Yakshini sadhana : सरल यक्षिणी साधना कैसे करे? | अष्ट यक्षिणी साधना और मंत्र जाने


3.5/5 - (2 votes)

Yakshini sadhna kaise karen ? देव, दानव,यक्ष , गन्धर्व,किन्नर,रीक्ष,पिशाच,वानर , भल्ल, अप्सराये,किरात, नाग आदि का वर्णन धर्म शास्त्रों में मिलता है। यह सभी मानवों से अलग होते थे तथा रहस्यमयी शक्तियां वह ताकत रखते थे जो किसी ने किसी रूप में मानवों की सहायता करते थे। देवताओं के बाद इन्हीं के पास ही अपार शक्तियां होती थी।

yakshini sadhna kaise karen yakshini sadhana vidhi ratipriya yakshini mantra यक्षिणी साधना का मंत्र कामेश्वरी यक्षिणी साधना विधि

यक्षिणियां सकारात्मक शक्तियां रखती थी तो पिशाचिनियां नकारात्मक शक्तियां रखती थी। हमारे धर्म के अनुसार प्रमुख रुप से 33 देवता मानी जाते हैं और उसी तरह 8 यक्ष और यक्षिणियां भी होते हैं। सभी प्रकार के गंधर्व और यश देवताओं की ओर से कार्य करते थे तो राक्षस, दानव जातियां दैत्यों की ओर से कार्य करते थे।

इन यक्ष और यक्षिणियों की साधना करने से देवताओं के समान कार्य सिद्ध जाते थे। जब हम यक्षिणी की साधना करते हैं तो यक्षिणी हमारे सामने बहुत ही सुंदर और सौम्य स्त्री के रूप में प्रकट होती है । शास्त्रों में ‘अष्ट यक्षिणी साधना’ के नाम से यह साधना प्रमुख रूप से यक्ष की श्रेष्ठ रमणियों की साधना होती है। यक्षिणी साधना में आठ प्रकार की यक्षिणियां होती है इन की साधना करने से सर्व कार्य संपन्न होते हैं।

आठ प्रकार की प्रमुख यक्षिणियां इस प्रकार है ? 

1. सुर सुन्दरी यक्षिणी,

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

2 . मनोहारिणी यक्षिणी,

3 . कनकावती यक्षिणी,


4 . कामेश्वरी यक्षिणी,

5 . रतिप्रिया यक्षिणी,

6.  पद्मिनी यक्षिणी,

7. नटी यक्षिणी ,

8. अनुरागिणी यक्षिणी .

यक्षिणी क्या है, यक्षिणी कौन थी, यक्षिणी साधना और देवी सिद्धियाँ PDF, यक्षिणी की कहानी, यक्षिणी कितने प्रकार की होती है, महालक्ष्मी यक्षिणी साधना, काम यक्षिणी साधना, कामेश्वरी यक्षिणी साधना, अप्सरा और यक्षिणी में अंतर, Yakshini Story, यक्षिणी कितने प्रकार की होती है, यक्ष-यक्षिणी की मूर्ति in haryana, यक्षिणी फोटो, Yakshini Story in Hindi, yakshini sadhana kya hai, yakshini sadhana process, yakshini sadhana experience, yakshini sadhana vidhi, yakshini mantra sadhana, yakshini sadhana book, yakshini sadhana mantra, yakshini sadhana in english, yakshini sadhana in hindi, yakshini sadhna vidhi, यक्षिणी साधना क्या होती है, what is yakshini, what is yakshini in hindi, what is yakshini sadhana, what is yakshini sadhna, what is yakshini vidya, what is yakshini story, what is yakshini in bengali, what is yakshini siddhi, what is yaksha and yakshini, what are yaksha, what is yakshini, what does yakshini meaning, what is the meaning of yakshini, how many types of yakshini, what is the english of yakshini, what is telugu meaning of yakshini, what is the english word of yakshini, is yakshini sadhana dangerous, yakshini sadhana benefits, yakshini sadhana process, how to do yakshini sadhana, yakshini typeswhat is yakshini, what is yakshini in hindi, what is yakshini sadhana, what is yakshini sadhna, what is yakshini vidya, what is yakshini story, what is yakshini in bengali, what is yakshini siddhi, what is yaksha and yakshini, what are yaksha, what is yakshini, what does yakshini meaning, what is the meaning of yakshini, how many types of yakshini, what is the english of yakshini, what is telugu meaning of yakshini, what is the english word of yakshini, is yakshini sadhana dangerous, yakshini sadhana benefits, yakshini sadhana process, how to do yakshini sadhana, yakshini types, ,

यह सभी यक्षिणी साधक को अलग-अलग तरीके से सहायता करती हैं।

आइये जानते हैं कि कौन सी अच्छी कौन सी सहायता और विशेषता रखती है ?

1. सुर सुन्दरी यक्षिणी क्या है ? Surasundari Yakshini ?

इस यक्षिणी को साधक जिस रुप में चाहे उस रुप में प्राप्त कर सकता है क्योंकि यह उसी रुप में प्रकट होती है | जिस रुप में आप इसकी साधना करते हैं। यह यक्षिणी सिद्ध होने के बाद साधक को ऐश्वर्य, धन, संपत्ति आदि प्रदान करती है।यह देवी देवताओं के समान सुंदर होने के कारण सुर सुंदरी यक्षिणी कहा जाता है |

beauty

2. मनोहारिणी यक्षिणी क्या है ? Manohari Yakshini ?

मनोहारिणी यक्षिणी को सिद्ध करने के बाद साधक सम्मोहन प्राप्त कर लेता है जिससे वह किसी को भी सम्मोहित कर सकता है | इसके शरीर से सदैव सुगंध निर्गत छोटी रहती है पता साधकों धन संपत्ति प्रदान करती है .

3. कनकावती यक्षिणी क्या है ? Kankavati Yakshini ?

कनकावती यक्षिणी विरोधियों को मोहित करने की छमता रखी है इसलिए साधक जब इसे सिद्ध कर लेता है | तो वह अपने दुश्मनों पर विजय प्राप्त कर सकता है।

यह माना जाता है कि यह यक्षिणी लाल रंग के कपड़े धारण करती है और हमेशा किशोरी बाला के रूप में दिखाई देती है।

4. कामेश्वरी यक्षिणी क्या है ? Kameshwari Yakshini ?

यह साधक को पौरुष प्रदान करके सभी प्रकार की कामनाओं से परिपूर्ण करती है तथा स्वयं भी पत्नी के रुप में साधक की इच्छा पूर्ण करती हैं। यह य छड़ी चंचल और यौवन से परिपूर्ण होती है | जब साधकों कोई भी आवश्यकता होती है . तो तुरंत उसे उपलब्ध कराती है .

5. रति प्रिया यक्षिणी क्या है ? Ratipriya Yakshini?

यह साधक कुछ हर वक्त प्रफुल्लित करती रहती है तथा साधकों कामदेव औरत के समान सुंदरता देती है . इसका शरीर स्वर्ण के समान होता है और आभूषणों से सुसज्जित होती है.

6. पदमिनी यक्षिणी क्या है ? Padmini Yakshini?

पद्मिनी यक्षिणी साधक को आत्म विश्वास और स्थिरता तथा मानसिक बल और उन्नति की ओर अग्रसर करती है . यह साधक को कदम कदम पर उसका हौसला बड़ा देती है।यह यक्षिणी श्याम वर्ण होती है।

7. नटी यक्षिणी क्या है ? Nati Yakshini ?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

यह यक्षिणी साधक को सुरक्षा प्रदान करती है और विपरीत परिस्थितियों में भी बचाव करती है तथा होने वाली तरह-तरह की घटनाओं से सुरक्षा प्रदान करती हैं .

8. अनुरागिणी यक्षिणी क्या है ? an escort ?

अनुरागिनी यक्षिणी साधक को धन मान सम्मान यस से परिपूर्ण करती है तथा साधक की इच्छाओं के अनुसार रास उल्लास भी करती है .

अष्ट यक्षिणी मंत्र क्या है ? Ashta Yakshini Mantra

 यक्षिणी

3सभी प्रकार की यक्षिणी सिद्धि के लिए निम्न प्रकार के मंत्र सिद्ध किए जाते हैं|

ॐ ऐं श्रीं अष्ट यक्षिणी सिद्धिं सिद्धिं देहि नमः॥

1. सुर सुन्दरी मंत्र – Sur sundari mantra 

ॐ ऐं ह्रीं आगच्छ सुर सुन्दरी स्वाहा ॥

2. मनोहारिणी मंत्र – Manihari mantra 

ॐ ह्रीं आगच्छ मनोहारी स्वाहा ॥

3. कनकावती मंत्र  – Kankavati mantra 

ॐ ह्रीं हूं रक्ष कर्मणि आगच्छ कनकावती स्वाहा ॥

4. कामेश्वरी मंत्र – Kameshwari mantra 

ॐ क्रीं कामेश्वरी वश्य प्रियाय क्रीं ॐ ॥

5. रति प्रिया मंत्र Ratipriya mantra

ॐ ह्रीं आगच्छ आगच्छ रति प्रिया स्वाहा ॥

6.पद्मिनी मंत्र – Padhini mantra

ॐ ह्रीं आगच्छ आगच्छ पद्मिनी स्वाहा ॥

7. नटी मंत्र – Nati mantra

ॐ ह्रीं आगच्छ आगच्छ नटी स्वाहा ॥

8. अनुरागिणी मंत्र – Anuragini mantra 

ॐ ह्रीं अनुरागिणी आगच्छ स्वाहा ॥

यक्षिणी साधना के लिए शुभ दिन कौन सा है ? What is the auspicious day for Yakshini Sadhana?

यक्षिणी साधना को करने के लिए शुभ दिन आषाढ़ की पूर्णिमा यदि शुक्रवार को हो तो ज्यादा शुभ होता है को किया जाता है . इसके अलावा सावन महीने की कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि सबसे उत्तम मानी जाती है। इस दिन चंद्रमा में शक्ति अधिक होती है।

यक्षिणी साधना

यह भी पढ़े :

यक्षिणी साधना विधि क्या है ? What is Yakshini Sadhana method ?

  • यक्षिणी साधना करने के लिए सबसे पहले भगवान शिव की आराधना एवं पूजा अर्चना की जाती है . ऐसा करने से यक्षिणी साधनाए जल्दी पूर्ण होती है।
  • यक्षिणी साधना प्रारंभ करने से पहले स्नान आदि करके समस्त प्रकार की पूजा सामग्री लेकर शिव की पूजा करते हुए किसी केले के पेड़ के नीचे या बेलगिरी के पेड़ के नीचे यक्षिणी साधना प्रारंभ करें।
  • यक्षिणी साधना करने से मन और चित् एकाग्र हो जाते हैं उसके बाद यक्षिणी मंत्र जाप करें प्रत्येक मंत्र कम से कम 5000 बार जाप करना पड़ता है।
  • जाप करने के बाद घर जाएं और किसी कुंवारी कन्या को खीर का भोग सबसे पहले खिलाएं।

कुछ यक्षिणी साधना इस प्रकार हैं :

नटी यक्षिणी साधना कैसे करे ? How to do Nati Yakshini Sadhana?

beauty

नटी यक्षिणी साधना मंत्र 

ऊं ह्रीं की नटी महा नटी रुपवती स्वाहा।।

इस मंत्र का जाप अशोक वृक्ष के नीचे गाय के गोबर का चौका लगाकर तथा ललाट पर चंदन का तिलक लगाकर विधिवत देवी की पूजा की जाती है इसे 1 माह तक 1000 बार मंत्र जाप करके देवी को प्रसन्न किया जाता है।

साधक को इस दौरान केवल एक बार भोजन करना चाहिए तथा साधना सदैव आधी रात के बाद करें |

सुर सुंदरी यक्षिणी साधना कैसे करे ? How to do Surasundari Yakshini Sadhana?

beauty

सुर सुंदरी यक्षिणी साधना मंत्र 

ऊं ह्रीं ह्रीं आगच्छ आगच्छ सुर सुन्दरी स्वाहा।।

इस मंत्र का जाप शिवलिंग की स्थापना करके सुबह सुबह दोपहर शाम विधिवत पूजा करके 3000 बार मंत्र जाप करना होता है तथा 12 दिन साधना करने के बाद सुंदरी देवी प्रसन्न होती है और अनेक प्रकार से आप का कल्याण करती हैं।

अष्ट यक्षिणी साधना कैसे करे ? How to do Ashta Yakshini Sadhana?

अष्ट यक्षिणी साधना इस प्रकार भी की जाती है।

अष्ट यक्षिणी साधना मंत्र

ऊं हों क्रूं क्रूं कटु कटु अमुकी देवी वरदा सिद्धदाच भव ऊं अं:।।

इस मंत्र को रात्रि के समय एकांत में नित्य 8000 बार जाप करके किया जाता है | इस मंत्र का जाप चंपा नामक वृक्ष के नीचे बैठकर 7 दिन तक करने से यक्षिणी साधना सफल हो जाती हैं।

अष्ट यक्षिणी साधना करने के लिए साधक को संयमित और ब्रम्हचर्य का पालन करना जरूरी है | साधना के दौरान किसी भी प्रकार का मांस मदिरा या अन्य अवैध भोज्य सामग्री लेना नहीं चाहिए।

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

osir news

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘
★ सम्बंधित लेख ★
X