श्मशान साधना क्या है? श्मशान साधना कैसे करे ? Samsan sadhna Mantra

Shamshan sadhna mantra kya hota hai ? शमशान साधन क्या है ? शमशान साधना कैसे करे ? साधना एक ऐसी प्रबल साधना जिसको करने के बाद असीम शक्तियां प्राप्त हो जाती हैं। शमशान काली साधना क्या है ? और इसकी पूजा कैसी करनी चाहिये ?

या साधना व्यक्ति को अष्ट पाशों से मुक्त करने के साथ साथ भय रहित और दृढ़ बनाती है। साधना Meditation करनी के बाद व्यक्ति निर्भय होकर संसार World में कही भी घूम सकता है भूत प्रेत आत्मा उसकी आधीन रहती हैं।

shamshan sadhana , , shamshan sadhana vidhi, shamshan sadhana, shamshan sadhana mantra, shamshan sadhana in hindi, shamshan sadhana video, shamshan sadhana in english, shamshan kali sadhana, shamshan bhairav sadhana, aghori shamshan sadhana, shamshan bhairavi sadhana, श्मशान साधना के लाभ, shamshan sadhna, what is sadhana in english, what does sadhana mean in english, what is sadhana, smashan sadhana, shamshan bhairavi sadhana in hindi, shamshan jagran sadhana, shamshan kali sadhana mantra, shamshan kali sadhna, maa shamshan kali sadhana, श्मशान में साधना, ,

जो व्यक्ति इस साधना को करने में सफल हो जाते हैं उनको काम, क्रोध,  भय, घृणा, जुगुप्सा कभी परास्त नहीं कर सकते। इस साधना की बात व्यक्ति को आत्म ज्ञान प्राप्त हो जाता है। Shamshan sadhna kya hai ? Shamshan sadhna kaise kare ?

श्मशान के रूप में कौंन-कौन होता है ? What are the forms of cremation ?

श्मशान 10 प्रकार के होते हैं- सफेदा, यमदंड, सुकिया,फुलिया,हल्दिया,कामेदिया,मिचमिचिया,किकदिया,सिलासिलया पिलिया। यह एक प्रकार की 10 प्रेत शक्तियां है जो काफी उग्र होती हैं।

sadhu tantrik

इन्ही 10 शक्तियों से प्रेत,पिशाच,भैरव बेताल आदि के मन्त्र सिद्ध किये जाते है। इसे मशान जगाना कहा जाता है। श्मशान के अधिष्ठाता धूम्रलोचन को मन जाता है, जो प्रेत पिंड चिता से पकता हुआ मांस भोजन के रूप में लेते हैं।


श्मशान साधना कब और कैसे करनी चाहिये ? When and how to do spiritual practice?

  • साधना के लिये साधक को अष्टमी चतुर्दशी, अमावस्या,पूर्णिमा, शनिवार और मंगलवार से करनी चाहिए। यदि पूर्णिमा, अमावस्या के दिन मंगलवार या शनिवार हो तो सबसे उत्तम माना जाता है।

  • यदि कोई अघोरी इस साधना को करता है तो उसे मुहूर्त से कोई लेना दें नही होता है।परंतु सामान्य साधको के लिए मुहूर्त में ही करना चाहिए।
  • साधना के लिये भोग के लिए कुछ भी लिया जा सकता है क्योकि श्मशान साधना में आमिष और निरामिष दोनों भोग होते हैं।
  • श्मशान साधना करने के लिए श्मशान में जाते वक्त सभी प्रकार की आसुरी शक्तियों और गुरु गणेश बटुक योगिनी आदि से आज्ञा ले और प्रणाम करें।

यह भी पढ़े :

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 893 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

साधना क्या है ? पूर्ण जानकारी सावधानियां और साधनाओं के प्रकार ! What is spiritual practice and practices Complete information in hindi
अच्छी लड़की की पहचान कैसे करें ? जाने 7 पॉइंट | How to identify a good girl in hindi ?

साधक को आसन लेने के बाद पूर्व की ओर शमशान अधिपति को, दक्षिण में भैरव, पश्चिम में काल भैरव और उत्तर में महाकाल को रखकर साधना प्रारम्भ करें।यदि साधक चिता के समक्ष साधना करता है तो उसे काली महाकाली और कालरात्रि के ध्यान रखकर मन्त्र जाप करें तथा भोग लगावे ।

शमसान जगाने के लिए साधकों को किसी ऐसे शव को लाना होता है | जो नवजवान हो तथा जलाया न गया हो तो उसे ज्यादा उत्तम माना जाता है। जिस दिन शमशान जगाना हो उस दिन जहाँ बकरा काटा जाता है|

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

वहाँ से एक सामान लाये। एक दिन पहले श्मशान से जाकर भी आज्ञा लें कि कल तुम्हे जगाना है। फिर अगले दिन सभी सामग्री लेकर श्मशान में जाये और विधिवत साधना करें।

श्मशान साधना मँत्र क्या होता है ? What is the crematorium mantra?

ॐ क्षं क्षं मसान जाग्रतं सिद्धि हुम फट स्वाहा।

इस मंत्र को श्मशान में 10,000बार सिद्ध करना होता है। अमावस की रात में मुर्दे की खोपड़ी पर यंत्र लिखकर सिद्ध करना होता है सिद्ध करते है| समय जब आवाज आने लगी तो समझना चाहिए कि मंत्र सिद्ध हो जाता है |
जब उसमे से आवाज होने लगे तब समझ जाइए की ये सिद्ध हो चुका है |

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

osir news

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

जय हिंद का नारा किसने दिया था और जय हिंद का नारा कब दिया गया ? | jay hind ka nara kisne diya ?
50+ अमीर घर की लड़कियों के नंबर और उन्हें पटाने की ट्रिक्स | amir ghar ki ladki ka nambar
भगवान शिव के 12 नाम और शंकर जी के 108 नामों के अर्थ और मंत्र | Bhagvan shiv ke 12 naam
पीपल पूजा के नियम : शुभ समय, सही विधि और समय एवं लाभ | Pipal Puja Ke Niyam
दिमाग पढ़ने वाला जादू सीखे : जाने माइंड रीडर कैसे बने ? 5 मैजिक ट्रिक | Mind reading tricks in hindi
★ सम्बंधित लेख ★