पशुपति व्रत की सामग्री की लिस्ट ,व्रत की संपूर्ण विधि ,नियम और लाभ | Pashupati Vrat ki samagri

पशुपति व्रत की सामग्री | Pashupati Vrat ki samagri : दोस्तों नमस्कार आज मैं इस लेख में पशुपति व्रत की सामग्री टॉपिक से संबंधित जानकारी आप लोगों को प्रदान करने की पूरी कोशिश करूंगी जिसमें मैं आप लोगों को बताऊंगी पशुपति व्रत करने में कौन-कौन सी सामग्री की आवश्यकता होती है, इसी जानकारी के साथ साथ यहां पर पशुपति व्रत करने की संपूर्ण विधि , नियम और इस व्रत को करने से प्राप्त होने वाले लाभ जैसी महत्वपूर्ण जानकारी बताने का प्रयत्न करेंगे.



ताकि जो लोग पशुपति व्रत को पहली बार करने की सोच रहे हैं तो उन लोगों को इस व्रत से संबंधित सारी जानकारी विधिवत तरीके से प्राप्त हो सके पशुपति व्रत की सामग्री जानकारी देने से पहले हम आप लोगों को बता देना चाहते हैं कि पशुपति व्रत त्रिलोचन जिन्हें भगवान शंकर के नाम से जाना जाता है.

पशुपति व्रत की सामग्री लिस्ट, पशुपति व्रत की सामग्री marathi, पशुपति व्रत की सामग्री क्या-क्या होती है, पशुपति व्रत की पूजन सामग्री बताइए, पशुपति व्रत की पूजा सामग्री, पशुपति व्रत सामग्री, पशुपति व्रत की विधि और सामग्री, पशुपति व्रत उद्यापन सामग्री, पशुपति व्रत की सामग्री बताएं, पशुपति व्रत में क्या खाना चाहिए, पशुपति व्रत के नियम, Pashupati Vrat mein kya khana chahiye, pashupati vrat ki samagri bataiye, pashupati vrat ki samagri bataen, पशुपति व्रत की सामग्री in marathi, पशुपति व्रत की पूजा की सामग्री list, pashupati vrat ki samagri, पशुपति व्रत का सामग्री, पशुपति व्रत की पूजा की सामग्री, pashupati vrat samagri list, pashupati vrat samagri list in hindi, pashupati vrat puja samagri list, pashupati vrat ki samagri pradeep mishra, pashupati vrat udyapan samagri, pashupati vrat samagri vidhi, पशुपति व्रत की विधि पूजा सामग्री, पशुपति व्रत की पूजा की सामग्री बताइए, पशुपति व्रत की पूजा विधि बताइए, पशुपति व्रत की विधि बताइए प्रदीप मिश्रा जी, पशुपतिनाथ की सामग्री बताइए,

उनका व्रत है यानी कि यह व्रत उनके पशुपतिनाथ के नाम से रखा जाता है इस व्रत को तब किया जाता है जब आप तमाम तरह की समस्याओं से घिर हुए होते है और उन समस्याओं से निकलने के लिए आपको कोई भी रास्ता नजर नहीं आता है ऐसी परिस्थिति में आप पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ पशुपति व्रत विधिवत तरीके से करें.

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

तो निश्चित ही 5 सोमवार व्रत करने के पश्चात आपके जीवन में चल रही सभी समस्याओं का निवारण हो जाएगा क्योंकि पशुपति व्रत को विधिवत तरीके से करने पर भगवान शिव के साथ – साथ माता पार्वती का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है और जिस व्यक्ति को माता पार्वती और शिव भगवान का आशीर्वाद प्राप्त होता है तो उस व्यक्ति का जीवन सुख – शांति , समृद्धि , यश , वैभव , मान – सम्मान आदि से परिपूर्ण हो जाता है.

तो चलिए मित्रों हम आप लोगों को पशुपति व्रत से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी से अवगत करवा देते हैं लेकिन कृपया करके इस व्रत से संबंधित सारी जानकारी प्राप्त करने हेतु आप लोग इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें.


पशुपति व्रत की सामग्री | Pashupati Vrat ki samagri

Prayer

पशुपति व्रत भगवान शिव का व्रत है इस व्रत को करने में उपयोग में ली जाने वाली सभी व्रत सामग्री को नीचे एक क्रम बताया जा रहा है जैसे,

  1. धूप
  2. दीप
  3. चंदन
  4. लाल चंदन
  5. बेल पत्र
  6. पुष्प
  7. फल
  8. अक्षत
  9. भगवान शिव के अभिषेक के लिए शुद्ध गंगाजल
  10. कलश
  11. भोग लगाने के खीर या हलवा
  12. आरती के लिए कपूर ,शुद्ध देसी घी ,या फिर सरसों का तेल आदि सामग्री की आवश्यकता होती है.

पशुपति व्रत की शुरुआत कब (या किस दिन से) करनी चाहिए ? | Pashupati Vrat ki shuruaat kab ya FIR kis din Karni chahiye ?

शास्त्रों में बताया गया है पशुपति व्रत को प्रत्येक माह में पड़ने वाली शुक्ल पक्ष या कृष्ण पक्ष तिथि को शुरू किया जा सकता है. इसके अलावा किसी भी सोमवार के दिन से इस व्रत को शुरू कर सकते हैं क्योंकि यह व्रत भगवान शिव का हैं जिन्हें सप्ताह के किसी भी सोमवार दिन से शुरू किया जा सकता है इसीलिए आप सोमवार के दिन से भी इस व्रत की शुरुआत कर सकते हैं.

पशुपति व्रत में क्या खाना चाहिए ? | Pashupati Vrat mein kya khana chahiye ?

पशुपति व्रत में व्रत करने वाले जातक जातिक का फल, चूरमा ,कटु आटे का हलवा , साबूदाने की खीर , मुनक्के की खीर इन सब का सेवन कर सकते हैं.

पशुपति व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए ? | Pashupati Vrat mein kya Nahi khana chahiye ?

pashupati

मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है पशुपति व्रत में अनाज का सेवन किया जा सकता है लेकिन मेरे हिसाब से अगर आप पशुपति व्रत में अनाज का सेवन ना करें तो ज्यादा बेहतर है क्योंकि व्रत – व्रत होता है अगर आप कोई भी व्रत करते हैं तो उसमें खाना भी खा रहे हैं तो फिर वह व्रत नहीं रह जाता है इसीलिए मेरे अनुकूल अगर आप पशुपति व्रत करते हैं तो इसमें अनाज का सेवन ना करें और दही बिलकुल भी न खाए .

पशुपति व्रत कितने दिन तक करना चाहिए ? | Pashupati kitne din tak karna chahiye ?

धार्मिक ग्रंथों में बताया गया है पशुपति व्रत को 5 सोमवार लगातार करना चाहिए, आखिरी सोमवार को व्रत का उद्यापन करके व्रत को पूर्ण करना चाहिए.

पशुपति व्रत के नियम | Pashupati Vrat ke Niyam

शास्त्रों में पशुपति व्रत करने के कुछ प्रमुख नियम बनाए गए हैं पशुपति व्रत करते समय नियमों का पालन करना अनिवार्य बताया गया है, वह सभी प्रकार के नियम नीचे क्रम से दर्शाये जा रहे हैं जैसे,

  1. पशुपति व्रत की शुरुआत सोमवार के दिन से करें.
  2. पशुपति व्रत में मांस मछली तंबाकू, गुटखा , स्त्री संग संभोग इन सबसे दूरी रहना चाहिए.
  3. पशुपति व्रत में सुबह शाम दोनो टाइम विधिवत रूप से पशुपति जी की पूजा अवश्य करें.
  4.  पशुपति व्रत करते समय अपने मन में किसी का भी अहित करने के विषय में न सोचें.
  5. पशुपति व्रत में व्रत की सारी सामग्री इकट्ठा करने के पश्चात ही व्रत की शुरुआत करें.
  6. पशुपति व्रत को करने से पहले इस व्रत को पूर्ण करने का संकल्प अवश्य लें.
  7. पशुपति व्रत में जल से भगवान शिव का अभिषेक अवश्य करें.

तो दोस्तों यही कुछ प्रमुख नियम है अगर आप इन नियमों का पालन करके पशुपति व्रत को करते हैं तो आप इस व्रत से प्राप्त होने वाले सभी प्रकार के लाभ हासिल कर सकते हैं.

पशुपति व्रत को करने की संपूर्ण विधि | Pashupati Vrat ko karne ki sampurn vidhi

pashupati vrat, pashupati vrat katha, pashupati vrat vidhi, pashupati vrat ki katha, pashupati vrat ki samagri, pashupati vrat ka udyapan, पशुपति व्रत कथा, पशुपति व्रत कथा विधि, पशुपति व्रत कथा इन हिंदी, पशुपति व्रत कथा और विधि, पशुपति व्रत कथा बताइए, पशुपति व्रत कथा प्रदीप मिश्रा, पशुपति व्रत कथा नियम, पशुपति व्रत कथा सुनाएं, पशुपति व्रत कथा बताएं, पशुपति व्रत का कथा, pashupatinath vrat katha book, pashupati vrat ke bare mein, pashupati vrat benefits, pashupati vrat katha vidhi, pashupati vrat katha, pashupati vrat ki katha, pashupati vrat katha in hindi, pashupati vrat kab hota hai, pashupati vrat kya hota hai, pashupati vrat ki kahani, pashupatinath ji ki vrat katha, pashupatinath ji ke vrat, पशुपति व्रत की कथा, पशुपति व्रत की कथा सुनाइए, पशुपति व्रत कथा के बारे में बताइए, पशुपति व्रत कथा की विधि, पशुपति व्रत कथा की विधि बताइए, पशुपति व्रत के कथा बताइए, पशुपति व्रत की कथा सुनाई, पशुपति व्रत की कथा क्या है, पशुपति व्रत कथाएं, pashupati vrat ka mahatva, pashupati vrat ki mahima, pashupati vrat vidhi, pashupatinath vrat katha vidhi, पशुपति व्रत के नियम, पशुपति व्रत के नियम बताइए, पशुपति व्रत के नियम और विधि, पशुपति व्रत के नियम प्रदीप मिश्रा, पशुपति व्रत नियम, pashupati vrat ke niyam, upvas ke niyam, pashupati vrat niyam, pashupatinath vrat ke niyam, upvas ke niyam in hindi, pashupati vrat ka niyam, pashupati vrat ke fayde, pashupati ke vrat ki vidhiपशुपति व्रत की आरती, पशुपति व्रत की आरती lyrics, पशुपति व्रत की आरती in hindi, पशुपति व्रत की आरती हिंदी में, pashupati ki aarti, pashupatinath ki aarti, pashupati bhagwan ki aarti, pashupati vrat kab aata hai, pashupati aarti, pashupatinath aarti download, pashupati ji ki aarti, pashupati vrat ki katha, पशुपति व्रत की आरती pdf, पशुपति व्रत क्यों किया जाता है, पशुपति मंत्र क्या है, पशुपति व्रत कब करना चाहिए, पशुपति व्रत कब से शुरू करना चाहिए, पशुपति व्रत कब शुरू करना चाहिए, पशुपतिनाथ व्रत किसे करना चाहिए, पशुपतिनाथ व्रत कैसे करना चाहिए, पशुपति व्रत में क्या खाना चाहिए, पशुपति व्रत में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, पशुपति व्रत में शाम को क्या खाना चाहिए, पशुपति के व्रत में क्या खाना चाहिए, पशुपतिनाथ व्रत की विधि, पशुपतिनाथ व्रत की विधि प्रदीप मिश्रा, पशुपतिनाथ व्रत की विधि विधान, पशुपतिनाथ व्रत की विधि पंडित प्रदीप मिश्रा, पशुपतिनाथ व्रत की विधि उद्यापन, पशुपतिनाथ के व्रत की विधि, पशुपतिनाथ व्रत करने की विधि बताएं, पशुपतिनाथ व्रत करने की विधि बताइए, पशुपतिनाथ व्रत विधि, pashupatinath ki vidhi, pashupatinath ki vrat vidhi, pashupatinath ki vidhi bataiye, pashupatinath ki vrat ki vidhi, pashupatinath vrat karne ki vidhi, पशुपतिनाथ की व्रत की विधि, पशुपतिनाथ व्रत की विधि क्या है, पशुपतिनाथ व्रत विधि इन हिंदी, पशुपतिनाथ व्रत का विधि, pashupatinath ki puja vidhi, pashupatinath vrat udyapan, pashupatinath vrat ke udyapan vidhi, pashupatinath vrat udyapan vidhi, pashupatinath vrat ka udyapan, पशुपतिनाथ के व्रत की विधि विधान, पशुपतिनाथ की विधि व्रत की विधि, पशुपतिनाथ व्रत विधि प्रदीप मिश्रा, प्रदीप मिश्रा द्वारा पशुपतिनाथ व्रत की विधि, प्रदीप मिश्रा के पशुपतिनाथ व्रत की विधि, प्रदीप मिश्रा जी के पशुपतिनाथ व्रत की विधि, pashupati vrat mein kya khana chahie, pashupati vrat me kya khana chahiye, pashupati vrat mein kya khayen, pashupati vrat me kya khaye, pashupatinath vrat kaise kiya jata hai, pashupatinath vrat kaise karte hain, pashupatinath ka vrat kaise karna chahie, pashupatinath ka vrat kaise kiya jata hai, pashupatinath vrat kaise karen, pashupatinath vrat karne ki vidhi, pashupatinath ka vrat kaise karte hain, pashupati vrat kab aata hai, pashupati vrat kaise karna chahie, pashupati vrat kab hai, pashupati vrat kab hota hai, pashupati vrat ke bare mein, pashupati vrat kaise karte hain, pashupati vrat karne ki vidhi, pashupatastra kya hai, pashu ka mahatva, pashu kya hai, pashupati mantra hindi, pashu pravati kya hai, guru ka mantra kya hai, mantra kya hote hain, mantra kya hai hindi, pashupatinath mantra in hindi, pashupati vrat kaise kiya jata hai, pashupati vrat kab kiya jata hai, pashupati vrat kya hai, pashupati vrat kaise kiye jaate hain, guruwar ka vrat kyon kiya jata hai, pashupati ka vrat kaise kiya jata hai, pashupati vrat kaise rakha jata hai, pashupati vrat pradeep mishra, pashupati vrat samagri list, pashupati vrat ki vidhi by pradeep mishra, pashupatinath vrat by pradeep mishra, pashupatinath vrat benefits, pashupatinath vrat vidhi pradeep mishra, pashupati vrat ke niyam, pashupati vrat ke fayde, pashupati vrat ke udyapan vidhi, pashupati vrat ke udyapan ki vidhi, pashupati vrat ke udyapan ki samagri, pashupati vrat ki vidhi, pashupati vrat ke niyam pradeep mishra, pashupati vrat ke bare mein, pashupati vrat ki vidhi batao, pashupati vrat ki vidhi bataiye, pashupati vrat ki vidhi bataen, pashupati vrat ghar per kaise karen, shiv chaudas ka vrat, pashupati vrat hindi, pashupati vrat kya hota hai, pashupati vrat katha hindi mein, pashupati vrat kitne hote hain, pashupati mantra benefits, pashupati vrat ki samagri list, pashupati vrat ki udyapan vidhi, pashupati vrat ki aarti, pashupati vrat ki thali, pashupatinath ji vrat ki vidhi, pashupati vrat pradeep ji mishra, pashupati vrat mishra ji, pashupati aarti time, pashupati aarti time today, pashupati vrat ke niyam in hindi, pashupati vrat mein, pashupati vrat me kya khana chahiye, pashupati vrat mein kya khana chahie, pashupati vrat me kya bhog lagaye, pashupati vrat me sham ki puja, pashupati vrat mantra, pashupati vrat m kya khana chahiye, pashupati vrat mein kya hota hai, pashupati vrat nath ki katha, pashupati vrat nath, pashupati vrat niyam, pashupati vrat niyam in hindi, pashupatinath vrat vidhi, pashupati nath vrat katha, pashupati nath vrat udyapan vidhi, pashupatinath vrat ka udyapan, pashupati vrat kab hota hai, pashupati vrat puja vidhi, pashupati vrat pooja samagri, pashupati vrat prasad, pashupati vrat puja time, pashupati vrat pdf, pashupati vrat pooja thali, pashupati vrat pradeep sharma,

पशुपति व्रत को करने की विधि बहुत ही सरल है लेकिन जिन लोगों ने कभी भी पशुपति व्रत नहीं किया है तो उन लोगों के मन में यह प्रश्न उढ़ता है कि इस व्रत को कैसे करना चाहिए इसीलिए मैं यहां पर पशुपति व्रत को करने की संपूर्ण विधि एक क्रम से बता रही हूं.

जिसे पढ़कर आप लोग पशुपति व्रत को आसानी से कर सकते हैं  पशुपति व्रत को करने की संपूर्ण विधि कुछ इस प्रकार से है जैसे,

1. सोमवार के दिन प्रातः काल स्नानादि से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण करें.

2. स्नान आदि से निवृत होकर पशुपति व्रत को करने की सारी सामग्री लेकर भगवान शिव के समक्ष पहुंच जाएं अगर आपके आसपास भगवान शिव का मंदिर नहीं है तो आप घर की उत्तर दिशा की तरफ भगवान शिव की प्रतिमा स्थापित कर सकते हैं.

3. घर में भगवान शिव की प्रतिमा स्थापित करने के लिए पहले आप पूजा वाले स्थान को स्वच्छ जल से धोकर साफ करें फिर उस स्थान के सूख जाने पर आप उस स्थान पर मार्केट में मिलने वाली आबरी बिछाकर चौकी बना लें. चौकी बन जाने के बाद आप गंगाजल से भगवान शिव का अभिषेक करें उसके बाद उनके शरीर का पानी किसी साफ कपड़े से पोंछ दे उन्हें पूजा स्थान पर स्थापित कर दें.

4. भगवान शिव की फोटो या प्रतिमा स्थापित करने के बाद आप इनके समक्ष धूप , दीप जलाकर फल – फूल , अक्षत – पुष्प अर्पित कर दें.

5. भगवान शिव के समक्ष फल – फूल अर्पित करने के पश्चात अपने दाहिने हाथ में गंगा लेकर भगवान शिव से बोले हे प्रभु मैं अपनी इस समस्या आपकी जो भी समस्या हो उस समस्या को भगवान के समक्ष प्रस्तुत करते हुए.

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

कहे प्रभु मैं अपनी इस समस्या निवारण हेतु आपका व्रत करने का संकल्प लेता हूं और अगर मेरे व्रत में किसी भी प्रकार की भूल चूक हो तो उसे माफ करके मेरी पूजा को शिवकार करना इतना बोल कर आप अपने हाथ का जल किसी पात्र में रख दें.

6. पशुपति व्रत का संकल्प लेने के बाद भगवान शिव की आरती के लिए थाली में शुद्ध देसी घी का दीपक या फिर सरसों के तेल का दीपक जलाएं और लाल चंदन से पशुपति के रूप में भगवान शिव को तिलक करें.

7. भगवान शिव को तिलक करने के बाद इनकी आरती प्रारंभ कर दें.

8. भगवान शिव की संपूर्ण आरती उच्च एवं स्पष्ट शब्दों में करें.

9. भगवान शिव की आरती पूर्ण हो जाने के बाद आप आरती की थाल को उनकी प्रतिमा के समक्ष रख दें उसके बाद पशुपति भगवान जी के सामने हाथ जोड़कर पूजा में हुई भूल चूक लिए क्षमा याचना मांगते हुए आपकी जो भी समस्या है उस समस्या को भगवान के समक्ष प्रस्तुत करते हुए उस समस्या से बाहर निकलने के लिए भगवान से अपने शब्दों में प्रार्थना करें.

10. इतनी प्रक्रिया के बाद पशुपति व्रत में पूजा के सुबह के टाइम की जाने वाली पूजा पूर्ण हो जाती है .

11. सुबह के टाइम की पूजा करने के बाद आप दोपहर में फलों का सेवन कर सकते हैं.

12. दोपहर के बाद जब शाम का टाइम आए यानी कि सूर्यास्त का समय हो उस समय आप फिर से इसी तरह से भगवान पशुपति नाथ जी की पूजा अर्चना करें उनकी आरती करें इनको खीर का 3 हिस्सों में भोग लगाएं उनके सामने 6 देशी घी या सरसों के तेल के दीपक अवश्य जलाएं. उसके बाद जब पूजा संपन्न हो जाए 6 दीपक में से एक दीपक और 3 भोग हिस्सों में से एक भोग का हिस्सा अपने साथ घर ले आए और दीपक को घर की चौखट पर रख दे फिर प्रसाद सभी घर के लोगों में अर्पित करें और खुद उस प्रसाद को ग्रहण करके पशुपति व्रत को सफल करें.

13. इस व्रत को पांच सोमवार इसी विधि के द्वारा करें तो आप सभी प्रकार की समस्याओं से मुक्त हो जाएंगे और आपका मानव जीवन सरल एवं सुखमय बनेगा,लेकिन आखिरी सोमवार को व्रत उद्यापन करना होगा. इसके लिए आप जल वाला नारियल लेकर उसपे कलावा लपेटकर भगवान शिव के समक्ष अर्पित करें और 180 बेलपत्र या चावल अर्पित करें और हो सके तो ब्राह्मण को भोजन भी कराएं तो बहुत सौभाग्य की बात होगी.

14. इतनी प्रक्रिया के बाद पशुपति व्रत पूर्ण होता है.

पशुपति व्रत करने के लाभ | Pashupati Vrat karne ke Labh

भगवान शिव का सबसे बड़ा मंत्र

पशुपति व्रत की महिमा का बखान करते हुए शास्त्रों में बताया गया है जो भी व्यक्ति पशुपति व्रत को सच्ची भक्ति और श्रद्धा के साथ करता है तो उस व्यक्ति के जीवन में सभी प्रकार की समस्याएं भगवान शिव और माता पार्वती दूर करके उसे सुख – शांति समृद्धि प्रदान करती है, साथ में इस व्रत को करने वाले जातक को सभी प्रकार की नकारात्मक शक्तियों से सुरक्षा प्रदान करते हैं .

FAQ : पशुपति व्रत की सामग्री

पशुपति व्रत की शाम की पूजा कितने बजे करनी चाहिए?

पशुपति व्रत में शाम की पूजा के लिए सूर्य अस्त के आधा घंटा पहले या फिर सूर्य अस्त के आधा घंटे बाद पूजा करना उत्तम बताया जाता है.

पशुपति व्रत की थाली में क्या क्या रखते हैं?

पशुपति व्रत की थाली में फल, फूल, धूप, दीप, लाल चंदन, बेलपत्र,और देशी का एक दीपक अवश्य होना चाहिए.

शाम को घंटी क्यों नहीं बजाना चाहिए?

मान्यताओं के अनुसार शाम को घंटी इसीलिए नहीं बजाना चाहिए क्योंकि संध्या काल में हम लोगों की तरह भगवान भी विश्राम करने के लिए सैया पर चले जाते हैं ऐसे में अगर कोई भी व्यक्ति घंटी बजाता है तो भगवान के विश्राम में बाधा उत्पन्न होती है इसीलिए शाम को घंटी नहीं बजाना चाहिए.

निष्कर्ष

प्रिय मित्रों जैसा कि आज के इस लेख में हमने पशुपति व्रत की सामग्री टॉपिक से संबंधित जानकारी प्रदान की है जिसमें हमने पशुपति व्रत सामग्री जानकारी के साथ-साथ पशुपति व्रत से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी बताने का प्रयत्न किया है . अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप सभी लोगों को पशुपति व्रत के विषय में सारी जानकारी एक विस्तार से प्राप्त हो गई होगी जिसे पढ़ने के बाद आप लोग पशुपति व्रत को विधिवत तरीके से करने में सक्षम हो सकते हैं .

तो मित्रों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी साथ में उपयोगी भी साबित हुई होगी.

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन