पृथ्वी पूजन मंत्र : सम्पूर्ण भूमि पूजन विधि, व्रत और सामग्री की लिस्ट | Parthi pujan mantra

पृथ्वी पूजन मंत्र | Prithvi puja mantra : हेलो दोस्तों नमस्कार आज हम आप लोगों को पृथ्वी पूजन मंत्र के बारे में बताएंगे पृथ्वी पूजन मंत्र पूजा विधि व्रत सामग्री और पृथ्वी पूजन मंत्र क्यों किया जाता है उसके बारे में जानना चाहते हैं तो इस से अंत तक अवश्य पढ़ें दोस्तों क्या आप जानते हैं कि पृथ्वी को संपूर्ण संसार की माता माना जाता है इसीलिए हिंदू धर्म के अनुसार पृथ्वी अर्थात भूमि को मां का दर्जा दिया जाता है इस संसार में जितने भी व्यक्ति रहते हैं.

पृथ्वी पूजन मंत्र,, पृथ्वी पूजन का मंत्र,, prithvi pujan mantra,, prithvi puja mantra,, prithvi pujan,, prithvi ka mantra,, prithvi dhyan mantra,, prithvi mantra in hindi,, prithvi pranam mantra,, prithvi mata ka mantra,, पृथ्वी पूजन विधि और व्रत,, पृथ्वी पूजन क्यों जरूरी है,, भूमि पूजन क्यों जरूरी होता है,, पृथ्वी ध्यान मंत्र,, भूमि पूजन मंत्र इन संस्कृत,, पृथ्वी वंदना,, भूमि मंत्र,, पृथ्वी की स्तुति,, भूमि पूजन विधि,, भूमि पूजन किस दिशा में करें searches,, भूमि पूजन सामग्री,, भूमि पूजन लिस्ट ,, भूमि पूजन विधि,, भूमि पूजन विधि मंत्र pdf,, भूमि पूजन विधि मंत्र,, भूमि पूजन और नींव पूजन में क्या अंतर है,, भूमि पूजन सामग्री लिस्ट,, भूमि पूजन तिथि,, भूमि पूजन के लाभ,, bhumi pujan ke liye avashyak samagri,, bhumi pujan ke liye samagri,, bhumi pujan ke liye,, bhumi pujan ke liye shubh din,, bhumi pujan ke din,, bhumi pujan ka saman,, bhumi pujan ke liye shubh muhurt,, bhumi pujan ke mantra,, bhumi pujan karne ki vidhi,, bhumi pujan ki samagri,, bhumi pujan ki vidhi,, भूमि पूजन के लिए आवश्यक सामग्री,, prithvi divas kyon manaya jata hai,, prithvi ki aayu ka nirdharan,, prithvi ki aayu,, kyon jaruri hai,, पृथ्वी दिवस,, prithvi divas quotes,, prithvi par jeevan kyon sambhav hai,, prithvi kyu ghumti hai,, prithvi ghumti kyon hai,, prithvi ko jal grah kyon kaha jata hai,, prithvi kya hai,, prithvi kya hai in hindi,, prithvi ki jankari,, prithvi ka jhukav kitna hai,, hamari prithvi kahan sthit hai,, prithvi puja mantra,, prithvi puja ka mantra,, prithvi pujar,, prithvi pujan in hindi,, prithvi ki puja,, prithvi devi puja mantra,, prithvi meaning,, prithvi pooja,, prithvi public school amritsar,, prithvi ka bhavishya,, prithvi kis par khadi hai,, prithvi ka history,, prithvi par gas ki matra,,

उनको भूमि ही सब कुछ देती है इसीलिए अगर आप कोई शुभ कार्य करने जा रहे हैं तो उससे पहले भूमि पूजन अवश्य करें अगर आप अपना घर बनवा रहे हैं या फिर किसान अपना अनाज ऊगा रहा है तो यह करने से पहले भूमि पूजन जरूर करें अगर आप भी भूमि पूजन मंत्र के बारे में जानना चाहते हैं और किसी भी कार्य को शुरू करने से पहले भूमि की पूजा करना चाहते हैं.

तो इसे अवश्य पढ़ें क्योंकि आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से पृथ्वी पूजन मंत्र पूजा विधि और व्रत के बारे में बताने वाले हैं और भूमि पूजन में लगने वाली संपूर्ण सामग्री तथा भूमि पूजन क्यों जरूरी है इसके बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं इसीलिए इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें तो आइए जानते हैं इसके बारे में हम आपको विस्तार पूर्वक जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

पृथ्वी पूजन मंत्र | Prithvi pujan mantra

अगर आप पृथ्वी की पूजा करना चाहते हैं तो इस से भूमि पूजन मंत्र का जाप करें।

ऊँ ह्रीं श्रीं वसुधायै स्वाहा

अगर आप पृथ्वी की पूजा में इस मंत्र का जाप करते हैं तो पृथ्वी माता आप से जल्द ही प्रसन्न हो जाती हैं।


