Free Vigyan bhairav tantra pdf : विज्ञान भैरव तंत्र क्या है और विधि जाने | Vigyan bhairav tantra pdf download link

Vigyan bhairav tantra | Vigyan bhairav tantra book  : विज्ञान भैरव तंत्र सर्व संप्रदाय का एक मुख्य ग्रंथ है अर्थात विज्ञान भैरव तंत्र के अंतर्गत भगवान भैरव और भैरवी से संबंधित तंत्र साधना होती है। विज्ञान भैरव तंत्र के अंतर्गत 112 प्रकार की धारणाओं को वर्णित किया गया है।



vigyan bhairav tantra vidhi vigyan bhairav tantra विज्ञान भैरव तंत्र का रहस्य विज्ञान भैरव तंत्र विधि 112 विज्ञान भैरव तंत्र की किताब

विज्ञान भैरव तंत्र के अंतर्गत देवी के प्रश्न दार्शनिक रूप में पूछे जाते हैं जिनका उत्तर भगवान शिव को देना होता है लेकिन वह देवी को उत्तर न देकर बदले में विधि-विधान बता देते हैं और इस विधि विधान को बताकर वह उत्तर बता देते हैं कहते हैं कि यदि देवी इस विधि से गुजरती है तो वह उसके प्रश्न का जवाब मिल जाएगा जब देवी पूछती है कि प्रभु आपका सत्य क्या है तो वह उपरोक्त तरीके से उनको उत्तर दे देते हैं।

इसी प्रकार से भैरव विज्ञान तंत्र एक प्रकार की करो और जानो जैसी साधना है क्योंकि किसी भी तंत्र के लिए करना ही जानना है अर्थात जब हम साधना करते हैं तभी उसके विषय में जान पाते हैं। तंत्र विद्या के क्षेत्र में किसी भी प्रकार की विद्या सीखना या तंत्र मंत्र की साधना करना उसके विषय में जानना होता है।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

विज्ञान भैरव तंत्र एक प्रकार की कठिन साधना है जिसको सिद्ध करने के बाद तांत्रिक या साधक प्रकांड विद्वान के साथ-साथ त्रिकालदर्शी जैसी शक्तियां प्राप्त कर लेता है।

विज्ञान भैरव तंत्र क्या है ? | Vigyan Bhairav Tantra

विज्ञान भैरव तंत्र के अंतर्गत भगवान शिव जी ने माता पार्वती को शांत करने के लिए लगभग 120 प्रक्रियाओं का रहस्य स्पष्ट किया। यह एक भैरव तंत्र नामक ग्रंथ है जिसने तंत्र विज्ञान की दुनिया को नए आयाम तक पहुंचाने में मदद किया।


महाकाल भैरव साधना, भैरव तंत्र विद्या PDF, काली खप्पर मंत्र, श्मशान भैरव मंत्र, भैरव जंजीरा(मंत्र), Batuk Bhairav Sadhana Book PDF, मतंग भैरव, 64 भैरव के नाम, काल भैरव की सिद्धि कैसे करें?, महाकाल की साधना कैसे करें?, कितने भैरव होते हैं?, 52 भैरव कौन कौन से हैं?, ,bhairav bhoot sadhana kya hai, bhairav shabar mantra, bhairav sadhana book pdf, bhairav tantra sadhana pdf, batuk bhairav sadhana, bhairav mantra, batuk bhairav mantra, shamshan bhairav, krodh bhairav mantra, bhaurav bhoot sadhana kiase kare, bhoot sadhana vidhi in hindi, bhoot siddhi sadhana, panch bhoot sadhana, bhoot sadhana prayog, bhootni sadhana, bhoot pret sadhana, bhoot bhagane ka mantra pishach vashikaran mantra,

इस ग्रंथ में आत्म दर्शन एवं सिद्ध अवस्था को प्राप्त करते हुए शिव तंत्र में लीन होने की प्रक्रियाओं को तंत्र माध्यम से समझाया गया है विज्ञान भैरव तंत्र में ऐसी दिव्य क्रियाएं वर्णित हुई हैं जिनका किसी प्रकार से आडंबर नहीं समझा जा सकता है।

विज्ञान भैरव तंत्र का महत्व क्या है ? | Vigyan Bhairav Tantra benefits 

विज्ञान भैरव तंत्र वर्णित विभिन्न प्रकार की तंत्र विद्या ओं को कुछ समय तक आराधना करने और अभ्यास करने से व्यक्ति के अंदर दिव्य अनुभूतियां और चमत्कार जैसी शक्तियां प्रकट हो जाती हैं।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

विज्ञान भैरव तंत्र की तंत्र विद्या ओं के माध्यम से व्यक्ति के अंदर कुंडलिनी जागरण क्रिया योग अणिमा लघिमा जैसी सिद्धियां प्राप्त हो जाती हैं। विज्ञान भैरव ग्रंथ तंत्र विद्या का सबसे मूल आधार ग्रंथ है इसके माध्यम से विभिन्न प्रकार की तांत्रिक साधनों की पूर्ति होती हैं विज्ञान भैरव तंत्र की साधनाएं इतना आसान नहीं है तो इतना कठिन भी नहीं है।

विज्ञान भैरव तंत्र की साधनों को यदि श्रद्धा पूर्वक भक्ति के साथ किया जाता है तो निश्चित रूप से बहुत ही जल्दी पूर्ण हो जाती हैं इस तंत्र की साधनाएं श्रद्धा और लगन के साथ तत्परता पूर्वक करने से शीघ्र पूर्ण होती हैं। विज्ञान भैरव तंत्र बौद्धिकता पर आधारित हैं दार्शनिक था पर बिल्कुल आधारित नहीं है यह विद्यालय किसी भी प्रकार की पूजा पाठ और उपासना से सिद्ध होने वाली नहीं होती हैं इनसे दूर रहती हैं।

Vigyan bhairav tantra pdf all parts download free | Vigyan bhairav tantra book | विज्ञान भैरव तंत्र pdf

नीचे दिए गये लिंक से आप vigyan bhairav tantra pdf को फ्री में डाऊनलोड कर सकते है और इसे कभी भी और कंही भी आसानी से पढ़ सकते है :

Vigyan bhairav tantra pdf book name  Vigyan bhairav tantra pdf download link 
विज्ञान भैरव तंत्र 1 | Vigyan bhairav tantra book 1 डाऊनलोड करे 
विज्ञान भैरव तंत्र 2 | Vigyan bhairav tantra book 2 डाऊनलोड करे
विज्ञान भैरव तंत्र 3 | Vigyan bhairav tantra book 3 Download now 
विज्ञान भैरव तंत्र 4 | Vigyan bhairav tantra book 4 Download now 

DMCA: No documents, books, pdf files are facilitated on our server or uploaded. If you don’t mind please send me any notice through the contact form which is in the contact page. If you are claiming any book as copyright, within 48 hours I’ll remove the book from this site.

विज्ञान भैरव तंत्र की विधियां : Vigyan Bhairav Tantra vidya

Vigyan Bhairav

 

 

विज्ञान भैरव तंत्र के अंतर्गत माता पार्वती भगवान शिव से कुछ प्रश्न करते हैं जिनके उत्तर वह 112 विधियों के माध्यम से करणी को बता देते हैं जिसमें सिर्फ कुछ विधियां यहां पर वर्णित की जा रही हैं जो मानव मात्र के कल्याण हेतु माता पार्वती ने भगवान शिव जी से पूछा पूछा कि ईश्वर क्या है और कौन है ?

भगवान शिव ने उन्हें 112 विधियों के माध्यम से जानने के लिए प्रेरित किया विज्ञान भैरव तंत्र के माध्यम से हर प्रकार की कामना भय क्रोध नींद कल्पना श्वास अथवा चीप जैसी क्रियाएं विषय में जानकारी प्राप्त हो जाती है। विज्ञान भैरव तंत्र की विधियां इस प्रकार से वर्णित की गई हैं :

osir news
  1. मध्य ध्यान केंद्रित करके सांस का अंदर आना और बाहर जाना की प्रक्रिया को सजग रूप से देखना होता है।
  2. जब सांस नीचे ऊपर आने जाने लगे तो इसको संधिकाल कहा जाता है इसे देखना जरूरी है अर्थात इसे अनुभव किया जाए।
  3. जब अंतर और वह स्वास एक दूसरे से मिलने लगी तो उस प्रक्रिया के केंद्र को स्पर्श करें।
  4. जब स्वास्थ्य पूरी तरह से बाहर या अंदर हो तो उसकी मध्य होने वाली अंतर का एहसास पर ध्यान केंद्रित करो
  5. भ्रकुटी के मध्य आज्ञा चक्र होता है जिस पर ध्यान केंद्रित करके प्राण ऊर्जा और सहस्त्रार चक्र से परिपूर्ण करो।
  6. सांसारिक कार्य करते हुए भी सांसो के मध्य ध्यान केंद्रित करना चाहिए।
  7. अपने ललाट के मध्य सांस को स्थिर करते हुए प्राण ऊर्जा को हृदय में पहुंचाने का अभ्यास करें जिससे स्वप्न और मृत्यु पर विजय प्राप्त हो जाती है
  8. पूर्ण भक्ति भाव के साथ सांसो की संधि के समय एकाग्र चित्त होकर ज्ञान प्राप्त करें
  9. मृत अवस्था में लेट कर अपने क्रोध अभाव को स्थिर करते हुए बिना पलक झपकाए मुंह में कुछ लेकर चूसते हुए प्रक्रिया में दिलाएं
  10. ध्यान अवस्था ऐसी हो जैसे चीटियों के रंगने की स्थिति उत्पन्न हो ऐसी स्थिति में अपनी इंद्रियों के द्वार बंद करने का अनुभव करें
  11. शय्या पर हो तो मन के पास जाकर भार शून्य हो जाए
  12. पांचो प्रकार की इंद्रियों के पांचों रंग किसी केंद्र बिंदु पर नहीं मिल रहे होते हैं ऐसा कल्पना करनी चाहिए।
  13. अपने पूरे ध्यान को मेरुदंड के मध्य स्नायु में स्थित करके उसी में समाने का अनुभव करें।
  14. ध्यान अवस्था में आने पर आंख कान नाक और मुंह के बीच आज्ञा चक्र ग्रहण करने योग्य हो जाता है।
  15. जब इंद्रियां हृदय में विलीन हो जाती है तब सहस्त्रार चक्र पर पहुंचना होता है।
  16. मन को स्थिर करने का पूरा प्रयास करें जब तक मन स्थिर ना हो जाए उसी के मध्य में रहना होता है।
  17. आनंद की अनुभूति के लिए किसी दूसरे विषय पर मन में विचार ना लाएं।
  18. अपने नितंबों के सहारे बैठना और ध्यान केंद्रित करना होता है
  19. ध्यान मग्न अवस्था होने पर लाइव भद्र होकर शरीर मिलता-जुलता है ऐसा अनुभव करें
  20. अपने शरीर के किसी भाग में दर्द उत्पन्न करो और आंतरिक शुद्धता सिद्ध करो.
  21. अपनी अतीत की घटनाओं को याद करो जिससे स्मरण करते समय चेतना ऐसी जगह रखो जिससे शरीर को साक्षी रखकर घटना को भी साक्षी करें
  22. अपने सामने किसी विषय का अनुभव करते हुए अन्य विषयों की अनुपस्थिति का अनुभव करें और अनुपस्थिति को छोड़कर आत्मा में प्रवेश हो जाए।
  23. जब किसी व्यक्ति के पक्ष या विपक्ष में कोई भाव उठता है तो उस व्यक्ति पर आरोपित ना करें।
  24. मन में उठने वाली किसी भी प्रकार को कामना को देखकर अचानक छोड़ दो।
  25. ध्यान के समय इस प्रकार से घूमो जैसे पूरी तरह से थकान महसूस हुआ और जमीन पर गिर कर गिरने का अनुभव करें।
  26. शक्ति और ज्ञान से वंचित होने का कल्पना करते हुए एक दृष्टा बनी।
  27. आंखें बंद करके अस्तित्व के विस्तार को देखो और उसे शक्ति अस्तित्व का अनुभव करें।
  28. किसी भी पात्र में किनारों पर सामग्री के बिना सामग्री का अनुरोध करें।
  29. किसी सुंदर व्यक्ति या विषय को पहली बार देखने का प्रयास कर रहे हैं।
  30. बादलों के पास शांति और क्षमता का अनुभव करो।
  31. आपको जब कोई उपदेश दिया जा रहा हूं उसे आगे चल मन से अपने कामों से सुनो और मुक्ति को उपलब्ध है।
  32. किसी गहरे की के किनारे खड़े होकर गहराई को देखते हुए मंत्रमुग्ध हो जाओ और विस्मय में महसूस होगा।
  33. किसी विषय को देखते हुए उससे दृष्टि हटा लो और हटाने का विचार करो
  34. दृष्टि पथ में संस्कृत वर्णमाला के अक्षरों की कल्पना को ध्वनि की भांति समभाव का अनुभव करते हुए फिर उसे छोड़कर मुक्त हो जाए।
  35. जलप्रपात की अखंड ध्वनि के केंद्र में स्नान करो। ॐ मंत्र जैसी ध्वनि का मंद मंद उच्चारण करो |
  36. किसी भी वर्ण के शब्द का उच्चारण आरंभ और क्रमिक परिष्कार के समय जागृत हो
  37. तार वाली वाद्य यंत्रों को सुनते हुए ध्वनि की ओर केंद्रित होकर सर्व व्यापक होने का अनुभव करो।
  38. किसी भी प्रकार की धुन का उच्चारण इस प्रकार से करो कि सुनाई दे और सिर्फ मंद मंद कर दो उसके बाद स्वयं सुनने का प्रयत्न भाव लय होकर करो।
  39. मुंह को खुला रखते हुए मन को जीत के बीच में स्थिर करते हुए सांस अंदर और बाहर का अनुभव करें।
  40. अ और म के बिना ॐ ध्वनि पर पर मन केंद्रित करो।
  41. अः से अंत होने वाले किसी शब्द का उच्चारण मन में करो।
  42. कानो को दबाकर, गुदा को सिकोड़कर बंद करो और ध्वनि में प्रवेश करो।
  43. अपने नाम की ध्वनि में प्रवेश करो और उस ध्वनि के द्वारा सभी ध्वनियो को महसूस करो।
  44. आलिंगन के समय उत्तेजना के भाव को मन के अंदर केंद्रित करते हुए स्थाई रहे
  45. प्रणय आलिंगन में शरीर में परिवर्तन कंपन के साथ आत्मसात होने का अनुभव करें
  46. मानसिक रूप से संभोग की क्रिया का स्मरण करके ऊर्जा को स्थानांतरित करना महत्वपूर्ण होता है।
  47. प्रिय जनों और मित्रों के बहुत समय बाद मिलने वाली प्रसन्नता में लीन होने का अनुभव करें।
  48. भोजन करते हैं पानी पीते समय उसी के स्वाद में समाहित होने का प्रयास करें।
  49. विज्ञान भैरव तंत्र में इसी प्रकार की बहुत सी साधनाएं करना होता है जिनके माध्यम से 112 प्रकार से प्रश्नों के उत्तर आप को मिलते हैं और आप एक पूर्ण व्यक्ति के रूप में आश्चर्य पूर्ण शक्तियों से परिपूर्ण हो जाते हैं यही विज्ञान भैरव तंत्र की सफलता और महिमा होती है|
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन