सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को? जाने सुंदरकांड पढ़ने का सही समय और विधी

सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को : प्रणाम गुरुजनों आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को करें इसके बारे में बताएंगे दोस्तों ऐसा माना जाता है कि सभी देवी देवताओं में हनुमान जी ही एक ऐसे देवता हैं जो हमारे बीच धरती पर मौजूद हैं और यह भगवान यानी कि हनुमान भगवान अपने भक्तों की हर मनोकामना पूर्ण कर देते हैं अगर वह व्यक्ति हनुमान जी की पूर्ण श्रद्धा और सच्चे मन से पूजा करता है.

सुंदरकांड में सुंदर शब्द कितनी बार आया है,, सुंदरकांड का पाठ करने की विधि,, सुंदरकांड का लगातार 21 दिन पाठ करने का नियम,, महिलाओं को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए या नहीं,, शनिवार को सुंदरकांड का पाठ,, सुंदरकांड का रहस्य,, सुंदरकांड की 11 चौपाई,, क्या कृष्ण पक्ष में सुंदरकांड होता है,, सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को,, सुंदरकांड का पाठ करने की विधि,, सुंदरकांड में सुंदर शब्द कितनी बार आया है,, सुंदरकांड का लगातार 41 दिन पाठ करने का नियम,, महिलाओं को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए या नहीं,, शनिवार को सुंदरकांड का पाठ,, हनुमान चालीसा का पाठ कितने दिन करना चाहिए,, सुंदरकांड का रहस्य,, क्या कृष्ण पक्ष में सुंदरकांड होता है,, सुंदरकांड का पाठ कितने बजे करना चाहिए ,, सुंदरकांड पाठ कितने बजे करना चाहिए,, सुंदरकांड का पाठ करने की विधि,, शनिवार को सुंदरकांड का पाठ,, सुंदरकांड में सुंदर शब्द कितनी बार आया है,, सुंदरकांड का पाठ कितने घंटे का होता है,, क्या कृष्ण पक्ष में सुंदरकांड होता है,, सुंदरकांड का रहस्य,, सुंदरकांड की 11 चौपाई,, महिलाएं सुंदरकांड का पाठ कैसे करें,, सुंदरकांड का लगातार 21 दिन पाठ करने का नियम,, सुंदरकांड पाठ के चमत्कार,, sunderkand ke chamatkar,, sunderkand ke chamatkari upay,, sunderkand path ke chamatkar,, sunderkand path ke anubhav,, सुंदरकांड पाठ हिंदी में pdf,, sunderkand ke dohe chaupai,, sunderkand padhne ke kya fayde hain,, sunderkand path ke fayde in hindi,, sunderkand padhne ke labh,, sunderkand ka path karne ke niyam,, sunderkand karne ke niyam,, sunderkand karne ka sahi samay,, sunderkand kitne baje karna chahie,, sunderkand ka path kitne din karna chahie,, sunderkand kitne din karna chahiye,, sunderkand kitne ghante ka hota hai,, sunderkand ka paath youtube,, sunderkand ka paath karo,, sunderkand ka paath mein,, sunderkand ka path kis samay karna chahie,, sunderkand padhne ka sahi samay,, sunderkand ka path kitne baje karna chahiye,, sunderkand ka path kis time karna chahie,, sunderkand ka path chalu karo,, sunderkand ka path suna dijiye,, sunderkand ka path karne ki vidhi,, sunderkand karne ka sahi samay,, sunderkand ka sampurn path sunaiye,, sunderkand ka fayda,, sunderkand padhne ka fayda,, sunderkand ka paath fast,, sunderkand ka path sunaiye sunderkand ka path,, sunderkand dj song,, sunderkand dj sunderkand,, sunderkand dj mein,, sunderkand ka path karne ke labh,, sunderkand ka path karne ke niyam,, sunderkand ka path kb kre,, sunderkand ka sahi samay,, subah ka upay,, sunderkand ka upay,, sunderkand padhne ki vidhi bataen,, sunderkand ka path kis time karna chahiye,, सुंदरकांड का पाठ किस समय करना चाहिए,, sunderkand path karne ka time,, sunderkand ka path kis din karna chahiye,, sunderkand ka path kitne din karna chahiye,,

तो हनुमान भगवान उसकी हर मनोकामना पूर्ण कर देते हैं ऐसा कहा जाता है कि हनुमान जी अपने भक्तों पर बहुत ही जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं इसीलिए आज हम आप लोगों को हनुमान जी के सुंदरकांड के पाठ के बारे में बताएंगे ताकि आप लोग हनुमान भगवान को जल्द ही प्रसन्न कर सके सुंदरकांड में हनुमान जी के द्वारा दिए गए कार्य का संपूर्ण वर्णन किया गया है.

जो कि आज हम आप लोगों को इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे कि सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को अगर आप जानना चाहते हैं कि सुंदरकांड का पाठ लगातार 21 दिन करने से क्या होता है और इसके नियम क्या है इसके अलावा सुंदरकांड से जुड़े अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को अंतत आप जरूर पढ़ें आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं।

सुंदरकांड का पाठ कितने बजे करना चाहिए ? | Sunderkand ka paath kitne baje karna chahiye ?

Give Time

अगर आपको सुंदरकांड का पाठ समूह में करना है तो आपको शाम के समय यानी कि 7 बजे के बाद सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए अगर आप सुंदरकांड का पाठ अकेले में करना चाहते हैं तो आप सुबह के समय स्नान आदि से संपन्न हुई पर सुबह 4 से 6 के बीच में सुंदरकांड का पाठ कर सकते हैं।

सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को | Sunderkand ka path subah karen ya shaam ko

सुंदरकांड

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 736 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

5 टिप्स- लड़की या गर्लफ्रेंड को शादी के लिए कैसे राजी करें / मनाएं ? how to persuade girl or girlfriend to marry in hindi
पार्वती वशीकरण मंत्र : आवश्यक सामग्री जाप और साधना विधि | Parvati Vashikaran mantra

  1. अगर आप सुंदरकांड का पाठ कर रहे हैं तो आपको यह बात जानना आवश्यक है कि सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को अगर आप सुंदरकांड का पाठ अकेले में करना चाहते हैं तो शाम का समय सर्वश्रेष्ठ माना जाता है और यही अकेले में करने की बात आए तो सुंदरकांड का पाठ आप सुबह ब्रह्म मुहूर्त में भी कर सकते हैं 4 से 6 के बीच में आप सुंदरकांड का पाठ अच्छी तरह से कर सकते हैं
  2. अगर आप इस सुंदरकांड का पाठ अपने परिवार जनों के साथ मित्रों के साथ और अन्य लोगों के साथ मिलकर करना चाहते हैं तो आपको इस सुंदरकांड का पाठ शाम को 7 बजे के बाद शुरू करना चाहिए।
  3. सुंदरकांड का पाठ हमेशा पूर्णिमा या फिर अमावस्या के दिन शनिवार और मंगलवार के दिन ही किया जाता है और यह श्रेष्ठ भी माना जाता है।

महिलाओं को सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए या नहीं ?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

महिलाएं भी सुंदरकांड का पाठ कर शक्ति है लेकिन वह महिलाएं सुंदरकांड का पाठ नहीं कर सकती हैं जिनको पीरियड्स की समस्या है।

सुंदरकांड का लगातार 21 दिन पाठ करने का नियम

अगर आप हमारे द्वारा बताए गए सुंदरकांड को लगातार 21 दिन तक करना चाहते हैं तो इन नियमों को नीचे जरूर पढ़ें।

  1. अगर आप सुंदरकांड का पाठ अपनी इच्छा अनुसार 11, 21, 41, 31 दिन तक करना चाहते हैं तो हमारे द्वारा बताए गए इन नियमों का पालन अवश्य करें।
  2. सुंदरकांड का पाठ करने के लिए आपको सबसे पहले हनुमान जी की प्रतिमा को अपने सामने स्थापित कर लेना है उसके बाद आपको किसी शुद्ध आसन पर बैठकर उनकी प्रतिमा को स्नान कराना है उसके बाद ही अन्य कार्य शुरू करना है।
  3. जैसे ही आप हनुमान जी की प्रतिमा को स्थापित कर देते है उसी समय आपको एक शुद्ध देसी घी का दीपक जलाना है।
  4. हनुमान जी के चरणों में 7 पीपल के पत्ते को अर्पित कर देना है।
  5. दीपक जलाने के बाद सुंदरकांड का पाठ शुरू कर देना है अपना लड्डू का भोग जरूर करना हैं।
  6. उसके बाद अपने घर के आस-पास किसी हनुमान मंदिर में जाकर पीपल के पत्ते की माला को चढ़ा देना है।
  7. यह कार्य आपको प्रतिदिन करना होगा।
  8. जैसे ही आप का अनुष्ठान पूरा हो जाता है उसके पश्चात आप हवन आदि जरूर करवाएं।
  9. आपको इस प्रक्रिया को लगातार 21 दिन तक करना है और इस प्रक्रिया में एक भी दिन त्रुटि नहीं होनी चाहिए।
  10. सुंदरकांड का पाठ समाप्त होने के बाद अगर आप हनुमान चालीसा का पाठ करें तो आपको अधिक लाभ होता है और इससे धन की प्राप्ति भी होती है।

सुंदरकांड पाठ के चमत्कार | Sunderkand path ke chamatkar

सुंदरकांड

  1. सुंदरकांड के कुछ ऐसे चमत्कार बताए गए हैं जोकि आपको चौंका देने वाले हैं।
  2. अगर आप मंगलवार या फिर शनिवार को सुंदरकांड का पाठ करते हैं तो आपके घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा बाहर हो जाती है।
  3. अगर आप अपने शत्रु के भय से मुक्त होना चाहते हैं तो सुंदरकांड का पाठ अवश्य करें ।
  4. भूत , प्रेत , पिचास आदि को भगाना चाहते हैं तो सुंदरकांड का पाठ करना उचित होता है सुंदरकांड के पाठ से बुरी आत्माएं दूर हो जाती है।
  5. सुंदरकांड का पाठ करने वाले व्यक्ति को शक्ति तथा बल प्राप्त होता है।

FAQ : सुंदरकांड का पाठ कब और कैसे करे ?

सुंदरकांड का पाठ कैसे शुरू करें ?

अगर आप सुंदरकांड का पाठ कर रहे हैं तो आपको उसे शुरू करने से पहले स्वच्छता का विशेष ध्यान रखना है सुंदरकांड का पाठ शुरू करने से पहले जिस स्थान पर आप सुंदरकांड का पाठ करना चाहते हैं उस स्थान को साफ सुथरा करने और हनुमान जी की मूर्ति की विशेष रूप से पूजा करें साथ ही सीता राम की मूर्ति की भी पूजा करें हनुमान जी उनके पास में जरूर रहे और हनुमान जी की पूजा फूल माला मिठाई और सिंदूर से करें।  

सुंदरकांड का पाठ कितने दिन तक करना चाहिए?

सुंदरकांड का पाठ आपको मंगलवार के दिन करना चाहिए ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति सुंदरकांड का पाठ श्रद्धा पूर्वक करता है उसकी सारी मनोकामनाएं पूर्ण हो आइए जानते हैं सुंदरकांड के सोपान में 3 श्लोक, 02 छन्द, 58 चौपाई , 60 दोहे है और लगभग 6241 शब्द होते हैं।

सुंदरकांड पढ़ने का सही समय क्या है?

अगर आप सुंदरकांड का पाठ अकेले करना था ब्रह्म मुहूर्त में यानी कि 4 से 6 के बीच मैं सुंदरकांड का पाठ करना शुभ होता है यदि आप समूह में सुंदरकांड का पाठ करना चाहते शाम के 7बजे के बाद सुंदरकांड का पाठ कर सकते हैं सुंदरकांड का पाठ शनिवार मंगलवार पूर्णिमा अमावस्या को करना श्रेष्ठ माना जाता है।

निष्कर्ष

दोस्तों आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को तथा सुंदरकांड का लगातार 21 दिन तक पाठ करने के नियम बताएं हैं इसके अलावा सुंदरकांड से जुड़े अन्य टॉपिक से संबंधित जानकारी देने का प्रयास किया है हम उम्मीद करते हैं कि आज का हमारा यह लेख आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा

osir news

हम आशा करते हैं कि आपको हमारा यह सुंदरकांड का पाठ सुबह करें या शाम को अच्छा लगा होगा धन्यवाद।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

सपने में गुरु को देखना ज्ञान,आशीर्वाद देते या गुस्से में देखना | Sapne me guru ko dekhna : सपने में गुरु को देखने का मतलब स्वप्न अर्थ
पीपल का पेड़ घर में क्यों नहीं लगाना चाहिए? Ghar me peepal ka ped subh ya asubh ?
बंद कारोबार खोलने के अचूक उपाय और मंत्र जाने ! band karobar kholne ka wazifa ?
(सच) जादू सीखाने का स्कूल कंहा है ? , यंहा कर सकते है जादूगर या चुडैल बनने की पढाई ! A real school of magic,you can study to become a magician in hindi
कामरु देश कंहा है और कामरु देश का जादू कैसे सीखे | कामरु देश का जादू
★ सम्बंधित लेख ★