मरने के बाद हमारे साथ क्या होता है ? insan ke marne ke bad aatma ka kya hota hai

Marne ke bad hamare sath kya hota hai ? जीवन का एक सुखद पल होता है केवल परिवार Family के लोगों के साथ भले ही एक दुखद वक्त Said timing हो लेकिन मरने वाले की आत्मा सदा के लिए मुक्त हो जाती है हालांकि सवाल Question यह उठता है कि मरने के बाद हमारे साथ क्या होता है हमारी आत्मा कहां चली जाती है |

शरीर के अंदर उपस्थित जीवात्मा किस प्रकार से हमारे शरीर से बाहर हो जाती है और हमारा पंचतत्व से निर्मित शरीर अपने-अपने तत्व में विलीन हो जाता है।

मरने के बाद लोगों के द्वारा बस यही कहा जाता है की आदमी को मुक्ति मिल गई है हरके इतना होता है कि यदि कोई व्यक्ति धार्मिक Person religious प्रवृत्ति का होता है तो लोग यह सोचते हैं कि मरने के बाद After death स्वर्ग में स्थान मिलेगा या नर्क में स्थान मिलेगा |

kya hota hai marne ke bad shamshan ghost danger

 

वस्तुतः अच्छे लोगों के लिए यही कहा जाता है कि यह स्वर्ग की प्राप्ति करेगा और बुरा व्यक्ति है तो उसे मरने के बाद नर्क मिलेगा यदि आपने अच्छे कर्म किए हैं तो आपको स्वर्ग मिलेगा और बुरे कर्म किए हैं तो आपको नर्क का द्वार मिलेगा।

मरने के बाद हमारे साथ क्या होता है ? What happens to us after we die :

बहुत से धार्मिक व्यक्तियों का यह मानना होता है की आत्मा कभी नहीं नष्ट होती है केवल अपना रूप बदलती है गीता में श्रीकृष्ण ने भी इस विषय में कहा है कि आत्मा को ना तो कोई हवा सुख आ सकती है ना आग जला सकती है ना पानी गिला कर सकता है |

केवल मरने के बाद आत्मा अपने परमधाम की ओर चली जाती है इसके इतर यह भी कहा गया है कि जब व्यक्ति का शरीर वृद्ध हो जाता है तो आत्मा उस शरीर को उसी तरह से त्याग देती है जिस तरह से हमारे कपड़े फट जाने के बाद फेंक दिए जाते हैं।


kankal die mara hua aadmi

दरअसल मरते समय व्यक्ति के अंतिम शब्द कुछ अजीब होते हैं जिनका अनुभव हम कभी भी नहीं कर पाते हैं केवल मरने वाला व्यक्ति ही उस अनुभव का आनंद लेता है उसे महसूस होता होगा कि वह दुनिया की तमाम दुख दर्द से मुक्त हो रहा है और इस सांसारिक मोह माया से दूर जा रहा है।

मरने के बाद स्वर्ग मिलता है या नर्क ? heaven or hell after death :

जहां तक मेरा विचार है कि मरने के बाद मनुष्य को स्वर्ग और नरक कुछ नहीं प्राप्त होता है बल्कि यह एक मिथ्या भ्रम है स्वर्ग और नर्क दोनों इसी धरातल पर हैं बस यह इस बात पर निर्भर करता है कि व्यक्ति के कर्म कैसे हैं |

अंतिम समय में व्यक्ति अपने कर्मों के अनुसार भोग भोग ता है और इसी को हम स्वर्ग या नर्क की संज्ञा दे देते हैं जो कुछ कुछ हद तक सही माना जा सकता है।

स्वर्ग एक कल्पना है और नर्क भी एक कल्पना है हर किस बात पर पड़ता है कि व्यक्ति अपने जीवन को किस प्रकार व्यतीत करता है उसके जीवन जीने की कला ही एक प्रकार का स्वर्ग और नर्क होता है क्योंकि यह निश्चित है कि व्यक्ति जो अच्छे कर्म करता है तो उसके साथ हमेशा अच्छा ही होता रहता है और जो व्यक्ति बुरे कार्य करता है और कहीं ना कहीं अपने बुरे कर्मों का फल भी प्राप्त करता है।

अक्सर लोग मृत्यु से डरते हैं मृत्यु के समय होने वाली विभिन्न प्रकार की घटनाओं से भी व्यक्ति डरता है जबकि उसे यह भी पता है कि मृत्यु निश्चित और अटल है वह एक ना एक दिन हमारे सामने विकराल रूप धारण करके हमें ले जाएगी उसके सामने हमारा कोई बस नहीं चलेगा |

फिर भी इंसान मरने से डरता है इतिहास इस बात का गवाह है कि दुनिया में कोई भी आज तक अमर नहीं रहा है और ना भविष्य में वह अमर होगा।

मौत से डर ही व्यक्ति की बुढ़ापे की ओर ले जाता है और बुढ़ापे में व्यक्ति कुछ इस तरह से अक्षम हो जाता है कि वह पुनर्जन्म की अवधारणा में विश्वास करने लगता है लोग भी इस बात को मानते हैं कि पुनः नया कोई जीवन प्राप्त होगा अब अगली पीढ़ी में उसे किस रूप में जन्म मिलता है यह एक कल्पनीय विषय है।

इतिहास में बहुत सारी ऐसी घटनाएं जरूर मिलती हैं जिससे कोई व्यक्ति मौत से लड़कर वापस लौटा है और उसने अपनी संपूर्ण कहानी को व्यक्त भी किया है |

कुछ लोगों ने मौत से लौट कर के यह बात बताई है कि मैं मर चुका हूं और मरने के बाद मैं ऐसी जगह पर गया हूं जहां पर केवल एक बहुत बड़ा प्रकाश सा दिखाई देता है वहां बिल्कुल शांत और एकांत होता है |

कोई अजीब सी चकाचौंध होती है जिसमें वह खो जाता है और पुनः जब वह उस दुनिया में विचरण करता है तो उसे बहुत ही सुखद और आनंद मिलता है इस प्रकार के अनुभव मर कर लौटने वाले व्यक्तियों ने जीवन में शेयर किया है |

garden swarg bageecha vatavaran beautiful

यहां पर आपको एक उदाहरण दिया जा रहा है जिसमें यह देखा गया कि एक व्यक्ति मौत से लौट कर आया है और उसने बताया कि अचानक मैं ऊपर गया और मैं ऐसे प्रकाश में समा गया जहां पर बहुत ही सुंदर और आनंदमय शांत प्रिय जगह है। यह मानवीय तौर तरीकों से अलग था।

इसीलिए इसे समझ पाना भी काफी मुश्किल है वहां जो कुछ भी देखा वह बहुत ही खूबसूरत था परंतु सब कुछ बदला था सब कुछ साफ नहीं दिखाई देता था हमारे ऊपर जितने भी महान संकट दुख दर्द भी थी वह बिल्कुल नहीं थे बल्कि मैं बहुत ही हल्का महसूस कर रहा था।

इस प्रकार के अनुभव यह बताते हैं कि हमें मौत से नहीं डरना चाहिए बल्कि मौत का स्वागत बड़ी ही शालीनता के साथ करना चाहिए मौत एक ऐसी सुखद और आनंदमई स्थित है जिसका अनुभव जीने वाला व्यक्ति नहीं कर सकता है।

मरने के बाद आत्मा कहां जाती है ? soul go after death

गरुड़ पुराण में मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है इस विषय का विशेष वर्णन किया गया है-

गरुड़ पुराण के अनुसार यह कहा जाता है कि जो व्यक्ति अपने जीवन में अच्छे कर्म करता है उसे स्वर्ग प्राप्त होता है और जो व्यक्ति बुरे कार्य करता है उसे नर्क प्राप्त होता है अच्छे कर्म वालों को स्वर्ग में भव्य स्वागत किया जाता है उनके साथ अच्छा व्यवहार किया जाता है परंतु जो लोग बुरे होते हैं उनके साथ बहुत ही बुरा व्यवहार किया जाता है और सजाएं दी जाती है |

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 739 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

सम्पूर्ण गुरुवार व्रत कथा, सामग्री उद्यापन विधि और आरती | Guruvar vrat katha
जादू टोना हटाने की विधि : इस आसान मंत्र से कट जायेगा हर तरह का टोना टोटका | Totna totka hatane ki vidhi aur mantra

hand light danger Soul Khatarnak

गीता में श्रीकृष्ण ने इस बात को विशेष जोर दिया कि आत्मा अमर और अजर है इसका ना तो अंत होता है और ना प्रारंभ होता है बल्कि शरीर का बदलाव होता है |

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

हमारा शरीर पंच तत्वों से बना हुआ है और मरने के बाद पंचतत्व अपने-अपने तत्व में विलीन हो जाते हैं आत्मा एक प्रकार की ऊर्जा है जो मरने के बाद व्यक्ति के शरीर से बाहर हो जाती हैं और प्रकाश पुंज के रूप में ऊपर की ओर चली जाती है |

गरुड़ पुराण के अनुसार कहा जाता है कि मृत्यु के समय व्यक्ति के सामने कुछ यमदूत आते हैं जो उसे अपने साथ ले जाने की बात करते हैं इसीलिए आत्मा शरीर छोड़ देती है और उन हिंदुओं के साथ चली जाती है उसके बाद आत्मा को एक दिन यमलोक में रखते हैं उसके अच्छे और बुरे कर्मों को दिखाते हैं इसके बाद उसे उसी घर में छोड़ देते हैं जहां उसका जीवन व्यतीत हुआ है।

गरुण पुराण में वर्णित मृत्यु के बाद जब यमदूत यमलोक में आत्मा को ले जाते हैं तो 13 दिनों तक आत्मा परिजनों के बीच में विचरण करती है और 13 दिनों के बाद पुनः आत्मा यमलोक की ओर चली जाती है |

ऐसा भी माना जाता है कि जो व्यक्ति अच्छे कर्म करता है उसकी मृत्यु होते समय उसके प्राण बड़ी आसानी से बिना कष्ट दिए निकल जाते हैं परंतु जो लोग बुरे कर्म करते हैं उनकी आत्मा अंतिम समय में उन्हें बहुत कष्ट देती है |

ऐसा माना जाता है कि मृत्यु के बाद यमलोक के रास्ते में स्वर्ग लोग पितृलोक और नरक लोक भी पढ़ते हैं जो व्यक्ति के कर्मों के आधार पर होते हैं यहीं पर उसके अच्छे और बुरे कर्मों के आधार पर निर्धारित किया जाता है कि उसे कहां पर स्थान दिया जाना है।

शरीर से प्राण कैसे निकलते हैं ? life leave the body

गरुड़ पुराण के अनुसार माना जाता है कि मृत्यु ई समय व्यक्ति कई प्रकार के हावभाव करता है परंतु मुंह से कुछ कहना चाहते हुए भी नहीं कह पाता है अंत समय में उसकी समस्त इंद्रियों निष्क्रिय हो जाती हैं गरुड़ पुराण के अनुसार माना जाता है कि मृत्यु के समय व्यक्ति की आत्मा अंगूठे के बराबर हो जाती है जिसे यमदूत पकड़ लेते हैं और चले जाते हैं।

मस्ती के बाद यमदूत उसे पकड़कर यमलोक ले जाते हैं और रास्ते में उसे बहुत से कष्ट देते हैं ऐसी ऐसी बातों से आत्मा जोर जोर से रोने लगती है परंतु यमदूत ओं को उनके ऊपर कोई दया नहीं आती है।

man aatma night green

आत्मा तरह तरह के कष्ट शक्ति है भूख प्यास से तड़पती है और यमलोक में यमदूत उसे ऐसे रास्ते से ले जाते हैं जहां उसे बिल्कुल किसी प्रकार का कोई उजाला नहीं दिखाई देता है अर्थात अंधेरे मार्ग से ले जाते हैं।

यमलोक की दूरी कितनी है ? distance of Yamlok

गरुड़ पुराण के अनुसार यमलोक की दूरी को 99000 योजन बताया गया है यदि वर्तमान में इसकी गणना हम किलोमीटर में करें तो एक योजन बराबर 16 किलोमीटर माना जाता है |

ऐसी स्थिति में जब यमलोक यमदूत ले जाते हैं तो रास्ते में थोड़ी-थोड़ी देर पर आत्मा को सजा भी देते जाते हैं इसी दौरान यमराज की आज्ञा के अनुसार यमदूत उस आत्मा को पुनः उसके घर ले जाते हैं।

nav sun rise nadi die

कहा जाता है कि यमदूत मरने वाले की आत्मा को वापस उसके घर जब लाते हैं तो उसकी आत्मा पुनः अपने शरीर में प्रवेश करने की इच्छा रखती है लेकिन यमदूत उसको मुक्त नहीं करते हैं जिसके कारण मरने वाले व्यक्ति की आत्मा की शांति हेतु उसके पुत्रों के द्वारा पिंडदान कराया जाता है।

पिंड दान क्यों करते हैं ? Why do Pind Daan :

मरने के बाद आत्मा भूख प्यास आज से तड़पती है यदि आत्मा भूख प्यास से तड़पती है तो वह मान्यताओं के अनुसार भूत प्रेत का रूप धारण कर सकती है जो सुनसान जगहों पर या जंगलों में निवास करती है मरने वाले की आत्मा की शांति के लिए पिंड दान करना जरूरी हो जाता है गरुड़ पुराण कहता है कि पिंडदान से आत्मा को शांति प्राप्त होती है और उसे चलने की शक्ति मिलती है।

आत्मा का शरीर कैसे बनता है ? body of the soul formed

मृत्यु हो जाने के बाद व्यक्ति के शरीर को जलाने पर मृत शरीर से अंगूठे के बराबर शरीर उत्पन्न होता है जो यमलोक के मार्ग में अपने कर्मों के अनुसार शुभ और अशुभ फल प्राप्त करता है इसीलिए पिंडदान करने के पहले दिन –

soul chehre danger khatarnak

मूर्धा (सिर), दूसरे दिन से गर्दन और कंधे, तीसरे दिन से ह्रदय, चौथे दिन के पिंड से पीठ, पांचवें दिन से नाभि, छठे और सातवें दिन से कमर और नीचे का भाग, आठवें दिन से पैर, नौवें और दसवें दिन से भूख-प्यास आदि उत्पन्न होती है।

कितने दिनों बाद आत्मा यमलोक पहुंचती है ? many days the soul reaches Yamaloka

man running danger night

गरुण पुराण के अनुसार कहा जाता है कि व्यक्ति की आत्मा मरने के बाद 13 दिन तक उसी घर के आस-पास घर में निवास करती है उसके बाद यमलोक के लिए प्रस्थान करती है कहा जाता है कि 13 दिन बाद यमदूत आत्मा को पकड़ कर भूखे प्यासे अकेले यमलोक ले जाते हैं |

osir news

रास्ते में वैतरणी नदी जो 86000 योजन की मानी जाती है उसको छोड़कर 47 दिन में यमलोक पहुंच जाती है इस प्रकार से आत्मा 16 पुरियों को पार कर यमराज के पास पहुंचती है।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

पति प्यार न करे तो क्या करे ? 5 टिप्स- पति प्यार क्यों नही करता है ? What should I do if my husband does not love?
घर में अमरूद का पेड़ शुभ या अशुभ : जाने अमरुद के पेड़ लगाने की लाभ और नुक्सान | Amrud ka ped shubh ya ashubh : अमरुद के पेड़ के फायदे
अगर पति या Boyfriend बात ना करें तो क्या करें ? What to do if husband/boyfriend does not talk hindi?
खाटू श्याम के चमत्कार : कृपा प्राप्ति उपाय और खाटू श्याम पूजा विधि | Khatu shyam ke chamatkar aur khatu shyam ki puja vidhi
अश्वगंधा चूर्ण की सेवन विधी और अश्वगंधा के 8 फायदे और 5 नुकसान जाने | अश्वगंधा चूर्ण के फायदे : गठिया,चिंता,नींद आना,ट्यूमर,अस्थमा,त्वचा पर सफेद दाग
★ सम्बंधित लेख ★