1. भूमि पवित्रीकरण मंत्र

ॐ उदकने अभ्युक्ष्य, अभ्युक्ष्य, अभ्युक्ष्य।

अगर कोई व्यक्ति इस प्रकार पंच – भूमि संस्कार करता है तो वह भूमि शुद्ध हो जाती है।

पृथ्वी पूजन विधि और व्रत | Prithvi pujan vidhi aur vrat

भूमि

  1. जब कोई व्यक्ति अपनी खुद की भूमि खरीद कर और उस पर किसी भी वस्तु का निर्माण करता है तो उसके पहले भूमि पूजन किया जाता है ऐसा कहा जाता है कि भूमि पूजन करने से अगर वहां की भूमि पर कोई दोष होगा तो वह खत्म हो जाएगा भूमि मालिक पर कोई भी दोस्त नहीं रहेगा इसीलिए पृथ्वी पूजन की विधि अगर आप जानना चाहते हैं तो नीचे बताए गए बिंदुओं को अवश्य पढ़ें।
  2. भूमि पूजन करने के लिए आपको सुबह प्रातः काल में उठना है और जिस भूमि पर आप पूजन करना चाहते हैं उस जगह को साफ सुथरा करके गंगाजल से शुद्ध कर लेना है।
  3. उसके बाद भूमि पूजन करवाने के लिए किसी योग्य ब्राह्मण की सहायता लेनी है।
  4. उसके बाद पूजा शुरू करते समय ब्राह्मण को उत्तर दिशा की ओर और जो व्यक्ति भूमि पूजन करवा रहा है उस जातक को पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठ जाना है।
  5. अगर वह व्यक्ति विवाहित है तो उसकी पत्नी भी उसके बाएं तरफ बैठेगी।
  6. उसके बाद मंत्रों द्वारा उस जगह की शुद्धि करनी है।
  7. ऐसा कहा जाता है कि किसी भी पूजा को शुरू करने से पहले गणेश भगवान की आराधना करनी चाहिए तो भूमि पूजन शुरू करने से पहले गणेश जी की आराधना करके चांदी का नाग और कलश की पूजा करें।
  8. उसके बाद भगवान विष्णु के सेवक शेषनाग की पूजा करें क्योंकि शेषनाग ने पूरी पृथ्वी को संभाल रखा है उसी तरह उन्होंने भूमि को भी संभाल रखा है इसीलिए सबसे पहले उनकी पूजा करें।
  9. उसके बाद कलश में दूध दही चांदी का सिक्का सुपारी आदि डालकर शेषनाग लक्ष्मी जी और गणेश जी का आवाहन करिए और शेषनाग लक्ष्मी जी और गणेश जी से भूमि की रक्षा के लिए प्रार्थना कीजिए।
  10. जो जातक भूमि की पूजा करेगा उसे व्रत रखना है चाहे तो वह पूरे दिन का उपवास रख सकता है जिस दिन वह जातक भूमि की पूजा करेगा उस दिन सिर्फ फल हार कर सकता है।
  11. भूमि पूजन पूरे विधि विधान से करें अगर आप इसके बारे में नहीं जानते हैं तो इस लेख को पढ़कर जानकारी प्रदान कर लें अन्यथा कुछ भी बाधाएं उत्पन्न हो सकती हैं।

पृथ्वी पूजन की सामग्री | Prithvi puja ki samagri

land

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 806 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

शादी के 7 वचन और 7 फेरों का मतलब क्या होता है ? विवाह में 7 फेरे ही क्यों लिए जाते हैं ?
लड़की को अपने प्यार का एहसास कैसे दिलाएं? अपना प्यार कैसे दिखाएँ ? Ladki se pyar kaise kiya jata hai

भूमि पूजन शुरू करने से पहले उसकी सामग्री के बारे में अवश्य जान ले ताकि पूजा करते समय कोई भी सामान छूटे ना पृथ्वी पूजन में गंगाजल आम तथा

  1. पांच वृक्ष के पत्ते
  2. कलावा
  3. चावल
  4. रोली
  5. लाल सूती कपड़ा
  6. कलश
  7. कपूर
  8. साबुत सुपारी
  9. पुष्प
  10. नाग नागिन जोड़ें
  11. दूब घास
  12. लौग
  13. इलाइची
  14. अगरबत्ती
  15. धूप बत्ती
  16. सिक्के
  17. हल्दी का पाउडर
( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

आदि प्रकार की सामग्रियां एकत्रित करके अवश्य रखें।

पृथ्वी पूजन क्यों जरूरी है ? | Prithvi pujan kyu jaruri hai ?

अगर आप यह जानना चाहते हैं कि भूमि पूजन क्यों जरूरी है तो आज हम आपको बता दें कि अगर आपने कोई नई भूमि खरीदी है और आप उसका निर्माण करना चाहते हैं तो उससे पहले आपको पृथ्वी पूजन करना अनिवार्य होता है क्योंकि शास्त्रों के अनुसार ऐसा माना गया है जिस जगह पर आप अपने घर का या फिर और किसी चीज का निर्माण कराने वाले हैं उस जगह पर अगर किसी भी प्रकार का दोष होगा तो भूमि पूजन कराने से वह दोष दूर हो जाता है।

भूमि

अगर कोई व्यक्ति जमीन खरीदता है उसके बाद अगर उसमें कोई भी गलती कर दी और उसकी भूमि अपवित्र हो गई हो तो जो हमने आपको भूमि पूजन कराने की विधि बताइए उसके द्वारा आप अपनी भूमि को पवित्र कर सकते हैं क्योंकि इस पूजा के द्वारा भूमि को पवित्र भी किया जाता है।

किसी भी भूमि का निर्माण कराने से पहले आपको भूमि पूजन अवश्य कराना चाहिए अगर आप भूमि पूजन करा लेते हैं तो आपके सारे अच्छे कार्य संपूर्ण हो जाते हैं और आने वाले समय में आपको परेशानियों से भी मुक्ति मिल जाती हैं।

भूमि पूजन के लाभ | Bhumi pujan ke labh

हिंदू धर्म के अनुसार ऐसा माना जाता है कि पृथ्वी पूजन करने से का भी लाभ प्राप्त होता है और इसका एक बहुत बड़ा महत्व है हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोग पृथ्वी को मां का दर्जा देते हैं लक्ष्मी पूजन और भी खास होता है ऐसा कहा जाता है कि हमारी मां हमें जन्म देती है और इस दुनिया में लेकर आती है और धरती मां हमें यहां रहने का स्थान देती है इसीलिए हमें धरती मां की पूजा करनी चाहिए उनके द्वारा जो आशीर्वाद हमें प्राप्त होता है उसके लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहिए इन्हीं की वजह से और भूमि पूजन से जमीन जा जात में भी आपको लाभ प्राप्त होता है.

हमारे हिंदू धर्म में शास्त्रों के अनुसार ऐसा बताया गया है कि धरती माता को भगवान विष्णु की पत्नी कहा गया है और इन्हें पूरे संसार की मां कहा गया है धरती मां सबका ख्याल रखती है और ऐसा कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने अपनी कोई भी संतान पैदा नहीं किया था ताकि धरती मां समस्त संसार का ख्याल रख सकते हैं।

osir news

FAQ : पृथ्वी पूजन मंत्र

भूमि पूजन में कौन सा मंत्र बोला जाता है?

ॐ उदकने अभ्युक्ष्य, अभ्युक्ष्य, अभ्युक्ष्य। इस मंत्र का जाप करने से आपकी भूमि शुद्ध हो जाती है।  

पृथ्वी पूजन कैसे करें?

क्या आप जानते हैं कि पुराणों के अनुसार पृथ्वी पर पैर रखने को भी त्रुटि दोष का दर्जा दिया जाता है इसीलिए अगर आप इस दोष से बचने का उपाय जानना चाहते हैं तो ऐसा कहा जाता है कि सामान्य तौर पर सुबह जल्दी उठकर धरती पर पैर रखने से पहले धरती माता के चरण स्पर्श करने चाहिए और धरती माता की पूजा करनी चाहिए धरती माता जन करने की एक काफी सामान्य सी विधि बहुत ही प्रसिद्ध मानी गई है अगर आप उसकी पूजा करते हैं तो वह आपके लिए लाभकारी होता है।

भूमि पूजन कब नहीं करना चाहिए?

अगर आप अपने घर में भूमि पूजन गृह निर्माण की शुरुआत गृह प्रवेश करवा रहे हैं तो मंगलवार एवं रविवार को कभी भी ना करवाएं शुभ माह : भारतीयों के अनुसार ऐसा कहा गया है कि फागुन वैशाख एवं श्रावण महीना गृह निर्माण हेतु और भूमि पूजन हेतु सबसे श्रेष्ठ माना गया है माघ, जेठ, भाद्रपद एवं मार्गशीर्ष यह सारे महीने मध्यम श्रेणी में आते हैं।

निष्कर्ष

जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से भूमि पूजन मंत्र तथा उसकी संपूर्ण विधि के बारे में बताया है अगर किसी व्यक्ति ने नई जमीन खरीदी है और वह उस पर किसी भी चीज का निर्माण कराना चाहता है तो हमारे द्वारा बताए गए भूमि पूजन मंत्र तथा संपूर्ण विधि को अपनाकर और उसकी सामग्री जानकर भूमि पूजन करवा सकता है यह बहुत लाभदायक होता है हम उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आप के लिए उपयोगी भी जानती होगी।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

सूर्य ग्रहण में शाबर मंत्र कैसे सिद्ध करे ? शाबर मंत्र सिद्धि साधना और विधि | shabar mantra siddh karne ki vidhi
पेट दर्द की आयुर्वेदिक दवा : पेट दर्द में तुरंत आराम दिलाने वाले 5 आयुर्वेदिक घरेलु नुस्खे
शुतुरमुर्ग के बारे में सम्पूर्ण जानकारी : शुतुरमुर्ग क्या खाता है जाने
मिट्टी कितने प्रकार की होती है : 8 प्रकार की मिट्टियों का विस्तृत वर्णन | Mitti kitne prakar ki hoti hai
UAN नंबर क्या है ? UAN Full Form & UAN number कैसे निकाले ? | What is UAN Number and how to activate / generate ?
★ सम्बंधित लेख ★