक कारण यह होता है कि एक पिता का गुणसूत्र जिसे XY कहा जाता है उसमें Y गुणसूत्र अधिक गतिशील और प्रभावी नहीं होता है जिसकी वजह से माता के अंडाणु से संयुग्मन नहीं कर पाता है और पुत्र की प्राप्ति नहीं हो पाती है

दूसरी बात यह है कि जब किसी पिता का X गुणसूत्र अधिक प्रभावी होता है तो गर्भाशय के अंदर अंडाणु से संयोग कर लेता है और पुत्री का जन्म होता है क्योंकि माता के गुणसूत्रों में XX गुणसूत्र पाया जाता है।

2. दूसरा कारण अंडाणु या शुक्राणु का ना बनना

अगर आपको पुत्र प्राप्ति नहीं हो पा रही है या किसी प्रकार की संतानोत्पत्ति नहीं होती है तो इसका प्रमुख कारण यही बनता है कि माता और पिता दोनों में किसी एक को अंडाणु और शुक्राणु बनने में समस्या है

यदि माता के अंडा गुणवत्ता परक और समृद्ध हैं तो पिता के शुक्राणु कमजोर और कम बनते हैं ऐसी समस्या में संतानोत्पत्ति नहीं हो पाती है दूसरी तरफ यदि पिता में शुक्राणु संतानोत्पत्ति के लिए उचित मात्रा में बनते हैं और माता में अंडाणु में कमजोरी पाई जाती है तो संतानोत्पत्ति नहीं हो पाती है।

3. नपुंसकता

बहुत से लोगों को यदि पुत्र या पुत्री अर्थात कोई संतान नहीं उत्पन्न हो रही है तो उसके पीछे नपुंसकता भी एक कारण हो सकता है क्योंकि बहुत से लोग अपने बचपन में कुछ गलत आदतों के कारण नपुंसकता का शिकार हो जाते हैं।

देखा जाए तो नपुंसकता के लिए हस्तमैथुन एक बहुत बड़ा कारण बनता है इसके अलावा अनावश्यक एवं संबंध खानपान भी इसके लिए उत्तरदाई होता है इसलिए यदि आपके अंदर नपुंसकता के लक्षण उत्पन्न हो गए हैं तो पुत्र या पुत्री अर्थात संतान नहीं होगी।

4. बांझपन

बहुत-सी स्त्रियों में बांझपन के लक्षण दिखाई देते हैं जिसकी वजह से संतान पैदा करने में सक्षम होती हैं इसके लिए भी महिलाओं का खानपान दिनचर्या जीवन शैली प्रभाव डालती है।

एक उचित आहार ना होने के कारण महिलाओं में अंडाणुओं का निर्माण नहीं हो पाता है जिसकी वजह से बांझपन आ जाता है और संतानोत्पत्ति होने में समस्या होती है।

5. अनियमित मासिक

अधिकांश लोगों को पुत्र या पुत्री के रूप में कोई संतान ना होने का कारण अनियमित मासिक होता है अर्थात महिला को यह सही समय से मासिक नहीं आता है तो अंडाणु का निर्माण भी सही से नहीं होता है जिसकी वजह से संतान पैदा होने में समस्या होती है.

पुत्र प्राप्ति की दवा | putra prapti ki dawa

दोस्तों अधिकांश महिलाएं कई बार पुत्रियों को जन्म देती हैं जबकि उनकी इच्छा एक पुत्र की होती है और पुत्र प्राप्ति के लिए अक्सर दवाओं का प्रयोग करते हैं हमारे गांव समाज में बहुत से लोग पुत्र होने की दवा करते हैं हालांकि इस संबंध में कई बार दवा देने के बाद पुत्र ही प्राप्त हुआ है जिससे लोगों का विश्वास भी बढ़ जाता है।

अगर आप संतान प्राप्ति करना चाहती हैं तो महिलाओं के लिए हम अपनी लेख में पुत्र प्राप्ति की दवा के बारे में बताएंगे।

1. पुत्रजीवक

दोस्तों जब संतान के रूप में पुत्र प्राप्ति की चाहत होती है तो लिखो पुत्रजीवक बीज का प्रयोग करना चाहिए पुत्रजीवक बीज महिलाओं के बांझपन को दूर करते हैं और गर्भाशय को मजबूत करता है जिसकी वजह से संतानोत्पत्ति की क्षमता बढ़ जाती है और ज्यादातर महिला या पुरुष में किसी कारणवश पुत्र पैदा करने में समस्या होती है।

निश्चित रूप से पुत्र प्राप्त करने के लिए पुत्रजीवक बीज एक आयुर्वेदिक औषध हैं जो एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होते हैं और व्यक्ति के अंदर बीमारियों से लड़ने में मदद करते हैं। पतंजलि द्वारा पुत्रजीवक बीज को बेचा जाता है जिस के संबंध में बाबा रामदेव पर आरोप भी लगाए गए और कहा गया कि बाबा रामदेव पुत्रजीवक बीज बेचकर लोगों के साथ और लड़कियों के साथ नाइंसाफी करते हैं।

2. एस्प्रिन दवा

आज के समय में हर नव दंपत्ति एक लड़के की इच्छा रखते हैं जबकि लड़का और लड़कियों को एक समान मान्यता मिली है लेकिन जब किसी भी दो दंपत्ति को लड़कियां ही होती हैं तो लिंग परीक्षण कराकर गर्भपात कराते हैं क्योंकि उन्हें एक पुत्र की चाहत होती है।

दोस्तों अगर आपको कई बार लड़की ही हुई है और आप पुत्र की चाहत रखते हैं तो इसके लिए एस्प्रिन दवा का प्रयोग कर सकते हैं जिससे लड़का होने की संभावनाएं अधिक होती है।

जर्नल ऑफ क्‍लीनिकल इन्‍वेस्टिगेशन की खबर के अनुसार यह दावा किया गया कि जिन महिलाओं ने एस्प्रिन की गोली शारीरिक संबंध बनाने के समय लिया उनमें से कम से कम 75% महिलाओं को लड़के ही पैदा हुए हैं ऐसे में यह कहा जा सकता है कि एस्प्रिन की गोली पुत्र प्राप्ति की की दवा है।

पुत्र प्राप्ति के उपाय

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

अगर किसी भी दंपत्ति को पुत्र की प्राप्ति नहीं हो रही है और वह पुत्र की चाहत रखता है तो ऐसे में बहुत सी ऐसी दवाएं हैं जिनका उपयोग करके ऊपर बताई गई समस्याओं का समाधान किया जा सकता है और पुत्र प्राप्ति की जा सकती है आइए हम आपको पुत्र प्राप्ति की कुछ दवाओं के नाम बताते हैं।

1.अश्वगंधा

दोस्तों यदि आपको पुत्र प्राप्त नहीं हो रहे हैं तो इसके लिए आप अश्वगंधा का प्रयोग कर सकते हैं इसके लिए आपको अश्वगंधा कम से कम 25 ग्राम लेना है और आधा लीटर पानी में उबालना है

अश्वगंधा को तब तक उबाल के रहना है जब तक पानी आधे से कम ना रह जाए जब पानी आधे से कम हो जाए तो उसमें बराबर मात्रा में दूध मिला ले और उसको उबलते रहे इसके बाद इस दूध को इतना उबालें की आधा बचे और इस दूध को ही प्रतिदिन इसी तरह से पीना है यह दवा आपके लिए पुत्र प्राप्ति की एक अच्छी दवा है।

2. कैलावास का फल

बहुत से लोगों का विश्वास है कि कैलावास का फल यदि 3 महीने तक 50 ग्राम खाया जाता है तो निश्चित रूप से पुत्र की प्राप्ति होती है।

4. संभोग का समय

यदि पुत्र प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको महिला के साथ संभोग के समय को ध्यान देना चाहिए ऐसा माना जाता है कि यदि महिला को मासिक आने के बाद 4,6,8,10 और 12वीं रात में 14वें या 16वें दिन संभोग किया जाए तो पुत्र ही होता है इसके अलावा यदि5,7,9, 13 या 15 दिन पर संभोग किया जाता है तो पुत्री होती है।

इसके अलावा यह भी ध्यान देना जरूरी है कि जब महिला को मासिक आता है उसके 4 से 5 दिन तक संभोग ना किया जाए बल्कि जब औरत रजस्वला हो चुकी हो तभी उसके साथ संभोग किया जाए तो निश्चित रूप से संतान उत्पत्ति होती हैं।

5. सूर्यमुखी के बीज

आयुर्वेद ने माना है कि यदि कोई भी महिला या पुरुष पुत्र प्राप्त करना चाहते हैं तो महिला और पुरुष को सूर्यमुखी के बीज खाना चाहिए।

आयुर्वेद के अनुसार सूर्यमुखी में विटामिन ई की मात्रा भरपूर मात्रा में होती है जिसकी वजह से शुक्राणु और अंडाणु उचित मात्रा में गुणवत्ता युक्त होते हैं और निश्चित रूप से पुत्र प्राप्त होता है

6. नींबू की जड़

निश्चित रूप से पुत्र प्राप्ति करने के लिए नींबू की जड़ को दूध में पीसकर गाय के घी के साथ खाएं जिससे आपको पुत्र प्राप्ति होगी।

संतान गोपाल मंत्र

हमारा तंत्र मंत्र शास्त्र इस बात पर विशेष बल देता है कि यदि आप जो भी कामना करते हैं उससे संबंधित मंत्र जाप करते हैं तो निश्चित पूर्ण होता है ऐसे में संतान के रूप में पुत्र प्राप्त करने के लिए संतान गोपाल मंत्र जाप के द्वारा सिद्ध करें और मनचाही संतान उत्पन्न करें।

मंत्र इस प्रकार है

ऊं देवकी सुत गोविंद वासुदेव जगत्पते ।

देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत: ।।

यह मंत्र एक लाख बार जपने से सिद्ध होता है। मंत्र को जीवापोता, स्फटिक या रूद्राक्ष की माला से जपना चाहिए.

निष्कर्ष

दोस्तों पुत्र होना न होना भाग्य का खेल होता है परन्तु उपाय करने में किसी प्रकार की कुताही नहीं करना चाहिए क्योकि कर्म से भाग्य बदल जाता है ऐसे में हमें पुत्र नहीं हो रहे हैं तो पुत्र प्राप्ति की दवा और उपाय करना जरूरी है . मनुष्य के वंश को चलने और आगे बढ़ाने के लिए पुत्र होना भी जरूरी है भले ही आज लड़की और लड़के को समान अधिकार हैं .पुत्र हमारे कई धार्मिक कर्मकांडों की पूर्ति करते है और पितरों का तारणहार कहा जाता है .

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन