साईं बाबा की पूजा कैसे करें ? साईं बाबा का मंत्र,शुभ दिन और पूजा का महत्व फायदे जाने ! Sai baba ki puja vidhi

Sai baba ki pooja kaise kare ?  हमारा हिंदू धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म है| हमारे हिंदू धर्म में 33 कोटि देवी देवता के बारे में बताया गया है|इसके अलावा हमारे हिंदू धर्म में विभिन्न प्रकार के बाबा और संतों की पूजा भी की जाती है| उन्हीं में से एक संत है साईं बाबा|Sai baba ka pooja karne ke fayde ?

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, साईं बाबा एक ऐसे संत हैं जो किसी भी विशेष धर्म में विश्वास रखने का संदेश नहीं देते थे,बल्कि साईं बाबा की विचारधारा सबसे अलग थी| उनका आदर्श नारा था सबका मालिक एक यानी कि इस धरती पर जितने भी प्राणी है उनका एक ही मालिक है और साईं बाबा की इसी विचारधारा के कारण वर्तमान के समय में सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी साईं बाबा के लाखों करोड़ों लोग भक्त हैं|

, साईं बाबा के व्रत की कथा, साईं बाबा का व्रत कब से शुरू करें, साईं बाबा के व्रत में क्या खाना चाहिए, साईं बाबा की व्रत कथा और आरती, साईं बाबा पूजा मंत्र, साईं बाबा पूजा सामग्री, साई बाबा व्रत कथा मराठी, साईं बाबा की खिचड़ी कैसे बनाते हैं, साईं बाबा पूजा सामग्री, साईं बाबा पूजा मंत्र, साईं बाबा की व्रत कथा और आरती, साईं बाबा का व्रत कब से शुरू करें, साईं बाबा के व्रत की कथा, साईं बाबा के व्रत में क्या खाया जाता है, साईं बाबा का भोग, साईं बाबा व्रत कथा PDF, साईं बाबा का व्रत में क्या क्या खाया जाता है?, साईं बाबा का व्रत कब से शुरू करना चाहिए?, साईं भगवान की पूजा कैसे करते हैं?, sai baba ki pooja kaise kare , sai baba ki puja kaise kare in hindi, sai baba ki puja kaise kare, साईं बाबा की पूजा कैसे करें, साईं बाबा का पूजा कैसे करें, साईं बाबा की पूजा कैसे करे, sai baba ki pooja vidhi, sai baba ki puja kaise karen, sai baba ki puja vidhi, sai baba ki puja kaise karte hain, sai baba ki pooja kaise kare, sai baba pooja vidhi, sai baba puja vidhi in hindi, , , ,

और हमारे भारत देश के अलावा विदेशों में भी साईं बाबा के कई मंदिर उनके भक्तों के द्वारा स्थापित किए गए हैं| अगर आप भी साईं बाबा को मानते हैं या आप साईं बाबा की पूजा करते हैं, तो यह बात तो जाहिर सी होगी कि आप रोजाना इनकी भक्ति करते होंगे|

हालांकि आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, साईं बाबा की पूजा करना तो वैसे बहुत ही आसान है परंतु अगर आप कुछ बातों का ध्यान रखते हुए साईं बाबा को प्रसन्न करना चाहते हैं तो आज का यह हमारा आर्टिकल आपके लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो सकता है|

साईं बाबा की दिनचर्या बहुत ही सरल थी, इसलिए इनकी पूजा करना ज्यादा कठिन नहीं है, चलिए आगे जानते हैं कि साईं बाबा की पूजा कैसे की जाए, ताकि वह आप पर प्रसन्न हो और आपकी इच्छा पूरी करें| Sai baba ki pooja karne se kya hota hai ? 

साईं बाबा की पूंजा के लिये शुभ दिन कौन सा होता है ? What is the day of Sai baba ?

धार्मिक ग्रंथों के अनुसार साईं बाबा के दिन के तौर पर गुरुवार को मान्यता दी गई है और आपने भी यह देखा होगा कि गुरुवार के दिन साईं बाबा के मंदिरों में ज्यादा भीड़ लगती है|

साईं बाबा की अनुष्ठान पूजा कैसे करे ? What is Sai Baba Ritual Pooja?

साईं बाबा की पूजा करना बहुत ही आसान है| साईं बाबा की पूजा करने के लिए सबसे पहले साईं बाबा की मूर्ति को दीया बाती और पानी के साथ रखा जाता है|इसके बाद उनकी मूर्ति के सामने दो दीपक जलाए जाते हैं, जिसमें पहला दीपक विश्वास के लिए होता है और दूसरा दीपक धैर्य के लिए होता है|

इसके बाद श्री साईं सत्चरित्र से संबंधित कुछ लाइन का पाठ किया जाता है और फिर साईं बाबा के नाम का जाप किया जाता है| साईं बाबा के सामने जलने वाले दीपक को सुबह शाम दोनों समय जलाना होता है|

deepak

दीपक का महत्व भक्तों के पिछले पापों को जलाने के लिए है तथा श्री साईं सच्चरित्र का पाठ करने से हमें साईं बाबा की जिंदगी से जुड़ी हुई कहानियों को जानने का मौका मिलता है|

