महादेव मंत्र संस्कृत : सर्व कष्ट निवारक मंत्र ,पूजा विधि और सामग्री | महादेव मंत्र संस्कृत : Mahadev mantra sanskrit

महादेव मंत्र संस्कृत | Mahadev mantra sanskrit : हेलो दोस्तों स्वागत है आपका आज के हमारे लेख पर आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से महादेव मंत्र | महादेव मंत्र संस्कृत के बारे में बताने वाले हैं अगर आप लोग भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको उसके लिए सोमवार के दिन बहुत बड़ी संख्या में भगवान शिव की कृपा को प्राप्त करने के लिए और उन्हें प्रसन्न करने के लिए आपको उनकी श्रद्धा पूर्वक पूजा-पाठ और व्रत करना है.

अगर कोई व्यक्ति महाकाल की पूजा करता है तो उसे अकाल मृत्यु का भय नहीं रहता है सप्ताह के सभी दिन किसी ना किसी देवता को अर्पित किए गए हैं उसी प्रकार भोलेनाथ को सोमवार का दिन समर्पित किया गया है इस दिन सभी भक्तों महादेव की कृपा को प्राप्त करने के लिए और उन्हें प्रसन्न करने के लिए श्रद्धा पूर्वक उनकी पूजा-अर्चना और बत्तख आदि करते हैं अगर कोई व्यक्ति सोमवार के दिन भोलेनाथ का व्रत और पूजा पाठ करता है.

महादेव मंत्र ,, महादेव मंत्र संस्कृत,, महादेव को प्रसन्न करने वाले मंत्र ,, महादेव की पूजा कैसे करें ,, महादेव की पूजा में लगने वाली सामग्री ,, महादेव की पूजा की संपूर्ण विधि ,, Mahadev ki puja ki sampurna vidhi,, Mahaadev ki pooja mein lagane wali samagri,, Mahadev ki puja kaise karen,, Mahaadev ko prasan karne wale mantra,, mahadev mantra sanskrit,, mahadev sanskrit,, mahadev mantra in sanskrit mp3,, mahadev sanskrit mantra,, mahadev sanskrit shlok,, mahadev mantra in sanskrit,, mahadev sanskrit shlok status,, mahadev sanskrit quote,,

तो उससे भोलेनाथ जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं और अपने सभी भक्तों के सभी कष्टों को दूर कर देते हैं आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से भगवान भोलेनाथ के चमत्कारी और सबसे प्रिय मंत्र के बारे में बताने वाले हैं अगर आप जॉब करते हैं तो भगवान शिव बेहद प्रसन्न हो जाते हैं यह मंत्र सभी मंत्रों में से शक्तिशाली है.

भगवान महादेव मंत्र | महादेव मंत्र संस्कृत से संसार के सभी कष्ट से मुक्ति मिल जाती है और उनके जीवन में सकारात्मक का आ जाती है तो आइए जानते हैं कि महादेव मंत्र | महादेव मंत्र संस्कृत क्या है और भगवान शिव के अन्य मंत्र कौन से हैं भगवान भोलेनाथ की पूजा कैसे की जाती है.

भोलेनाथ की पूजा की संपूर्ण विधि क्या है इन सारे विषयों की संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं अगर आप इसे प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें काफी आप लोगों को इस की संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके.

महादेव मंत्र | Mahadev Mantra 

mata parvati


ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान्मृ त्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ।।

महादेव मंत्र जाप विधि

अगर आप लोग महादेव मंत्र का जाप करना चाहते हैं तो आपको इसके लिए रुद्राक्ष की माला से इस मंत्र का जाप करना है जिस माला से आप जाप कर रहे हैं वह माला किसी भी व्यक्ति को नहीं देना है इसीलिए उस माला को गोमुखी में रखकर जाप करें.

महादेव मंत्र संस्कृत | Mahadev mantra sanskrit

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॥

महादेव को प्रसन्न करने वाले मंत्र | Mahaadev ko prasan karne wale mantra

ॐ नमः शिवाय

अगर आप लोगों के भगवान शिव के मंत्र का 108 बार जाप करते हैं तो आपका मन दिमाग शांत हो जाता है और इस मंत्र का जाप करने से भगवान शिव का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है.

