विज्ञापन क्या है : विज्ञापन की परिभाषा, महत्व और प्रकार | अच्छे लाभ के लिए विज्ञापन कैसे करे : Advertisement kya hai

Vigyapan kya hai aur iska kya mahatva hai ? दोस्तों, इस पृथ्वी पर जिस प्रकार से हर एक इंसान वायु यानी हवा से गिरा हुआ है उसी तरह से वर्तमान समय में हर एक व्यक्ति विज्ञापन से भी गिरा हुआ है । जिस प्रकार से हमें जीवन जीने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है ठीक उसी तरह से किसी भी कंपनी या बिजनेस को विज्ञापन की जरूरत पड़ती है बिना विज्ञापन के आज की इस दुनिया को सोचा ही नहीं जा सकता ।

vigyapan kya hai

सुबह होने के साथ ही हम चाय की चुस्की लेने के साथ-साथ समाचार पत्र या फिर किसी दूसरे माध्यम के जरिये विज्ञापन (प्रचार) को देख रहे होते हैं । जब भी आप अपने किसी पसंदीदा टीवी सीरियल या फिल्म को देखते हैं तो उसके बीच में कुछ देर का ऐड (विज्ञापन ) दिखाया जाता है । आखिर यह ऐड क्या होता है, आज के इस लेख में मैं आपको बताऊंगा कि विज्ञापन क्या है इसकी आवश्यकता हमें क्यों पड़ती है इसके क्या महत्व है और यह कितनी तरह के होते हैं ।

विज्ञापन का नाम सुनते ही आपके दिमाग में एक सतरंगी दुनिया दिखाई देने लगती होगी जाहिर सी बात है क्योंकि आज हम सभी चारों तरफ किसी न किसी कंपनी, बिजनेस चाहे छोटा हो या बड़ा उनके विज्ञापन हर तरफ देखने को मिलते हैं। एक सर्वे के अनुसार कोई भी सामान्य व्यक्ति 1 दिन में लगभग 5000 से भी ज्यादा एडवरटाइजिंग मैसेज को देखता और पढ़ता है ।

विज्ञापन क्या है ? | Advertisement kya hai

विज्ञापन यानी प्रचार को व्यवसायिक तौर पर अगर हम समझना चाहे तो यह कह सकते हैं कि ग्राहकों को अपनी वस्तु के बारे में जानकारी देकर उसे अपनी ओर आकर्षित करना ही विज्ञापन कहलाता है। विज्ञापन ( प्रचार )को अगर आसान भाषा में समझे तो यह कह सकते हैं कि दुकानदार द्वारा अपनी किसी भी वस्तु के बारे में ग्राहक को जानकारी देकर उस वस्तु को खरीदने के लिए प्रोत्साहित करना ही विज्ञापन कहलाता है ।

विज्ञापन के जरिए वस्तुओं, सेवाओं और विचारों को काफी ज्यादा बढ़ावा मिलता है। आजकल पूरी दुनिया में वस्तुओं और उनसे संबंधित जानकारी देने का महत्व बढ़ता ही जा रहा है। वर्तमान समय में सोशल मीडिया होने की वजह से किसी भी वस्तु का प्रचार करना बड़ा ही आसान हो गया है । आप अपनी किसी भी विज्ञापन को कुछ ही समय में लोगों तक पहुंचा सकते हैं ।

advertise vigyapan prachar


बहुत से देशों में विज्ञापन मीडिया का सबसे बड़ा आय स्रोत होता है जैसे कि समाचार पत्र , पत्रिकाएं, रेडियो , इंटरनेट ,प्रेस और कई बार तो लोगों के माध्यम से भी विज्ञापन कराया जाता है ।

अंग्रेजी में विज्ञापन को ‘Advertising’ शब्द से जाना जाता है। Advertising शब्द लैटिन शब्द के ‘Advertere’ से बना है जिसका अर्थ है ‘मस्तिष्क का केन्द्रीभूत होना’ । सरल शब्दों में कहे तो “मस्तिष्क को प्रभावित करना या किसी विशेष वस्तु या व्यक्ति विशेष के प्रति ग्राहक ( उपभोक्ता) के मस्तिष्क को आकर्षित करने का प्रयास करना ही विज्ञापन या प्रचार कहलाता है।”

विज्ञापन ‘वि’और ‘ज्ञापन’ इन दो शब्दों से मिलकर बना है। ‘वि’ का अर्थ ‘विशेष’ तथा ‘ज्ञापन’ का आशय ‘ज्ञान कराना’ या सूचना देना है। इस प्रकार ‘विज्ञापन’ शब्द का शाब्दिक अर्थ है कि “ किसी वस्तु या विचार (बात ) की विशेष जानकारी अथवा सूचना देना।”

विज्ञापन की क्या परिभाषा है ? | Definition of advertising

1. डॉ अर्जुन तिवारी के अनुसार 

विज्ञापन मनमोहनी विक्रय (बेचने) की कला है । जो विलासिता की वस्तु को आवश्यक बनाती है ।

2. डॉ. एम. बाउस के अनुसार 

एक सीधी कार्यवाही को उकसाने के उद्देश्य से किसी संचार माध्यम में समय या स्थान की खरीद का नाम विज्ञापन हैं।

3. रामचंद्र वर्मा के अनुसार 

जिसके जरिये कई लोगों तक महत्वपूर्ण बातों को पहुंचाया जाये जैसे- सूचना पत्र, समाचार पत्र पैम्पलेट, बिक्री आदि के माध्यम से जो सूचना लोगों तक पहुंचाई जाती है उसे ही विज्ञापन कहते हैं।

4. रोजर रीवज के अनुसार

विज्ञापन एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के दिमाग में एक विचार को स्थानांतरित ( transfer) करने की कला है ।

5. जेम्स ए लिटिलफिल्ड

विज्ञापन सूचना का जन-संचार हैं। जिसका उद्देश्य ग्राहकों को समझाना व जीतना होता है ताकि विज्ञापनकर्ता को अधिक से अधिक लाभ मिल सके ।

विज्ञापन का क्या महत्व है ? Importance of advertising

vigyapan advertise

विज्ञापन के जरिए ग्राहक और वस्तु को आपस में जोड़ने का प्रयास किया जाता है। विज्ञापन के महत्व को हम निम्नलिखित बिंदुओं के माध्यम से समझ सकते हैं –

1. नए वस्तु की जानकारी देना 

आज के समय में आए दिन कोई ना कोई नई चीज बनती है कोई ना कोई नया उत्पाद(product) बनाया जाता है । विज्ञापन के जरिए इन नए उत्पाद की जानकारी लोगों तक पहुंचाई जाती है, जैसे कि समाचार पत्र, पत्रिकाएं आज के दौर में सोशल मीडिया , टेलीविज़न इन सब के माध्यम से लोगों तक किसी भी वस्तु या विचार को पहुंचाया जाता है। साथ ही उसके बारे में और भी जानकारियां जैसे की गुण दोष इन सब के बारे में भी बताया जाता है।

2. विक्रेता को लाभ 

विज्ञापन के जरिए से केवल वस्तु को खरीदने वाले ग्राहक को ही नहीं लाभ होता बल्कि वस्तु को बेचने वाले दुकानदार को भी लाभ मिलता है ।
विज्ञापन के होने की वजह से बार-बार किसी भी वस्तु के बारे में दुकानदार को समझाना नहीं पड़ता है और उसे सामान बेचने में आसानी हो जाती है । इस तरह से खरीदने वाले और बेचने वाले दोनों को लाभ मिलता है ।

3. बाजार का निर्माण 

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

विज्ञापन के माध्यम से नई वस्तु की जानकारी और उसकी उपयोगिता के बारे में लोगों को बताया जाता है जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग उस वस्तु के प्रति आकर्षित होते हैं और उसे अपने उपयोगिता में लाते हैं। इस प्रकार से ज्यादा से ज्यादा लोग वस्तु का इस्तेमाल करने लगते हैं और बाजार का निर्माण होता है।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 808 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

Typhoid ke lakshan : टाइफाइड होने के करण व 10 लक्षण | टाइफाइड क्या है क्यों होता है डिटेल जानकारी pdf
बहुत सी लड़कीयों के व्हाट्सएप नंबर की लिस्ट : फ्री टाइम गर्ल्स | ladki ka whatsapp number

इसको हम उदाहरण के माध्यम से समझ सकते हैं जैसे पहले की समय में किसी विशेष जगह पर विशेष दिन बाजार यानी हाट लगती थी लेकिन आज के समय में आप कहीं भी चले जाइए हर जगह बाजार देखने को मिलती है यह सब विज्ञापन के जरिए ही संभव हुआ है।

