संपूर्ण Radha ashtakam अर्थ Hindi/English पूजा विधि और उसके लाभ | राधा अष्टकम

Radha ashtakam : प्रणाम गुरुजनों आज हम आप लोगों को Radha ashtakam के बारे में बताएंगे राधा अष्टकम में कुल 8 श्लोकों की अद्भुत रचना की गई है जिसमें श्री राधा रानी यानी कि वृन्दावनेश्वरी राधा रानी की महिमा का वर्णन किया गया है जो भी व्यक्ति इस का पाठ करता है उसका मन हमेशा शांत रहता है और राधा रानी तथा श्री कृष्ण मुरली वाले की कृपा हमेशा आप लोगों के ऊपर बरसती रहती है जो भी व्यक्ति दिनचर्या के हिसाब से इसका पाठ करता है.

राधा अष्टकम,, राधा कृष्ण अष्टकम,, श्री राधा अष्टकम,, श्री राधा अष्टकम स्तोत्र,, राधा दामोदर अष्टकम,, radha ashtakam stotram,, radha ashtakam lyrics,, radha ashtakam pdf,, radha ashtakam iskcon,, radha ashtakam benefits,, radha ashtakam mp3 download,, radha ashtakam in hindi,, radha ashtakam in sanskrit,, radha ashtakam lyrics in hindi,, radha ashtakam lyrics in malayalam,, radha ashtakam with meaning,, radha ashtottara satnam,, radha krishna ashtakam,, radha krishna ashtottara shatanamavali,, राधा कृष्ण स्टेटस,, श्री राधा कृष्ण अष्टकम,, राधा अष्टकम का अर्थ क्या है ,, radha naam ka arth kya hai,, radha naam ka kya arth hota hai,, radha naam ka arth kya hai,, राधा नाम का अर्थ क्या है,, राधा नाम का अर्थ क्या होता है,, ghat ka kya arth hai,, radha ki man ka naam kya tha,, radha naam ka arth kya hota hai,, radha naam ka arth,, computer ka pura naam kya hota hai,, love ka arth kya hota hai,, kar ka arth hai,, radha naam ka kya arth hai,, radha ka kya arth hai,, radha naam ka kya matlab hai,, radha ka arth,, radha naam ka kya arth hai,, radha ka kya arth hai,, radha naam ka arth,, radha naam ka kya matlab hai,, radhe naam ka arth kya hai,, राधा नाम का अर्थ क्या है,, राधा नाम का अर्थ क्या होता है,, ghat ka kya arth hai,, radha ki man ka naam kya tha,, radha naam ka arth kya hota hai,, computer ka pura naam kya hota hai,, love ka arth kya hota hai,, kar ka arth hai,, shri radha ashtakam,, shri radha ashtakam lyrics,, shri radha krishna ashtakam,, sri radha ashtakam,, shri radha ji ki stuti,, shri radhika krishna ashtakam,, shri radha naam sankirtan,, shri radha naam kirtan,, shri radha krishna quotes,, shri radhe quotes,, shri radha krishna stotram,, shri radha stotra,, shri radha stotram lyrics,, sri radha krishna ashtakam lyrics in hindi,, shri radha stuti in hindi,, shri radha kataksh stotram,, shri radha stuti lyrics,, shri radha sahastra naam stotram,, shri radha naam sankirtan lyrics,, shri radha kripa kataksh stotra pdf,, radha damodar stotra,, radha damodara prestha,, radha ashtakam stotra,, rahu pratyantar dasha remedies,, radha chalisa benefits,, rahu dasha remedies mantra,, radha ashtakam lyrics in english,, radha ashtakam meaning in hindi,, radhika ashtakam lyrics,, radhika ashtakam lyrics in hindi,, radhika ashtakam lyrics in english,, radha stotram lyrics,, radha stotram lyrics in hindi,, sri radhika ashtakam lyrics,, radha stotram lyrics in english,, radha ashtakam lyrics iskcon,, radhika ashtakam pdf,, radha stotram pdf,, radha ashtakam telugu pdf,, radha krishna ashtakam pdf,, radha ashtakam iskcon lyrics in hindi,, radhika ashtakam iskcon,, radha kund ashtakam iskcon,, benefits of radha krishna idol at home,, iskcon rules and regulations,, iskcon vrindavan open timings,, radhika ashtakam iskcon in hindi,, radha ashtakam iskcon lyrics,, radha stotram benefits,, radha kavach benefits,, radha mantra benefits,, rama ashtakam benefits,, krishna ashtakam benefits,, ramashtakam benefits,, krishna ashtakam benefits in hindi,, lakshmi ashtakam benefits,, radha ashtakam song mp3 download,, radha ashtami mp3 song download,, radhika ashtakam in hindi,, radha stotram in hindi,, radha krishna ashtakam in hindi,, bhav vachak in hindi examples,, kaun sa upay hai,, radha ashtakam benefits,, radha ashtakam in sanskrit,, radha ashtakam in hindi,, radha ashtakam lyrics,, radha stotram benefits,, radha kavach benefits,, radha chalisa benefits,, radha mantra benefits,, radha ashtakam with meaning,, rama ashtakam benefits,, krishna ashtakam benefits,, ramashtakam benefits,, radha ashtakam meaning in hindi,, radha ashtakam iskcon,, krishna ashtakam benefits in hindi,, lakshmi ashtakam benefits,, radha ashtakam pdf,, radha ashtakam stotram,, radha stotram in sanskrit pdf,, radha stotram in sanskrit,, radha stotram sanskrit documents,, meaning of radha in sanskrit,, sanskrit word for radiant,, radha ashtakam lyrics in english,, radha ashtakam lyrics in malayalam,, radha ashtakam lyrics in hindi,, radha kripa kataksha stotra in sanskrit pdf,, radhika ashtakam in hindi,, radha stotram in hindi,, radha krishna ashtakam in hindi,, radhika ashtakam iskcon in hindi,, radhika ashtakam lyrics in hindi,, radha stotram lyrics in hindi,,

उसके ऊपर सदा ही श्री राधा रानी और श्री कृष्ण की अपार कृपा बनी रहती है हमने आज इसमें आपको आपकी इच्छा के अनुसार इस लेख में radha ashtakam के बारे में बताएंगे उसके बाद राधा अष्टकम का संपूर्ण अर्थ हिंदी में बताएंगे तो चलिए सबसे पहले हम आप लोगों को राधा अष्टकम के बारे में बताएंगे कि वह कौन सा अष्टक है जो आपके मन को शांत कर देता है अगर आपको भी अपना मन शांत करना है और राधा अष्टकम का पाठ करना है तो आप इस लेख में अंत तक जरूर बने रहें तभी आपको इसका अर्थ और राधा अष्टकम के बारे में पता चलेगा।

राधा अष्टकम का अर्थ | Radha ashtakam ka arth

राधा अष्टकम में कुल 8 श्लोकों की अद्भुत रचना की गई है जिसमें श्री राधा रानी यानी कि वृन्दावनेश्वरी राधा रानी की महिमा का वर्णन किया गया है जो भी व्यक्ति इस का पाठ करता है उसका मन हमेशा शांत रहता है और राधा रानी तथा श्री कृष्ण मुरली वाले की कृपा हमेशा आप लोगों के ऊपर बरसती रहती है जो भी व्यक्ति दिनचर्या के हिसाब से इसका पाठ करता है उसके ऊपर सदा ही श्री राधा रानी और श्री कृष्ण की अपार कृपा बनी रहती है।

राधा अष्टकम का पाठ क्यों किया जाता है ?

राधा अष्टकम का पाठ इसलिए किया जाता है क्योंकि इसका पास करने से आपका मन शांत हो जाता है तथा आपके जीवन में सारी बुराइयां दूर हो जाती है और आपका स्वास्थ्य हमेशा सही रहता है और आप धन-धान्य से परिपूर्ण समृद्ध हमेशा बनी रहती है और जो भी व्यक्ति नौकरी वाले होते हैं या फिर छात्र होते हैं उनके काम में भी वृद्धि आती है।

राधा अष्टकम | Radha Ashtakam

Radha

नमस्ते श्रियै राधिकार्य परायै नमस्ते नमस्ते मुकुन्दप्रियायै ।
सदानन्दरूपे प्रसीद त्वमन्तःप्रकाशे स्फुरन्ती मुकुन्देन सार्धम् ॥


अर्थ – श्री राधे तुम ही मेरी लक्ष्मी हो तुमको मैं कोटि-कोटि नमस्कार करती हूं तुम ही मेरी परम शक्ति हो तुम्हें मैं बार-बार कोटि-कोटि नमस्कार करती हुं। तुम भगवान श्री कृष्ण की मुकुंद की प्रिय हो तुम्हें मैं नमस्कार करती हूं यह सच्चिदानंद स्वरूपा देवी तुम मेरे अंत कारण में श्याम सुंदर श्री कृष्ण के साथ स्वाभिमान होती हुई मुझ पर प्रसन्न हो जाओ। और मैं आपको कोटि कोटि नमस्कार करती हूं।

स्ववासोऽपहारं यशोदासुतं वा स्वदध्यादिचौरं समाराधयन्तीम् ।
स्वदानोदरं या बबन्धाशु नीव्या प्रपद्ये नु दामोदरप्रेयसी ताम् ॥

अर्थ – हे राधे क्या आप उस श्री कृष्ण की आराधना करती हैं जिन्होंने चोरी से आप के वस्त्र चुरा लिए थे और चोरी से धोखे से आपका माखन भी चुरा लिया करते थे और आपने तो अपनी नीवी से श्री कृष्ण के उधर को भी बांध लिया था जिनके कारण उनका नाम दामोदर पड़ गया था तो आज मैं निश्चित ही उन दामोदर प्रिय की शरण लेती हूं।

दुराराध्यमाराध्य कृष्णं वशे त्वं महाप्रेमपूरेण राधाभिधाऽभूः ।
स्वयं नामकृत्या हरिप्रेम यच्छ प्रपञ्चाय मे कृष्णरूपे समक्षम् ॥

अर्थ – हे राधा रानी आपने तो श्री कृष्ण की आराधना की जिन की आराधना करना बहुत ही ज्यादा कठिन है परंतु आपने अपनी आराधना तथा अपने निश्छल महान प्रेम से श्री कृष्ण को अपने वश में कर लिया है के कारण आप पूरे जग में श्री राधा के नाम से विद्यमान हैं श्री कृष्ण स्वरूपे और आपने अपने आप को श्री कृष्ण स्वरूपे नाम दिया है हे राधा रानी मैं आपकी शरण में आना चाहती हूं मुझ पर कृपा कीजिए तथा मुझे श्रीहरि का प्रेम प्रदान कीजिए।

मुकुन्दस्त्वया प्रेमदोरेण बद्धः पतङ्गो यथा त्वामनुभ्राम्यमाणः ।
उपक्रीडयन् हार्दमेवानुगच्छन् कृपा वर्तते कारयातो मयेष्टिम् ॥

अर्थ – हे राधे श्री कृष्ण तो आपके प्रेम में सदा ढोल से बंधे रहते हैं और जैसे कि एक पतंग की भांति आप के आस पास ही रहते हैं और क्रीड़ा करते रहते हैं हे राधा रानी हे श्री कृष्ण स्वरूप पर आपकी कृपा तो सब पर होती है आप मुझ पर भी अपनी कृपा कीजिए तथा मुझे भी अपनी शरण में अपनी सेवा करने के लिए करवाए।

व्रजन्तीं स्ववृन्दावने नित्यकालं मुकुन्देन साकं विधायाङ्कमालम् ।
सदा मोक्ष्यमाणानुकम्पाकटाक्षः श्रियं चिन्तयेत् सचिदानन्दरूपाम् ॥

अर्थ – हे राधे आप प्रतिदिन श्री कृष्ण को निश्चित समय पर अङ्क की माला अर्थात अंक की माला अर्पित करती है तथा आप श्री कृष्ण के साथ उनकी लीला भूमि श्री कृष्ण वृंदावन धाम में उनके साथ विचरण करती हैं सभी भक्तजनों पर प्रयुक्त होने वाले कृपा से सुशोभित अपुन सच्चिदानंद स्वरूपा श्री लाडली का हमें उनका चिंतन करना चाहिए।

मुकुन्दानुरागेण रोमाञ्चिताङ्गीमहं व्याप्यमानांतनुस्वेदविन्दुम् ।
महाहार्दवृष्टया कृपापाङ्गदृष्टया समालोकयन्ती कदा त्वां विचक्षे ॥

अर्थ – हे राधा रानी तुम्हारे मन तथा प्राणों में उन आनंद कंद श्री कृष्ण की असीमित अनंत प्रीति व्याप्त है तुम्हारा अंग अंग सूक्ष्म संवेद बिंदुओं से सुशोभित रहता है हे राधे तुम अपनी कृपा से परिपूर्ण दृष्टि द्वारा घनिष्ठ अनंत प्रेम की वर्षा करती हुई मेरी तरफ देख रही हो तथा इस अवस्था में उचित कब श्री राधे आपका दर्शन हो जाए मुझे कुछ नहीं पता।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

पदावावलोके महालालसौघं मुकुन्दः करोति स्वयं ध्येयपादः ।
पदं राधिके ते सदा दर्शयान्तहदीतो नमन्तं किरद्रोचिषं माम् ॥

अर्थ – हे राधे यद्यपि श्याम सुंदर यानी कि श्री कृष्णा स्वयं ही ऐसे हैं कि उनके चरण का चिंतन किया जाए यद्यपि वे स्वयं ही आपके चरणो में चित्रों के अवलोकन की बड़ी लालसा करते हैं हे देवी हे राधे रानी मैं आपका नमस्कार करती हूं कृपया आप हमारे अंत कारण में असीमित प्रकाश बिखेरते हुए अपने चरणारविन्द का मुझे दर्शन दीजिए।

सदा राधिकानाम जिह्वाग्रतः स्यात् सदा राधिका रूपमक्ष्यग्र आस्ताम् ।
श्रुतौ राधिकाकीर्तिरन्तःस्वभावे गुणा राधिकायाः श्रिया एतदीहे॥

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 872 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

सिद्धि-सिद्धियां क्या है ? पूर्ण जानकारी – सिद्धियां कितनी होती है ? सिद्धियां कितने प्रकार की होती है ?
M.A. में अच्छे नंबर कैसे लाएं ? M.A. में टॉप करने के उपाय जाने M.A. me ache number kaise laye

अर्थ – हे राधे रानी मेरे जिगर पर आपका सदा ही नाम विद्यमान रहेगा मैं नेत्रों के समक्ष सदा आप ही रूप प्रकाशित होंगी हे देवी मेरे कानों में आपकी कीर्ति कथा गूंजती रहेगी और अंतर ह्रदय में लक्ष्मी स्वरूपा श्री राधे के ही असंख्य गुण का चिंतन होता है रहेगा बस यही मेरी आप से कामना है।

इदं त्वष्टकं राधिकायाः प्रियायाः पठेयुः सदैवं हि दामोदरस्य ।
सतिष्ठन्ति वृन्दावने कृष्णधानिसखीमूर्तयो युग्मसेवानुकूलाः ॥

अर्थ – जो भी व्यक्ति दामोदर प्रिय श्री राधा से संबंध रखने वाले इन 8 लोगों का पाठ करता है तो वह सदा ही श्री कृष्ण धाम वृंदावन में उनकी सेवा के अनुकूल साक्षी शरीर पाकर सुख से रहते हैं।

Radha Ashtakam ka video

Radha Ashtakam in English

Radha

rasa valita mrgaksi mauli manikya laksmih
pramudita muravairi prema vapi marali
vraja vara vrsabhanoh punya girvana valli
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 1 ||

sphurad aruna dukula dyotitodyan nitamba
sthalam abhi vara kasci lasyam ullasayanti
kuca kalasa vilasa sphita mukta sara srih
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 2 ||

sarasija vara garbhakharva kantih samudyat
tarunima ghanasaraslista kaisora sidhuh
dara vikasita hasya syandi bimbadharagra
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 3 ||

ati catulataram tam kananantar milantam
vraja nrpati kumaram viksya sańka kulaksi
madhura mrdu vacobhih samstuta netra bhańgya || 4 ||
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu

vraja kula mahilanam prana bhutakhilanam
pasupa pati grhinyah krsna vat prema patram
su lalita lalitantah sneha phullantaratma
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 5 ||

niravadhi sa visakha sakhi yutha prasunaih
srajam iha racayanti vaijayantim vanante
agha vijaya varorah preyasi sreyasi sa
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 6 ||

prakatita nija vasam snigdha venu pranadair
druta gati harim arat prapya kusje smitaksi
sravana kuhara kandum tanvati namra vaktra
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 7 ||

amala kamala raji sparsa vata prasite
nija sarasi nidaghe sayam ullasiniyam
parijana gana yukta kridayanti bakarim
snapayatu nija dasye radhika mam kada nu || 8 ||

pathati vimala ceta mista radhastakam yah
parihrta nikhilasa santatih katarah san
pasupa pati kumarah kamam amoditas tam
nija jana gana madhye radhikayas tanoti || 9 ||

iti sri raghunatha dasa gosvami viracitastavavalyam sri radhikastakam sampurnam ।

राधा अष्टकम को पढ़ने की सही विधि | Radha ashtakam ko pdhne ki sahi vidhi 

अगर आप राधा अष्टकम का पाठ करना चाहते हैं तो आपको राधा अष्टकम का पाठ करने के लिए सुबह के समय राधा अष्टकम का पाठ करना होगा क्योंकि सुबह के समय मन हमेशा शांत रहता है पाठ को शुरू करने से पहले स्नान आदि से संपन्न होकर फिर उसके बाद में अपने घर के मंदिर के सामने बैठकर राधा अष्टकम पाठ करें अगर आपके घर में राधा कृष्ण की मूर्ति है तो इससे अच्छा और कुछ नहीं हो सकता अगर आप राधा कृष्ण की मूर्ति के सामने इस अष्टकम का पाठ करेंगे तो यह आपके लिए और भी ज्यादा फलदाई होगा.

Radha

श्री राधा जी की प्रतिमा के सामने धूपबत्ती दीपक जलाएं तथा उनकी प्रतिमा के सामने संकल्प लें कि आप पूरी श्रद्धा के साथ श्री राधा जी की पूजा करेंगे उसके बाद श्री राधा अष्टकम का पाठ आरंभ कर दें और पाठ समाप्त होते ही श्री राधा रानी को भोग लगाएं और प्रसाद को घर के सभी सदस्यों को दें और खुद भी ग्रहण कर ले।

राधा अष्टकम पाठ का लाभ | Radha ashtakam paath ka labh 

  1. अगर आप नियमित रूप से Radha ashtakam का पाठ करते हैं तो आपको इसके कई सारे लाभ प्राप्त होंगे जो राधा अष्टकम का पाठ करता है यह फिर सुनता है तो इस पाठ से संसार में सुख प्राप्त होता है तथा अंत में हर उस व्यक्ति को जीवन मरण के इस चक्र में मुक्त होकर श्री बैकुंठ धाम में स्थान प्राप्त होता है।
  2. जो भी व्यक्ति राधा अष्टकम का पाठ नियमित रूप से करता है उसका मन हमेशा शांत रहता है तथा उसके जीवन में सभी प्रकार की बुराइयां दूर हो जाती हैं।
  3. जो भी व्यक्ति राधा अष्टकम का पाठ करता है उसका स्वास्थ्य , धन-धान्य से परिपूर्ण और समृद्ध हमेशा बनी रहती है।
  4. जो व्यक्ति नियमित रूप से राधा अष्टकम का पाठ करता है उस व्यक्ति के सभी प्रकार के भय नष्ट हो जाते हैं और उसके आत्म बल और साहस में वृद्धि होती है।
  5. ऐसा कहा जाता है कि जो भी व्यक्ति राधा अष्टकम का पाठ करता है उस व्यक्ति के शरीर में जितनी भी बीमारियां होती हैं वह उससे निजात दिलाने में आपकी मदद करता है।
  6. राधा अष्टकम का पाठ करने से आपके घर में सुख शांति और समृद्धि का आगमन होता है।
  7. जो व्यक्ति छात्र है और नौकरी वाले लोग और व्यापारी लोग के ज्ञान और कौशल में वृद्धि होती है।

श्री राधा के 32 नामों को जपने से मिलेगा प्रेम और सुख का वरदान

जो भी व्यक्ति राधा रानी के इन 32 नामों का स्मरण करता है उसके जीवन में सुख प्रेम और शांति का वरदान श्री राधा रानी उनको देती है धन की प्राप्ति और संपत्ति को पाने के लिए और जीवन में सबसे जरूरी प्रेम और शांति श्री राधा रानी जी के इन नामों से जीवन को शांत और सुखी में बनाता है।

1 मृदुल भाषिणी राधा ! राधा !!
2 सौंदर्य राषिणी राधा ! राधा !!
3 : परम् पुनीता राधा ! राधा !!
4 : नित्य नवनीता राधा ! राधा !!
5 : रास विलासिनी राधा ! राधा !!
6 : दिव्य सुवासिनी राधा ! राधा !!
7 : नवल किशोरी राधा ! राधा !!
8 : अति ही भोरी राधा ! राधा !!
9 : कंचनवर्णी राधा ! राधा !!
10 : नित्य सुखकरणी राधा ! राधा !!
11 : सुभग भामिनी राधा ! राधा !!
12 : जगत स्वामिनी राधा ! राधा !!
13 : कृष्ण आनन्दिनी राधा ! राधा !!
14 : आनंद कन्दिनी राधा ! राधा !!
15 : प्रेम मूर्ति राधा ! राधा !!
16 : रस आपूर्ति राधा ! राधा !!
17 : नवल ब्रजेश्वरी राधा ! राधा !!
18: नित्य रासेश्वरी राधा ! राधा !!
19 : कोमल अंगिनी राधा ! राधा !!
20 : कृष्ण संगिनी राधा ! राधा !!
21 : कृपा वर्षिणी राधा ! राधा !!
22: परम् हर्षिणी राधा ! राधा !!
23 : सिंधु स्वरूपा राधा ! राधा !!
24 : परम् अनूपा राधा ! राधा !!
25 : परम् हितकारी राधा ! राधा !!
26 : कृष्ण सुखकारी राधा ! राधा !!
27 : निकुंज स्वामिनी राधा ! राधा !!
28 : नवल भामिनी राधा ! राधा !!
29 : रास रासेश्वरी राधा ! राधा !!
30 : स्वयं परमेश्वरी राधा ! राधा !!
31: सकल गुणीता राधा ! राधा !!
32 : रसिकिनी पुनीता राधा ! राधा !!
कर जोरि वन्दन करूं मैं
नित नित करूं प्रणाम
रसना से गाती/गाता रहूं
श्री राधा राधा नाम !!

osir news

FAQ : Radha ashtakam

राधा रानी का मंत्र क्या है?

श्री राधा रानी के दिन आपको 118 बार इस मंत्र का जाप करने से राधा रानी की विशेष कृपा आपके ऊपर हमेशा बनी रहती है और आपका अष्टकम पूरा हो जाता है इस मंत्र का उपयोग लक्ष्मी प्राप्ति के लिए विशेष रूप से माना जाता है। 1- ऊं ह्नीं राधिकायै नम:। 2- ऊं ह्नीं श्रीराधायै स्‍वाहा।  

श्री राधा अष्टकम पढ़ने का सही समय क्या है ?

श्री राधा अष्टकम का पाठ करने का सही समय वैसे तो कहा जाता है कि भगवान को याद करने का कोई समय गलत नहीं होता परंतु फिर भी अगर आप भगवान को सही समय पर याद करें तो ज्यादा अच्छा होगा यदि आप राधा अष्टकम के पाठ के लिए कोई भी एक ऐसा खास दिन ढूंढ रहे हैं और आप निश्चित नहीं कर पा रहे हैं कि राधा अष्टकम का पाठ किस दिन करना चाहिए तो राधा अष्टकम का पाठ जब भी आपका मन शांत हो तभी आप इसका पाठ करें वैसे आप इसका पाठ किसी भी वक्त कर सकते हैं लेकिन अगर आपका मन शांत होगा और तब आप इस तब पाठ करेंगे तो आपको इसके ज्यादा लाभ प्राप्त होंगे वैसे अगर आप सुबह के समय पूजा पाठ के लिए सबसे अच्छा समय होता है तो आप इस राधा अष्टकम का पाठ सुबह के समय ही करें।

राधा जी के कितने नाम है?

राधा रानी के इन 32 नामों से प्रेम और शांति मिलती है जिसमें से प्रेम का विशेष वरदान माना  जाता है। 1 : मृदुल भाषिणी राधा ! राधा 2 : सौंदर्य राषिणी राधा ! राधा 3 : परम् पुनीता राधा ! राधा 4 : नित्य नवनीता राधा ! राधा 5 : रास विलासिनी राधा ! राधा 6 : दिव्य सुवासिनी राधा ! राधा 7 : नवल किशोरी राधा ! राधा 8 : अति ही भोरी राधा ! राधा  

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आपने आज देखा कि मैंने आपको Radha ashtakam का पाठ करने के लिए बताया तो अब आप लोगों को राधा अष्टकम का पाठ करना पता चल गया होगा क्योंकि हमने आपको इसमें राधा अष्टकम पाठ करने की विधि भी बताई है और इसके कौन-कौन से लाभ होते हैं या अभी बताया है वैसे राधा अष्टकम का पाठ करने से आपका मन शांति का अनुभव करता है और इसमें आपको सुख शांति और धन समृद्धि की प्राप्ति होती है तो उम्मीद करते हैं कि आपको हमारे द्वारा दिया गया लेख अच्छा लगा होगा और आपके लिए उपयोगी साबित हुआ होगा ।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

ऑनलाइन पैसे कैसे कमाए app का नाम और डाऊनलोड लिंक | online paise kaise kamaye app
Salfas ki goli : सल्फास खाने से आदमी कितनी देर में मर जाता है? | सल्फ़ास बचाव और उपाय जाने
तंत्र मंत्र विद्या सीखे : तंत्र मंत्र विद्या सीखना है तो पहले जान ले ये महत्वपूर्ण बातें
लड़कियों की छाती कम करने के घरेलू उपाय और 5 घरेलू नुस्खे | ladkiyon ki breast kam karne ke gharelu upay
Career in sports : खेल में कैरियर कैसे बनाएं ?
★ सम्बंधित लेख ★