16 सोमवार व्रत के फायदे और नियम एवं सम्पूर्ण 16 सोमवार व्रत विधि | 16 somvar vrat ke fayde

16 सोमवार व्रत के फायदे | 16 somvar vrat ke fayde : हेलो दोस्तो नमस्कार स्वागत है आपका हमारे आज के इस नए लेख में आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से 16 सोमवार व्रत के फायदे के बारे में बताने वाले हैं जब भी कोई भी व्यक्ति सोमवार का व्रत करना शुरू करता है तब सोलह सोमवार का व्रत करने की सलाह हमेशा दी जाती है.



, 16 सोमवार व्रत के फायदे marathi, 16 somvar vrat ke fayde in hindi, 16 सोमवार व्रत के नियम, 16 सोमवार व्रत का मंत्र, 16 सोमवार व्रत की पूजा विधि, 16 Somwar Vrat ki Puja Vidhi, 16 Somwar Vrat ka Mantra, 16 somvar ke fayde, 16 somvar vrat ke fayde, 16 somvar vrat karne ke fayde, 16 सोमवार व्रत में क्या खाना चाहिए, 16 somvar vrat fayde, 16 somvar vrat rakhne ke fayde, 16 somvar vrat information in marathi, importance of 16 somvar vrat, 16 somvar ke vrat me kya khana chahiye, 16 somvar ke vrat mein kya khana chahie, 16 सोमवार व्रत विधि नियम, 16 सोमवार व्रत विधि नियम marathi, 16 सोमवार व्रत नियम मराठी, 16 सोमवार व्रत नियम, 16 somvar vrat ke niyam in hindi, 16 somvar vrat niyam in marathi, solah somvar karne ke fayde, 16 somvar benefits, 16 somvar vrat benefits, 16 somvar vrat food rules, 16 somvar vrat in english, कुंवारी लड़कियां सोमवार का व्रत क्यों करती है, Kunwari ladkiyan Somwar ka Vrat Kyon Karti Hai

ऐसा कहा जाता है कि अगर आप विधि विधान पूर्वक सोलह सोमवार व्रत करते हैं तो भगवान शिव आप से अति प्रसन्न हो जाते हैं और वह अपने भक्तों को मनचाहा वरदान देते हैं शास्त्रों के मुताबिक ऐसा कहा गया है कि सोलह सोमवार का व्रत परिवार में सुख शांति के लिए रखा जाता है.

महिलाएं इस व्रत को रखती हैं कुछ वारी कन्याए भी अपने मनचाहे वर की प्राप्ति के लिए इस व्रत को रखती हैं इसलिए आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से 16 सोमवार व्रत के फायदे तथा सोलह सोमवार व्रत के नियम तथा उसके बारे में अन्य जानकारी देने वाले हैं.

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

इसीलिए आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें ताकि आप लोगों को 16 सोमवार व्रत के फायदों के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके.

16 सोमवार व्रत के फायदे | 16 somvar vrat ke fayde 

shivling


 

आज हम आप लोगों को 16 सोमवार व्रत के फायदे के बारे में जानकारी देंगे .

  1. ऐसा कहा जाता है कि जो भी महिला और कन्या 16 सोमवार व्रत को करती हैं उसके परिवार में सुख शांति हमेशा बनी रहती है.
  2. ऐसा कहा जाता है कि अगर आपके घर की आर्थिक स्थिति कमजोर है या फिर यूं कहें कि खराब है तो ऐसे में आपको 16 सोमवार व्रत को अवश्य करना चाहिए.
  3. शास्त्रों के मुताबिक ऐसा कहा जाता है कि 16 सोमवार व्रत को करने से संतान प्राप्ति की मनोकामना पूर्ण हो जाती है.
  4. 16 सोमवार व्रत को करने से समाज में सामाजिक प्रतिष्ठा की प्राप्ति होती है.
  5. शास्त्रों और कई पंडितों का ऐसा मानना है कि श्रद्धा पूर्वक और विश्वास के साथ सोलह सोमवार व्रत को करने से सभी प्रकार की इच्छाएं पूर्ण हो जाती है.
  6. 16 सोमवार व्रत को करने से दंपति के बीच में सुख – शांति हमेशा बनी रहती है.
  7. ऐसा माना जाता है कि अगर आप किसी भी बीमारी से अधिक पीड़ित हैं वह बीमारी लंबे समय से आपको परेशान कर रही हैं तो ऐसे में आपको उस बीमारी से छुटकारा पाने के लिए 16 सोमवार व्रत को करना चाहिए.
  8. महिलाएं अपने परिवार की सुख शांति के लिए अपने पति की लंबी उम्र के लिए सोलह सोमवार व्रत को करती हैं इसके अलावा कुंवारी कन्याओं को भी मनचाहे वर की प्राप्ति के लिए उन्हें भी 16 सोमवार व्रत को करना चाहिए.
  9. भोलेनाथ की कृपा से सोलह सोमवार का व्रत करने से हमें भगवान शिव का आशीर्वाद मिलता है और उसके साथ अच्छे वर की प्राप्ति होती है.

