लिविंग रूम के लिए वास्तु शास्त्र और सही दिशा जाने living room vastu in hindi

Baithak rum ka vastu shastra kya hai? बैठक रूम का वास्तु शास्त्र किसे कहते है?  बैठक रूम (living room) को स्वागत का ड्राइंग रूम Drawing room या लिविंग रूम living room कहते हैं। जबकि जहां मेहमान को ठहराया जाता है । उसे अतिथि कक्ष या गेस्ट रूम (Guest room) कहा जाता है। हमारे बैठक रूम से ही हमारी पहचान बनती है। ड्राइंग रूम का अर्थ? लिविंग रूम का मतलब क्या है? Living room ka vastu? living room furniture as per vastu?

बैठक रूम living room हमारी हैसियत व्यक्तित्व और विचारों idea को प्रदर्शित करता है। बैठक रूम (living room) परिवारों (family) के लिए एकजुट होने का स्थान है। जहां वे दिन भर की थकान के बाद कुछ समय एक साथ बिताना पसंद करते हैं । यहीं बैठ कर भी वार्ता और गपशप करते हैं। जब कोई मेहमान आता है तो उसको इसी रूम में बैठाया जाता है। बैठक रूम क्या है?

Living room ka vastu, , vastu ke anusar living room ka colour, living room design as per vastu, living room as per vastu shastra, living room sofa vastu, living room furniture as per vastu, living room as per vastu, living area as per vastu, living room furniture vastu, living area vastu, living hall vastu, living room vastu tips, , वास्तु के अनुसार बेडरूम का कलर, लिविंग रूम का मतलब, ड्राइंग रूम किसे कहते हैं, बैठक रूम का कलर, ड्राइंग रूम कलर कॉम्बिनेशन, ड्राइंग रूम डेकोरेशन, ड्राइंग रूम वास्तु, बैठक रूम डिजाइन, ड्राइंग रूम का अर्थ,

बैठक रूम (living room) वास्तु के अनुसार होने से कई तरह की परेशानियों से बचा जा सकता है । बैठक रूम कैसा होना चाहिए वहां हमारे और मेहमानों (guest) के बैठने का स्थान कहां होना चाहिए।

लिविंग रूम का वास्तु कैसे होना चाहिए ? Vastu of living room 

लिविंग रूम मकान का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है । यह वह हिस्सा है होता है जिसमें गृह स्वामी का वैभव सुरुचि संपन्नता और मानसिकता प्रदर्शित होती है ।

लिविंग रूम की अच्छी तरीके से की गई सजावट के साथ न केवल वास्तु और फेंगशुई के अनुसार की गई साज सज्जा न केवल कमरे की खूबसूरती को बढ़ाती है। बल्कि सुख समृद्धि व खुशहाली भी लाती है। लिविंग रूम के वास्तु से संबंधित कुछ तथ्य –

लिविंग रूम उत्तर पूर्व पश्चिम या उत्तर पश्चिम में बनाना चाहिए।


2. वास्तु के अनुसार इसे शुभ माना जाता है अन्य कमरों की तुलना में लिविंग रूम बड़ा होना चाहिए।

3. लिविंग रूम में फर्नीचर इस तरह से रखें कि आने जाने में किसी तरह की परेशानी ना हो।

4. बीम के नीचे सोफे या कुर्सी ना रखें ।

5. लिविंग रूम का उत्तर पूर्व अन्य धरातल से नीचा होना चाहिए ।

6. इस रूम में पूर्व में अधिकतम खिड़की होनी चाहिए ।

7. दक्षिण और पश्चिम भाग कुछ ऊंचा होना चाहिए, तथा बहुत ज्यादा सुसज्जित होना चाहिए ।

8. टीवी म्यूजिक आदि मनोरंजन वाले उपकरण इसी दिशा में रखें।

9. अपने पूर्वजों की फोटो व उनकी निशानियां को व्यवस्थित ढंग से लगाएं जिससे अतिथियों पर गलत असर न पड़े।

10. बैठने का अरेंजमेंट इस तरह से होना चाहिए कि घर का मुखिया पूर्व या उत्तर मुखी हो ।

11. सीलिंग के बीचोंबीच एक झूमर ना हो कर दो झूमर इस तरह से लगाएं कि बीच की जगह खाली हो ।

12.- मेहमानों के बैठने का अरेंजमेंट दक्षिण व पश्चिम मुखी हो ।

13. लिविंग रूम में फूलों की सजावट का खास महत्व है यहां पर रंग बिरंगे फूलों से भरा वास खूबसूरत तरीके से सजा होना चाहिए।

14. आर्टिफिशियल फूलों की जगह रियल फूलों का इस्तेमाल सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाता है।

15. मेन एंट्रेंस पर मांगलिक तोरण जरूर लगा होना चाहिए ।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 748 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

सम्पूर्ण माँ दुर्गा पूजन विधी, सामग्री और मनोकामना पूर्ति हेतु सफल उपाय
श्री महालक्ष्‍मी यंत्र क्या है ? महा लक्ष्मी यंत्र के फायदे और स्थापना विधि ! श्री महालक्ष्‍मी बीज मंत्र Shri mahalakshmi yantra benefit and mantra

16. कमरे के उत्तर पूर्व उत्तर पूर्व में कोई वाटर बॉडी रखना वास्तु के अनुसार शुभ होता है।

17- सेहत धन वैभव के अनुसार भी अच्छा रहता है।

यह भी पढ़े :

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

18- लिविंग रूम के लिए वर्गाकार आयताकार स्वरूप ज्यादा अच्छा माना जाता है इससे  पॉजिटिव एनर्जी मिलती है ।

19- यदि कमरे की डिजाइनिंग ना हो तो कमरे में कोई पौधा लगाना शुभ माना जाता है।

20- जमीन पर सजाए हुए खूबसूरत कारपेट देखने में अच्छे लगते हैं और मेहमानों को भी आकर्षित करते हैं।

21- लिविंग रूम में शोपीस पर्दे आदि सलीके से लगाएं।

22- दीवारों में लाइट कलर्स यूज़ करें।

23- दीवारों का कलर छत के कलर से अलग हो।

24- कमरे में युद्ध ,क्रोधित हाव-भाव , मौत वाली फोटो, पेंटिंग या तस्वीर ना लगाएं।

25- इस कमरे को साफ रखें साथ ही नेचुरल लाइट और आने की पूरी व्यवस्था हो |

26-इसकी छत ना तो बहुत ऊंची हो और ना बहुत नीचे क्योंकि ऊंचाई से असुरक्षा का एहसास होता है जबकि छत के नीचे होने से दबाव

महसूस होता है ।

27- एयर के लिए लिविंग रूम में कम से कम दो खिड़कियां जरूर हो।

28- लिविंग रूम को डायनिंग रूम किचन के साथ नहीं होना चाहिए।

29- सोफा सेट दक्षिण-पश्चिम हिस्से की दीवार के पास रखें ।

30-फिश एक्वेरियम या फाउंटेन को उत्तरी कोने में रखें ।

31-लिविंग रूम में अट्रैक्टिव बनाने के लिए लाइट कलर की दीवारों पर डार्क कलर की फोटो लगाएं।

32- अगर कमरे में फायरप्लेस बनाना चाहते हैं तो उसे दक्षिण पूर्व या उत्तर पश्चिमी हिस्से पर बनाएं।

osir news

बैठक रूम में चित्र कौन से लगाये ? Living room pictures

  • बैठक रूम में कभी भी नकारात्मक चित्र ना लगाएं जैसे ताजमहल महाभारत या किसी कांटेदार पौधे का चित्र जंगली जानवर, रोते हुए बच्चे ,नंगे बच्चे, युद्ध के दृश्य भगवान व पेड़ के चित्र भी ना लगाएं ।
  • बैठक रूम में हंस की बड़ी सी तस्वीर लगाई जिससे की अपार धन संपत्ति की प्राप्ति की सम्भावनाएं बढ़े।
  • इसके अलावा कहीं किसी कोने में धन के ढेर का एक छोटा सा चित्र भी लगा सकते हैं।
  • गृह कलह व वैचारिक मतभेद से बचने के लिए हंसते मुस्कुराते संयुक्त परिवार का चित्र लगाएं यदि आप दूसरों के चित्र ना लगाना चाहे तो खुद के ही परिवार के सदस्यों का प्रसन्नचित मुद्रा में दक्षिण पश्चिम दिशा के कोने में एक तस्वीर लगाएं।

  • समुद्र किनारे दौड़ते हुए सात घोड़ों की तस्वीर लगाने के लिए पूर्व दिशा को शुभ माना गया है। यह तस्वीर किसी वास्तुशास्त्री से पूछ कर ही लगाएं।
  • घोड़ों की तस्वीर ना लगाना चाहे तो आप तैरती हुई मछलियों के चित्र भी लगा सकते हैं| बैठक रूम में घर के मुखिया की सीट के पीछे पहाड़ या उड़ते हुए पक्षी का चित्र लगा हो। ऐसी तस्वीरों से आत्मविश्वास और मनोबल बढ़ता है।
  • पूर्वी दीवार को उगते हुए सूरज फलों और फूलों के कुछ चित्रों द्वारा सजाया जा सकता है।
  • यदि देवता के चित्र रखना ही चाहते हैं तो पूर्वोत्तर दिशा सर्वोत्तम है।
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

I.F.S.C. का Full Form : किसी भी Bank का IFSC कोड कैसे जाने? | What is IFSC code : full form of I.F.S.C. code?
30 की उम्र के बाद महिलाओं में होता है इन 9 बीमारियों का खतरा
14 संकेत : कैसे पता करे की वो मुझसे प्यार करती है ? | ladki pasand karti hai kaise jane ?
पुत्र प्राप्ति मंत्र : गुणवान संतान की प्राप्ति के लिए 3 मंत्र एवं 5 अचूक उपाय – Putra prapti mantra
सूर्य मंत्र : सूर्य मंत्र जाप विधि आरती फायदे और सूर्य मंत्र PDF | सूर्य मंत्र – सूर्यदेव मंत्र : Surya mantra
★ सम्बंधित लेख ★