4. राष्ट्र हित के लिए 

विज्ञापन राष्ट्र हित के लिए भी कम योगदान नहीं देता है। विज्ञापन उत्पादन (productivity) के प्रति लोगों को जागरूक बनाता है जिससे देश की अर्थव्यवस्था के विकास में सहयोग मिलता है। राष्ट्रीय सुरक्षा के मामले, अंतरराष्ट्रीय समझौते, आर्थिक, सामाजिक, राजनैतिक और ऐतिहासिक मुद्दों को विज्ञापनों के द्वारा जनता के बीच आसानी के साथ पहुंचाया जाता है।

5. जीवन के स्तर को ऊंचा करने में सहायक 

विज्ञापन के माध्यम से हमारे समाज के स्तर को ऊंचा उठाया गया है। जैसे कि सर्वशिक्षा अभियान , नारी सशक्तिकरण और भी ऐसे बहुत से अभियान चलाए गए हैं जो विज्ञापन के माध्यम से लोगों तक पहुंचाएं गए हैं और इन विज्ञापनों के जरिए हमारे समाज में एक बहुत बड़ा सकारात्मक बदलाव देखने को मिला है ।

विज्ञापन के कौन कौन से माध्यम हैं ?

विज्ञापन को लोगों तक पहुंचाने के लिए अनेक प्रकार के माध्यमों का उपयोग किया जाता है जिनमें से कुछ नीचे दिए गए हैं –

1. समाचार पत्र 

समाचार पत्र विज्ञापन का काफी जाना माना माध्यम है । बीसवीं सदी की शुरुआत में यह विज्ञापन का सबसे लोकप्रिय माध्यम था । आज के समय में भी काफी हद तक यह पसंद किया जाता है । समाचार पत्र में शादी विवाह , देश विदेश के समाचार बिजनेस , नौकरी आदि से संबंधित विज्ञापन दिए जाते हैं । वर्तमान समय में इंटरनेट के होने की वजह से समाचार पत्र का प्रचलन धीरे-धीरे कम होता जा रहा है ।

2. रेडियो 

radio

रेडियो का प्रचलन भी लगभग समाप्त ही हो गया है लेकिन एक समय में रेडियो भी काफी लोकप्रिय विज्ञापन का माध्यम रहा है। इसमें आप विज्ञापन को देख नहीं सकते सिर्फ सुन सकते हैं जिसे कारण यह इतना प्रभावी माध्यम नहीं रह गया है ।

3. टेलीविजन

वर्तमान समय में आप किसी भी घर में चले जाएं तो आपको टेलीविजन जरूर से जरूर मिलेगा। शायद ही कोई ऐसा घर बचा हो जहां टेलीविजन ना हो । टेलीविजन में किसी भी विज्ञापन को बहुत ही कम समय में ज्यादा लोगों तक पहुंचाया जाता सकता है ।टेलीविजन पर विज्ञापन दिखाने का काफी महंगा चार्ज होता है लेकिन यह बहुत ही प्रभावी विज्ञापन का माध्यम है क्योंकि इसमें आप विज्ञापन को देखने के साथ-साथ सुन भी सकते हैं।

4. ऑनलाइन विज्ञापन 

ऑनलाइन विज्ञापन को डिजिटल विज्ञापन भी कहा जाता है इसमें इंटरनेट के जरिए विज्ञापन को दिखाया जाता है। विज्ञापन को दिखाने के लिए फेसबुक एड्स , गूगल एड्स यूट्यूब एड्स और भी बहुत तरह के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का प्रयोग किया जाता है। पिछले दो-तीन सालों में डिजिटल विज्ञापन बहुत ही ज्यादा लोकप्रिय हो गया है और यह विज्ञापन का सबसे तेज माध्यम माना जाता है । और इसका महत्व आने वाले समय में बढ़ता ही जा रहा है।

5. दुकान 

stationery ki shop kaise khole stationery saman ki list stationery items list in hindi stationery shop name in hindi stationery shop how to open stationery business ideas budget to open a stationery shop in india stationery items in hindi stationery shop in hindi

ऐसे विज्ञापन जो दुकानों के अंदर किए जाते हैं उन्हें दुकान विज्ञापन कहते हैं । इस विज्ञापन में किसी भी कंपनी का डिस्ट्रीब्यूटर अपने प्रोडक्ट्स को दुकानों पर लेकर जाता है और उसका प्रचार प्रसार करता है ।

विज्ञापन कितने प्रकार के होते हैं ?

विज्ञापन कई प्रकार के होते हैं इनकी कोई निश्चित संख्या नहीं है।

  • वर्गीकृत विज्ञापन
  • सजावटी विज्ञापन
  • समाचार सूचना
  • उपभोक्ता विज्ञापन
  • औद्योगिक विज्ञापन
  • वित्तीय ज्ञापन
  • व्यापारिक विज्ञापन
  • कृषि संबंधी विज्ञापन
  • शिक्षाप्रद संबंधी विज्ञापन
  • स्थानीय विज्ञापन
  • राष्ट्रीय विज्ञापन
  • अंतर्राष्ट्रीय विज्ञापन

विज्ञापन के क्या लाभ हैं ?

hand labh money

  • विज्ञापन के माध्यम से किसी भी वस्तु को लोगों तक पहुंचाने में मदद मिलती है और उनके उपयोग के बारे में लोगों को आसानी से बताया जा सकता है।
  • विज्ञापन के माध्यम से ही अलग-अलग वस्तुओं के दुकानदार बिना कहीं जाए ग्राहक से संपर्क कर पाते हैं।
  • विज्ञापन नए बाजारों में जाके और नए ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करके वस्तुओं की बिक्री बढ़ाने में सहायता करता है।
  • डिजाइनिंग, लेखन, और विज्ञापन जारी करने वाले व्यक्तियों को विज्ञापन रोजगार प्रदान करता है जिससे हमारे देश की बेरोजगारी कम होने में कुछ ना कुछ सहायता तो मिलती ही है ।
  • विज्ञापन के द्वारा आज के समय में टेलीविजन हमारी दैनिक आवश्यकता का महत्वपूर्ण साधन बन गया है ।

विज्ञापन से क्या नुकसान हैं ?

loss nuksan

osir news
  • एक तरफ विज्ञापन से जहां हमें कई तरह के लाभ मिलते हैं वही दूसरी तरफ विज्ञापन से कई प्रकार के नुकसान भी होते हैं।
  • कई बार ऐसा होता है कि विज्ञापन के जरिए लोगों से पैसे लेने की या पैसे ठगने की कोशिश की जाती है ।
  • कुछ लोग विज्ञापन को उपयोगी नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि जो वस्तु अच्छी होती है उसे विज्ञापन की जरूरत नहीं पड़ती और जो वस्तु अच्छी नहीं होती है उन्हें ही विज्ञापन के जरिए लोगों को खरीदने के लिए प्रेरित किया जाता है।
  • कभी-कभी ऐसा होता है कि जिन उत्पाद, घरेलू सामान, या दवाइयों का विज्ञापन किया जाता है वह नकली होती हैं और यदि कोई व्यक्ति उन्हें खरीद ले तो उससे नुकसान हो सकता है ।

निष्कर्ष

दोस्तों आज के इस लेख में मैंने आपको बताया कि विज्ञापन क्या है, इसके क्या महत्त्व हैं, यह कितने प्रकार का होता हैं, इसके लाभ और हानि आदि विषयों के ऊपर हमने चर्चा की  है. उम्मीद करता हूँ, कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा और इससे आपको कुछ न कुछ जानकारी जरुर मिली होगी. ऐसी ही जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहिये.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

भविष्य जानने की कला कैसे सीखे – भविष्य देखना सीखे
धनु राशि 2023 : कैरियर,रिलेशन,प्यार और भविष्यफल | धनु राशि वालों के लिए वार्षिक राशिफल 2023 : Dhanu rashifal 2023
सपने में गुरु को देखना ज्ञान,आशीर्वाद देते या गुस्से में देखना | Sapne me guru ko dekhna : सपने में गुरु को देखने का मतलब स्वप्न अर्थ
सब कुछ जाने प्यार में क्या क्या होता है ? प्यार के 10 लक्षण | Pyar me kya kya hota hai
जाने वशीकरण के 21 आसान टोटके : वशीकरण के टोटके | vashikaran ke totke
★ सम्बंधित लेख ★