S.D.M. ऑफिसर कैसे बने? कार्य/परीछा/सैलरी की सारी जानकारी ! How to become an SDM officer in hindi?

💕❤ इसे और लोगो (मित्रो/परिवार) के साथ शेयर करे जिससे वह भी जान सके और इसका लाभ पाए ❤💕

हम सभी अपनी जिंदगी में कुछ ना कुछ करना चाहते हैं और अपनी जिंदगी में सफलता की ऊंचाइयों को छूना चाहते हैं। हम सभी का सपना भी अलग अलग होता है। कुछ लोग अच्छी पढ़ाई करके डॉक्टर, इंजीनियर या फिर वकील बनना चाहते हैं और कुछ लोग यूपीएससी UPSC और एसएससी SSC जैसी परीक्षा Exam पास करके अच्छी सरकारी नौकरी करने की चाहत भी रखते हैं । ( SDM kaise bne pur jankari )

परंतु आप तो जानते ही हैं कि हमारे देश की जनसंख्या कितनी तेजी से बढ़ रही है। जनसंख्या बढ़ने के कारण सरकारी job नौकरी पाने की प्रतिस्पर्धा भी बढ़ती जा रही है और तो और आज के समय में एक छोटी सी नौकरी job पाना भी काफ़ी मुश्किल हो गया है।

sdm kaise bane, sdm ki salary , how to become sdm after 12th, ek district me kitne sdm hote hai, sdo kaise bane, adm kaise bane, sdm full form, sdm bharti, sdm ki salary kitni hoti hai,

लोग नौकरियां पाने के लिए सिफारिशें भी लगाने लगे हैं परंतु अगर आपने अच्छी पढ़ाई की है और आप किसी भी फील्ड में अपना कैरियर बनाने के लिए प्रयत्नशील है तो आपको सरकारी नौकरी पाने से कोई नहीं रोक सकता क्योंकि जहां मेहनत होती है वहां सफलता अवश्य मिलती है।

अक्सर ऐसा कई बार होता है कि हमें अपने एरिया के किसी काम को करवाने के लिए अपने एरिया के एसडीएम अधिकारी के पास जाना पड़ता है और जब उनकी अनुमति मिलती है तभी वह काम हो पाता है। ! यह पोस्ट आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है !

ऐसे में कई लोगों के मन में यह प्रश्न अवश्य आता होगा कि आखिर एसडीएम sdm कैसे बना जाता है और एसडीएम SDM की पावर कितनी होती है। अगर आप भी SDM officer  बनना चाहते हैं तो आज का यह आर्टिकल आपके लिए ही है क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम आपको एसडीएम कैसे बने ? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं, चलिए जानते हैं विस्तार से।

एसडीएम क्या हैं ? | S.D.M. MEANING IN HINDI

SDM एक उच्च रैंक का सरकारी अधिकारी होता हैं। एसडीएम राज्य प्रशासनिक सेवा में सबसे उपर का पद होता हैं। हर राज्य के जिले को कई उपखण्ड में बांटा जाता हैं। प्रत्येक उपखंड का नेतृत्व एक एसडीएम करता है। हर उपखंड में उसके आकार के आधार पर एक या एक से अधिक तहसील हो सकती हैं।

एसडीएम का अपने उपखंड के तहसीलदारों पर सीधा नियंत्रण होता है और जिले के जिला अधिकारी और उसके उपखंड के तहसीलदारों के बीच पत्राचार का एक चैनल होता है।एसडीएम को कई महत्वपूर्ण मामलों में निर्णय लेना पड़ता है। उन्हें अपने क्षेत्र में प्रशासन के सभी मामलों की देखभाल करनी पड़ती है। यदि एसडीएम की पोस्टिंग एक संवेदनशील क्षेत्र में होती है तो उसे और भी अधिक सतर्क रहना पड़ता है।

एसडीएम की फुल फॉर्म : SDM FULL FORM IN HINDI

S.D.M. का अंग्रेजी में फुल फॉर्मस Sub Divisional Magistrate है और हिंदी में इसे उप प्रभागीय न्यायाधीश कहते हैं।

एसडीएम बनने के लिए क्वालिफिकेशन | Education Qualification For SDM

  • एसडीएम अधिकारी बनने के लिए आपका किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक यानी बी.ए. पास होना आवश्यक हैं।
  • एसडीएम बनने के लिए आयु सीमा|Age Limit For SDM Officer
  • सामान्य/General वर्ग के लिए न्यूनतम 21 व अधिकतम 40 वर्ष।
  • OBC वर्ग के लिए न्यूनतम 21 व अधिकतम 45 वर्ष।
  • SC/ST वर्ग के लिए न्यूनतम 21 व अधिकतम 45 वर्ष।
  • PWD के लिए न्यूनतम 21 व अधिकतम 55 वर्ष।

एसडीएम बनने के लिए परीक्षा | Exam Pattern of SDM

exam ki taiyari kaise kare, competition exam ki taiyari kaise kare in hindi, class 10 ki taiyari kaise kare, exam ki taiyari ke tips in hindi, exam tips in hindi, 12 ki tyari kaise kare, exam ke time padhai kaise kare, exam ki taiyari in english, 1 din me exam ki tayari,

अगर आप एसडीएम बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपके पास दो विकल्प होते हैं पहला विकल्प यह है कि आप राज्य स्तर की सिविल सेवा परीक्षा में शामिल होकर एसडीएम अधिकारी बने और दूसरा विकल्प यह है कि आप स्टेट पब्लिक सर्विस कमीशन की परीक्षा में शामिल होकर एसडीएम अधिकारी बने।

यह भी पढ़े :

 

एसडीएम ऑफिसर चयन प्रक्रिया | Selection process of SDM officer 

इन विकल्पों के अंतर्गत अभ्यार्थीयों को तीन प्रक्रियाओं में सम्मिलित होना होता है।

  1. प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary examination)
  2. मुख्य परीक्षा (Main examination)
  3. इंटरव्यू (Interview)

प्रारंभिक परीक्षा | Preliminary examination

एसडीएम ऑफिसर बनने के लिए आवेदन करने के बाद यह पहली प्रक्रिया होती है। इस परीक्षा में आप को कुल 2 पेपर देने होते हैं। यह दोनों पेपर 200-200 नंबर के होते हैं। इस परीक्षा को पास करने के लिए आपको 33% नंबर लाना अनिवार्य होता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस परीक्षा के नंबर आप की मेरिट में नहीं जोडे जाते हैं।! यह पोस्ट आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है !

प्रारंभिक परीक्षा में अंको का निर्धारण

सामान्य ज्ञान 1 – 200

सामान्य ज्ञान 2 – 200

मुख्य परीक्षा | Main examination

प्रारंभिक परीक्षा में सफलता प्राप्त उम्मीदवारों को मुख्य परीक्षा के लिए आमंत्रित किया जाता है। इसमें कुल 8 प्रश्न-पत्र होते हैं। इसमें करंट अफेयर्स, इतिहास, भूगोल, भारतीय राजनीति,जनरल साइंस, और सामान्य ज्ञान से सम्बंधित प्रश्न पूछें जाते हैं।

मुख्य परीक्षा का अंक निर्धारण

  • हिंदी अंक – 50
  • निबंध अंक – 150
  • सामान्य अध्ययन 1अंक – 200
  • सामान्य अध्ययन 2 अंक – 200
  • सामान्य अध्ययन 3 अंक – 200
  • सामान्य अध्ययन 4 अंक – 200
  • वैकल्पिक विषय पेपर अंक – 200
  • वैकल्पिक विषय पेपर अंक – 200

इंटरव्यू | interview

जो अभ्यर्थी मुख्य परीक्षा को पास कर लेता है उसे फिर इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इस इंटरव्यू में अभ्यर्थी की योग्यता का आकलन साक्षात्कार के आधार पर किया जाता है। इंटरव्यू पास होने के लिए आपको इंटरव्यू लेने वाले पैनल को इस बात का विश्वास दिलाना पड़ता है कि आप इस पद के लिए बिल्कुल सही व्यक्ति है। आपको 200 नंबर में से नंबर दिए जाते हैं।

एस.डी.एम के क्या कार्य होते है ? | Works of S.D.M. officer ?

अपनें जिले की भूमि का लेखा-जोखा एसडीएम के देखरेख में होता है।

एसडीएम के उपखंड के सभी तहसीलदारों पर प्रत्यक्ष नियंत्रण होता है।

इसके अतिरिक्त विवाह रजिस्ट्रेशन, विभिन्न प्रकार के पंजीकरण, अनेक प्रकार के लाइसेंस जारी करवाना, नवीकरण करवाना, प्राकृतिक/दैवीय आपदा (बाढ़, अग्निकांड, भूकंप, भूस्खलन, शीतलहरों, बादल फटने, ओलावृष्टि, अतिवृष्टि, विद्युत प्रभाव, लू-प्रकोप, हिम स्खलन, कीट आकृमण) आदि से प्रभावित व्यक्तियों को सहायता उपलब्ध करवाना आदि प्रमुख कार्य है।

एक एसडीएम आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 और कई अन्य नाबालिग कृत्यों के अंतर्गत विभिन्न मजिस्ट्रेट का कार्य करते है ।

एसडीएम अधिकारी की सैलरी कितनी होती है ?| salary of SDM officer ?

एसडीएम अधिकारी को वेतन ग्रेड पे के अनुसार, न्यूनतम वेतन 53,100 रुपए और 67,700 रुपये तथा अधिकतम 1,03,314 रुपये प्राप्त होता है । एक एसडीएम अधिकारी को इसके अलावा अन्य सरकारी खर्चे और भत्ते भी मिलते हैं जैसे,

  • बिना किसी कीमत पर या मामूली किराए पर स्वयं के लिए और कर्मचारियों के लिए निवास।
  • सुरक्षा गार्ड और घरेलू नौकर जैसे रसोईया और माली।
  • आम तौर पर ड्राइवर के साथ आधिकारिक वाहन।
  • टेलीफोन कनेक्शन जिसका बिल सरकार द्वारा भुगतान किया जाता है।
  • बिजली बिल का सरकार द्वारा भुगतान।
  • आधिकारिक यात्राओं के दौरान उच्च श्रेणी आवास।
  • अध्ययन के लिए अवकाश।
  • पति / पत्नी को पेंशन।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेअर करे, और इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे|


💕❤ इसे और लोगो (मित्रो/परिवार) के साथ शेयर करे जिससे वह भी जान सके और इसका लाभ पाए ❤💕

आप को यह पोस्ट कैसी लगी  हमे फेसबुक पेज पर अवश्य बताये या फिर संपर्क करे |

यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले |

 

यदि मन में कोई प्रश्न या जानकारी है तो संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उसका जवाब देंगे |

हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने के लिए धन्यवाद !

✤ यह लेख भी पढ़े ✤

(Visited 48 times, 1 visits today)