मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है ?

मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है ? दुनिया में जिसने भी जन्म लिया है उसकी मृत्यु निश्चित है और यही दुनिया का सबसे बड़ा सत्य है मृत्यु से हर जीव हार जाता है बड़े बड़े ज्ञानी तपस्वी सभी एक ना एक दिन काल के गाल में समा कर मृत्यु को प्राप्त करते हैं इसलिए मृत्यु से मुंह नहीं मोड़ा जा सकता है

भगवत गीता में श्रीकृष्ण ने कहा है कि आत्मा अजर अमर है परंतु शरीर नश्वर है और जब व्यक्ति की आयु पूर्ण हो जाती है तो उसे इस शरीर को छोड़कर दूसरे शरीर में प्रवेश करना पड़ता है यही मृत्यु है भगवत गीता के अनुसार माना जाए तो आत्मा अजर अमर है.

मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है, मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है, mrityu ke baad aatma kahan chali jaati hai, mrityu ke baad aatma kahan jati hai, marne ke baad aatma kitne din tak ghar mein rahti hai, marne ke baad aatma kitne din tak rahti hai, marne ke baad aatma kitne din ghar mein rehti hai, marne ke baad insaan ki aatma kahan jati hai, dharti ka janm, mrityu ke bad aatma kaha jaati hai, अकाल मौत कोई नहीं मरता, जान लेने से 24 घंटे पहले हर इंसान को ये 4 संकेत देते हैं यमराज, मृत्यु से पहले के अनुभव, मौत के संकेत से पहले अंतिम घंटे, वैज्ञानिकों के अनुसार मौत के बाद होता है ये, क्या मौत पहले से ही निश्चित होती है, समय से पहले मौत हो जाना, मरने से पहले यमराज क्या संकेत देते हैं, मृत्यु के प्रकार, मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है, 13 दिन के बाद आत्मा कहां जाती है, अकाल मृत्यु के बाद आत्मा का क्या होता है, मृत्यु के बाद क्या होता है ओशो, मरने के बाद यमराज क्या सजा देता है, आत्मा कितने दिन भटकती है, मृत्यु के बाद 13वें दिन समारोह, आदमी मरने के बाद क्या सोचता है, 13 दिन के बाद आत्मा कहां जाती है, मृत्यु के बाद आत्मा का क्या होता है, मरने के बाद आत्मा कितने दिन घर में रहती है, मरने के बाद यमराज क्या सजा देता है, मृत्यु के बाद क्या होता है ओशो, क्या मृत्यु के बाद अपने प्रियजन से बात हो सकती है, आदमी मरने के बाद क्या सोचता है, आत्मा शरीर में कब प्रवेश करती है, mrityu ke bad aatma kaha jaati hai, mrityu ke bad aatma kaha jati hai, मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है, अकाल मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है, अकाल मृत्यु के बाद आत्मा कहाँ जाती है, गरुड़ पुराण मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है, मृत्यु रहस्य मरने के बाद आत्मा कहाँ जाती है, अकाल मृत्यु होने के बाद आत्मा कहां जाती है, मृत्यु के बाद आदमी की आत्मा कहां जाती है, मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है, mrityu ke baad aatma kahan chali jaati hai, mrityu ke baad aatma kahan jati hai, marne ke baad aatma kitne din tak ghar mein rahti hai, marne ke baad aatma kitne din tak rahti hai, marne ke baad aatma kitne din ghar mein rehti hai, marne ke baad insaan ki aatma kahan jati hai, dharti ka janm, dharti ka janam kaise hua, mrityu ke bad aatma kaha jaati hai, mrityu ke baad aatma , +kahan jati hai, mrityu ke baad aatma kahan chali jaati hai, mrityu ke baad aatma kaha jata hai, mrityu ke baad aatma ka kya hota hai, mrityu ke bad aatma kaha jaati hai, mrityu ke baad aatma kya karti hai, मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती है क्या करती है, marne ke bad atma kahan jaati hai video, after death atma kha jati hai, मृत्यु के बाद में आत्मा कहां जाती है, kal aana hai ya nahi in english, dharti ka janam kaise hua, dharti ka janam kaise hua tha, dharti par insan ka janam kaise hua, hamari dharti ka janam kaise hua, dharti par manushya ka janam kaise hua, dharti par manav ka janam kaise hua, dharti per manushya ka janm kaise hua, धरती का जन्म कैसे हुआ, धरती माता का जन्म कैसे हुआ, dharti ka janam kaise hua, dharti ka janm, prithvi ka janam kaise hua tha, prithvi ka janam kaise hua in hindi, dharti kaise bana hai, earth ka janam kaise hua in hindi, human ka janam kaise hua, dharti ka nirman kaise hua, धरती का जन्म कैसे हुआ बताइए, पृथ्वी का जन्म कैसे हुआ, पृथ्वी का जन्म कैसे हुआ था, धरती पर मनुष्य का जन्म कैसे हुआ, पृथ्वी पर मनुष्य का जन्म कैसे हुआ, पृथ्वी में मनुष्य का जन्म कैसे हुआ, पृथ्वी का जन्म कब और कैसे हुआ, पृथ्वी का जन्म कैसे हुआ और चांद कहां से आया, dharti ka janam kaise hua, dharti ka janm, dharti ka avishkar kaise hua, dharti ka ant kaise hua, dharti kaise bana hai, dharti kaise banaa tha, dharti ka nirman kaise hua, dharti kaise paida hui,

जिसे ना कोई मार सकता ना कोई काट सकता है तो ऐसे में मृत्यु के बाद आत्मा कहां जाती हैं। ऐसे भी मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है और कहां चली जाती है व्यक्ति के अंदर जिज्ञासा होती हैं इस संबंध में गरुण पुराण के अंतर्गत मृत्यु के विषय में विधिवत वर्णन किया गया है।

यदि हम गरुण पुराण का अध्ययन करते हैं तो पाते हैं की मृत्यु के बाद आत्मा यमलोक चली जाति है यमलोक जाने से पहले धरती पर वह कई सारी यातनाएं दी सहती है फिर बाद ही आत्मा इस धरती से पलायन करती है

जब व्यक्ति यह जानने का प्रयास करता है कि मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है और उसके बाद कहां जाती है तो इस संबंध में गरुड़ पुराण में लिखा गया है कि भगवान विष्णु के वाहन गरुड़ ने जब इस विषय में पूछा तो भगवान विष्णु ने विधि पूर्वक बताया.

भगवान विष्णु ने अपने वाहन गरुण को बताया कि जब कोई व्यक्ति इस दुनिया से मृत्यु को प्राप्त करता है तो 47 दिन तक वह इस धरती पर निवास करती है और 45 दिनों के अंदर उसे कई प्रकार के कष्ट दुख और दर्द दिए जाते हैं उसके बाद ही आत्मा यमलोक की ओर प्रस्थान करती हैं.


मृत्यु से पहले जीव के साथ क्या होता है ?

गरुड़ पुराण के अंतर्गत भगवान विष्णु ने बताया कि जब व्यक्ति की मृत्यु निकट होती है तो सबसे पहले उसकी आवाज बंद हो जाती है तथा धीरे धीरे आंखों की रोशनी कम हो जाती है जिससे वह पहचानने में असहज महसूस करता है इस दौरान वह अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल देखता है.

मृत्यु के समय व्यक्ति को विभिन्न प्रकार के अजीबोगरीब दृश्य दिखाई देते हैं उसे कभी-कभी लगता है कि उसके सामने कोई दूध के रूप में खड़ा है जो उसे डरा रहा है इस दौरान उसकी सभी इंद्रियां कमजोर हो जाती हैं।

इस तरह से पल-पल मृत्यु के निकट आते हुए व्यक्ति के अंदर डर भर जाता है और जैसे ही आत्मा शरीर को त्याग अति है तुरंत यमदूत उसे अपने पास में पकड़ लेते हैं और सीधे यमलोक की ओर रवाना हो जाते हैं.

मरने के बाद आत्मा का सफर किस प्रकार का होता है?

गरुण पुराण के अनुसार इस धरती पर दो प्रकार की आत्माएं निवास करती हैं जिसमें से एक पुण्य आत्मा होती है और एक दुरात्मा होती है ऐसे में यदि पुण्य आत्मा दुनिया को छोड़ती है तो भगवान अपने वाहन से स्वर्ग ले जाते हैं लेकिन दूर आत्मा को यमलोक भेज दिया जाता है। जो आत्माएं अधर्मी पापी और नीच होती हैं उनको यमदूत यमलोक ले जाने के लिए ऐसे रास्तों से गुजारते हैं.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 737 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

बेहोश करने वाला स्प्रे का नाम : बेहोश करने वाली दवा की कीमत & नुकसान | Behosh karne wala spray price
पर्सनालिटी डेवलपमेंट कैसे करे ? जाने 10 रहस्य अपना व्यक्तित्व कैसे निखारे और आकर्षक बनाये ? Personality Development top 10 secret in hindi

जिसमें वातावरण गर्म हो आग से भरा हो अंधेरे युक्त हो और वैतरणी नदी से गुजारना पड़ता हो। इस सफर में आत्मा को कष्ट दिया जाता है और जिस दिन व्यक्ति की मृत्यु होती है उसी दिन आकाश में ले जाकर वहां से छोड़ दिया जाता है जो जमीन पर आकर गिरती है और यहां पर फिर यातनाएं सहकर निवास करती है ऐसा इसलिए किया जाता है कि उसके घर परिवार के लोग रसोई के कर्म करें।

इस तरह से मृत्यु के बाद आत्मा 12 दिन तक अपने परिवार के लोगों के साथ व्यतीत करती है और जब तेरहवें दिन परिवार के लोग पिंडदान करते हैं तो यमदूत आत्मा को लेने आते हैं उसके बाद यमलोक लेकर जाते हैं

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

इसीलिए हिंदू धर्म में मृत्यु के तुरंत बाद पिंडदान करने के लिए कहा जाता है क्योंकि व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसे सूक्ष्म शरीर में गतिशीलता हो जाती है फिर भी उसे इस धरती पर रहना पड़ता है क्योंकि जब तक पिंडदान नहीं होता है तब तक आत्मा का सफर कठिन रहता है।

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार यदि व्यक्ति के अंतिम समय में गाय की पूंछ पकड़कर दान करवाया जाता है तो उसे वैतरणी नदी में गाय की पूंछ पकड़वाकर पार कराया जाता है यदि नहीं करता है तो उसे अपने आप उस नदी को तैरकर कष्ट सहते हुए पार जाना होता है।

गरुड़ पुराण में लिखा गया है कि वैतरणी नदी गंगा नदी का रूद्र रूप होता है जिसमें हमेशा आग की लौ निकलती रहती है इसीलिए व्यक्ति को वैतरणी नदी पार करते समय अनेकों कष्ट सहने पड़ते हैं।

वैतरणी नदी पार करने में पापी नीच अधम आत्माओं को 47 दिन का समय लगता है और कर्मों के अनुसार फल भोगते हैं नर्क के रास्ते से नर्क पहुंचते हैं वही अच्छी आत्माएं इस प्रकार के कष्ट नहीं सकती हैं बल्कि सीधे स्वर्ग लोक पहुंचती हैं

मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है ?

मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है यदि इस पर विचार किया जाता है तो धार्मिक मान्यता के अंतर्गत गरुड़ पुराण कहता है कि जो आत्मा पापी नहीं होती है उसको इस धरती पर कष्ट नहीं सहना पड़ता है और मृत्यु के पश्चात स्वर्ग पहुंच जाते हैं.

परंतु जो आत्माएं नीचे धाम बुरी होती हैं उनको स्वर्ग में स्थान नहीं मिलता है और कम से कम 47 दिन तक धरती पर वास करती हैं और इन 47 दिनों में उसे अनेकों अनेक कष्ट उठाने पड़ते हैं। जो आत्माएं बुरी नीच अधम होती हैं उनकी मृत्यु अकाल होती है और अकाल मृत्यु को प्राप्त लोग जब तक उनकी स्वभाव की मृत्यु का समय नहीं होता है तब तक वे इसी धरती पर भटकती रहती हैं।

दूसरी तरफ जो आदमी अपनी स्वाभाविक मृत्यु से इस दुनिया को छोड़ता है और शरीर का त्याग करता है उसकी आत्मा को इस धरती पर अधिक दिनों तक ना रहकर उसी दिन वह स्वर्ग लोक की ओर अग्रसर हो जाती हैं।

osir news

इसीलिए देखा जाए तो मृत्यु दो प्रकार से व्यक्ति की होती हैं एक स्वाभाविक मृत्यु जो आयु पूर्ण होने पर होती हैं दूसरी अकाल मृत्यु जो नीच कार्य करने से प्राप्त होती हैं और नीच कार्य करने से अकाल मृत्यु को प्राप्त होने के बाद स्वाभाविक मृत्यु के दिन तक उसे धरती पर कष्ट सहने होते हैं।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

गर्म पानी पीने के फायदे : सुबह खाली पेट और रात में सोने से पहले | Garam pani peene ke fayde
लड़कियों को व्हाट्सएप नंबर पर मैसेज भेजे : लड़कियों के ग्रुप लिंक | ladki ka number whatsapp message and phone number
90 दिन वीर्य बचाने के 11 आश्चर्यजनक फायदे जाने – 90 Din Virya Bachane Ke Fayde
जाने इन 2 मंत्र से लकवा बीमारी का इलाज करने की विधि | Mantra se lakwa bimari ka ilaj
स्वास्थ्य,शत्रु नाश,संकट और व्यापार वृधि हेतु चमत्कारी हनुमान जी के टोटके | Hanuman ji ke totke
★ सम्बंधित लेख ★