तुलसी की पूजा क्यों की जाती है? : तुलसी पूजन मंत्र और महत्व | Tulsi ki puja kyon ki jaati hai

Tulsi ki pooja kyon ki jati hai ? तुलसी की पूजा क्यों की जाती है : नमस्कार दोस्तों धार्मिक मान्यताओं के अनुसार तुलसी माता की पूजा करना शुभ माना जाता है ऐसा बताया गया है कि जिस घर में भी तुलसी का पौधा लगा होता है उस पर भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है.

तुलसी का पौधा किसी को देना चाहिए या नहीं तुलसी का पौधा घर में कहाँ लगाना चाहिए तुलसी का पौधा कब लगाना चाहिए tulsi ka paudha kisi ko dena chahiye ki nahin

हिंदू धर्म में तुलसी की पूजा को विशेष महत्व दिया गया है ऐसा बताया गया है की तुलसी की पूजा करने से मां लक्ष्मी का का आशीर्वाद प्राप्त होता है तुलसी की पूजा के ढेर सारे फायदे बताए गए हैं लगभग सभी सनातन धर्म के लोगों के घरों में तुलसी का पौधा अवश्य लगा होता है.

तो आइए जानते हैं की तुलसी की पूजा क्यों की जाती है इसके पीछे का रहस्य क्या है आखिर तुलसी पूजन को इतना महत्व क्यों दिया जाता है तुलसी पूजन कैसे करें इस सब के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे.

इसलिए हमारा आर्टिकल पूरा पढ़ें और तुलसी माता के बारे में विस्तार से कई रहस्य जाने इस आर्टिकल में तुलसी पूजन मंत्र और तुलसी पूजन का महत्व क्या है इस सब के बारे में बताया गया है तो चलिए जानते हैं कि तुलसी पूजा क्यों की जाती है ?

तुलसी की पूजा कैसे करें ?

हिंदू धर्म में लगभग सभी लोगों के घरों में तुलसी का पौधा लगा होता है और सभी लोग तुलसी मां की पूजा करते हैं तुलसी मां की पूजा करना अति आवश्यक माना गया है.

प्रतिदिन सुबह उठकर स्नान करके पूजा करने के बाद तुलसी मां को जल अर्पित करके गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाकर तुलसी मंत्र पढ़ना चाहिए उसके बाद तुलसी माता की परिक्रमा करनी चाहिए.

प्रतिदिन पूजा करने वाले लोग एक बात का विशेष रूप से ध्यान रखें की रविवार के दिन तुलसी माता को जल बिल्कुल भी ना चढ़ाएं तुलसी माता की पूजा हमेशा सुबह के समय करें संध्या काल में तुलसी माता को छूना मना है.

ऐसी कुछ खास बातों का ध्यान रखते हुए तुलसी मां की पूजा आपको करनी है तुलसी मां की पूजा करने से आपके घर में भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है.

जिससे कि आपके घर में सुख शांति और समृद्धि का वास होता है तथा आपके घर में धन धान्य की कोई कमी नहीं होती है.

तुलसी पूजन मंत्र

तुलसी श्रीर्महालक्ष्मीर्विद्याविद्या यशस्विनी।
धर्म्या धर्मानना देवी देवीदेवमन: प्रिया।।
लभते सुतरां भक्तिमन्ते विष्णुपदं लभेत्।
तुलसी भूर्महालक्ष्मी: पद्मिनी श्रीर्हरप्रिया।।

तुलसी स्तुति मंत्र

देवी त्वं निर्मिता पूर्वमर्चितासि मुनीश्वरैः
नमो नमस्ते तुलसी पापं हर हरिप्रिये।।

तुलसी नामाष्टक मंत्र

वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी।
पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी।।
एतभामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम।
य: पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलमेता।।

तुलसी को जल देने का मंत्र

महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी
आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।।

तुलसी की पत्तियां तोड़ने के मंत्र

ॐ सुभद्राय नमः

ॐ सुप्रभाय नमः

मातस्तुलसि गोविन्द हृदयानन्द कारिणी
नारायणस्य पूजार्थं चिनोमि त्वां नमोस्तुते ।।

तुलसी की पूजा क्यों की जाती है? | Tulsi ki puja kyon ki jaati hai 

तुलसी का पौधा एक पवित्र और पूजनीय पौधा माना जाता है धार्मिक दृष्टिकोण से ज्ञात होता है कि तुलसी के पौधे में भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी जी का वास होता है तुलसी को लक्ष्मी जी का दूसरा रूप माना जाता है हिंदू धर्म में इसकी अत्यधिक मान्यता है.

लगभग सभी के घरों में तुलसी का पेड़ अवश्य लगा होता है और सभी लोग प्रतिदिन तुलसी मां की पूजा अवश्य करते हैं ऐसा बताया जाता है कि जहां पर भी तुलसी का पौधा लगा होता है वहां पर भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की दया दृष्टि बनी रहती है.

जिस घर में भी तुलसी माता का वास होता है उस घर में किसी भी प्रकार के कोई कष्ट नहीं होते हैं पारिवारिक जीवन सुखमय होता है और सकारात्मक ऊर्जा ओं का संचार होता है तुलसी की पूजा से औषधि गुण उत्पन्न होते हैं.

जो कई रोगों के निवारण में उपयोगी होते हैं सनातन धर्म के सभी घरों में तुलसी पूजन अवश्य किया जाता है और तुलसी की पत्तियों को सादर प्रणाम करके इनका सेवन भी किया जाता है जो कई लोगों के निवारण में लाभकारी साबित होती है

तुलसी पूजन का महत्व

धार्मिक शास्त्रों में तुलसी पूजन का विशेष महत्व बताया गया है जिसके अनुसार तुलसी पूजन करना अनिवार्य रूप से लाभकारी माना गया है तुलसी पूजन का सबसे बड़ा महत्व है कि इसमें भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी जी विराजमान होती है.

जिसके कारण तुलसी मां की पूजा की जाती है शास्त्रों में ऐसा बताया गया है की तुलसी माता लक्ष्मी का दूसरा अवतार हैं तुलसी पूजन करके सभी लोग मां लक्ष्मी और भगवान विष्णु को प्रसन्न करते हैं जिससे कि उनकी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

सनातन धर्म में तुलसी पूजा को विशेष महत्व दिया गया है हिंदू धर्म के लोगों के घरों में तुलसी का पेड़ अवश्य लगा होता है और वह प्रतिदिन उसकी पूजा करते हैं जिसके कई लाभ उनको प्राप्त होते हैं.

वह अपनी धार्मिक परंपराओं को आगे बढ़ाते हुए इसकी मान मर्यादाओं को नियमित रूप से मानते हैं इससे धार्मिक प्रतिष्ठा भी बढ़ती है धार्मिक दृष्टि से तुलसी को एक पवित्र और पूजनीय पौधा माना गया है.

तुलसी की पूजा करने वाले लोगों के घर में धन धान्य की कोई कमी नहीं आती है धार्मिक दृष्टिकोण से तुलसी पूजन सुचारू रूप से प्रतिदिन करना अनिवार्य माना गया है.

FAQ : तुलसी पूजा क्यों की जाती है ?

Q. तुलसी मैया कौन थी?

Ans. तुलसी मैया का जन्म एक राक्षस स्कूल में हुआ था ये पूर्व जन्म में लड़की थी और इनका नाम वृंदा था यह विष्णु भगवान की बहुत बड़ी भक्त थी.

Q. तुलसी को पानी कब नहीं देना चाहिए?

Ans. प्रतिदिन पूजा करने वाले लोगों को इन बातों का विशेष ध्यान देना चाहिए रविवार एकादशी सूर्य ग्रहण एवं चंद्र ग्रहण को तुलसी में पानी नहीं देना चाहिए.

Q. तुलसी माता किसका अवतार है?

Ans. तुलसी माता भगवान विष्णु का अवतार है भगवान विष्णु को तुलसी मैया अत्यधिक प्रिय है भगवान विष्णु जी तुलसी के बिना कोई भोग ग्रहण नहीं करते हैं.

निष्कर्ष | Conclusion

हम आशा करते हैं कि आपने तुलसी पूजा क्यों की जाती है अच्छे से जान लिया होगा और हमारे इस आर्टिकल में तुलसी पूजन से संबंधित आपके सभी डाउट क्लियर हो चुके होंगे.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों व आने जाने वालों के साथ अवश्य शेयर करें ताकि उनको भी तुलसी पूजन से संबंधित अधिक जानकारी हो सके.

यदि आपका से संबंधित कोई अन्य सवाल है तो हमारे कमेंट सेक्शन में जरूर पूछें हम जल्द से जल्द आपके सवाल का जवाब देने का प्रयास करेंगे.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *