जाने मंगलवार व्रत के फायदे : संतान प्राप्ति, सुख-संपत्ति, वैभव एवं होगा मंगल प्रबल | Mangalwar vrat ke fayde

मंगलवार व्रत के फायदे | Mangalwar vrat ke fayde : मंगलवार का दिन हनुमान जी की पूजा के लिए सबसे उत्तम दिन माना जाता है क्योंकि यह दिन श्री हनुमान को बहुत ही प्रिय होता है इस दिन मंदिरों में भक्तों की भीड़ लगी रहती है हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए भक्त अनेक प्रकार के कार्य करते हैं कोई हनुमान चालीसा का जाप करता है तो कोई पाठ और अनुष्ठान करता है.



 मंगलवार व्रत के फायदे, मंगलवार व्रत के फायदे और नुकसान, मंगलवार व्रत करने के फायदे, मंगलवार का व्रत रखने के फायदे, मंगलवार व्रत के दिन क्या खाना चाहिए, मंगलवार व्रत के लाभ, मंगलवार व्रत रखने के फायदे, mangalwar vrat ke fayde in hindi, मंगलवार व्रत के उद्यापन की विधि, mangalwar vrat ke fayde, monday vrat ke fayde, मंगलवार व्रत के नियम बताएं, मंगलवार व्रत के नियम, मंगलवार व्रत कथा pdf download, मंगलवार के व्रत में क्या खाना चाहिए, मंगलवार व्रत में क्या-क्या खाना चाहिए, हनुमान जी खुश होने पर क्या संकेत देते हैं?, हनुमान जी खुश होने पर क्या संकेत देते हैं, hanuman ji khush hone par kya sanket dete hain, हनुमान जी खुश करने के उपाय, हनुमान जी को खुश करने का तरीका, हनुमान जी को खुश करने के लिए क्या करें, हनुमान जी की कृपा से मनोकामना कैसे पूरी करें, हनुमान जी की कृपा कैसे प्राप्त करें, हनुमान जी की कृपा कैसे प्राप्त हो, हनुमान जी की कृपा पाने के उपाय, मनोकामना पूर्ति के हनुमान जी के उपाय, भगवान मनोकामना कैसे पूरी करते हैं, कौन से भगवान की पूजा करने से मनोकामना पूरी होती है,

नमस्कार दोस्तों आपका इस लेख में बहुत-बहुत स्वागत है आज के इस लेख में हम मंगलवार व्रत के फायदे के बारे में जानेंगे और यदि आप बजरंगबली के भक्त हैं तो इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें क्योंकि इस लेख में आपको बहुत सी चीजों की जानकारी प्राप्त होगी.

मंगलवार व्रत के फायदे | Mangalwar vrat ke fayde

  1. जो व्यक्ति मंगलवार का व्रत संपूर्ण प्रेम निष्ठा भाव से करता है उस व्यक्ति पर भगवान श्री हनुमान के साथ-साथ श्री राम की भी कृपा बनी रहती है.
  2. मंगलवार का व्रत करने वाले व्यक्ति को सम्मान बल तथा साहस की प्राप्ति होती है.
  3. मंगलवार का व्रत करने वाले को भूत प्रेत और काली शक्तियों का भय नहीं रहता है उस व्यक्ति के मन में भय वास नहीं करता है.
  4. यदि पति और पत्नी साथ में मंगलवार का व्रत करते हैं तो बुद्धिमान, निडर एवं साहसी संतान की प्राप्ति होती है.
  5. जिन व्यक्तियों के ऊपर मंगल की महादशा चल रही है, तो उन्हें मंगलवार का व्रत करना चाहिए.
  6. जो व्यक्ति लगातार मंगलवार का व्रत करता है उसे अपने पापों से मुक्ति मिलती है तथा सुख, संपत्ति, धन, वैभव आदि की प्राप्ति होती है.
  7. जिस जातक की कुंडली में मंगल कमजोर है वह व्यक्ति अगर मंगलवार का व्रत करता है तो उसकी कुंडली में मंगल प्रबल हो जाता है.

मंगलवार का व्रत करने से क्या फायदा मिलता है ? | Mangalwar ka vrat karne se kya fayda milta hai?

भगवान श्री हनुमान के भक्त हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए मंगलवार का व्रत करते हैं मंगलवार का व्रत करने से व्यक्ति के ऊपर भगवान हनुमान की कृपा सदैव बनी रहती है जो व्यक्ति मंगलवार का व्रत करते हैं उनके जीवन में दुख कलेश संकट भय जैसी समस्याएं उत्पन्न नहीं होती हैं.

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

जैसा की आप लोगों को ज्ञात ही होगा कि श्री हनुमान भगवान श्री राम के परम भक्त हैं इसीलिए मंगलवार का व्रत करने से भगवान हनुमान के साथ-साथ श्री राम की भी कृपा प्राप्त होती है जिसके कारण मनुष्य के जीवन में प्रसन्नता ही प्रसन्नता रहती है यह व्रत करने से मनुष्य को विभिन्न प्रकार की बीमारियों से मुक्ति प्राप्त होती है .

मंगलवार के दिन क्या नही करना चाहिए ? | Mangalwar ke din kya nahi karna chahiye ?


  1. नमक का सेवन नहीं करना चाहिए
  2. मंगलवार के दिन उत्तर और पश्चिम दिशा में यात्रा करना वर्जित माना जाता है
  3. इस दिन आपको लोहे की वस्तुएं नहीं खरीदनी चाहिए इसके साथ साथ हैं कैंची चाकू जैसे धारदार वस्तुएं भी नहीं खरीदनी चाहिए इस दिन वाहन लेने से बचें
  4. इस दिन मांस, मछली, अंडा आदि मांसाहारी भोजन का सेवन न करें
  5. किसी भी व्यक्ति पर अनावश्यक रूप से क्रोध ना करें यह आपके लिए बहुत घातक साबित हो सकता है
  6. मंगलवार के दिन किसी भी व्यक्ति को कर्ज ना दें क्योंकि उसके वापसी की संभावना बहुत कम होती है

मंगलवार का व्रत कितने दिन करना चाहिए ? | Mangalwar ka vrat kitne din karna chahie ?

मंगलवार के व्रत को कम से कम 21 दिन तक करना चाहिए और जो व्यक्ति इससे अधिक व्रत करना चाहता है वह व्यक्ति अधिक मंगलवार का व्रत कर सकता है लेकिन यदि आप ज्यादा दिन तक मंगलवार का व्रत नही करना चाहते तो आप कम से कम 21 दिन तक यह व्रत अवश्य करें.

मंगलवार का व्रत कैसे करना चाहिए ? | Mangalwar ka vrat kaise karna chahiye ?

दोस्तों मंगलवार का व्रत करने के लिए आपको सुबह जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए इस दिन आपको लाल रंग के वस्त्रों को धारण करना है स्नान करने के पश्चात किसी साफ स्थान पर बैठकर हनुमान जी की मूर्ति को स्थापित करें और यदि आपके पास भगवान हनुमान की मूर्ति उपलब्ध नहीं है तो आप उनका चित्र भी स्थापित कर सकते हैं .

पूजा थाली

हनुमान जी की मूर्ति या तस्वीर के सामने घी या तेल का दीपक जलाएं और प्रभु पर फूल चढ़ाएं इसके पश्चात आपको रूई में चमेली का तेल लेकर बजरंगबली के समक्ष रखना है इसके बाद मंगलवार व्रत की कथा का पाठ करें और अपने परिवार वालों को भी सुनाएं तत्पश्चात आपको हनुमान चालीसा एवं सुंदरकांड का पाठ करना है.

पाठ करने के पश्चात भगवान को गुड़ चने का भोग लगाएं और उनकी आरती करें जिस दिन आप मंगलवार का व्रत करें याद रखें कि आपको दिन में सिर्फ एक बार ही भोजन करना है अपने विचारों को शुद्ध रखें किसी से अपशब्द ना बोले किसी को हीन भावना से ना देखें.

शाम के वक्त स्नान करके हनुमान जी के सामने तेल या घी का दीपक जलाकर संपूर्ण निष्ठा एवं प्रेम भाव से आरती करें आरती के पश्चात आरती को परिवार के सभी सदस्यों को दिखाएं इस तरह आप का मंगलवार का व्रत पूर्ण होता है .

मंगलवार के व्रत में शाम को क्या खाना चाहिए ? | Mangalwar ke vrat mein sham ko kya khana chahiye ?

मंगलवार के व्रत में शाम को मोतीचूर या बेसन के लड्डू का भोग लगाएं तथा उसी भोग को स्वयं भी ग्रहण करें आपको बता दें कि बजरंगबली को लड्डू बहुत प्रिय हैं तथा यह उनका प्रिय भोजन है.

मंगलवार के व्रत में क्या नहीं करना चाहिए ? | Mangalwar ke vrat mein kya nahi karna chahiye ?

दोस्तों यदि हम मंगलवार का व्रत करते हैं तो आपको उस दिन नमक का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि बजरंगबली को नमक प्रिय नहीं है तथा आप काले या सफेद रंग के वस्त्रों को धारण न करे क्योंकि काला रंग अशुभ होता है और सफेद रंग बजरंगबली को पसंद नहीं है कोशिश करें कि आप उस दिन लाल रंग के वस्त्रों को धारण करें.

मंगलवार का व्रत किस महीने से करना शुभ होता है ? | Mangalwar ka vrat kis mahine se karna shubh hota hai ?

दोस्तों यदि आप मंगलवार का व्रत करना चाहते हैं और आपको यह ज्ञात नहीं है कि किस महीने से मंगलवार का व्रत करने से अधिक लाभ प्राप्त होता है तो आपको किसी भी महीने के शुक्ल पक्ष के पहले मंगलवार से मंगलवार का व्रत प्रारंभ करना चाहिए इससे भगवान हनुमान की कृपा अतिशीघ्र प्राप्त होती है.

chalander

हनुमान भगवान की पूजा सुबह कितने समय करनी चाहिए ? | Hanuman Bhagwan ki Puja subah kitne samay karni chahiye ?

दोस्तों यदि आप मंगलवार का व्रत करते हैं और आपको बजरंगबली की पूजा का समय नहीं पता है तो आपको सुबह सूर्योदय के बाद तथा शाम को सूर्यास्त के पश्चात बजरंगबली की पूजा करनी चाहिए.

मंगलवार व्रत उद्यापन | mangalwar vrat udyapan

इसी तरह आपको पूरे 21 दिन तक मंगलवार का व्रत करना है और 22 वे दिन भगवान हनुमान की विधि विधान से पूजा करके उन्हें लाल रंग का चोला चढ़ाएं इसके पश्चात आप चाहे तो भंडारा करवा सकते हैं और यदि आप भंडारा नहीं करवाना नहीं चाहते हैं.

take care of food

तो 21 ब्राह्मणों को बुलाकर उन्हें भोजन कराएं तथा दान दक्षिणा आदि करें स्मरण रहे कि कोई भी ब्राह्मण असंतुष्ट न लौटे अन्यथा आपका व्रत पूर्ण नहीं माना जाएगा और आपको इसका कोई भी फल प्राप्त नहीं होगा.

मंगलवार का व्रत कब खोलना चाहिए ? | Mangalwar ka vrat kab kholna chahiye ?

आपने जितने व्रतों का संकल्प लिया है उन सभी व्रतों को करने के पश्चात आपको उसके अगले दिन संपूर्ण विधि विधान से मंगलवार का व्रत खोलना चाहिए याद रखें की आप जितने दिन का संकल्प लेते हैं आप लगातार उतने मंगलवार का व्रत करें अन्यथा भगवान हनुमान आपसे क्रोधित हो सकते हैं.

हनुमान जी खुश होने पर क्या संकेत देते हैं ? | Hanuman Ji khush hone per kya sake dete hain ?

india में आसानी से job कैसे पाए

जिस व्यक्ति से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं उसके जीवन से सभी प्रकार के कष्टों का निवारण हो जाता है और उसे हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त होती है ऐसा कहा जाता है कि भगवान हनुमान अपने भक्तों से अति शीघ्र प्रसन्न होते हैं और उन पर अपनी कृपा बरसाते हैं.

हनुमान जी की कृपा से मनोकामना कैसे पूरी करें ? | Hanuman Ji ki kripa se manokamna kaise puri kare ?

दोस्तों यदि लगातार मंगलवार का व्रत करने से भी आपको कोई लाभ प्राप्त नहीं होता है तो आपको मंगलवार या शनिवार के दिन 11 स्वच्छ पीपल के पत्ते लाना है याद रहे कि वह पत्ते किसी भी प्रकार से कटे या फटे ना हो.

नौकरी के लिए हनुमान जी के उपाय

इसके बाद उन पत्तों को स्वच्छ जल से धोकर उन पर चंदन से श्री राम लिखें इसके पश्चात आपको इन पत्तों को बजरंगबली को अर्पित कर देना है इससे बजरंगबली अति शीघ्र प्रसन्न होंगे और आपकी संपूर्ण मनोकामनाएं पूर्ण करेंगे.

क्या लड़कियां मंगलवार का व्रत कर सकती हैं ? | Kya ladkiyan mangalwar ka vrat kar sakti hai ?

दोस्तों आपने अक्सर लोगों के मुंह से यह कहते हुए तो अवश्य सुना होगा कि लड़कियों को भगवान हनुमान की लॉकेट नहीं पहननी चाहिए क्योंकि वह पूर्ण ब्रह्मचारी हैं परंतु पुराणों के अनुसार लड़की हो या लड़का भगवान तो सभी के भगवान होते हैं इसीलिए लड़कियां भी मंगलवार का व्रत और उनकी पूजा कर सकती हैं.

हनुमान जी को कौन से तेल का दीपक जलाना चाहिए ? | Hanuman Ji ko kaun sa Tel ka Deepak jalana chahie ?

lashmi deep

दोस्तों यदि आप भगवान हनुमान के समक्ष प्रत्येक दिन दीपक जलाना चाहते हैं और आपको यह ज्ञात नहीं है कि भगवान हनुमान के समक्ष किस तेल का दीपक जलाना चाहिए तो आपको बता दें कि हनुमान जी को सरसों के तेल का दीपक जलाना अधिक लाभदाई होता है इसे आप सुबह या शाम के वक्त या फिर दोनों वक्त जला सकते हैं.

मंगलवार के दिन क्या खास है ? | Mangalwar ke din kya khas hai ?

मंगलवार के दिन प्रभु श्रीराम के परम भक्त बजरंगबली का जन्म हुआ था इसीलिए मंगलवार का दिन भगवान हनुमान का दिन माना जाता है तथा इस दिन बजरंगबली की पूजा करने से अधिक लाभ की प्राप्ति होती है.

हनुमान

हनुमान चालीसा रोज पढ़ने से क्या होता है ? | Hanuman chalisa roj padhne se kya hota hai ?

जो व्यक्ति प्रतिदिन हनुमान चालीसा पड़ता है उसके जीवन से सभी प्रकार के कष्ट दूर हो जाते हैं और वह भय मुक्त हो जाता है उसके सिर पर बजरंगबली के साथ-साथ श्रीराम का भी आशीर्वाद होता है.

book

कुंडली में मंगल के साथ-साथ अन्य ग्रह भी शांत होते हैं और घर में सुख शांति का माहौल बना रहता है तथा उस व्यक्ति को काली शक्तियों का भय नहीं रहता है.

हनुमान चालीसा पढ़ते समय क्या सावधानी बरतनी चाहिए ? | Hanuman chalisa padhte samay kya savdhani bartni chahiye ?

दोस्तों हनुमान चालीसा पढ़ते समय अपने मन को भटकने से बचाएं और इसे पढ़ते वक्त किसी भी प्रकार की नकारात्मक सोच को अपने मन में वास न करने दें .

हनुमान चालीसा | Hanuman chalisa

दोहा :

श्रीगुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुरु सुधारि।
बरनऊं रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि बिद्या देहु मोहिं, हरहु कलेस बिकार।।

चौपाई :

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर।
जय कपीस तिहुं लोक उजागर।।

रामदूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा।।

महाबीर बिक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी।।

कंचन बरन बिराज सुबेसा।
कानन कुंडल कुंचित केसा।।

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजै।
कांधे मूंज जनेऊ साजै।

संकर सुवन केसरीनंदन।
तेज प्रताप महा जग बन्दन।।

विद्यावान गुनी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर।।

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया।।

सूक्ष्म रूप धरि सियहिं दिखावा।
बिकट रूप धरि लंक जरावा।।

भीम रूप धरि असुर संहारे।
रामचंद्र के काज संवारे।।

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुबीर हरषि उर लाये।।

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई।।

सहस बदन तुम्हरो जस गावैं।
अस कहि श्रीपति कंठ लगावैं।।

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा।।

जम कुबेर दिगपाल जहां ते।
कबि कोबिद कहि सके कहां ते।।

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा।।

तुम्हरो मंत्र बिभीषन माना।
लंकेस्वर भए सब जग जाना।।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

जुग सहस्र जोजन पर भानू।
लील्यो ताहि मधुर फल जानू।।

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गये अचरज नाहीं।।

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते।।

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे।।

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डर ना।।

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै।।

भूत पिसाच निकट नहिं आवै।
महाबीर जब नाम सुनावै।।

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

संकट तें हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा।

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फल पावै।।

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा।।

साधु-संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे।।

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता।।

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा।।

तुम्हरे भजन राम को पावै।
जनम-जनम के दुख बिसरावै।।

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहां जन्म हरि-भक्त कहाई।।

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेइ सर्ब सुख करई।।

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

जै जै जै हनुमान गोसाईं।
कृपा करहु गुरुदेव की नाईं।।

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहि बंदि महा सुख होई।।

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा।।

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मंह डेरा।।

दोहा :

पवन तनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप।।

सियावर रामचंद्र की जय
पवन पुत्र हनुमान की जय
उमापति महादेव की जय
बोलो रे भाई सब संतन की जय

1 दिन में कितनी बार हनुमान चालीसा पढ़नी चाहिए ? | 1 Din mein kitni bar Hanuman chalisa padhani chahie ?

दोस्तों हनुमान चालीसा का पाठ आप 1 दिन में 7, 11, 100 और 108 बार कर सकते हैं हनुमान चालीसा में एक पंक्ति है ‘जो सत बार पाठ कर कोई, छूटहि बंदि महासुख होई’ अर्थात आप जितनी बार हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं आपको उतना ही लाभ प्राप्त होता है शास्त्रों के अनुसार 1 दिन में कम से कम 100 बार हनुमान चालीसा का पाठ करना अधिक फलदाई होता है.

हनुमान जी की प्रिय राशि क्या है ? | Hanuman ji ki Priya Rashi kya hai ?

दोस्तों बजरंगबली को सिंह राशि बहुत ही प्रिय है तथा जिन जातकों की राशि सिंह होती है उनके इष्ट देवता बजरंगबली होते हैं तथा उन्हें बजरंगबली की पूजा करने से अत्यधिक लाभ प्राप्त होता है.

rashi

हनुमान भगवान को कौन सा फल पसंद है ? | Hanuman Bhagwan ko kaun sa fal pasand hai ?

दोस्तों बजरंगबली को केला, अनार और आम फल बहुत ही प्रिय है मीठे फलों को प्रसाद के रूप में चढ़ाने से व्यक्ति के जीवन में मिठास आती है.

BANANA KELA

क्या मंगलवार के व्रत में शारीरिक संबंध बनाना चाहिए ? | Kya mangalwar ke vrat mein sharirik sambandh banana chahiye ?

sleep lover

दोस्तों यदि आप मंगलवार का व्रत कर रहे हैं तो आपको इस दिन शारीरिक संबंध बनाने से परहेज करना चाहिए नही तो आपका व्रत खंडित माना है और आपको इसका दुष्प्रभाव भोगना पड़ सकता है.

मंगलवार को कौन से तीन कार्य नहीं करने चाहिए ? | Mangalwar ko kaun se teen karya nahi karne chahiye ?

  1. मंगलवार के दिन आपको काले वस्त्रों को धारण नहीं करना है
  2. नमक का सेवन नहीं करना है
  3. किसी को भी उधार देने से बचें

FAQ : मंगलवार व्रत के फायदे

मंगल दोष से पीड़ित व्यक्ति को क्या खाना चाहिए ?

जिस जातक की कुंडली में मंगल भारी है उस व्यक्ति को मंगलवार के दिन चुकंदर का सेवन करना चाहिए इससे कुंडली में मंगल का प्रभाव कम होता है.

क्या मंगलवार के व्रत में चाय पी सकते हैं ? |

दोस्तों यदि हम मंगलवार का व्रत करते हैं तथा आप चाय के आदि हैं तो आप सुबह शाम बिना नमक की चाय का सेवन कर सकते हैं.

हनुमान जी को कौन सी माला पसंद है ?

बजरंगबली को तुलसी का माला अत्यधिक प्रिय होता है तथा जो व्यक्ति बजरंगबली को तुलसी का माला चढ़ाता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं.

निष्कर्ष :

दोस्तों इस लेख में हमने आपको मंगलवार व्रत के फायदे, मंगलवार का व्रत कितने दिन करना चाहिए तथा इस दिन क्या नहीं करना चाहिए ? भगवान हनुमान की प्रिय वस्तुएं क्या है? तथा बजरंगबली की पूजा किस विधि से करनी चाहिए? आदि के बारे में संपूर्ण जानकारी विस्तार से आपको इस लेख में दी है आशा करते हैं आपको यह लेख पसंद आया होगा हमारे द्वारा दी गई जानकारी धार्मिक मान्यताओं पर आधारित है OSir.in इसकी पुष्टि नहीं करता है.

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन