बाथरूम किस दिशा में होना चाहिए ? वास्तु के अनुसार शौचालय Vastu Shastra of the bathroom

Bathroom kis disha me hona chahiye? भारत में अधिकतर लोग ऐसा घर चाहते हैं। जो वास्तु शास्त्र  के सिद्धांत के अनुरूप हो उनका मानना है कि इससे घर ghar  में सकारात्मक ऊर्जा आएगी। ऐसे लोग भी हैं जो वास्तुशास्त्र vastu shastra के सिद्धांतों को बहुत ज्यादा तवज्जो नहीं देते हैं। वह भी मानते हैं कि अगर घर ghar वास्तु vastu के मुताबिक है तथा उसमें कोई दोष नहीं है तो उसे बेचना आसान होता है। बाथरूम का वास्तु शास्त्र कैसा होना चाहिए? Bathroom ka vastu shastra kya hona chahiye?

, स्नानघर किस दिशा में होना चाहिए, वायव्य कोण में क्या होना चाहिए, घर में किस दिशा में क्या होना चाहिए, किचन किस दिशा में होना चाहिए, बेडरूम किस दिशा में होना चाहिए, पश्चिम मुखी घर में शौचालय, वास्तु के अनुसार शौचालय का गड्ढा, अगर उत्तर दिशा में टॉयलेट हो तो क्या करें, वास्तु शास्त्र के अनुसार स्नानघर किस दिशा में होना चाहिए, bathroom kis disha me hona chahiye , bathroom ki disha mein hona chahiye, bathroom ki disha mein hona chahie, toilet ki disha mein hona chahiye, kitchen bathroom kis disha mein hona chahiye, toilet ki seat kis disha mein hona chahiye, vastu ke anusar bathroom kis disha mein hona chahiye, bathroom konsi disha me hona chahiye, bathroom konsi disha mein hona chahiye, bathroom ka darwaja kis disha mein hona chahiye, bathroom ka darwaja kis disha mein hona chahie, toilet ka door kis disha mein hona chahiye, ghar me bathroom kis disha mein hona chahiye, bathroom kis disha mein rakhna chahiye, ,शौचालय किस दिशा में होना चाहिए, शौच करते समय मुख किस दिशा में होना चाहिए, वास्तु टिप्स फॉर टॉयलेट सीट इन हिंदी, स्नानघर किस दिशा में होना चाहिए, वास्तु के अनुसार शौचालय का गड्ढा, शौचालय का रंग कैसा होना चाहिए, लैट्रिन बाथरूम किस दिशा में होना चाहिए, वास्तु शास्त्र के अनुसार घर, वायव्य कोण में क्या होना चाहिए, , शौच करते समय मुख किस दिशा में होना चाहिए, बाथरूम किस दिशा में होना चाहिए, , किस दिशा में नहाना चाहिए, ईशान कोण में शौचालय के उपाय,

आपके घर के हर कमरे के लिए वास्तु शास्त्र (Vastu Shastra) में गाइड लाइंस है। किस दिशा (Direction) में कमरे होने चाहिए कौन से रंग इस्तेमाल करने चाहिए। वास्तु दोष को कैसे खत्म किया जाए सब कुछ उसमें लिखा है।

वास्तु के हिसाब से  बाथरूम कैसा होना चाहिए ? Why should the bathroom be according to Vastu

कई परिवार अपने घर को सजाने और डिजाइन करने मे बहुत मेहनत और पैसा लगाते हैं। इसका कारण है कि ड्राइंग रूम और हाल घर की वह जगह होती है जो आपके मेहमान देखते हैं लिहाजा वे खूबसूरत होने चाहिए। लेकिन मकान मालिकों को घर के हर कमरे को बराबर तवज्जो देनी चाहिए क्योंकि हर जगह को सकारात्मक ऊर्जा के लिए ही ढाला जा सकता है।

bathroom

हमारे घरों मे बाथरूम और टॉयलेट से सबसे ज्यादा उपेक्षित स्थानों में से होते हैं। अधिकतर इस्तेमाल होने वाली इन जगहों को यूं ही छोड़ देना समझदारी नहीं है जो बाथरूम या टॉयलेट वास्तु के मुताबिक नहीं होते हैं। वहां परिवार के लोगों को पैसे की तंगी, तनाव, एक्सीडेंट या खराब स्वास्थ्य का सामना करना पड़ता है ।

अगर आप अपने बाथरूम को फिर से बनवा रहे है या नये सिरे से इसका निर्माण करा रहे हैं तो वास्तु के हिसाब से करवाना आवश्यक होता है।
वास्तु के हिसाब से बाथरूम के लिए दिशाएं-


1. वास्तु के हिसाब से बाथरूम का सीसा कैसे लगा हो? Lead

उत्तरी पूर्वी दीवार पर।

2. वास्तु के हिसाब से बाथरूम का इलेक्ट्रिकल फिटिंग कैसे हो? Electrical fittings

दक्षिण पूर्व दिशा में।

3. वास्तु के हिसाब से बाथरूम के दरवाजे कैसे हो? Bathroom doors

उत्तर या पूर्व में।

4. वास्तु के हिसाब से बाथरूम में पानी की टंकियां और ड्रेनेज कैसे हो? Water tanks and drainage

उत्तर पूर्व या उत्तर पूर्व।

5. वास्तु के हिसाब से बाथरूम टॉयलेट कैसा होना चाहिए? Toilet 

पश्चिम या उत्तर पश्चिम घर में।

6. वास्तु के हिसाब से बाथरूम कैसे होना चाहिए? Bathroom

पूर्व या उत्तर पश्चिम में होना चाहिए।

दक्षिण , दक्षिण पूर्व या दक्षिण पश्चिम दिशा में बाथरूम ना बनवाएं । क्योंकि इससे घर पर रहने वाले लोगों के स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ता है ।

यह भी पढ़े :

बाथरूम में उपयोग होने वाली साज-सज्जा कैसी होती है? Vastu for bathroom decoration

1- बाथरूम में शीशे को उत्तर या पूर्व की दीवार पर लगवाना चाहिए|

2- इलेक्ट्रिकल फिटिंग्स जैसे गीजर साउथ ईस्ट दीवाल में लगाना चाहिए ।

3- एग्जास्ट फैन या वेंटीलेशन के लिए खिड़की है तो उसका मुंह पूर्व या उत्तर पूर्व में होना चाहिए।

4- वाशबेसिन बाथरूम के पूर्व उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा में होना चाहिए ।

5- शावर पूर्व दिशा उत्तर उत्तर पूर्व में लगवाना चाहिए।

6- वाशिंग मशीन दक्षिण पूर्व या नार्थ वेस्ट दिशा में रखना चाहिए।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 748 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

भूख लगने का टॉनिक भूख बढ़ाने के लिए सिरप कौन सी है? : Bhukh lagne wali tonic
कोर्ट मैरिज का मतलब क्या है? कोर्ट मैरिज कैसे करे? नियम और शर्ते जाने! court marriage ka process kya hai

वास्तु के हिसाब से बाथरूम के दरवाजे कैसे हो? Vastu for bathroom doors

  1. बाथरूम के दरवाजे उत्तर या पूर्व दिशा में होनी चाहिए इन में लोहे की जगह लकड़ी के दरवाजे लगाएं।
  2. बाथरूम के दरवाजे पर देवी देवताओं की तस्वीर ना लगाएं ।
  3. बाथरूम के दरवाजे हमेशा बंद रहने चाहिए क्योंकि इसे खुला छोड़ने से घर में नकारात्मक ऊर्जा आएगी और आपके निजी रिश्तों को खराब करेगी|

वास्तु के हिसाब से बाथरूम का रंग कैसा होना चाहिए ? Bathroom color according to Vastu

बाथरूम के लिए हल्के रंग क्रीम कराना चाहिए। काला या गहरा नीला रंग ना करें।

बाथरूम के साथ दीवाल के लिए टिप्स क्या है?Tips for walls with bathroom

वास्तु शास्त्र के सिद्धांतों के मुताबिक सोने वाला बेड कभी बाथरूम में टॉयलेट के पास नहीं होना चाहिए। सुनिश्चित करें कि बाथरूम की दीवार बेडरूम की ना हो ।

बाथरूम के लिए वास्तु क्या है? Vastu for bathroom

वाटर आउटलेट्स नार्थ , नार्थ ईस्ट होना चाहिए ।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

बाथरूम का ढलान भी इसी दिशा में होना चाहिए।

अटैच और अलग बाथरूम के लिए वास्तु कैसा होना चाहिए? Vastu For Attachments And Separate Bathrooms

वास्तु के मुताबिक टॉयलेट बाथरूम अटैच नहीं होना चाहिए। लेकिन जगह की कमी के कारण शहरी घरों में यह सुविधा उपलब्ध नहीं है। इसलिए अटैच बाथरूम काफी पॉपुलर है और हर जगह इस्तेमाल किए जाते हैं।

घर में बाथरूम और टॉयलेट के लिए बेस्ट लोकेशन कैसे करे? Best location for bathroom and toilet in the house

अटैच टॉयलेट के साथ बाथरूम के लिए वास्तु टिप्स वाटर फ्लो सेट की जगह यह पूजा घर के नीचे या ऊपर नहीं होना चाहिए । यह उत्तर

दक्षिण के साथ होना चाहिए।

1- टॉयलेट की प्लेसमेंट : Toilet placement

घर के मध्य उत्तर पूर्व या दक्षिण पश्चिम दिशा में टॉयलेट नहीं होना चाहिए।

2- सेप्टिक टैंक की प्लेसमेंट ? Septic tank placement

टॉयलेट के दक्षिण की ओर सेप्टिक टैंक नहीं होना चाहिए इसके लिए घर के पश्चिमी हिस्से में जगह ज्यादा अच्छी होती है।

3- वाटर स्टोरेज एवं टंकियों का प्लेसमेंट : Water storage and placement of tanks

दक्षिण पश्चिम या दक्षिण पूर्व में टंकियां नहीं होनी चाहिए। इस दिशा में पानी को जमा करके ना रखें।
अगर आप बाथरूम और टॉयलेट स्पेस के कंस्ट्रक्शन के नियमों को ध्यान में रखकर करेंगे तो आप समझ पाएंगे कि वास्तु शास्त्र सिर्फ घर में सकारात्मक ऊर्जा लाने के लिए नहीं है बल्कि इन नियमों के जरिए आपका घर हमेशा हाइजीनिक और उपयोगी रहेगा।

वास्तु और कंस्ट्रक्शन के चरण क्या है? Vastu and construction phase

जब आप निर्माण शुरू करते हैं तो वास्तु तत्वों को शामिल करना बेहतर होता है। पोजीशन के लिए तैयार घर में व्यवस्थित अलमारियां और वाशबेसिन बाथ टब आदि की दिशा में पहले से ही तय किए गए परिवर्तनों में बदलाव करना मुश्किल हो सकता है । इसमें सेटिंग करने के लिए नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है |

बाथरूम गलत स्थान पर होने का प्रभाव क्या होता है? Effect of misplaced bathroom toilet

1- उत्तर दिशा : North direction

व्यापार वृद्धि और पैसों की किल्लत।

2- उत्तर पूर्व : North East 

परिवार के सदस्यों को स्वास्थ्य
समस्याएं ।

3- पूर्व : East

पाचन तंत्र और लीवर को प्रभावित करने वाली स्वास्थ्य समस्याऐ होती हैं।

4- दक्षिण पूर्व : South East

विवाह या संतान के साथ-साथ आर्थिक समस्या ।

5- दक्षिण : South

कानूनी पचड़े या फिर बिजनेस में मानहानि ।

6- दक्षिण पश्चिम : South West 

रिलेशनशिप या हेल्थ संबंधी समस्या आ सकती है ।

7- पश्चिम : West  

प्रॉपर्टी से जुड़ी समस्याएं पैदा हो सकती हैं।

osir news

8- उत्तर पश्चिम : North West  

संपत्ति बेचना मुश्किल हो सकता है।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

अग्नि प्रज्वलित करने का मंत्र क्या है जाने | Agni prajwalan mantra in hindi
रीढ़ की हड्डी में दर्द के घरेलू नुस्खे होगा तुरंत लाभ आसान उपाय | Reedh ki haddi mein dard ke gharelu nuskhe
कॉपी-किताब / स्टेशनरी की दुकान कैसे खोले ? How to open Stationery shop in hindi
नीम करोली बाबा मंत्र : नीम करोली बाबा जी की सम्पूर्ण आरती और लाभ | Neem karoli baba mantra
मीन राशि के भगवान कौन है ? प्रसन्न करने कि पूजा विधि और आरती | Meen rashi ke bhagwan : बृहस्पति को मजबूत करने के 5 घरेलू उपाय
★ सम्बंधित लेख ★