Ache logo ke saath bura kyun hota hai ? अच्छे लोग दुखी क्यों रहते हैं !

❤ इसे और लोगो (मित्रो/परिवार) के साथ शेयर करे जिससे वह भी जान सके और इसका लाभ पाए ❤
( कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया )

☛❤ मन पसंद & नये लेख पढ़े ❤☚

अच्छे लोगों के साथ बुरा क्यों होता है ? मनुष्य जीवन Life में सुख दुख अच्छाई बुराई साथ साथ चलते हैं परंतु सुख-दुख व्यक्ति के कर्म पर निर्भर Dippend करता है जो व्यक्ति अच्छे कर्म करता है उसे जीवन में अच्छा होता है और इसके बजाय जो व्यक्ति बुरे कामों Bad work को करता है उसके साथ बुरा होता रहता है।

परंतु कभी-कभी व्यक्ति के साथ अच्छे कर्म करने के बावजूद भी बुरा होता है और बुरे इंसान में सब कुछ अच्छा होता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति के कर्म कैसे हैं उसके कर्मों के आधार पर ही उसे फल Result मिलता है |

acche logo ke sath bura kyu hota hai acche logo ke sath bura kyu hota hai quotes acche logo ke sath bura kyu hota hai bhagwat geeta hamesha acche logo ke sath bura kyon hota hai ache logo ke saath bura kyon hota hai acche logo ke sath hi bura kyon hota hai hamesha acche logo ke sath hi bura kyon hota hai achhe logo ke sath bura kyo hota hai ache logo ke sath bura ache ke sath bura kyu अच्छे लोग की पहचान अच्छा इंसान की क्या पहचान है अच्छे लोग ache logo ki pehchan bure logo se kaise bache अच्छे लोग दुखी क्यों रहते हैं एक अच्छा इंसान कैसा होता है एक अच्छा इंसान कैसा होना चाहिए

 

कभी-कभी इंसान के साथ अच्छा होता है तो बहुत अच्छा होता है और बुरा होता है तो बहुत ही बुरा होता है इसके विपरीत कई बार अच्छे लोगों के साथ भी बुरा होता है और बुरे लोगों के साथ अच्छा होता है आइए जानते हैं ऐसा क्यों होता है।

अच्छे के साथ अच्छा और बुरे के साथ बुरा उसके पूर्वजों के कर्मों के आधार पर भी होता है :

भले ही आपको विश्वास ना हो परंतु कई बार ऐसा देखा जाता है कि प्रत्येक इंसान का भाग्य उसके पारिवारिक पूर्वजों के कर्मों से भी जुड़ा होता है उनके पूर्वजों के द्वारा किए गए कर्मों के आधार पर हमारा भविष्य निर्भर होता है।

एक कहावत है Fortune Or Misfortune Related To Ancestors अर्थात आपके कर्म आपके पूर्वजों से कहीं ना कहीं जुड़े हुए हैं |

इन्हीं कारणों से बहुत से दुष्ट प्रकृति के व्यक्ति के साथ अच्छा होता है क्योंकि भूतकाल में उनके पूर्वजों द्वारा निश्चित रूप से कुछ अच्छे काम किए गए होंगे जो उनके लिए अच्छे साबित हो रहे हैं

इसके विपरीत कुछ सीधे-साधे भले लोगों के साथ हमेशा बुरा होता है शायद उनके पूर्वजों ने हो सकता है किसी समय किसी के साथ कुछ ना कुछ बुरा किया होगा इसीलिए यह देखा जाता है कि कुछ अच्छे लोगों के साथ बुरा और बुरे के साथ अच्छा होता रहता है लेकिन यह सत्य है कि जो लोग अच्छा करते हैं उनको अच्छा मिलता है और जो बुरा कार्य करते हैं उनको जीवन में बुराइयां ही मिलती है

अच्छे लोग दुखी क्यों रहते हैं ? Why do good people remain unhappy ?

अच्छे लोग अक्सर देखा होगा कि दुखी ही रहते हैं इसके पीछे क्या कारण हैं तो स्पष्ट देखा जाए तो इन लोगों का दुखी होने का कारण अत्यधिक दया भाव और दूसरों की चिंता होती हैं अच्छे लोग दूसरों के लिए हमेशा दुखी रहते हैं इसीलिए उनके मुख पर हमेशा दुख की भावनाएं स्पष्ट रहती हैं |

अच्छे लोग कौन होते हैं ? Who are good people ?

सही मायने में देखा जाए तो इस दुनिया में अच्छे और बुरे की कोई परिभाषा नहीं है केवल मानवीय व्यवहार की परिस्थितियां ही अच्छे बुरे की पहचान कराती हैं जिसके लिए व्यक्ति की तत्काल सोच सक्रियता और हालात जिम्मेदार होते हैं |

good people aadmi man

समाज में कई प्रकार के लोग होते हैं सभी लोग एक दूसरे की पसंद नहीं रह सकते हैं क्योंकि कई प्रकार के ऐसे व्यवहार हैं जो सभी को पसंद नहीं हो सकते ऐसे में अच्छे लोग कौन होते हैं किन्हे समाज अच्छे लोगों की श्रेणी में रखता है तो आइए हम अच्छे लोगों में पहचान करते हैं।

अच्छे लोग की पहचान कुछ इस प्रकार से होती है –

दूसरों को खुशी देने वाले या दूसरों के लिए जीने वाले कौन होते है ? those who give happiness to others or live for others

हमारा समाज ऐसे व्यक्तियों को बहुत ही अच्छा व्यक्ति मानता है जो समाज में दूसरों की मदद करते हैं दूसरों को खुश करने के लिए हर संभव प्रयास करते हैं और जरूरत पड़ने पर भी किसी के काम तत्काल आते हैं इस प्रकार के व्यक्तियों को समाज में अच्छे व्यक्तियों की श्रेणी में रखा जाता है |

समाज ऐसे लोगों को बहुत अच्छा मानता है जो व्यक्ति अपनी जरूरतों को दरकिनार करते हुए दूसरों के लिए पीछे नहीं होते हैं और उनके अंदर किसी प्रकार का स्वार्थ भी नहीं होता है अच्छे लोग समाज के प्रति लोगों के प्रति दयालुता का भाव रखते हैं और अपनी परेशानियों को किनारे रखते हुए दूसरों के दुख दर्द को बांटने में हाथ बांटते हैं |

aadmi fec chehra

यह व्यक्ति दूसरों के विषय में हर वक्त सोचते हैं ऐसे व्यक्तियों के मुंह से कभी भी किसी काम के लिए 9 शब्द नहीं निकलता है। अच्छे लोग हमेशा जब किसी का कुछ नहीं मदद कर पाते हैं तो उन्हें स्वयं पर बड़ा अफसोस होता है और वे मन ही मन सोचते रहते हैं कि आज मैंने अमुक व्यक्ति की सहायता नहीं कर पाया और दुखी हो जाते हैं ।

स्वयं के लिए भी स्वार्थी ना बनना : Don’t be selfish even for yourself 

जो व्यक्ति अच्छे दयाल और समाजसेवी होते हैं जिन व्यक्तियों ने कभी भी किसी प्रकार का स्वार्थ नहीं होता है वह अपनी प्रवाह करते हुए भी दूसरों के लिए निस्वार्थ प्रवाह करते हैं ऐसे लोगों की प्राथमिकता रहती है कि किसी भी प्रकार के व्यक्ति के गम में दुख दर्द में हमेशा शरीक रहे इसलिए ऐसे व्यक्तियों के पास समय का अभाव होता है जिससे भी अपने शौक पूरा कर सकें |

समाज में कुछ ऐसे अच्छे व्यक्ति होते हैं जो दूसरों के लिए सब कुछ न्योछावर कर देते हैं वह अपने सपनों के लिए कुछ नहीं करते परंतु ऐसे लोगों को अपने विषय में जरूर सोचना चाहिए क्योंकि अपने विषय में भी सोचना स्वार्थ नहीं है परमार्थ के लिए आप सब कुछ करें यह सही है पर अपने लिए भी थोड़ा ना थोड़ा समय निकाल ले |

अगर अपने विषय में कुछ भी नहीं सोचेंगे तो आपके साथ भी बुरा हो सकता है तब कहा जा सकता है कि अच्छे लोगों के साथ बुरा क्यों होता है और बुरे लोगों के साथ अच्छा क्यों होता है ?

अच्छे लोग समाज के लिए सब कुछ करते हैं परंतु अपने लिए यदि कुछ पूरा करना भूल जाते हैं तो यह भी एक प्रकार की उनकी इंसानी जिम्मेदारी से दूर होना है इसलिए हमेशा अपनों के प्रति भी जिम्मेदार रहे और समाज के लिए अच्छे बने

उम्मीद नहीं करना चाहिए : Should not expect :

व्यक्ति समाज में अच्छे कार्य करता है और कभी-कभी उसको इसी प्रकार की उम्मीद भी रहती है कि अगला व्यक्ति भी उसके साथ अच्छा करेगा तो यह बिल्कुल भ्रम नहीं करना चाहिए क्योंकि आवश्यक नहीं है जब आप किसी के साथ कुछ अच्छा कर रहे हैं तो वह भी आपको मदद करें किसी प्रकार का सम्मान दें यह आवश्यक नहीं है |

इसलिए अच्छे लोग किसी प्रकार की उम्मीद नहीं करते हैं बल्कि वह निस्वार्थ भाव से दूसरों के प्रति कार्य करते रहते हैं इन्हें समाज अच्छा व्यक्ति मानता है इस प्रकार के व्यक्ति कभी जीवन में दुखी नहीं होते हैं और ना कोई इच्छा रखते हैं इसके बदले यदि कोई व्यक्ति यह भावना रखता है कि वह उसके लिए काम आएगा तो है यह एक प्रकार का स्वार्थ होता है जो आपके लिए दुख का कारण बन जाएगा ।

hath jodna hope ummid

इसके विपरीत समाज जिन बातों को बुरा मानता है जब उन्हें कोई व्यक्ति करता है तो उसे बुरा माना जाता है ऐसे ने कभी कभी व्यक्ति अधूरा होते हुए भी अच्छा मान लिया जाए तो यह निश्चित रूप से कहा जा सकता है कि यह उसके किसी अच्छे कर्म का नतीजा है क्योंकि समाज में अक्सर यह देखा जाता है कि बहुत से अच्छे लोगों के साथ बुरा बर्ताव होता है और बुरे लोगों के साथ अच्छा व्यवहार किया जाता है।

विचारणीय हो कि समाज में व्यक्ति के व्यवहार करने के तरीके अलग-अलग होते हैं उन्हीं व्यवहार के तरीकों पर व्यक्ति समाज की नजरों में देखा जाता है कौन व्यक्ति किस प्रकार के कर्म कर रहा है किस प्रकार से उसकी आदतें हैं उन आदतों और व्यवहारों के आधार पर व्यक्ति को अच्छा और बुरा मान लिया जाता है।

Rate this post

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे, क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे|


💕❤ इसे और लोगो (मित्रो/परिवार) के साथ शेयर करे जिससे वह भी जान सके और इसका लाभ पाए ❤💕

आप को यह पोस्ट कैसी लगी  हमे फेसबुक पेज पर अवश्य बताये या फिर संपर्क करे |

यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले |

 

यदि मन में कोई प्रश्न या जानकारी है तो संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उसका जवाब देंगे |

हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने के लिए धन्यवाद !
( कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया )

☛❤ मुख्यपेज पर जाये या अपना मनपसन्द टॉपिक चुने ❤☚

✤ यह लेख भी पढ़े ✤