इसके बाद साईं बाबा के 108 नामों का जाप किया जाता है| यह भक्तों का साईं बाबा में और अधिक विश्वास बढ़ाने का काम करता है| इसके बाद नीचे दिए गए मंत्र का कम से कम 10 मिनट तक जाप किया जाता है, मंत्र इस प्रकार है|

“ॐ साईं नाथाय नमः”
“ॐ साईं श्री साईं जय जय साईं”

पूजा के दौरान साईं बाबा को जल, फल, फूल, दूध या भोजन चढ़ाया जाता है| पूजा खत्म होने के पूजा के बाद, भक्त को अपनी समस्याओं को साईं बाबा को ईमानदारी से बताना चाहिए|यह माना जाता है कि वह अपने भक्त  की समस्या को समझ कर उनका समाधान प्रदान करते हैं|

साईं बाबा की काकड़ आरती क्या है ? What is Kakad Aarti ?

दीपक जलाने के बाद सुबह 5:00 बजे के आसपास साईं बाबा की काकड़ आरती की जाती है और मक्खन तथा चीनी से बनी हुई प्रसाद को साईं बाबा के चरणों में अर्पित किया जाता है और फिर साईं बाबा की आरती करने के लिए पांच दीपक की बत्ती का इस्तेमाल किया जाता है और आरती खत्म होने के बाद भक्तों को साईं सत्चरित्र का पाठ करना होता है|

साईं बाबा अभिषेकम क्या है और कैसे करते है ? What is Abhishekam ?

साईं बाबा की मूर्ति का अभिषेक करने के लिए सुबह 8:00 का समय निर्धारित होता है| साईं बाबा के चरणों में 9 बार पीले चावल और गर्म पानी का मिश्रण चढ़ाया जाता है और अभिषेकम के दौरान लोगों को विष्णु सहस्त्रनाम स्त्रोत,रुद्रम या फिर पुरुष सुक्तम का पाठ करना होता है और अभिषेकम के दरमियान सबसे पहले दूध उसके बाद नारियल,नारंगी, दही,गुलाब जल और गंगाजल साईं बाबा को चढ़ाया जाता है|

इतना करने के बाद साईं बाबा की मूर्ति को फूलों की माला और कपड़ों से सजाने का काम किया जाता है,साथ ही उनकी मूर्ति पर सिंदूर और चंदन लगाया जाता है और एक नारियल को जमीन में पटक कर तोड़कर साईं बाबा की मूर्ति के दोनों तरफ रख दिया जाता है|

साईं बाबा की मध्याह्न आरती कैसे करते है ? What is midday aarti ?

साईं बाबा की दोपहर की आरती लगभग 1 बजे की जाती है|बैंगन, चावल, चपाती, गरीब और दो सब्जियों का प्रसाद साईं बाबा को चढ़ाया जाता है|दोपहर के बाद आरती के अध्याय 50 और 51 को पढ़ना चाहिए|साईं सत्चरित्र को पढ़ने के लिए भक्त बारी-बारी से जा सकते हैं|

साईं बाबा की धूूप आरती क्या है ? What is dhoop aarti ?

ऊपर बताई गई सभी चीजों को करने के बाद शिरडी साईं आश्रम का फूलों से जाप किया जाता है और फिर धूप आरती की जाती है और प्रसाद के तौर पर छोले की पेशकश की जाती है| इसके बाद नंबर आता है श्लोक और मंत्र का|

साईं बाबा का श्लोक मंत्र क्या है ? What is Shloka and Mantra?

ओम साईं राम, ओम साईं राम नाथाय नमः ||

साईं पूजा की पूंजा के क्या फायदे है ? महत्व जाने : What is the importance of Sai Puja ?

  • जो व्यक्ति पूरी श्रद्धा के साथ साईं बाबा की पूजा करता है, उसकी जिंदगी में साईं बाबा के आशीर्वाद के कारण धीरे-धीरे सुधार होने लगता है और उस पर साईं बाबा की कृपा हमेशा बनी रहती है|
  • नियमित तौर पर साईं बाबा की पूजा करने से व्यक्ति की मनचाही इच्छा पूरी होती है और वह जो भी मांगता है, साईं बाबा खुश होकर उसे अवश्य प्रदान करते हैं|
  • साईं बाबा की पूजा करने से मन को अत्याधिक शांति की प्राप्ति होती है और हमारा दिमाग चिंता मुक्त होता है|
  • साईं बाबा अपने भक्तों को उनकी समस्याओं का सामना करने और जीवन की बाधाओं को हराने में मदद करते हैं|
  • साईं बाबा का आशीर्वाद हमेशा अपने भक्तों पर बना होता है और इसके कारण भक्तों की जिंदगी में काफी सुधार होने लगता है|
  • साईं बाबा हमेशा अपने भक्तों के दिलों में रहते हैं जो भक्त श्रद्धा पूर्वक साईं बाबा की पूजा करता है वह अपनी जिंदगी में सफलता की ऊंचाइयों को छूता है और साईं बाबा भी हमेशा अपने भक्तों का साथ देते हैं|

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *