अग्नि प्रज्वलित करने का मंत्र क्या है जाने | Agni prajwalan mantra in hindi

Agni prakat karne ka mantra kya hai ? पहले के समय में जब ना तो लाइटर था ना ही माचिस थी,तो भी अग्नि का इस्तेमाल किया जाता था|यह आज तक रहस्य बना हुआ है कि, पहले के लोग आग जलाने के लिए क्या करते थे|कई लोगों का कहना है कि, पहले के समय में आग जलाने के लिए मंत्रों का इस्तेमाल किया जाता था  |

अग्नि प्रकट कैसे करे

अगर हिंदू धर्म के शास्त्रों के अनुसार देखा जाए,तो यह बात बिल्कुल सही है| पहले के समय में आग जलाने के ऐसे कई मंत्र होते थे,जिन्हें पढ़ने के बाद अपने आप अग्नि प्रज्ज्वलित हो जाती थी, जिसका इस्तेमाल अलग-अलग कामों को करने के लिए किया जाता था| खासतौर पर तो हवन करने के लिए मंत्रों के द्वारा अग्नि प्रकट की जाती थी| हमारे हिंदू धर्म में अग्नि देवता का वर्णन है, जिन्हें आग का देवता कहा जाता है|

हिंदू धर्म में ऐसे कई पावरफुल मंत्रों का उल्लेख किया गया है, जिसका इस्तेमाल करके अग्नि प्रकट की जा सकती है| जो लोग लंबे समय से आग जलाने का मंत्र के बारे में इंटरनेट पर जानकारी ढूंढ रहे थे, उनकी यह कोशिश हमारे इस आर्टिकल पर खत्म हो जाएगी, क्योंकि इस आर्टिकल में हम आपको अग्नि प्रकट करने का मंत्र बताने वाले हैं, आइए जानते हैं अग्नि प्रकट करने का मंत्र कौन सा होगा |

अग्नि प्रकट कैसे करे ? How to make fire appear

agni prakat mantra

हम आपको अग्नि प्रकट करने का जो मंत्र बताने वाले हैं, इस मंत्र को आप को सिद्ध करना पड़ेगा| इसीलिए आपको सबसे पहले यह निश्चय कर लेना है कि आपको इस मंत्र की सिद्धि को बीच रास्ते में ही नहीं छोड़ देना है, वरना आपको नुकसान हो सकता है| आपको सबसे पहले यह निश्चय करना है कि, आप इस साधना को पूरा कर पाएंगे या नहीं, उसके बाद ही आगे बढ़े|

अग्नि प्रकट करने की साधना क्या है ? Sadhana of Fire Appear

अग्नि प्रकट करने का जो मंत्र हम आपको दे रहे हैं, उसे आपको सिद्ध करना होगा| इसकी सिद्धि करने के लिए आपको अमावस की रात को किसी भी पवित्र जगह पर बैठकर ब्रह्म देवताओं की तस्वीर या फिर अग्नि देवता की तस्वीर अपने सामने रखनी है और उसके बाद आपको दिए गए मंत्र का 11 लाख बार जाप करना है|

agni sadhna

इस विधि को आपको रात को 12:00 बजे के बाद करना है| 11 लाख बार जप पूरा होने से यह मंत्र सिद्ध हो जाता है| उसके बाद आप जब कभी भी चाहे इस मंत्र का इस्तेमाल करके अग्निकुंड में अग्नि को प्रकट कर सकते हैं|

अग्नि प्रकट मंत्र की साधना विधि के नियम क्या हैं ? Rules of Agni Sadhana mantra

सबसे पहले आप जिस भी जगह पर या फिर जिस भी स्थान पर बैठकर इस साधना को करेंगे,वहां पर कोई अन्य व्यक्ति को नहीं आना है ना ही आपको कोई डिस्टर्ब करें| मंत्र जाप के दरमियान अगर कोई आपको डिस्टर्ब करता है और आप डिस्टर्ब हो जाते हैं, तो आपकी साधना असफल हो जाती हैं|

इसीलिए इस बात का ध्यान रखें|जहां पर भी बैठ कर आप इस साधना को करें,उस जगह को आपको गंगाजल का छिड़काव कर के पवित्र कर लेना है| हमारे हिंदू धर्म के धर्म शास्त्रों में ऐसा कहा गया है कि अग्नि प्रकट करने का मंत्र का 1100000 बार जप करने से यह मंत्र सिद्ध हो जाता है, साथ ही आपको ब्राह्म देवता की या फिर अग्नि देवता की कृपा भी प्राप्त होती है|

परंतु आपको हम एक बात बता दें कि, आपको कभी भी इस मंत्र का इस्तेमाल किसी भी अन्य व्यक्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए नहीं करना है, वरना इसका आप पर उल्टा असर हो सकता है|भगवान ब्रह्मा या फिर अग्नि देवता किसी भी व्यक्ति को नुकसान पहुंचाने की परमिशन नहीं देते हैं| अग्नि प्रकट करने का मंत्र का उच्चारण करते समय आपको मंत्र का उच्चारण स्पष्ट शब्दों में करना है| ऐसा करने से मंत्र की ध्वनि ब्रह्मांड में गूंजती है|

अग्नि प्रकट करने का वैदिक तरीका क्या है ? Vaidik method to Appear Fire

प्राचीन काल में जब माचिस या फिर लाइटर नहीं था, तब भी ब्राह्मण लोग आसानी से हवन करने के लिए या फिर किसी अन्य काम को करने के लिए अग्नि प्रकट कर लेते थे| आइए हम आपको बताते हैं कि, वह ऐसा कैसे कर लेते थे| प्राचीन काल में ब्राह्मण लोग अग्नि प्रकट करने के लिए अरणी शमी की लकड़ी का इस्तेमाल करते थे|

agni sadhna

इसके अंदर एक छिछला छेद होता था|इसी छेद पर लकड़ी की छड़ी को मथनी की सहायता से काफी तेजी से चलाया जाता था,जिससे इसमें चिंगारी उत्पन्न होती थी और फिर हवा देकर इस आग को बढ़ाया जाता था|इस प्रकार अग्नि जल जाती थी|

1. अग्नि प्रकट करने  पहला का मंत्र क्या है ? Mantra of fire Appear

ॐ वं वहि तुभ्यं नमः

2. अग्नि प्रकट करने का दूसरा मंत्र क्या है ? Second mantra for Fire Appear

अग्नि प्रकट करने का दूसरा मंत्र हम आपको नीचे दे रहे हैं| इस मंत्र का इस्तेमाल करके अग्नि प्रकट करने के लिए मंत्र को 11 बार पढ़े और भोजन की तीन आहुतियां अग्निकुंड में डालें|ऐसा करने से अग्नि प्रकट हो जाएगी|

ॐ भूपतये स्वाहा,

ॐ भुवनप,

ॐ भुवनपतये स्वाहा ।

ॐ भूतानां पतये स्वाहा ।।

3. अग्नि प्रकट करने का तीसरा मंत्र क्या है ? Third Mantra for Fire Appear

अग्नि प्रकट करने का तीसरा मंत्र हम आपको नीचे दे रहे हैं|   इस मंत्र का 21 बार जप करने के बाद बिना नमक वाले खाने को हवन कुंड मे डालें|ऐसा करने से अग्नि प्रकट हो जाएगी|

।। ॐ नमो नारायणाय ।।

चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *