टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा का नाम और सेवन विधि | Typhoid ki antibiotic dawa

टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा Typhoid ki antibiotic dawa : हेलो दोस्तों नमस्कार आज मैं आप लोगों को इस लेख में टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्रदान करूंगी. जिसमें मैं आप लोगों को टाइफाइड को ठीक करने की एंटीबायोटिक दवा का नाम साथ में इस दवा को सेवन में लेने का तरीका और सही समय बताऊंगी.

टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा Typhoid ki antibiyotik dawa

क्योंकि चाहे जो बीमारी हो उस बीमारी में जो दवा चल रही हो उसे सही तरीके और सही समय पर लेने से ही स्वास्थ्य को पूर्ण रूप से लाभ प्राप्त होता है. क्योंकि कई मामलों में देखा गया है लोग अपनी बीमारी को लेकर दवाओं का सेवन गलत तरीके से या गलत टाइम पर कर लेते हैं तो उन लोगों को वह दवा रिएक्शन कर जाती है जिसकी वजह से उन्हें अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

इसलिए आज मैं दवाओं से संबंधित रिएक्शन एलर्जी इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए टाइफाइड बुखार में दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवा के विषय में विशेष जानकारी ध्यान में रखकर दूंगी, ताकि आप लोगों को टाइफाइड में एंटीबायोटिक दवा को सेवन में लेने का भरपूर लाभ प्राप्त हो सके.

ऐसे में अगर आप लोग टाइफाइड में एंटीबायोटिक दवा से संबंधित सारी जानकारी अच्छे से प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें :

टाइफाइड बुखार क्या है और यह कैसे होता है ?

जब किसी व्यक्ति के शरीर का तापमान 102 104 डिग्री तक पहुंच जाता है तो इसे टाइफाइड बुखार के नाम से जाना जाता है जो कि दूषित पानी और उस पानी के भोजन को करने से होता है क्योंकि हेल्थ केयर डॉक्टर को मानना है दूषित पानी में साल्मोनेला टाइफी बैक्टीरिया पाए जाते हैं और इन जीवाणुओं के चलते व्यक्ति के अंदर बहुत तेज मात्रा में बुखार फैल जाता हैं.

इसीलिए समय रहते टाइफाइड का इलाज करवाना बेहद आवश्यक बताया गया है नहीं तो व्यक्ति को टाइफाइड बुखार की वजह से बहुत ज्यादा कमजोरी आ जाएगी जिसकी वजह से व्यक्ति को टाइफाइड बुखार के अलावा अन्य बीमारियां भी अपनी चपेट में ले सकती हैं.


टाइफाइड कितने दिन में ठीक होता है Typhoid kitne din me thik hota hai

क्योंकि जब किसी व्यक्ति को टाइफाइड बुखार आता है तो उस व्यक्ति को लगातार सिरदर्द, बार-बार दस्त जाना, शरीर में दर्द, पसीना आना, जी मिचलाना, खाना ना अच्छा लगना, नींद आना, मांसपेशियों में खिंचाव, अत्यधिक थकान और कमजोरी जैसी कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है इसीलिए इस बुखार को सेहत के लिए काफी खतरनाक माना गया है.

लेकिन अब आपको टाइफाइड बुखार को लेकर घबराने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि कई रिसर्च करने के बाद लोगों ने टाइफाइड बुखार को काबू करने के लिए एंटीबायोटिक दवा बनाया है जिसको सेवन में लेने से टाइफाइड बुखार ठीक हो जाता है इसीलिए हम यहां पर टाइफाइड बुखार को ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक दवा से संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे.

टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा | Typhoid ki antibiyotik dawa

चिकित्सा दर पर टाइफाइड बुखार को ठीक करने के लिए एंटीबायोटिक दवा को प्रभावी उपचार बताया गया है इसलिए हम एक क्रम वाइज से टाइफाइड बुखार को ठीक करने के लिए जितनी भी एंटीबायोटिक दवा आती है उनके नाम और इन्हें किस प्रकार से सेवन में लेना है इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी बताएंगे.

इसीलिए कृपया करके उन दवाओं से संबंधित जानकारी को पूरी तरह से प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यानपूर्वक पढ़ें : टाइफाइड उपचार के लिए दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवाओं के नाम और इन्हें सेवन में लेने का समय और तरीका.

1. सिप्रोफ्लोक्सासिन (सिप्रो) | Ciprofloxacin (Cipro)

tablet

सिप्रोफ्लोक्सासिन (सिप्रो) एक प्रकार की एंटीबायोटिक दवा है यह दवा बैक्टीरिया के कारण होने वाले संक्रमण के इलाज के लिए प्रभावी साबित होती है सिप्रोफ्लोक्सासिन (Ciprofloxacin) बैक्टीरिया डीएनए के नियमित संश्लेषण को रोकता है. उनके कोशिका विभाजन प्रक्रिया में बाधा डालता है इसीलिए इस दवा के सेवन से शरीर में मौजूद बैक्टीरिया नष्ट हो जाते हैं.

टाइफाइड में सिप्रोफ्लोक्सासिन (सिप्रो) दवा को सेवन में लेने का तरीका

  • इस दवा को सेवन में लेने से पहले इसके लेबल को ध्यान पूर्वक से पढ़ें.
  • डॉक्टर के द्वारा बताए गए इस दवा को सेवन में लेने के सभी निर्देशों का पालन करते हुए इस दवा को सही समय और सही तरीके से सेवन में ले.
  • यदि आप इस दवा को एक टाइम लेना भूल जाते हैं तो दूसरी खुराक के साथ आप उस खुराक को भी सेवन में ना ले बल्कि उसे छोड़कर आप अपनी सही खुराक जारी रखें.
  • कहने का सीधा तात्पर्य है इस दवा को सेवन में लेने के लिए आपको डॉक्टर से सलाह लेने की आवश्यकता है साथ में इस दवा को सेवन में लेने का जो लेबल दिया होता है उसको ध्यान पूर्वक पढ़ने के बाद ही इस दवा को सेवन में ले.

2. सेफ्ट्रिएक्सोन Ceftriaxone

सेफ्ट्रिएक्सोन दवा बायोटिक दवा है जो संक्रमण से फैले रोग में ली जाती है दरअसल सेफ्ट्रिएक्सोन एंटीबायोटिक दवा को इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है जिससे दवा की खुराक की तथा एंजेक्सन के रूप में पीड़ित व्यक्ति को लगाया जाता है, इस दवा को त्वाचा के किसी भी अंग में संक्रमण होने पर उपयोग में लेना प्रभावशाली माना जाता है.

tablet

इसीलिए इसको टाइफाइड बुखार के लिए बेहतर माना गया है क्योंकि टाइफाइड बुखार भी साल्मोनेला बैक्टीरिया के कारण होता है इसीलिए यह दवा टाइफाइड में काफी ज्यादा फायदेमंद होती हैं लेकिन जो महिलाएं गर्भवती हैं या फिर गर्भवती होने की सोच रहे हैं उन महिलाओं को इस दवा का सेवन नहीं करना चाहिए आपके बच्चे पर दवा का बुरा प्रभाव पड़ सकता है,.

टाइफाइड बुखार में सेफ्ट्रिएक्सोन दवा को सेवन में लेने का तरीका

जैसा कि हमने बताया सेफ्ट्रिएक्सोन एंटीबायोटिक दवा इंजेक्शन के रूप में मरीज व्यक्ति को दिया जाता है इसीलिए इस दवा को आप डॉक्टर के निर्देशानुसार ही सेवन में ले सकते हैं.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 868 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

रत्न ज्योतिष : जाने कौन सा रत्न कितने दिन में असर दिखाता है ? | कितने दिन में असर दिखाते हैं रत्न : Kitne din me asar dikhata hai ratna
नींबू से दांत कैसे साफ करें : आसानी से पीले दांतों को मोती के जैसे चमकाएं | nimbu se daant kaise saaf kare

3. एज़िथ्रोमाइसिन(ज़िथ्रोक्स) | Azithromycin (Zithromax)

एज़िथ्रोमाइसिन (ज़िथ्रोमैक्स) दवा खासतौर से एक एंटीबायोटिक है जिसका उपयोग जीवाणुओं (बैक्टीरिया) के कारण होने वाले विभिन्न प्रकार के संक्रमणों (इन्फेक्शन्स) के उपचार के लिए किया जाता है। इस दवा का उपयोग कभी-कभी मलेरिया के लिए भी किया जाता है.

tablet

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

लेकिन यह दवा खासकर के कान में संक्रमण निमोनिया आदि बीमारी में काफी ज्यादा फायदेमंद साबित होती है, यह दवा आपको मार्केट पर आसानी से उपलब्ध मिल जाएगी, जो टेबलेट के रूप में डॉक्टर के द्वारा निर्धारित की जाती है एंटीबायोटिक दवा होने के कारण टाइफाइड में भी उपयोग में ली जाती है.

टाइफाइड मेंएज़िथ्रोमाइसिन(ज़िथ्रोमैक्स) दवा को सेवन में लेने का तरीका

  • यह दवा टेबलेट के रूप में डॉक्टर के द्वारा निर्धारित मार्केट पर उपलब्ध की जाती है.
  • जब आप इस दवा को लेने के लिए डॉक्टर के पास जाएंगे तो डॉक्टर आपको खुद इस दवा को किस समय लेना है किस तरीके से लेना है संपूर्ण विधि बताएंगे.
  • इसीलिए आप इस दवा को डॉक्टर के बताए गए तरीके के अनुसार और इस दवा को लेने का लेवल पढ़ने के पश्चात ही इस दवा को सेवन में लेना चाहिए.
  • किसी भी दवा को उपयोग में लेने से पहले डॉक्टर से यह सलाह जरूर लेनी चाहिए कि इस दवा को भोजन करने के पहले लेना है या भोजन करने के पश्चात.

4. क्लोरैम्फेनिकॉल (क्लोरोमाइसेटिन )

इस दावा को मुख्यतः बैक्टीरियल संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग में लिया जाता हैं यह बीमारी टाइफाइड बुखार के लिए बिल्कुल सही दवा है इस दवा को डॉक्टर टाइफाइड के मरीज के लिए की मंगवाते हैं जो कि एक बहुत ही अच्छी बायोटिक दवा है इसका टाइफाइड बुखार में डॉक्टर के निर्देश के अनुसार सेवन करने से कुछ दिनों में टाइफाइड बुखार जड़ से ठीक हो जाता है.

tablet

क्लोरैमफेनिकॉल (क्लोरोमाइसेटिन एंटीबायोटिक दवा) कैप्सूल के रूप में आती है, हालांकि इस दवा के टाइफाइड बुखार में लेने से कोई साइड इफेक्ट नहीं पाए गए हैं लेकिन इस दवा को कई बार गलत समय और गलत तरीके से लेने से टाइफाइड मरीज को उल्टी जी मिचलाना दस्त की समस्या हो सकती है.

Typhoidमेंक्लोरैमफेनिकॉल( क्लोरोमाइसेटिन दवा को सेवन में लेने का तरीका

  • क्लोरैमफेनिकॉल (क्लोरोमाइसेटिन दवा) कैप्सूल के रूप में आती है जिसे टाइफाइड के मरीज को खाना खाने के बाद सुबह के टाइम एक कैप्सूल खाने के माध्यम से सेवन में लेना बताया जाता है.
  • इस दवा को टाइफाइड के मरीज को लगातार 10 दिन तक सेवन लेने की सलाह दी जाती है.
  • बाकी इस दवा को आप डॉक्टर की सलाह और दवा के लेबल को पढ़ने के पश्चात ही सेवन में ले.

5. एम्पीसिलीन (Ampi,Omnipen,Penglobe और Principen)

एम्पीसिलीन दावा बैक्टीरिया के संक्रमण की एक विस्तृत श्रृंखला के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली दावा है इसलिए इस दवा को टाइफाइड बुखार के लिए फायदेमंद माना गया है इस दवा को गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर की सलाह निर्देश के अनुसार सेवन में लेना चाहिए. क्योंकि एंटीबायोटिक दवा है जिसका किसी की सलाह के बिना सेवन कर लेने से आपको काफी गंभीर समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

tablet

हालांकि टाइफाइड बुखार में इस दवा को लेने की कोई साइड इफेक्ट नहीं पाए गए हैं लेकिन अक्सर करके दवा को सही समय तरीके से ना लेने से दवा रिएक्शन कर जाती है इसलिए हम इस दवा को टाइफाइड में उपयोग में लेने का तरीका बता रहे हैं

टाइफाइड में एम्पीसिलीन दवा को उपयोग में लेने का तरीका

  • एम्पीसिलीन antibiotic dava कैप्सूल टेबलेट सिरप तीन रूप में आती है रोगी के स्वास्थ्य बीमारी और अन्य समस्याओं को ध्यान में रखते हुए दी जाती है.
  • एम्पीसिलीन एंटीबायोटिक कैप्सूल को पानी के साथ निगल लिया जाता है.
  • एम्पीसिलीन एंटीबायोटिक सिरप 5 मिनट ML नापकर पीना चाहिए.
  • अगर ड्राई सिरप है तो आप बोतल में बने निशान के जितना पानी गर्म कर ले और उस पानी को आप उस दवा में डालकर बोतल को अच्छी तरह से हिला कर दवा और पानी को आपस में मिक्स कर ले और फिर इस दवा को लेबल में बताए गए ML के अनुसार खाना खाने के बाद या पहले जैसे निर्देश दिए गए हो उसी तरह से उपयोग में लें.

6. सल्फामेथोक्साज़ोल/ट्राइमेथोप्रिम (बैक्ट्रीम)

सल्फैमेथॉक्साज़ोल/ट्राइमेथोप्रिम एक जीवाणु नाशक दवाई (एंटीबायोटिक) है। यह संक्रमण पैदा करने वाले कीटाणु/जीवाणु को मारने का काम करती है। कई बार इस दवा को निमोनिया की बीमारी में भी उपयोग में लेने की सलाह दी जाती हैं.

tablet

यह दवा टाइफाइड के लिए काफी ज्यादा सुरक्षित दवा है लेकिन इस दवा को कई बार गलत तरीके और गलत समय से खाने पर इस दवा से आपको उल्टी जी मिचलाना दस्त की समस्या धूप में जाने पर तकलीफ होना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है इसीलिए हम यहां पर इस दवा का उपयोग में लेने का तरीका बता रहे हैं

सल्फामेथोक्साज़ोल/ट्राइमेथोप्रिम ( बैक्ट्रीम ) दवा को सेवन में लेने का तरीका

  • इस दवा को टैबलेट सीरप इंजेक्शन तीनो रूप में दिया जाता है.
  • इसीलिए इस दवा को डॉक्टर के पास जाने के बाद ही पता चलेगा की टाइफाइड बुखार में डॉक्टर आपको किस प्रकार की दवा देते हैं.
  • उसी हिसाब से आप इस दवा को डॉक्टर के बताए गए समय निर्देश के अनुसार ही सेवन में ले, साथ में इस दवा में दवा को लेने का जो लेबल दिया रहता है उसे अवश्य पढ़ें.

यहां पर जितने भी एंटीबायोटिक दवा बताई गई हैं यह सभी दवाएं संक्रमण को रोकने में काम करती हैं इसीलिए इन दवाओं को टाइफाइड बुखार के लिए फायदेमंद माना गया है लेकिन इन दवाओं को आप सेवन में लेने से पहले डॉक्टर से सलाह अवश्य लें.

FAQ : टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा

टाइफाइड में चावल खाना चाहिए या नहीं

हल्का डॉक्टर के अनुसार टाइफाइड मरीज को चावल खाने की सलाह नहीं दी जाती है लेकिन या बुखार हल्का फुल्का ठीक हो जाता है तो डॉक्टर आपको थोड़ा सा चावल खाने की सलाह दे सकते हैं.

टाइफाइड में नहाना चाहिए या नहीं

जैसा कि आप सभी लोग जानते हैं टाइफाइड मरीज को 102 104 डिग्री बुखार रहता है इसीलिए टाइफाइड बुखार में डॉक्टर टाइफाइड मरीज को नहाने की सलाह नहीं देते हैं लेकिन फिर भी जब यह बुखार हल्का कंट्रोल में हो जाए तो आप हल्के गुनगुने पानी को तोलिए के माध्यम से अपने शरीर को पोंछ सकते हैं.

टाइफाइड को जड़ से ठीक करने के लिए क्या करना चाहिए ?

जैसा कि आप सब लोग जानते हैं टाइफाइड बुखार संक्रमण के कारण फैलता है इसीलिए आप टाइफाइड बुखार को जड़ से खत्म करने के लिए स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें और टाइफाइड में जितना हो सके तरल पदार्थों का सेवन करें ताकि आपके शरीर में पानी की कमी ना हो.

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आज हमने इस लेख में आप सभी लोगों को टाइफाइड की एंटीबायोटिक दवा से संबंधित जानकारी प्रदान की है साथ में यह भी बताया है कि इन दवाओं को किस प्रकार से सेवन में लेना है अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को टाइफाइड में दी जाने वाली एंटीबायोटिक दवाओं के नाम और उन्हें उपयोग में लेने की संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी.

तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी और उपयोगी भी साबित हुई होगी.

osir news

ऐसे में अगर आप लोगों को यह जानकारी पसंद आई है तो इस जानकारी को अधिक से अधिक लोगों के साथ शेयर कीजिए ताकि वह लोग भी एंटीबायोटिक दवा से संबंधित जानकारी को प्राप्त कर सकें.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

ज्योतिष के मुताबिक मूंगा के नुकसान : ये राशि के लोग न पहने मूंगा | Munga ke nuksan : coral stone pahanne ke nuksan
सब कुछ जाने प्यार में क्या क्या होता है ? प्यार के 10 लक्षण | Pyar me kya kya hota hai
दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने के उपाय : 10 आसान उपाय बना देंगे किस्मत का धनी | Bad luck ko good luck me kaise badle
लड़की / गर्लफ्रेंड को बर्थडे पर कौन सा गिफ्ट दें? 7 Girl gift ideas / Which gift to give to girlfriend on birthday in hindi ?
तुलसी से शराब छुड़ाने के उपाय : 7 असरदार घरेलू नुस्खे जाने – tulsi se sharab chudane ke upay
★ सम्बंधित लेख ★