ॐ नमो भगवते रुद्राय नमः

इस मंत्र को भगवान शिव का रूद्र मंत्र भी कहा जाता है ऐसा कहा जाता है कि इस मंत्र का उच्चारण करने से भगवान शिव सभी मनोकामना को पूर्ण कर देते हैं.

ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् |
उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात् ||

इस मंत्र को भगवान शिव का महामृत्युंजय मंत्र कहा जाता है इस मंत्र का जाप करने से किसी भी व्यक्ति का व्यक्ति और नश्वरता से वह व्यक्ति छुटकारा पा जाता है.

ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि
तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्!

या मंत्र भगवान शिव का गायत्री मंत्र है इस मंत्र का जाप करने से घर में सुख और शांति प्राप्त होती है.

करचरणकृतं वाक् कायजं कर्मजं वा श्रवणनयनजं वा मानसंवापराधं ।
विहितं विहितं वा सर्व मेतत् क्षमस्व जय जय करुणाब्धे श्री महादेव शम्भो ॥

इस मंत्र को भगवान शिव का क्षमा प्राप्ति मंत्र कहा जाता है ऐसा कहा जाता है कि इस मंत्र का जाप करना बहुत ही शुभ माना जाता है इस मंत्र से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और अपने भक्तों को आशीर्वाद देते हैं.

महादेव की पूजा कैसे करें ? | Mahadev ki puja kaise karen ?

अगर आप लोगों महादेव की पूजा करना चाहते हैं तो आपको उसके लिए प्रतिदिन अपने हाथों में थोड़ा सा जल लेकर पहले अपने हाथों को शुद्ध कर देना है उसके बाद सुगंधित धूपबत्ती जलाकर भगवान गणेश को नमस्कार करने के बाद अपने घर के शिवलिंग पर जल भगवान शिव का अभिषेक करना है उसके बाद पिछले दिन का लगा चंदन जल से धो लेना है अब आपको शिवलिंग पर लपेटी गई रुद्राक्ष की माला को जल से शुद्ध कर लेना है.

shivling

इसके बाद शिवलिंग पर अभिषेक करने के बाद साफ पात्र में भजन एकत्रित कर लेना है प्रसाद में आपको प्रतिदिन चरणामृत बनाना है पूजा करने के बाद आपको अपने घर में और परिवार में इस चरणामृत को बांट देना है उसके बाद आपको चंदन से तैयार लेट हो भगवान शिव की शिवलिंग पर 3 धारियाँ बनाकर ॐ के आकार में बना देना है. उसके बाद आपको भगवान शिव की शिवलिंग पर रुद्राक्ष की माला लपेट देना है और उन्हें करघे में विराजमान कर देना है।

उसके बाद आपको प्रतिदिन 108 बार एक माला पञ्चाक्षर मन्त्र ‘नमः शिवाय’ जाप करना है अगर आप किसी भी काम में व्यस्त है तो आपको 12 बार इस मंत्र का सिद्ध मंत्र जाप करना है. अब आपको भगवान शिव की आरती करनी है और पूजा को संपन्न करना है यह पूजा प्रक्रिया आपकी लगभग 15 से 20 मिनट के अंदर पूरी हो जाती है.

महादेव की पूजा में लगने वाली सामग्री | Mahaadev ki pooja mein lagane wali samagri

अगर आप लोगों की पूजा करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको संपूर्ण सामग्री की आवश्यकता होती है लेकिन अगर 1 दिन की साधारण की पूजा करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको छोड़ दिया बाती अभिषेक करने के लिए गंगाजल अगर आपके पास नहीं है तो शुद्ध जल भी चल जाता है प्रसाद में आपको इलायची दाना या बताशे धूपबत्ती और चंदन और चंदन का पाउडर रख लेना है।

एक साधारण सी पूजा में यह सारी चीजें बहुत ही आसानी से मिल जाती है आप चाहे तो इस सामान को दुकान से भी मंगवा सकते हैं.

लेकिन अगर आप भोलेनाथ के त्यौहार यानी की शिवरात्रि और सावन के सोमवार पर पूजा करना चाहते हैं और उसकी तैयारी के लिए पूरी सामग्री को एकत्रित करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको सफ़ेद फूल, बेल पत्र (साबुत तीन पत्तियों वाला), धतूरे का फल ( उसमें आपको धतूर के फूल फल चढ़ाने हैं शिवजी को), सफ़ेद मिठाई, पंचामृत, गुलाब जल, कच्चा दूध, दही, घी, शहद, इत्यादि थोड़ी-थोड़ी मात्रा में एकत्रित कर लें।

महादेव की पूजा की संपूर्ण विधि | Mahadev ki puja ki sampurna vidhi

Shiv

भगवान शिव की संपूर्ण पूजा विधि को आप शिवरात्रि और अन्य भगवान शिव के संबंधित अन्य अवकाश पर भी इन मंत्रों का जाप कर सकते हैं वैसे तो इन मंत्रों के साथ में 16 अनुष्ठानों के साथ भगवान शिव की पूजा की जाती है उसके बाद देवी देवताओं की पूजा की जाती है उसके बाद षोडशोपचार की पूजा के रूप में जाना जाता है.

1. ध्यानम्

अगर आपको भगवान शिव की पूजा की शुरुआत करने जा रही हूं तो आपको उसके लिए सबसे पहले भगवान शिव के जान मंत्र का जाप करना होगा शिवलिंग के सामने बैठकर ध्यान मंत्र का जाप करें वह मंत्र हमने आपको नीचे दे दिया है।

ध्यानिनित्यम महेशम राजतगिरिनिमं चारु चंद्रवत्सम।
रत्नकलपोज्जवलंगा परशुम्रिगवरभीतिहस्तम प्रसन्नम॥
पद्मसिनम सामंत स्तुतममारगनैरव्याघ्र कृतिम वासनाम।
विश्ववद्यम विश्वविजम निखिला-भयाहरम पंचवक्त्रम त्रिनेत्रम॥
वंधुका सन्निभम देवास त्रिनेत्रम चंद्रशेखरम।
त्रिशूल धरिनाम देवा चारुहसम सुनिरमलम॥
कपाल धरिनां देवा वरदभय-हस्तकम।
उमाया साहित्यं शंभूम ध्याने सोमेश्वरम सदा॥

2. आवाहनं

ध्यान मंत्र का जाप करने के बाद आपको भगवान शिव का आवाहन करना है आवाहन करने के लिए आपको भगवान शिव की मूर्ति के सामने बैठकर नीचे दिए गए मंत्र का जाप करना है आवाहन शुरू करने से आवाहन मुद्रा अवश्य पता होनी चाहिए आगरा में बैठकर आपको उस मंत्र का जाप करना है ( आवाहन मुद्रा में बैठने के लिए आपको दोनों हथेलियों को जोड़कर और दोनों अंगूठे को अंदर की ओर मोड़ कर बैठना है )।

अगच्छा भगवन्देव स्थान छात्र स्तिरोभव।
यवतपूजं करिश्मामि तवतत्वं सन्निधौभवः

3. पाद्यम्

पाद्यम् समरपया – आवाहन मंत्र का जाप करने के बाद नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव के पैरों को धोने के लिए जल अर्पित करना है.

महादेव महेशन महादेव परात्परः।
पद्य गृहण मच्छतम पार्वती साहित्येश्वरः

4. अर्घ्यम्

अर्घ्यं समरपयामी – उसके बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव के सिर से अभिषेक करना है.

त्र्यंबकेश सदाचार जगदादी-विद्याकाः।
अर्घ्यं गृहण देवेश साम्ब सर्वार्थदायकाः

5. आचमनीयम

अचमनियम समरपयामी -उसके बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव को आचमन कराना है.

त्रिपुरान्तक दिनार्ति नशा श्री कंठ शाश्वत।
गृहणचमन्यं चा पवित्र्रोदक-कल्पितम्॥

6. गोदुग्धस्नानम्

गोदुग्धा स्नानं समरपयामी – उसके बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए गाय के दूध से भगवान शिव को स्नान कराना है.

मधुरा गोपायः पुण्यम् पटपुतम पुरुषकृतम्।
स्नानार्थम देव देवेश गृहण परमेश्वरः!

7. दधिस्नानम्

दधि स्नानम समरपयामी – नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए आपको दही से भगवान शिव को स्नान कराना है.

दुर्लभम दिवि सुस्वादु दधी सर्व प्रियं परम।
पुष्टिदम पार्वतीनाथ! सन्नय प्रतिग्रह्यतम:

8. घृत बम्

घृत स्नानं समरपयामी -नीचे दिए गए मंत्र का जाप करके भगवान शिव को घी से स्नान कराना है.

घृतं गव्यं शुचि स्निग्धाम सुसेव्यां पुष्टिमिच्छतम।
गृहण गिरिजानाथ स्नानाय चंद्रशेखर:

9. मधु स्नानम्

मधु स्नानं समरपयामी – नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए आपको आरोप शहद से स्नान कराना है.

मधुरम मृदुमोहघनम स्वरभंगा विनाशम।
महादेवदमुत्ऋषधाम ताब सनाय शंकरः

10. ग्‍लास बाम्

शरकारा स्नानम समरपयामी – अब आपको मंत्र का जाप करते हुए चीनी से भगवान शिव को स्नान कराना है.

तपशांतिकारी शीतलाधुरस्वदा संयुक्ता।
स्नानार्थम देव देवेश! शरकारेयम प्रियाते॥

11. शुद्धोदक स्नानम्

शुद्धोदका स्नानम समरपयामी – नीचे दिए गए शुद्धोदक मंत्र का जाप करते हुए आपको ताजे पानी से भगवान शिव को स्नान कराना है.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 896 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

मनपसंद लड़की पटाने का मंत्र जाने : Ladki patane ka mantra
दुकान में ग्राहक आने की दुआ : दुकान में बिक्री बढ़ाने के कुछ बेहतरीन अमल | Dukan me grahak aane ki dua

गंगा गोदावरी रेवा पयोशनी यमुना तथा।
सरस्वतीदि तीर्थनी स्नानार्थम प्रतिगृह्यतम॥

12. वस्त्र

वस्त्रम समरपयामी – उसके बाद आपको पंचामृत से भगवान शिव का अभिषेक करना है और साथ में नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए उन्हें वस्त्र अर्पित करने हैं.

सर्वभूषाधिके सौम्ये लोका लज्जा निवारणे।
मयोपादित देवेश्वर! गृह्यतम वसासी शुभे

13. यज्ञोपवीतं

यज्ञोपवीतम समरपयामी – वस्त्रों को अर्पित करने के बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हैं भगवान शिव को पवित्र धागा अर्पित करना है.

नवभिष्ंतुभिर्युक्तम त्रिगुणम देवतमायम।
उपवितं छोत्तरियाम गृहण पार्वती पति!॥

14. गंधम्

गंधम समरपयामी – उसके बाद भगवान शिव के इस मंत्र का जाप करते हुए उन्हें चंदन का लेप या चूर्ण चढ़ाना है.

श्रीखंड चंदनं दिव्यं गंधाध्यां सुमनोहरम।
विलेपनं सूर श्रेष्ठः चन्दनम प्रतिगृह्यतम॥

15. अक्षतं

अक्षतं समरपयामी – अब आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव को अक्षत अर्पित करने हैं सात बार घूमते हुए अखंड चावल पहने हैं.

अक्षतश्च सुराश्रेष्ठः शुभ्रा धूतश्च निर्मला।
माया निवेदिता भक्ति गृहण परमेश्वर:

16. पुष्पाणी

पुष्पमालं समरपयामी – अब आपको भगवान शिव के इस मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव को फूल और माला चढ़ानी है.

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

माल्यादिनी सुगंधिनी मालत्यादिनी वै प्रभु।
मयनीतानी पुष्पाणी गृहण परमेश्वर:

17. बिलाव पत्राणी

बिल्व पत्रनी समरपयामी – अब आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित करने हैं.

बिल्वपत्रम सुवर्णें त्रिशूलकर मेवा चा।
मायार्पिताम महादेव! बिल्वपत्रम गृहनाम॥

18. धूपम्

धूपम अघरपयामी – उसके बाद भगवान शिव के सामने धूपबत्ती और अगरबत्ती जलानी है वह भी नीचे दिए गए मंत्र के साथ.

वनस्पति रसोद्भूत गन्धध्यो गन्ध उत्तमः।
अघ्रेयः सर्वदेवनं धूपोयं प्रति गृह्यतम॥

19. दीपां

दीपं दर्शयामी – अब नीचे दिए गए मंच के साथ आपको भगवान शिव के सामने शुद्ध देसी घी का दीपक जलाना है.

अजयम च वर्ति संयुक्तम् वहनिना योजितम् माया।
दीपम गृहण देवेश! त्रैलोक्यतिमिरपाह॥

20. नावेद्यं

नैवेद्यम निवेद्यमी – अब आपको नीचे को नीचे दिए गए मंत्र के साथ हाथ धोकर नैवेद्य अर्पित करें। उसके बाद आपको फल फूल मिठाई आदि भगवान शिव की शिवलिंग पर आपसे कर देना है.

शरकाराघृत संयुक्ता मधुरम स्वदुचोट्टम।
उपहार संयुक्तम् नैवेद्यं प्रतिगृह्यताम्॥

21. अद्भुतनीयं

अचमनियम समरपयामी – अब आपको नीचे दिए गए मंत्र के साथ भगवान शिव को अचमन कराना है.

एलोशिरा लवंगदि करपुरा परिवासितम्।
प्रशनार्थम कृत तोयम गृहण गिरिजापतिः!

22. ताम्बुलम्

तंबुला निवेदयामी – अब आपको नीचे दिए गए मंत्र के साथ है भगवान शिव के सामने पान का पत्ता अर्पित करना है.

पुंगी फलम महाद दिव्यं नागवल्लीदलैर्युतम।
एलाचुर्नादि संयुक्ता तंबुलम प्रतिगृह्यताम्॥

23. दक्षिणी

दक्षिणम समरपयामी – उसके बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र के साथ धन अर्पित करना है.

हिरण्यगर्भ गर्भस्थं हेमाबिजं विभवसो।
अनंत पुण्य फलदामता शांतिम प्रयाच्छा मे॥

24. आरती

आरर्तिक्यं समरपयामी –  उसके बाद आपको पूजा की थाली में कपूर जलाकर नीचे दिए गए मंत्र का जाप करते हुए और भगवान शिव की आरती करनी है.

कदली गर्भ संभूतम करपुरम चा प्रदीप्तिम्।
अरार्तिक्यमं कुर्वे पश्य मे वरदो भव

25. प्रदक्षिणाम्

प्रदक्षिणं समरपयामी – आरती के बाद आपको नीचे दिए गए मंत्र का जाप करके भगवान शिव की आधी परिक्रमा पूर्ण करनी है.

यानी कनि चा पापनी जनमंतर कृतिनी वाई।
तानी सरवानी नश्यंतु प्रदक्षिणंम पदे

26. मन्त्र पुष्पांजलि

पुष्पांजलि समरपयामी – उसके बाद आपको नीचे लिखे मंत्र का जाप करके भगवान शिव को मंत्र और पुष्प अर्पित कर देना है.

नाना सुगंधपुष्पश्च यथा कलोद्भैरपि।
पुष्पांजलि मायादत्तम गृहण महेश्वरः

27. क्षमाप्रार्थना

सबसे बाद में आपको मंत्र के साथ पुष्पांजलि क्षमा प्रार्थना का मंत्र जाप करते हुए भगवान शिव से क्षमा मांगी है.

आवाहनं ना जन्मी ना जन्मी तवरचनम।
पूजाम चैव न जन्मी क्षमस्व महेश्वरः
अन्यथा शरणं नस्ति त्वमेव शरणं मम।
तस्मतकरुणयभवन राक्षसः

शिव की आरती | Shiv ki Aarti 

Shiv

ओम जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा। ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

एकानन चतुरानन पञ्चानन राजे। हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे। त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

अक्षमाला वनमाला मुण्डमालाधारी। त्रिपुरारी कंसारी कर माला धारी॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

श्वेताम्बर पीताम्बर बाघंबर अंगे। सनकादिक गरुड़ादिक भूतादिक संगे॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

कर के मध्य कमण्डलु चक्र त्रिशूलधारी। सुखकारी दुखहारी जगपालनकारी॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका। मधु-कैटभ दो‌उ मारे, सुर भयहीन करे॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

लक्ष्मी, सावित्री पार्वती संगा। पार्वती अर्द्धांगी, शिवलहरी गंगा॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

पर्वत सोहैं पार्वती, शंकर कैलासा। भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

जटा में गंग बहत है, गल मुण्डन माला। शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

काशी में विराजे विश्वनाथ, नन्दी ब्रह्मचारी। नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी॥
ओम जय शिव ओंकारा॥

त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे। कहत शिवानन्द स्वामी, मनवान्छित फल पावे॥
ओम जय शिव ओंकारा॥ ओम जय शिव ओंकारा॥ 

FAQ : महादेव मंत्र | महादेव मंत्र संस्कृत

शिव पूजा में क्या नहीं करना चाहिए ?

अगर आप यह जानना चाहते हैं कि भगवान शिव के पूजन में क्या नहीं करना चाहिए तो हम आपको बता दें कि शास्त्रों के अनुसार कुछ ऐसे नियम बताए गए हैं कि भगवान शिव की पूजा में आपको केवड़ा और चंपा के फूल कभी ना चढायें, उसके बाद आपको कभी भी भगवान शिव को सिंदूर और केसर अर्पित नहीं करना चाहिए क्योंकि वह सन्यासी है भगवान शिव को कुमकुम सिंदूर लगाने के बजाय उन्हें भस्म लगानी चाहिए भगवान शिव को भस्म अत्यंत प्रिय है.

क्या शिवलिंग पर तुलसी चढ़ाई जाती है?

आप जानते हैं कि भगवान शिव के शिवलिंग पर तुलसी चढ़ाना वर्जित है भगवान शिव को आप बेलपत्र और अन्य पत्तियां बिना कटी फटी तीनों पत्तियों वाली हूं तो चढ़ा सकते हैं भोले भंडारी को फूल अत्यंत प्रिय है तो अपनी श्रद्धा के अनुसार उन्हें फूल अर्पित करें और अपने भक्ति और भावना के साथ भगवान शिव की पूजा करें.

शिव जी का प्रिय मंत्र कौन सा है?

निष्कर्ष

जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से महादेव मंत्र | महादेव मंत्र संस्कृत के बारे में बताया महादेव को प्रसन्न करने वाले अन्य मंत्र भी बताएं महादेव की पूजा कैसे करें उनकी संपूर्ण विधि क्या है इसके बारे में भी बताया अगर आपने हमारे इस लेख को अच्छे से पढ़ा है.

osir news

तो आपको इसकी संपूर्ण जानकारी अवश्य मिल गई होगी उम्मीद करते हैं हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी वह भी और आपके लिए उपयोगी भी साबित हुई होगी.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

दूध डेयरी कैसे खोले? डेयरी फार्म का बिजनेस आईडिया कैसे शुरू करें? | dairy business में मुनाफा कितना होता ?
जाने कैसे बिना रुके 1 घंटे तक पत्नी को खुश करे : 8 आसान प्रयोग | Bina ruke 1 ghante tak patni ko khush kare
[PDF] श्री सूक्त संपूर्ण लिखा हुआ : सुख-शांति,धन और एश्वर्य की प्राप्ति के लिए | श्री लक्ष्मीसूक्तम् और उसकी संपूर्ण विधि एवं लाभ PDF Download link | sri suktam sampurn
भूत क्या होता है : भूत प्रेत क्या क्यों और कैसे होते है जाने | bhoot kya hota hai
कन्या राशिफल 2023 : कैरियर,रिलेशन,प्यार और भविष्यफल | कन्या राशिफल वालों के लिए वार्षिक राशिफल 2023 : Kanya rashifal 2023
★ सम्बंधित लेख ★