16 सोमवार व्रत का मंत्र | 16 Somwar Vrat ka Mantra

shiv rudrabhishek mantra

अगर कोई भी व्यक्ति सोलह सोमवार व्रत को करना चाहता है तो उसके लिए उस व्यक्ति को सबसे पहले सोलह सोमवार व्रत का संकल्प लेना चाहिए व्रत का संकल्प लेने के लिए अपने हाथों में पान का पत्ता, सुपारी, जल, अक्षत और कुछ सिक्के लेकर भगवान शिव के इस मंत्र का आवाहन करना है.

ॐ शिवशंकरमीशानं द्वादशार्द्धं त्रिलोचनम्।

उमासहितं देवं शिवं आवाहयाम्यहम्॥

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

अगर आप भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करना चाहते हैं तो उसके लिए सोलह सोमवार का पूजन प्रदोष काल में करें।

16 सोमवार व्रत की पूजा विधि | 16 Somwar Vrat ki Puja Vidhi

shiv rudrabhishek mantra

अगर आप में से कोई भी व्यक्ति सोलह सोमवार व्रत की पूजा विधि के बारे में संपूर्ण जानकारी चाहता है तो नीचे दिए गए बिंदुओं को अवश्य पढ़ें.

  1. अगर कोई भी व्यक्ति सोलह सोमवार व्रत को करना चाहता है तो सावन के महीने में सोमवार के दिन आपको आसमान आदित्य निश्चिंत होने के शुद्ध वस्त्र धारण करने हैं.
  2. यदि आपके पास हल्के रंग के कपड़े यानी कि सफेद रंग के कपड़े हो तो आप अवश्य पहने क्योंकि सफेद रंग भोलेनाथ को अत्यंत प्रिय है.
  3. अब आपको अपने हाथों में फूल लेकर भगवान शिव को समर्पित कर देना है.
  4. उसके बाद आपको हाथ धो लेना है और बेलपत्र को अपने हाथ में लेकर व्रत का संकल्प लेना है.
  5. उसके पश्चात अपने हाथों में बेलपत्र लेकर अपनी मनोकामना का संकल्प लें और व्रत का संकल्प लें उसके बाद नियमित रूप से 16 सोमवार तक पूजा और व्रत करें.
  6. अब आपको सबसे पहले हाथ में जल , अक्षत ,पान का पत्ता, सुपारी एक सिक्का लेकर भगवान शिव के मंत्र – ॐ  शिवशंकरमीशानं द्वादशार्द्धं त्रिलोचनम्। उमासहितं देवं शिवं आवाहयाम्यहम्॥ का जाप करते हुए संकल्प लेना है.
  7. सोमवार व्रत को प्रदोष काल में करना है.
  8. भगवान शिव को ओम नमः शिवाय मंत्र का जाप करते हुए पंचामृत अर्पित करें.
  9. अगर आप चाहे तो मिट्टी की शिवलिंग बनाकर शमी के पेड़ के गमले में रखकर उस पर प्रतिदिन जल चढ़ा सकते हैं.
  10. लेकिन आपको शिवलिंग बनाने से पहले इस बात का विशेष ध्यान रखना है कि शिवलिंग अंगूठे के पैरों के बराबर मोती होनी चाहिए उस शिवलिंग को घर के अंदर नहीं रखना चाहिए.

16 सोमवार व्रत के नियम | 16 Somwar Vrat ke Niyam

Shiv

आज हम आप लोगों को सोलह सोमवार व्रत के नियम के बारे में नीचे जानकारी देंगे.

  1. अगर आप में से कोई भी व्यक्ति सोलह सोमवार व्रत को करना चाहता है तो उसके लिए आपको सबसे पहले व्रत वाले दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान वाले पानी में थोड़े से काले तिल डालकर स्नान करना है.
  2. सोलह सोमवार व्रत को शुरू करने से पहले इसे श्रावण मास के साथ चैत्र , मार्गशीर्ष और वैशाख मास के पहले सोमवार से शुरू करना चाहिए.
  3. उसके बाद भगवान सूर्य के लिए जल में हल्दी का मिश्रित बनाकर अर्पित करना है.
  4. सोमवार व्रत करने के बाद जितने भी विवाहित जोड़े होते हैं उन्हें अपनी क्षमता के अनुसार उपहार देना चाहिए जैसे कि मिठाई, वस्त्र, फल आदि चीजें आप दान कर सकते हैं.
  5. उसके बाद शुद्ध जल से शिवलिंग का अभिषेक करना है साथ में उस जल में शहद ,दही ,दूध आदि भी मिला लेना है.
  6. उसके बाद भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा करनी है और उसके साथ सोमवार व्रत की कथा करनी है.
  7. उसके बाद भगवान शंकर और माता पार्वती की आरती करनी है और उन्हें भोग लगाना है.
  8. जिस दिन आप सोलह सोमवार व्रत को रखते हैं उस दिन व्रत के समय शयन करने से बचना है.
  9. हर सोमवार के दिन पूजा का समय निश्चित रखना है.
  10. सोलह सोमवार व्रत में ब्रह्मचर्य के नियमों का पालन करना चाहिए.
  11. अभिषेक करते समय महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना है.
  12. सोलह सोमवार के व्रत में आपको प्रसाद पहले ही सोमवार के दिन बना कर रख लेना चाहिए और वही प्रसाद सोलह सोमवार तक नियमित रूप से चलाएं प्रसाद में आपको कोई भी बदलाव नहीं करना है.
  13. 16 सोमवार व्रत वाले दिन आपको नमक सहित भोजन ग्रहण करना है.
  14. उसके बाद अब आपको व्रत के दिन तांबे के पात्र में शिवलिंग की मूर्ति स्थापित करनी है.

कुंवारी लड़कियां सोमवार का व्रत क्यों करती है ? | Kunwari ladkiyan Somwar ka Vrat Kyon Karti Hai ?

जिस प्रकार अविवाहित लड़कियां मनचाहे वर की प्राप्ति के लिए 16 सोमवार या सोमवार व्रत को करती हैं उसी प्रकार शास्त्रों के मुताबिक ऐसा मानना है कि सोमवार का व्रत करने से कुंवारी कन्याओं को मनचाहे वर की प्राप्ति होती है इसीलिए कुंवारी लड़कियां सोमवार का व्रत रखती है.

FAQ : 16 सोमवार व्रत के फायदे

16 सोमवार व्रत क्यों रखा जाता है?

मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि देवी पार्वती ने जब महादेव को पाने के लिए सोलह सोमवार व्रत को शुरू किया था तो सती ने दूसरे रूप मैं माता पार्वती का जन्म लिया था हर जन्म में भोलेनाथ को अपना पति मानने का प्रण किया था इसीलिए सोलह सोमवार व्रत को किया जाता है और सोलह सोमवार का व्रत रखना कठिन तपस्या से होता है और हर बार भगवान शिव को पुनः प्राप्त किया गया था.

16 सोमवार के व्रत कितने करने चाहिए?

मान्यताओं के अनुसार सोलह सोमवार तक सोलह सोमवार का व्रत करना चाहिए लगातार 16 दिन तक भगवान शिव के साथ माता पार्वती की पूजा करनी चाहिए और उसी से आपको भगवान शिव के साथ माता पार्वती का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है.

हम सोमवार का व्रत कब तोड़ सकते हैं?

मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा गया है कि सोमवार के दिन व्रत करने वाला पर्याप्त उपवास कर सकता है उसके बाद दोपहर के समय वह एक बार भोजन कर सकता है और उस व्रत में साबूदाना खिचड़ी या फल ही खा सकता है.

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से 16 सोमवार व्रत के फायदे के बारे में जानकारी दी इसके अलावा उसके साथ सोलह सोमवार व्रत के नियम क्या है सोलह सोमवार व्रत की पूजा विधि क्या है कुंवारी लड़कियां सोमवार का व्रत क्यों रखती हैं.

इन सारे विषयों के बारे में विस्तार से जानकारी दिए अगर आपने हमारे इस लेख को अच्छे से पढ़ा है तो आपको इन सारे विषयों के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित हुई होगी

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन