हनुमान चालीसा कैसे सिद्धि कैसे करें ? पूजा विधि सामग्री और हनुमान चालीसा मुहूर्त Hanuman Chalisha siddh and Hindi process

यह बात तो हम सभी जानते हैं कि जो व्यक्ति हनुमान  Hsnuman जी की सच्चे मन से पूजा करता है उसे किसी भी चीज की कमी नहीं होती है। क्योंकि हनुमान जी अपने भक्तों के सभी कष्टों को हर लेते हैं। Hanuman chalisa banifit and how to siddhi in hindi !



यह बात तो जग प्रसिद्ध है कि कलजुग में हनुमान जी ही एक ऐसे देवता हैं, जो आज भी जीवित है और बहुत से लोगों ने हनुमान जी को महसूस भी किया है |

क्योंकि हनुमान जी को राम भगवान ने अनंत काल तक कलयुग में भक्तों की सेवा करने के लिए कहा था और उन्हीं के आदेश को मानते हुए हनुमान जी कलयुग में भी विराजमान है ।

दोस्तों आपने मेहंदीपुर बालाजी का नाम तो सुना ही होगा। अगर आप इसके बारे में नहीं जानते तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मेहंदीपुर बालाजी हनुमान जी का बहुत ही प्रसिद्ध और विख्यात मंदिर है जहां पर बड़े से बड़े भूत प्रेत भी पानी मांगते हुए नजर आते हैं।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

हनुमान जी की पूजा के नियम, हनुमान पूजन विधि, हनुमान पूजा विधि इन हिंदी पीडीएफ, हनुमान पूजन सामग्री, हनुमान जी का हवन करने की विधि, हनुमान जी की मूर्ति स्थापना कैसे करे, हनुमान जी का आवाहन मंत्र, हनुमान जी को प्रसन्न करने के उपाय, हनुमान सिद्धि विधि, सात बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, हनुमान चालीसा 108 पाठ, 100 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, हनुमान चालीसा के टोटके, सात बार हनुमान चालीसा का पाठ के फायदा, हनुमान चालीसा 7 बार पढ़ने से क्या होता है, 11 बार हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे, हनुमान चालीसा का पाठ कैसे करें, हनुमान सिद्धि विधि,

अगर किसी को भूत प्रेत की समस्या है तो उसे मेहंदीपुर बालाजी अवश्य जाना चाहिए क्योंकि वहां पर जाते ही उसके सिर से सभी बला का खात्मा होता है और व्यक्ति के सभी दुखों का नाश होता है।


दोस्तों यह तो हुई मेहंदीपुर बालाजी की बात, आज के इस आर्टिकल में हम आपको हनुमान चालीसा की सिद्धि कैसे करें, इसके बारे में बताने वाले हैं परंतु उसके पहले हम आपको बता दें कि हनुमान चालीसा एक ऐसी चालीसा है |

जिसमें धार्मिक के साथ-साथ कई वैज्ञानिक बातें भी बताई गई है और हनुमान चालीसा काफी पावरफुल चालीसा मानी जाती है। रोजाना इसका पाठ करने से व्यक्ति को किसी प्रकार की कोई भी समस्या नहीं रहती है ! यह पोस्ट आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है !

तो चलिए चलते हैं आज के इस मुद्दे पर और जानते हैं कि हनुमान चालीसा की सिद्धि कैसे की जाती है।

 हनुमान चालीसा सिद्धि आरंभ करने के लिए सही मुहूर्त ? Hanuman Chalisa Muhurat to start Siddhi ?

सबसे पहले तो आपको यह जानना अति आवश्यक है कि हनुमान चालीसा Hanuman chalisa की सिद्धि करने के लिए कौन सा मुहूर्त उपयुक्त होता है, तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर आप हनुमान

चालीसा की सिद्धि करना चाहते हैं, तो आपको अपनी सिद्धि की शुरुआत किसी भी शुभ मुहूर्त या फिर किसी भी शुक्ल पक्ष के मंगलवार या फिर हनुमान जयंती के दिन रात को 9:00 बजे के बाद करनी होगी ।

सिर्फ हनुमान चालीसा ही नहीं बल्कि किसी भी प्रकार की सिद्धि siddhi को करने के लिए मुहूर्त का विशेष ध्यान दिया जाता है क्योंकि शुभ मुहूर्त में किया गया काम जल्दी सफल होता है |

हनुमान चालीसा सिद्धि के लिए क्या सामग्री लगती है ? Ingredients for Hanuman Chalisa Siddhi?

हनुमान चालीसा hanuman chalisa  की सिद्धि करने के लिए आपको कुछ सामग्रियों की आवश्यकता पड़ेगी, जिसकी जानकारी हमने नीचे दी है। हनुमान चालीसा की सिद्धि करने के लिए आपको हनुमान जी की मूर्ति फोटो या फिर सिद्ध हनुमान यंत्र की आवश्यकता पड़ेगी।

इसके अलावा आपको अगरबत्ती, चमेली या फिर शुद्ध घी का दीपक और 100 गुलाब के फूलों की आवश्यकता पड़ेगी।

इसके साथ ही आपको गुड़ और चने का प्रसाद भी देना है क्योंकि हनुमान जी को गुड़ और चना बहुत ही प्रिय है, साथ ही आपको थोड़े से सिंदूर की आवश्यकता भी पड़ेगी और एक तांबे के लोटे में थोड़े जल की भी जरूरत पड़ेगी।

हनुमान चालीसा सिद्धि की पूजा विधि क्या है ? Hanuman Chalisa Siddhi Puja Method?

हनुमान चालीसा को सिद्ध करने के लिए शुभ मुहूर्त में सुबह-सुबह 7:00 बजे से पहले उठकर स्नान करें और उसके बाद साफ और स्वच्छ लाल कपड़े पहने और फिर जहां पर आप हनुमान जी की प्रतिमा रखना चाहते हैं

उस स्थान को गोबर से अच्छे से लिपे और वहां पर गंगाजल छिड़क कर उस स्थान को पवित्र करें।ऐसा करना इसलिए जरूरी है कि हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी है और उन्हें साफ सफाई वाले स्थान में ही रखा जाता है।

इसके बाद अपना मुंह उत्तर की दिशा की ओर करके लाल आसन पर बैठे और फिर अपने सामने एक चौकी रखकर उस पर लाल कपड़ा बिछाए और फिर उस चौकी के ऊपर हनुमान जी की मूर्ति, फोटो या फिर हनुमान जी का सिद्ध यंत्र रखें।

फिर उसके बाद पंचोपचार विधि से हनुमान जी की पूजा करें और फिर चावल, धूप, दीप और फूल हनुमान जी के चरणों में अर्पित करें और हनुमान जी से तथा अपने पितरों और वरुण देव तथा अपनी कुलदेवी से हनुमान चालीसा को सिद्ध करने के लिए मदद करने का आग्रह करें और मन ही मन हनुमान जी से अपने ऊपर कृपा करने की गुजारिश करें |

हनुमान चालीसा सिद्धि संकल्प विधि क्या है  ? Hanuman Chalisa Siddhi Sankalp Method?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

हनुमान चालीसा को सिद्ध करने से पहले आपको संकल्प लेना है। संकल्प लेने के लिए सबसे पहले आप अपने हाथों में जल, फूल और चावल ले और उसके बाद आप जिस दिन संकल्प ले रहे हैं |

उस वार, उस दिन की तारीख, उस जगह और अपने नाम को लेकर अपनी इच्छा मन ही मन हनुमान जी के समक्ष बोले और अपनी इच्छा बोलने के बाद अपने हाथों में ली गई सभी चीज को आप जमीन में छोड़ दें |

फिर उसके बाद दूब लेकर हनुमान जी की फोटो, मूर्ति या हनुमान जी के सिद्ध यंत्र पर तीन बार जल का छिड़काव करें और उन्हें प्रणाम करें।

ऊपर बताई गई सभी विधियों को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद आप हनुमान चालीसा का जाप शुरू कर दें।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हनुमान चालीसा को सिद्ध करने के लिए आपको 108 बार हनुमान चालीसा का जाप करना होगा। आप चाहे तो रोजाना एक बार हनुमान चालीसा का जाप कर सकते हैं।

अगर आप रोजाना एक बार हनुमान चालीसा का जाप करते हैं तो आपको इसकी सिद्धि करने के लिए 108 दिन तक हनुमान चालीसा का जाप करना होगा। ! यह पोस्ट आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है !

इसके साथ ही जब एक बार आप हनुमान चालीसा का जाप कर ले तो हनुमान जी की फोटो पर पानी का छिड़काव करें और फिर उन्हें प्रणाम कर के उठ जाएं और अगले दिन फिर यही क्रम हनुमान चालीसा का पाठ करने के बाद दोहराएं।

जब आप हनुमान चालीसा का 100 पाठ पूरा कर ले तो 100 पाठ को पूरा करने के बाद उसी दिन “रां रामा नम: मंत्र की एक माला का जाप अवश्य करें क्योंकि हनुमान जी के गुरु राम जी ही थे और राम जी के बिना हनुमान जी का और हनुमान जी की बिना राम जी का काम नहीं चलता है |

इसीलिए राम जी की एक माला का जाप अवश्य करें और फिर जब आपका 108 पाठ पूरा हो जाए तो सबसे आखरी दिन 108 पाठ को पूरा करने के बाद हनुमान जी को भोग में गुड़ और चने का प्रसाद लगाएं और फिर इस प्रसाद को भक्तों में बांट दें और आपने अपनी साधना के दरमियान जो भी फूल और पुष्प हनुमान जी को चढ़ाएं हैं |

उन्हें ले जाकर सुबह-सुबह किसी बहते हुए पानी में डाल दें।इस तरह से आपकी हनुमान चालीसा सिद्ध हो जाती है। अगर भक्त सच्चे मन से इस विधि को करते हैं तो उन्हें हनुमान चालीसा की सिद्धि अवश्य प्राप्त होती है।

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन