यन्त्र की रचना कैसी होती है? Yantra kaise banaya jata hai ?

Yantra kya hota h? अक्सर आप लोगों ने कई प्रकार के यंत्र  देखें होंगे और आपके मन में उन यंत्रों को लेकर कई सवाल उत्पन्न होते हैं क्योंकि जितने भी यंत्र हैं, वे किसी विशेष आकार में बने होते हैं। उन पर कई तरह की आकृतियां उभरी होती हैं। tantra mantra yantra kya hai ? yantra ka bindu kya hai ? 

जब आप किसी यंत्र को देखते हैं तो आप कुछ आकृतियों को यंत्रों पर बने हुए पाते हैं। इन प्रतीकों में बिंदू (डॉट), त्रिकोना (त्रिकोण), चक्र (वृत्त), षटकोण (छह-बिंदु वाला तारा), भूपुरा (वर्ग) और पद्म (दिव्य कमल) शामिल हैं।

, वाद्य यंत्र कितने प्रकार के होते हैं, यंत्र क्या है, वाद्य यंत्रों में वायु की महत्वपूर्ण भूमिका होती है आप कैसे प्रमाणित करेंगे, वाद्य यंत्र क्या है, यंत्र in English, यंत्र बनाने की विधि, यंत्र यानी क्या होता है?, , यंत्र कितने प्रकार के होते हैं?, , यंत्र बनाने की विधि, , यंत्र कैसे सिद्ध किया जाता है?, यंत्र बनाने की विधि PDF, मंगल यंत्र बनाने की विधि, कामदेव यंत्र बनाने की विधि, हनुमान यंत्र बनाने की विधि, राहु यंत्र बनाने की विधि, भैरव यंत्र बनाने की विधि, yantra kya , yantra kya hota hai, yantra kya hai, yantra kya hota h, yantra kya hoti hai, yantra kya hai hindi, yantra kaisa hota hai, damru yantra kya hai, shri yantra kya hota hai, agnishamak yantra kya hai, agnishamak yantra kya hota hai, shri yantra ka kya arth hai, shri yantra kya hai, bisa yantra kya hai, bhukamp yantra kya kehlata hai, tantra mantra yantra kya hai, , बगलामुखी यंत्र बनाने की विधि, शनि यंत्र बनाने की विधि, , उत्पादन यंत्र को हिंदी mein क्या kahate hain?, ,

यंत्र में अलग-अलग तरह की आकृतियां अलग-अलग तरह के प्रभाव डालती हैं, इनसे यंत्र में उन आकृतियों के मुताबिक शक्तियां निहित होती है आगे चलकर हम आपको इस लेख में यंत्रों में प्रयोग होने वाली आकृतियों एवं उनके महत्व के बारे में बताएंगे साथ ही यह भी समझेंगे कि कौन सी आकृति किस तत्व याद शक्ति का प्रतिनिधित्व करती है | yantra ki rachana kya hoti h ? यन्त्र की रचना कैसी होती है?

यंत्र का बिंदु क्या होता है ? What is the point of the yantra ?

बिंदु किसी भी यंत्र के मध्य में बने होते हैं जो उर्जा और एकाग्रता के लिए संकेत करता है। इसे ब्रम्हांड विकिरण का केंद्र माना जाता है | जो एक त्रिकोण एक षटकोण एक चक्र जैसे विभिन्न सतहो से बंधे रचनात्मक उर्जा का प्रतिनिधित्व करते हैं |

यंत्र में त्रिकोण संरचना किसी प्रदर्शित होती है ? What does the triangle structure in the device represent?

यदि कोई यंत्र तिकोना अर्थात त्रिकोण के रूप में बना है तो यह महिला शक्ति और दिव्यता को प्रदर्शित करता है। यदि त्रिकोण यंत्र के नीचे की ओर प्रकट है तो वह योनि को चित्रित करता है क्योंकि योनि सभी प्रजातियों का जन्म स्रोत है।

यदि त्रिकोण ऊपर की ओर दिखाया गया है तू यह आध्यात्मिक इच्छा को संकेत करता है और साथ ही यह अग्नि तत्व में स्थानांतरित करते हैं क्योंकि अग्नि हमेशा ऊपर की ओर जलती है।

यदि कोई अंतर नीचे की ओर है तो वह जल तत्व को प्रदर्शित करता है और शिव का प्रतिनिधित्व करते ही शक्ति को भी प्रतिनिधित्व करता है।

यह भी पढ़े :

षटकोण किस तरह की उर्जा का प्रतीक होता है ? What type of energy does a hexagon symbolize?

यह यंत्र दो त्रिकोण यंत्रों का सम्मिलित रूप है जो महिला और पुरुष शक्ति और उर्जा का प्रतीक है।

चक्र संरचना तत्व में कितने तत्व मूलभूत है ? How many elements are fundamental in a chakra structure?

यंत्रों में चक्र रूप यंत्र पांच मुलभुत तत्वों में वायु तत्व का प्रतिनिधित्व करते हुए मैक्रोसिमिक प्रगति के लिए केंद्रीत है।

भूपुरा संरचना क्या प्रदर्शित करती है ? What does the Bhupura structure represent?

यह यंत्र डांट से शुरू होकर वर्ग पर समाप्त होता है यह पृथ्वी तत्व का प्रतिनिधित्व करते हुए विकसित ब्रम्हांड का संकेत देता है। यह केंद्र से
सूक्ष्म उर्जा से शुरु होकर प्रथ्वी में समाप्त होता है।

पद्म किस दिव्य पवित्रता का प्रतीक क्या है ? Padma is the symbol of which divine purity?

यह यंत्र वैदिक शास्त्रों के साथ अन्य धर्मों के शास्त्रों की पवित्रता का दिव्य प्रतीक होता है जो चक्करों में रहते हैं। यन्त्र में एक कमल सर्वोच्च निरपेक्ष सत्य के बिना शर्त बल का प्रतिनिधित्व करता है। कमल देवताओं के लिए एक दिव्य आसन के रूप में कार्य करता है। !

यंत्र ध्यान की एक वस्तु कौन सी है ? Is the instrument an object of meditation?

यंत्र एक ध्यान की वस्तु है जिस पर मन केंद्रित होने के बाद मन की चंचलता समाप्त हो जाती हे यंत्र ही मनुष्य और ईश्वर के मिलन में सहायता का साधन है इसके अलावा यंत्र दिव्य ऊर्जा के साथ इस धूल जगत में मौजूद ऊर्जा से जोड़ता है।

यन्त्र की रचना कैसे करते हैं? How do you design a machine?

यंत्र ईश्वर की भक्ति के लिए प्रेरित करते हैं विचारों को मजबूत और प्रभावशाली बनाता है कोई भी व्यक्ति यंत्रों पर ध्यान केंद्रित करता है तो उसका दिमाग यंत्र की रचनात्मक शक्ति से जुड़ जाता है।

यंत्र को शरीर पर धारण करने के लिए ताबीज के रूप में या लटकन के रूप में अंगूठी या ब्रेसलेट के रूप में पहन सकते हैं तथा अपनी पर्स में भी रख सकते हैं। यंत्र धारण करने से आपके आसपास सकारात्मक ऊर्जा रहती हैं|

देवताओं के यंत्र कौन से है ? Instruments of gods

सभी प्रकार के देवता या देव के लिए यंत्र होते हैं जैसे गणेश यंत्र श्री यंत्र हनुमान दुर्गा आदि यंत्र देवताओं से संबंधित यंत्र हैं। शाक्त यंत्र सबसे महत्वपूर्ण है ,ये आमतौर पर महान माता या महाविद्या के रूप में ‘सर्वोच्च ज्ञान के स्रोत’ होते हैं।

यंत्र के प्रकार किस तरह है ? What is the type of Yantra ?

यंत्र रचना के आधार पर चार प्रकार के होते हैं।

  1. ज्योतिषीय यन्त्र
  2. वास्तु यन्त्र
  3. न्यूमेरिकल यन्त्र
  4. उद्देश्यपूर्ण यन्त्र

1) ज्योतिषीय यन्त्र क्या है ? What is the type of yantra ?

ज्योतिष यंत्र नवग्रहों के समय चक्र के आधार पर बनाए जाते हैं। नवग्रह यंत्र, कालसर्प यन्त्र, नक्षत्र यंत्र इसी तरह के यंत्र है।

2) वास्तु यन्त्र क्या है ? What is Vastu Yantra?

इनका उपयोग भूमि योजनाओं हेतु उपयोग में किया जाता है जैसे वास्तु यंत्र भूमि यंत्र आदि|

3) न्यूमेरिकल यन्त्र क्या है ? What is a numerical yantra ?

इन यंत्रों ने संख्याओं को चुनिंदा संयोजनों में शामिल करके बनाए जाते हैं जैसे कुबेर यंत्र रोग निवारण यंत्र बीसा यंत्र।

4) उद्देश्यपूर्ण यन्त्र क्या है ? What is a purpose machine?

कुछ यंत्र निजी उद्देश्य के लिए बनाए जाते हैं जिन्हें उद्देश्य पूर्ण यंत्र कहा जाता है जैसे विवाह के लिए लग्न मंत्र संतान के लिए वशीकरण के लिए यंत्र।

जीवन में सफलता के लिए क्या करे ? What to do for success in life?

यंत्र व्यक्ति की मौलिक उद्देश्य को पूरा करने के अलावा स्वास्थ्य धान सफलता प्राप्त करने में मदद करते हैं। मंत्र व्यवसायिक और व्यापारिक जीवन में सफलता के लिए बने होते हैं |

यह यंत्र सिल्वर गोल्ड कॉपर और भोजपत्र जैसी धातुओं पर बने होते हैं जो हर तरह से प्रभावी होते हैं। यंत्रों में महा मेरु, या श्री मेरु चक्र सभी यंत्रों का सर्वोच्च है।

श्री चक्र की पारगमन ज्यामिति कॉस्मिक स्पेस का जीनोमिक कोड है जो इसके सकारात्मक कंपन को उस स्थान पर पुनर्निर्देशित करता है जहां इसे स्थापित किया गया है।

आपकी भलाई पर यंत्र का प्रभाव कैसा होता है ? How does the yantra affect your well-being?

यंत्रों को हमेशा सही दिशा और सही ढंग से स्थापित करने से किसी भी प्रकार की दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है क्योंकि ज्यामिति रेखाओं और पूर्व में ब्रिटिश सूर्य से आने वाली सकारात्मक ऊर्जा का स्रोत संगम यंत्र होते हैं | इसलिए इन्हें सही दिशा में सही जगह पर स्थापित करना चाहिए |

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *