जय हिंद का नारा किसने दिया था और जय हिंद का नारा कब दिया गया ? | jay hind ka nara kisne diya ?

jay hind ka nara kisne diya ? . जय हिंद का नारा किसने दिया . जय हिन्द का नारा किसने दिया ? जैसा कि आप लोग जानते हैं कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम में ना जाने कितने लोगों ने अपने बलिदान से भारत को अंग्रेजों के हाथों की गुलामी से आजादी दिलाई थी ऐसे में आप लोगों ने आजादी  के नारों के बारे में सुना होगा और कई महान नेताओं ने नारों के द्वारा जनता के मन को जागृत कर आजादी के लिए संघर्ष करने के लिए आगे बढ़ाया था. jai hind ka nara  kisne diya tha ? jai hind ka nara  kisne kisne diya tha ? 

अब ऐसे में आप लोगों ने जय हिंद का नारा सुना ही होगा और कई लोगों के द्वारा इस बात की पुष्टि की जाती है कि जय हिंद का नारा सुभाष चंद्र बोस ने नहीं दिया बल्कि सुभाष चंद्र बोस के साथ कार्य करने वाले उनके सचिव ने दिया था.

, भारत माता की जय का नारा किसने दिया, भारत छोड़ो का नारा किसने दिया, दिल्ली चलो का नारा किसने दिया, जय जवान जय किसान का नारा किसने दिया, वंदे मातरम का नारा किसने दिया, जय हिंद का मतलब क्या होता है, जय हिंद का नारा दिया गया, इंकलाब जिंदाबाद का नारा किसने दिया, जय हिंद का नारा कब दिया, हिन्द का मतलब क्या है, जय हिंद जय भारत फोटो, जय हिंद का नारा दिया गया, जय हिंद जय भारत वंदे मातरम, जय हिन्द की सेना, आजाद हिंद फौज का गठन कहां किया गया, जय हिन्द, jay hind ka nara kisne diya , jay hind ka nara kisne diya tha, jay hind ka naara kisne diya tha aur kab, jai hind ka nara kisne diya, jai hind ka nara sabse pahle kisne diya, jai hind ka nara sabse pehle kisne diya tha, जय हिंद का नारा किसने दिया, जय हिंद का नारा किसने दिया था, जय हिन्द का नारा किसने दिया, jai hind jai bharat ka nara kisne diya, jay hind ka nara kisne diya, jay hind ka nara kisne diya jay hind ka nara kisne diya, jai hind ka nara, ,

अब आपके मन मे सवाल आएगा कि ऐसा कैसे हो सकता है .अगर आप भी इस बात को लेकर बहुत ज्यादा कन्फ्यूजन में है तो चिंता की कोई बात नहीं है मैं आपके सभी सवालों का जवाब आर्टिकल के माध्यम से दूंगा जय हिंद का नारा किसने दिया था तो आइए जानते हैं.

जय हिंद का नारा कब दिया गया ? | jay hind ka nara kab diya gya

जय हिंद का नारा कब दिया गया इस विषय में काफी मिले-जुले तथ्य हैं चलिए हम आपको उन सारे तथ्यों के बारे में बताते हैं इसके बाद आप स्वयं तय कर पाएंगे कि आखिर यह नारा कब दिया गया.

सन 1933 में आस्ट्रिया की राजधानी वियना मैं पहली बार नेताजी की मुलाकात पिल्लई जी से हुई और चेम्पाकरमन पिल्लई जी ने नेता जी का स्वागत जय हिंद के नारे से किया तभी से नेता जी को यह नारा बहुत ज्यादा पसंद आ गया.

चेम्पाकरमन पिल्लई जी को ही पहली बार जय हिंद का नारा प्रयोग करने वाला माना जाता है. इनका जन्म 15 सितम्बर, 1891 में तिरुवंतमपूरम में हुआ था आर्यन कॉलेज के पत्ते से ही देश प्रेमी थे और अपने साथ पढ़ने वाले बच्चों के साथ या जय हिंद का नारा का असर प्रयोग करते थे.


इसलिए यह तय करना मुश्किल है कि यह नारा सबसे पहले कब दिया गया था लेकिन इतिहास के मुताबिक अगर तीन तत्वों को ध्यान दिया जाए तो हम क्या कह सकते हैं कि 1933 में या नारा दिया गया जिसे नेताजी सुभाष चंद्र वाला प्रचारित और प्रसारित किया गया.

लेकिन कुछ लोगों का कहना यह भी है कि जब सुभाष चंद्र बोस ने 21 अक्टूबर 1943 को आजाद हिंद फौज का गठन किया उसी समय इस नारे को प्रचार और प्रसार किया गया और उसे पूछ आज का ऑफिशियल नारा घोषित किया गया.

इस विषय पर विस्तृत जानकारी के लिए आप या विकिपीडिया का आर्टिकल पढ़ सकते हैं जहां से आपको एक सॉलिड जानकारी मिल पाएगी > जय हिन्द – विकिपीडिया

जय हिंद का नारा किसने दिया | jay hind ka nara kisne diya ?

जय हिंद का नारा सुभाष चंद्र बोस के द्वारा नहीं दिया गया था बल्कि उनके साथ काम करने वाले उनके सहयोगी और सचिव जैनुल अबिदीन हसन ने दिया था। जो इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने केेेेे लिए जर्मनी गया था जहां पर उनकी मुलाकात  सुभाष चंद्र बोस के साथ हुई थी ।

इस बात की पुष्टि हैदराबाद की महान शख्सियतों और लघुकथाओं पर आधारित एक किताब मे इस बात का उल्लेख किया गया है। उनकी मुलाकात सुभाष चंद्र बोस के साथ हुई तो उन्होंने उनसे मिलने बाद अपनी इंजीरियरिंग की पढाई  छोड़ दी और उनके साथ भारत केेेे स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेने के लिए आजाद हिंद फौज जॉइनिंग किया था।

इसके अलावा इस बात का वर्णन पूर्व नौकर शाह मार्टिन लूथर ने अपनी किताब लेंगेंडोट्स ऑफ हैदराबाद मे उस व्यक्ति के बारे में बताया है जिन्होंनेे यह नारा दिया था। इस किताब केेेे अनुसार जब तृतीय विश्व युद्धध के समय सुभाष चंद्र बोस जर्मनी में हिटलर से मिलनेेे के लिए  थे।

इसी दौरान उन्हें युद्ध बंदियों और जर्मनी में रहने वाले कुछ भारतीयों की एक बैठक को संबोधित करने का मौका मिला वहीं पर उनकी मुलाकात जैनुल अबिदीन हसन नाम केेेेेे युवक के साथ हुई थी  जो वहां पर इंजीनियर की पढ़ाई कर रहा था

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 810 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

असली सच्चाई जाने : मुठ मारने से क्या शरीर में कमजोरी आती है ? | Kya muth marne se sarir kamzor hota hai ?
क्यों? प्यार किसी और से शादी किसी और से जाने इसके नुकसान और फायदे | Pyar kisi aur se shadi kisi aur se

वह नौजवान इतना सुभाष चंद्र के बातों से इतना प्रभावित हुआ कि उन्होंने सुभाष चंंद्र बॉस से कहा कि भारत के स्वतंत्रता संग्राम में भाग लेना चाहते हैंं इसके बाद सुभाष चंद्र बोस नेे कहा की आगे आप अपनी पढ़ाई पूरी करें उसके बाद आजाद हिंद फौज आप ज्वाइन कर सकते हैं।

जैनुल अबिदीन हसन कौन है ? |  Who is Zainul Abidin Hassan?

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

यह  भारत के हैदराबाद में रहने वाला एक डिप्टी कलेक्टर का लड़का था जो इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के लिए जर्मनी गया था  और जहां उनकी मुलाकात सुभाष चंद्र बोस हो गयी  और बाद में आपने पढ़ाई छोड़ कर सुभाष चंद्र के बॉस के साथ आजाद हिंद फौज में शामिल हो गये। जहां पर वह नेताजी के सचिव के तौर पर कार्य करने लगे।

आगे चलकर आजाद हिंद फौज में वह मेजर के पद पर भी कार्य किया। वह बचपन से ही देशभक्ति की भावना से बहुत ज्यादा प्रभावित थे यह गांधीजी के साबरमती आश्रम में भी जाया करते थे और जहां गांधी जी के भाषण को काफी ध्यान से सुना करते थे तभी से इनके अंदर देशभक्ति की भावना तेजी के साथ उत्पन्न हुई और देश के लिए कुछ कर गुजरने की इनमें चाहत भी आ गयी ।

भारत के आजादी के बाद भारत के राजनायिका तौर पर डेनमार्क देश में भी काम  किया था। 1959 में वह रिटायर हो  गए और वापस भारत के हैदराबाद शहर में आ गए जहां उनकी मृत्यु 73 साल की उम्र में हैदराबाद में 1983 में हो गयी थी ।

जय हिंद नारा कैसे उत्पन्न हुआ ? | How Jai Hind slogan originated?

जब जैनुल अबिदीन हसन सुभाष चंद्र बोस के साथ कार्य करने लगे और सुभाष चंद्र बोस को अपनी सेना में जोश भरने के लिए उन्हें एक नारे की जरूरत पड़ी तो इसी बात को  लेकर  1 दिन सुभाष चंद्र बोस बैठकर सोच रहे थे तभी उनके सचिव जैनुल अबिदीन हसन आ गए और नेताजी के साथ बैठकर उनसे उन्होंने पूछा कि आप इतना क्या सोच रहे हैं?

इस पर नेताजी ने कहा कि सेना के अंदर जोश भरने केेेे लिए एक ऐसे नारे की जरूरत हैै जिसके द्वारा उनके अंदर और भी ज्यादा देशभक्ति और जोश भरा जा सके। जैसा कि आप जानते हैं कि भारत में जब कोई भी हिंदू जब एक दूसरे के  साथ कहीं पर मिलता है तो वाह एक दूसरे का संबोधन राम राम शब्द के द्वारा करते हैं। इसके अलावा जब कोई मुस्लिम किसी मुस्लिम से मिलता है तो आपने संबोधन में सलाम आलेकुम शब्द का इस्तेमाल करता है। इसके विपरीत कोई पंजाबी जॉब मिलता है तो सत श्री आकाल“का इस्तेमाल करता है।

इसी प्रकार नेता जी को भी एक ऐसेे ही नारी की जरूरत है जिसके द्वारा देेश में लोगों के मन को जागृत कियाा जा सके ताकि भारत को आजादी अंग्रेजो के द्वारा दी जा सके। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आबिद हसन नेताजी को सबसे पहले hello शब्द का सुझाव दिया था।

लेकिन नेताजी को शब्द बिल्कुल पसंंद नहीं आया फिर बाद में उन्होंने जय हिंद का नारा दिया जो नेताजी को बहुत ही पसंद आया और उसके बाद इस नारा के द्वाराा ही नेता जी ने भारत को अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त करवाया था।

इस प्रकार हम कह सकते हैं कि जय हिंद नारा नेताजी के द्वारा भले ही ना दिया गया हो लेकिन उसका प्रचार और प्रसार नेता जी के द्वारा ही किया गया था और इस बात की पुष्टि तो आप लोगों ने कई प्रकार की किताबों और अखबारों के द्वारा किया होगा.

लेकिन इसमें भी कोई राय नहीं है कि जय हिंद नारा नेताजी के द्वारा नहीं दिया गया था बल्कि उस नारे को देने वाले शख्स का नाम जैसे कि मैंने आपको article के ऊपर बताया है तो अब आपके सारे सवालों के जवाब आपको मिल गए होंगे उसके बाद भी अगर आपका कोई भी कंफ्यूजन है तो आप कोई भी बड़ी ऐतिहासिक पुस्तक का सहारा ले सकते हैं जहां आप इस बात की पुष्टि कर पाएंगे कि हमारे द्वारा  जो भी चीज बताई गई है सही या गलत है।

osir news

उम्मीद करता हूं कि आपको आर्टिकल पसंद आया होगा अगर पसंद आए तो इसे लाइक और शेयर करें और अगर आपका कोई भी सवाल है तो मेरे कमेंट बॉक्स में पूछे मैं उसका उत्तर देने के लिए हमेशा आपकी सेवा में उपस्थित रहूंगा तब तक के लिए धन्यवाद और मिलते हैं अगले article में।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

लक्ष्मी माता की पूजा कैसे करें ? माँ लक्ष्मी से जुडी ऐसी बाते जाने जो कोई नही बतायेगा ! How to worship Lakshmi Mata in hindi?
गणेश मंत्र जाप विधि और लाभ किस्मत चमक जाएगी | Mantra of ganesh
सपने में पानी में डूबने का क्या मतलब होता है ? : sapne me khud ko pani me dubte dekhna
क्या व्रत में दवा खा सकते हैं : व्रत के नियम और जाने किसे व्रत है वर्जित | Kya vrat me dawa kha sakte hai
व्यक्तित्व क्या है ? लोगो के बारे में पूरी जानकारी What is Personality and type factors in Hindi
★ सम्बंधित लेख ★