गायत्री मंत्र क्या है अर्थ जाने : जाप कब,कितनी बार और कैसे करे?| गायत्री मंत्र का अर्थ

Gayatri mantra ka kya arth hai ? हेलो दोस्तों नमस्कार आज हम आप लोगों को गायत्री मंत्र का अर्थ बताएंगे हिंदू धर्म में गायत्री मंत्र को महामंत्र के नाम से जाना जाता है ऐसा माना जाता है कि दुनिया की पहली पुस्तक ऋग्वेद की शुरुआत इसी मंत्र से हुई थी और यह एक ऐसा मंत्र है जिसको पढ़ने के बाद मन को शांति का अनुभव होता है मन के साथ ही हमारे तन को भी शांति मिलती है.

गायत्री मंत्र क्या है गायत्री मंत्र का मतलब क्या होता है gayatri mantra padhne se kya hota hai gayatri mantra jaap se kya hota hai

गायत्री मंत्र के उच्चारण से ही हमारे मस्तिष्क में नकारात्मक विचारों का विनाश होता है और हमारे अंदर एक नई ऊर्जा का विकास होता है गायत्री मंत्र को वेद ग्रंथ की माता के नाम से भी जाना जाता है यह मंत्र हिंदुओं का सबसे उत्तम मंत्र है तो दोस्तों आज हम इस लेख में गायत्री मंत्र क्या है? मंत्र का अर्थ क्या है? गायत्री मंत्र के फायदे गायत्री मंत्र के उपाय इन सारे विषयों पर चर्चा करेंगे और आपको इसकी पूरी जानकारी देंगे तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है?

गायत्री मंत्र क्या है ?

गायत्री मंत्र एक ऐसा जाप है जिसको हर शुभ कार्य में बोला जाता है और यह विद्यालयों में भी बोला जाता है हिंदू धर्म में गायत्री मंत्र को महामंत्र के नाम से जाना जाता है और कहां जाता है कि दुनिया की पहली पुस्तक ऋग्वेद की शुरुआत इसी मंत्र से हुई थी

ॐ भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यम्,
भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्!

गायत्री मंत्र का अर्थ

गायत्री मंत्र मंत्रों का महामंत्र कहा जाता है एक ऐसा मंत्र जिसके उच्चारण से ही मन को शांति मिलती है चारों वेदों से मिले इस गायत्री मंत्र का उच्चारण करने से ही व्यक्ति के जीवन में कष्टों का नाश हो जाता है एवं खुशियों का संचार होने लगता है और इस मंत्र का जाप करने से आपका शरीर निरोग बनता है और इंसान को यश की प्रसिद्धि और धन की प्राप्ति भी होती है गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है आइए आज हम आपको इसका शाब्दिक अर्थ बताएंगे

ॐ  सर्वरक्षक परमात्मा
भूर्भुव  धरती और अंतरिक्ष
स्व स्वर्ग लोक
तत्सवितुर्वरेण्यम् सृष्टि कर्ता परमात्मा पूजनीय है
भुर्ग देवस्य धीमहि पाप निवारक और ज्ञान रूपी ईश्वर को हम नमन करते हैं
धियो यो न: प्रचोदयात् ईश्वर हमारा अज्ञान दूर कर हमें राह दिखाए

गायत्री मंत्र किस देवता की आराधना है

गायत्री मंत्र सूर्य देव की आराधना है


गायत्री मंत्र के लेखक कौन हैं?

गायत्री मंत्र के लेखक विश्वामित्र को कहा जाता है।

गायत्री मंत्र का दूसरा नाम क्या है ?

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 806 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

सपने में दूध देखने का क्या मतलब या अर्थ होता है : शुभ या अशुभ जाने – sapne mein dudh dekhna
जज और मजिस्ट्रेट में क्या अंतर है? | Difference between judge and magistrate in hindi

गायत्री मंत्र का दूसरा नाम तारक मंत्र भी है जिसका अर्थ पैरा कर पार निकाल देने वाली शक्ति जिसे हम गायत्री मंत्र के नाम से जानते हैं.

गायत्री मंत्र कब बोलना चाहिए

गायत्री मंत्र का जाप सुबह प्रातः सूर्य उदय से पहले और सूर्य उदय हो जाने के बाद तक करना चाहिए और फिर दोपहर में और फिर शाम को सूर्य अस्त होने के पहले और सूर्य अस्त होने के बाद तक करना चाहिए गायत्री मंत्र का जाप करना शुभ माना जाता है।

गायत्री मंत्र कैसे बोला जाता है?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

गायत्री मंत्र का जाप करने से पहले साफ-सुथरे वस्त्र पहने और उसके बाद चटाई पर बैठ जाएं और गायत्री मंत्र शुरू करने से पहले तुलसी या चंदन का माला प्रयोग करें और सुबह पूर्व दिशा की ओर मुंह करके गायत्री मंत्र का जाप करें और अगर आप शाम को भी गायत्री मंत्र का जाप करते हैं तो शाम को पश्चिम दिशा की ओर मुख करके गायत्री मंत्र का जाप करें।

गायत्री मंत्र कितनी बार बोला जाता है

गायत्री मंत्र का जाप रोज सुबह घर से बाहर निकलने से पहले 5 बार या 11 बार गायत्री मंत्र का जाप करना शुभ माना जाता है इससे सिद्ध सफलता और उच्च जीवन की प्राप्ति होती है अगर आप मंदिर जाते हैं तो आपको मंदिर में प्रवेश करने से पहले सभी देवी देवताओं को याद करते हुए 12 बार गायत्री मंत्र का जाप करते हुए अंदर प्रवेश करना चाहिए

गायत्री मंत्र का जाप करने से क्या होता है?

ऐसा माना जाता है कि गायत्री मंत्र का जाप करने से मन शांत और एकाग्र हो जाता है और घर के सभी दुख और दरिद्रता का नाश हो जाता है यह भी माना जाता है कि गायत्री मंत्र का जाप करने से संतान की प्राप्ति होती है और किसी भी कार्य को करने से पहले अगर आप गायत्री मंत्र का जाप करते हैं तो आपका वह कार्य अवश्य सफल होगा।

गायत्री मंत्र का जाप करने के फायदे

1. इस मंत्र का जाप करने से उत्साह एवं सकारात्मकता बढ़ती है।
2. गायत्री मंत्र का जाप करने से धर्म एवं सेवा कार्यों में मन लगता है।
3. गायत्री मंत्र का जाप करने से पूर्वाभास होने लगता है।
4. आशीर्वाद देने की शक्ति बढ़ती है।
5. स्वप्न सिद्धि प्राप्त होती है।
6. इसका जाप करने से आपका क्रोध शांत रहता है।
7. रोज सुबह और शाम गायत्री मंत्र का जाप करने से आपके चेहरे पर चमक आती है।
8. और बुराइयों से मन दूर रहता है।

गायत्री मंत्र के उपाय

1. पहला 108 बार गायत्री मंत्र का जाप कर केवल जल का फूंक लगाने पर भी भूत आदि दोष दूर होते हैं
2. कुछ दिन नित्य 108 बार गायत्री मंत्र जपने के बाद जिस तरफ मिट्टी का ढीला फेंका जाएगा उस तरफ से शत्रु वायु अग्निदोष दूर हो जाएगा
3. दुखी होकर मंत्र का जाप कर कुशा पर फूंक मारकर शरीर का स्पर्श करने से प्रकार के रोग भूत भय नष्ट हो जाते हैं
4. शनिवार को पीपल के पेड़ के नीचे गायत्री मंत्र का जाप करने से सभी प्रकार की ग्रह बाधा से मुक्ति मिलती हैं।
5. लाल कमल या चमेली के फूल एवं शाली चावल से हवन करने से लक्ष्मी प्राप्ति होती है।
6. गायत्री मंत्र का जाप करते हुए फूलों का हवन करने से सर्व सुख प्राप्ति होती है।

गायत्री मंत्र का जाप करते हुए रखें सावधानी?

  • गायत्री मंत्र का जाप हरदम आसन पर बैठकर ही करना चाहिए तभी वह लाभकारी होता है
  • गायत्री मंत्र का जाप तुलसी एवं चंदन के माला का प्रयोग करके ही जाप करना चाहिए
  • इस मंत्र को धैर्य के साथ ध्यान में रखकर ही पढ़ना चाहिए
  • गायत्री मंत्र का जाप रात में नहीं करना चाहिए गायत्री मंत्र का जाप हरदम ब्रह्म मुहूर्त में करना चाहिए

FAQ : गायत्री मंत्र

मंत्र शब्द का क्या अर्थ है?

जब कोई व्यक्ति किसी विचार को मुख से बार बार 'विचार' या 'चिन्तन' करता है। उसे ही हम मंत्र कहते है। मन्त्र भी एक प्रकार की वाणी है साधारण वाक्यों जिन्हें हम बंधन में नहीं डालते है बल्कि बन्धन से मुक्त करते है.

गायत्री माता किसका रूप है ?

गायत्री माता का रूप भगवान ब्रह्मा की दूसरी पत्नी को कहा जाता है सरस्वती को और माँ पार्वती लक्ष्मी की अवतार भी गायत्री माता को ही कह जाता है

महामंत्र कौन है?

मंत्रों का मंत्र महामंत्र गायत्री ,मंत्र को कहा जाता है गायत्री मंत्र यह प्रथम इसलिए कि विश्व की प्रथम पुस्तक ऋग्वेद की शुरुआत ही इस मंत्र से होती है। इसलिए इसे महामंत्र कहा जाता है यह मंत्र इस प्रकार है- ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।

osir news

निष्कर्ष

दोस्तों जैसे कि आपने देखा मैंने आज आपको गायत्री मंत्र का अर्थ बताया और उसके साथ साथ गायत्री मंत्र से जुड़ी सारी जानकारी इस लेख में दी है दोस्तों अब आपको समझ में आ गया होगा कि गायत्री मंत्र का अर्थ क्या है और उससे जुड़ी सारी जानकारी दोस्तों अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो हमें कमेंट करके जरूर बताएं

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

शमी का पौधा लगाने के फायदे : सुख-समृद्धि और परेशानीयों से मिलेगी मुक्ति | sami ka paudha lagane ke fayde 
दो लोगों को अलग करने का टोटका : लड़ाई-झगड़ा कराने का शाबर मंत्र | do logo ko alag karne ka totka
जादू टोना किसने किया : जादू टोना करने वाले का नाम कैसे पता करें | jadu tona karne wale ka naam kaise pata kare
हनीमून के लिए सबसे अच्छी 10 जगह | Best honeymoon places in india
अनाथ आश्रम कैसे खोले : अनाथ आलय की सुरुआत कैसे करे नियम और रजिस्ट्रेशन | anath ashram kaise khole
★ सम्बंधित लेख ★