जाने स्त्री को जोश कब आता है? : औरतों का जोश बढ़ाने की दवा | महिला कामोत्तेजना के लक्षण

❤ इसे और लोगो (मित्रो/परिवार) के साथ शेयर करे जिससे वह भी जान सके और इसका लाभ पाए ❤

महिला कामोत्तेजना के लक्षण : Stree ko josh kab aata hai ? किसी भी स्त्री को जोश कब आता है? यह एक अहम सवाल हर व्यक्ति में एक बार जरूर उत्पन्न होता होगा क्योंकि जब तक स्त्री में संभोग के दौरान जोश नहीं होता है तब तक कोई भी स्त्री पुरुष के साथ यौन संबंध से संतुष्ट नहीं हो पाती है ।

महिला कामोत्तेजना के लक्षण स्त्री को जोश कब आता है, स्त्री की इच्छा, स्त्री विचारवती, mahila ko josh me kaise laye, स्त्री कामेच्छा, स्त्री की कामोत्तेजना tablet, aurat ko josh kab aata hai, स्त्री धर्मनीती, स्त्री को कैसे तैयार करें, स्त्री को गर्म करने की दवा, स्त्री+उचित, stri ko kaise pataye, महिलाओं को जोश में लाने के लिए क्या करना चाहिए, महिलाओं को जोश में लाने की दवा, स्त्री को जोश कब आता है, स्त्री की इच्छा, स्त्री को क्या चाहिए, uttejna kya hoti hai, mahila uttejit kab hoti hai, utejna kya hai, uttejna kya hai, स्त्री कामेच्छा, mahila ko josh me kaise laye, महिलाओं को जोश में लाने के लिए क्या करना चाहिए, महिलाओं को जोश में लाने की दवा, aurat ko josh kab aata hai, aurat ko josh ki dawa, महिला को जोश में लाने की दवा, जोश में लाने का तरीका, mahilao ke liye josh ki dawa, लेडीस को जोश में लाने की दवा, mahila ko josh kab aata hai, aurat ko josh kab aata hai, mahila uttejit kab hoti hai, mahila ko josh me kaise laye, महिलाओं को जोश में लाने के लिए क्या करना चाहिए, महिला+कितनी+देर+में+चढ़ती+है, , स्त्री को सबसे ज्यादा मजा कब आता है?, स्त्री के मन को कैसे जाने, औरतों को जोश की दवा, पराई स्त्री से संबंध बनाने से क्या पाप लगता है, स्त्री को कैसे तैयार करें?, स्त्री को द्रवित करने के उपाय, यदि कोई पुरुष अपनी स्त्री को संतुष्ट नहीं कर सकता है, तो वह अन्य पुरुषों द्वारा संतुष्ट की जाएगी, विवाहित स्त्री को कैसे पटाए, , महिला कितनी देर में चढ़ती है, उससे क्या होता है, जानें क्यों होती है महिलाओं को संबंध बनाने की इच्छा, क्या होता है, yon sambandh kya hai, ladki ko dard kab hota hai, 1 दिन में कितनी बार करना चाहिए, यौवनारंभ क्या होता है, महिलाओं के अनुसार पुरुषों की सुंदरता क्या है, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की दवा, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने की दवा, पुरुषों में कामेच्छा की कमी के कारण, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा, महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण, पुरुषों में कामेच्छा की कमी के कारण, पुरुषों में कामेच्छा की कमी के उपाय, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा, महिलाओं के लिए कामेच्छा बढ़ाने के घरेलू नुस्खे, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की दवा, टेस्टोस्टेरोन की कमी के लक्षण, महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण, दाम्पत्य का अर्थ हिंदी में, दांपत्य जीवन को सुखी बनाने के उपाय, दाम्पत्य जीवन में कलह, पति-पत्नी का वैवाहिक जीवन, दाम्पत्य जीवन का अर्थ, स्त्री को जोश कब आता है, उत्तेजना बढ़ाने की दवा, स्त्री को द्रवित करने के उपाय, महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण, उत्तेजना बढ़ाने के घरेलू उपाय, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय, स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा, स्त्री की कामोत्तेजना बढ़ाने की दवा patanjali, स्त्री की कामोत्तेजना टैबलेट, विवाहित स्त्री को कैसे पटाए, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने की दवा, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने की होम्योपैथिक दवा, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने की दवा, महिलाओं में कामेच्छा की कमी के कारण, पुरुषों में कामेच्छा की कमी के कारण, महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय, पुरुषों में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय, ladki ko uttejit karne ke upay in hindi, aurat ko uttejit karne ki ayurvedic dawa, female ko uttejit karne ki medicine, mahila ko uttejit karne ki medicine, utejna ko kaise badhaye, utejna kaise badhaye, aurat ko garam karne ke upay in hindi, utejana kam kaise kare, uttejna kaise laye, उत्तेजना को कम करने की दवा, ladkiyo ko uttejit karne ki medicine, ladko ko garam karne ke upay, स्त्री को गर्म करने की दवा, mahilao ko uttejit karne ki medicine, aurat ko uttejit karne ki ayurvedic dawa, ladki ko uttejit karne ke upay in hindi, उत्तेजना को कम करने की दवा, aurat ko garam karne ki ayurvedic dawa, female ko uttejit karne ki medicine, mahila ko uttejit karne ki medicine, utejna kaise badhaye, utejna badhane ke upay, utejna ko kaise badhaye, aurat ko garam karne ke upay in hindi, utejana kam kaise kare, उत्तेजना की दवा, thandi aurat ka ilaj hindi, उत्तेजना बढ़ाने की दवा बताएं, mahilao ko uttejit karne ki medicine,

कामोत्तेजना के दौरान संभोग मे चरम सुख प्राप्त करने की प्रक्रिया को जोश कहा जाता है । हालांकि जोश अलग अलग होता है किसी पुरुष को लड़ाई करने का अलग जोश होता है तो किसी को कार्य करने का अलग जोश होता है ।लेकिन प्रश्न आता है इस स्त्री को जोश कब आता है ?

तो इस संबंध में यह कहा जा सकता है कि यहां पर कामोत्तेजना से संबंधित प्रश्न पूछा जा रहा है की स्त्री को जोश कब आता है? इस प्रश्न का उत्तर जानने से पहले कामोत्तेजना के अन्य पहलुओं पर भी प्रकाश डालना जरूरी है क्योंकि इन प्रश्नों के उत्तर देना जरूरी है।


कामोत्तेजना क्या है ? | What is sexual arousal

दरअसल कामोत्तेजना एक प्रकार की सेक्स के दौरान सेक्स करने की प्रक्रिया है इस दौरान एक ही स्त्री के अंदर सेक्स के लिए कुछ जोश आता है अर्थात संभोग से पहले स्त्री को मासिक धर्म होता है उसके बाद लगभग 4 दिन रक्त स्राव होता है .

इस दौरान स्त्री की योनि से 4 दिन तक रक्त स्राव होता रहता है उसके बाद स्त्री रजस्वला होती हैं और स्त्री के गर्भाशय में अंडाणु का निर्माण होता है जिससे स्त्री प्रजनन के लिए प्रेरित होती है। यह एक प्रकार की कामोत्तेजना कहलाती है। स्त्री का जोश एक प्रकार की कामोत्तेजना है जिस जिससे स्त्री ने एक प्रकार की संभोग की स्थिति उत्पन्न होती है .

स्त्री को जोश कब आता है ?

इस दौरान स्त्री के जननांग से एक प्रकार का द्रव निकलता है और स्त्री के गुदा के आसपास की कोशिकाएं सिकुड़ती और फैलती है। यह अवस्था आ जाती है तो इसकी में एक चरम जोश होता है। इससे हम स्त्री का जोश कह दें या फिर कामोत्तेजना के लिए उन्मुक्त अवस्था।

कामोत्तेजना के दौरान स्त्री संभोग के लिए पूरी तरह से समर्पित हो जाती है और संभोग करते समय एक स्थिति ऐसी भी आती है जब स्त्री संभोग को और अधिक चाहने लगे और यदि से एक पुरुष पूरा नहीं कर पाता है तो उसकी इच्छा पूर्ण नहीं होती है जिससे वह कई बार संभोग करवा सकती हैं।

जब कोई स्त्री संभोग सेक्स करने के लिए शारीरिक या मानसिक रूप से संभोग से बचने लगती है तो इसे महिला में कामोत्तेजना की कमी या ठंड कहीं जा सकती है यदि पति उसका उसके साथ संभोग करता भी है तो वह पूर्ण संभोग का आनंद नहीं ले पाता इससे पति-पत्नी मैं अलगाव की स्थिति आ जाती है।

boy girl

स्त्री में उत्तेजना की कमी होने पर पति पत्नी के बीच सेक्स संबंध प्रभावित हो जाते हैं क्योंकि यदि पत्नी कामेच्छा के लिए उत्तेजित नहीं है तो संभोग के दौरान आनंद नहीं मिलता जो एक चरम आनंद मिलना चाहिए सिर्फ पति वंचित रह जाता है और पत्नी भी पूर्ण संभोग का आनंद नहीं ले पाती है .

इस प्रकार की कमी को दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपाय विशेष लेख के माध्यम से दिए जा रहे हैं जिन्हें अपनाकर स्त्री उत्तेजना को बढ़ाया जा सकता है। उत्तेजना की कमी के कारण महिलाएं संभोग में अरुचि पैदा हो जाती है जिसके कारण खुलेआम सेक्स का आनंद नहीं लेती इस कारण महिलाओं में सेक्स स्टैमिना की कमी भी हो जाती है जिसके कारण पुरुषों की भी स्टेमिना गड़बड़ हो जाती है.

महिला कामोत्तेजना के लक्षण | What are the causes of lack of arousal in women

स्त्री को जोश कब आता है जानने से पहले यह जाने की कामेच्छा क्या है ? कामेच्छा का सीधा अर्थ है कि यौन संबंधों में कमी आ जाना अर्थात संभोग की कोई इच्छा न रह जाना जिससे स्त्री और पुरुष दोनों प्रभावित होते हैं और काम उत्तेजना की कमी के कई कारण देखे जाते हैं जिनमें से प्रमुख कारण इस प्रकार हैं ।

1. उम्र का प्रभाव

बढ़ती हुई उम्र ने यौन इच्छा की कमी होना स्वाभाविक है परंतु किसी रिश्ते की शुरुआत में ही अगर कामोत्तेजना की कमी है तो दोनों लोगों का जीवन प्रभावित होता है हालांकि बढ़ती उम्र में यौन इच्छाओं की कमी हो जाती है । 40 से 45 साल की उम्र के बाद महिलाओं में रजोनिवृत्ति हो जाती है जिसकी वजह से यौन क्रिया या संभोग में कमी आ जाती है क्योंकि इस दौरान रजोनिवृत्ति होना प्रारंभ हो जाती है।

2. एंटीडिप्रेसेंट्स और उद्वेग विरोधी दवाएं खाना 

एंटीडिप्रेसेंट्स और उद्वेग विरोधी दवाएं यौन इच्छा में कमी पैदा करते हैं इसके अलावा मासिक धर्म में कई परेशानियों से गुजरना पड़ता है इन दवाओं के कारण सेक्स इच्छा कमजोर हो जाती है. हालांकि पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में यह घटनाएं ज्यादा होती हैं यदि पुरुष मैं 15 से 16% प्रभावित होते हैं तो महिलाएं इससे दुगना प्रभावित होती हैं।

3. टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम होना 

टेस्टोस्टेरोन और प्रोजेस्ट्रोन पुरुष व महिला में स्रावित होने वाले ऐसे हारमोंस हैं जो यौन क्रियाओं को प्रेरित करते हैं इनके कमी से यौन इच्छा की कमी हो जाती है।

4. कमजोर पैरासिमिलैथेटिक तंत्रिका

पुरुषों में यौन इच्छा के दौरान पैरासिमिलैथेटिक तंत्रिका कमजोर होती है तो सेक्स करने की इच्छा खत्म हो जाती है इसके अलावा कमजोर लिंग लिंग में टेढ़ापन शीघ्रपतन वीर्य और शुक्राणुओं का नुकसान शुक्राणु की संख्या में कमी के कारण भी यौन इच्छा में कमी होती है।

5. यौन क्रिया के दौरान मजबूत उत्तेजना और स्खलन में देरी

पुरुषों में यौन क्रिया के दौरान इस स्खलन में देरी होने से यौन क्रियाओं में कमी आ जाती है। यदि कोई पुरुष ज्यादा देर तक अपनी उत्तेजना को कायम रखता है तो दूसरी बार सेक्स क्रिया में कमी महसूस करता है।

6. थकान और ऊर्जा में कमी

कभी-कभी अत्यधिक थकान के कारण शारीरिक ऊर्जा का ह्रास होता है जिससे ऊर्जा में कमी आ जाती है और यौन क्रियाओं से मन हट जाता है।

7. आत्मसम्मान और आत्मविश्वास में कमी

बहुत से पुरुषों में या महिलाओं में सेक्स के दौरान आत्मविश्वास में कमी आ जाती है उन्हें ऐसा महसूस होता है कि हम अपने जीवनसाथी को भरपूर आनंद नहीं दे पा रहे हैं या सेक्स का आनंद लेने के बजाय किसी अन्य बातों में खो जाते हैं ऐसे में सेक्स की कमी हो जाती है।

8. शारीरिक वजन में वृद्धि

मोटापा के कारण व्यक्तियों का शरीर भारी हो जाता है जिसकी वजह से सेक्स के दौरान उन्हें असुविधा महसूस होती है धीरे-धीरे शरीर का भारीपन यौन इच्छा में कमी कर देता है।

9. मांसपेशियों की समस्या

यह प्रकार की शारीरिक कमजोरी है जिसकी मांस पेशी कमजोर होकर शिथिल हो जाती हैं उनमें उर्जा का ह्रास हो जाता है जिसकी वजह से उन में चिड़चिड़ापन आना शुरू हो जाता है और यौन क्रियाओं से दूर भागते हैं।

10. हड्डियों में कमजोरी

ऐसे लोग जिन की हड्डियां काफी कमजोर होती है जिससे शरीर में का दुबला पतला रहता है यह लोग भी यौन क्रियाओं से दूर भागते हैं।

11. मूड स्विंग्स में वृद्धि

कभी-कभी व्यक्ति के विचार आवश्यकता से अधिक स्विंग कर जाते हैं जिसकी वजह से भी उत्तेजना में कमी आती है और संभोग के दौरान उत्तेजना में कमी के कारण आनंद नहीं मिलता है.

12. वीर्य की मात्रा में कमी

हालांकि वीर्य की कमी पुरुषों से संबंधित है क्योंकि कभी-कभी पुरुषों में भी उत्तेजना में कमी पाई जाती है जिसकी वजह से भी सेक्स के दौरान उत्तेजना में कमी महसूस करते हैं.

13. कोई यौन रोग होना 

सेक्स के दौरान मौत किसी भी प्रकार का योन रोग है तो महिलाओं में उत्तेजना की कमी को देखा जाता है या फिर पुरुष को किसी सेक्सुअल डिसऑर्डर की समस्या है तो भी स्त्रियों सेक्स के लिए उत्तेजित नहीं होती है।

14. संभोग के दौरान दर्द होना

संभोग के दौरान दर्द पहली बार प्रत्येक महिला को होता है परंतु कभी-कभी किसी किसी को नहीं होता है। दो या तीन बार संभोग करने के बाद संभोग के दौरान दर्द की समस्या समाप्त होती है परंतु कई महिलाएं इसी कारण से उत्तेजित नहीं होती है अर्थात उनका संभोग करने में इंटरेस्ट कम हो जाता है जिसकी वजह से उत्तेजना की कमी हो जाती है.

15. मूत्र प्रणाली और जननांग विकार होना 

कभी-कभी महिला की जननांगों और मूत्र प्रणाली में किसी भी प्रकार का विकार हो जाने से सेक्स के दौरान असहज महसूस होता है जो धीरे-धीरे कामोत्तेजना को कम कर देता है ऐसे में महिलाओं में जोश की कमी होने लगती है

16. सेक्स से संतुष्टि न मिलना

बहुत-सी महिलाओं को सेक्स में संतुष्टि नहीं मिल पाती है क्योंकि संभोग के दौरान यदि उसके पति द्वारा किया जाने वाला संभोग और स्त्री का चरम पर पहुंचने से पहले वीर्य स्खलन हो जाता है ऐसे में सेक्सी की संतुष्टि नहीं मिल पाते हैं जिसकी वजह से महिला उत्तेजित नहीं हो पाती है।

17. शारीरिक कमजोरी या थकान

महिलाओं की शारीरिक कमजोरी और दिन भर की थकान उनकी सेक्स की प्रक्रिया पर प्रभाव डालती है शारीरिक कमजोरी की वजह से उन्हें संभोग के लिए आवश्यक हारमोंस उत्पादित नहीं हो पाते हैं जिसकी वजह से जोश में कमी आती है

18. हार्मोनल उतार चढ़ाव

महिलाओं में पाए जाने वाला हार्मोन प्रोजेस्ट्रोन संभोग के लिए प्रेरित करता है यदि इसमें किसी भी प्रकार का बदला हो जाता है तो महिलाओं के जोश में कमी आ जाती है। महिलाओं में इस तरह से कई सारी प्रॉब्लम उत्तेजना में कमी लाती है.

19. उच्च रक्तचाप के कारण

महिला को उच्च निम्न रक्तचाप की समस्या होती है तो सेक्स के दौरान उत्तेजना में कमी पाई जाती है मोटापा जैसी समस्या उच्च रक्तचाप का कारण बनती है उच्च रक्तचाप के दौरान मेरी जो से अधिक आता है तो अत्यधिक रक्तचाप और बढ़ सकता है जिससे समस्या खड़ी हो जाती है।

20. कामेच्छा की कमी का इलाज

महिला में कामेच्छा या उत्तेजना की कमी होने पर उसके जीवनसाथी को सेक्स के प्रति हतोत्साहित कर देते हैं जिसकी वजह से वह निराश या क्रोधित अथवा अलग हो सकता है ऐसी स्थिति आने पर इलाज करना आवश्यक हो जाता है कामेच्छा में कमी के कारणों के आधार पर कुछ इलाज या उपाय इस प्रकार किए जा सकते हैं।

21. स्वस्थ जीवनशैली न होना 

शरीर में या अन्य अंगों पर किसी भी प्रकार की कमी होने का प्रमुख कारण जीवन शैली होती है व्यक्ति अपने जीवन में प्रतिदिन सेवन किए या जाने वाले भोजन पर विशेष ध्यान देना होता है जीवन शैली से संबंधित सुधारों में नियमित भोजन व्यायाम पर्याप्त नींद तथा किसी भी प्रकार का अवसाद जैसे चीजों पर ध्यान देना आवश्यक है।

प्रतिदिन स्वस्थ भोजन व्यक्ति की दिनचर्या तथा अन्य आवश्यक तथ्यों से प्रभावित होने वाली जीवन प्रक्रियाए व्यक्ति के स्वास्थ्य पर अच्छा बुरा प्रभाव डालती हैं ऐसे में व्यक्ति को इन सभी तथ्यों पर विशेष ध्यान देने की जरूरत रहती है।

22. दवाओं के प्रभाव पर ध्यान न देना

यदि व्यक्ति किसी भी प्रकार की दवाइयों का सेवन करता है जो कामेच्छा को प्रभावित कर रही हैं तो डॉक्टर से बात सलाह लेकर उचित तरीके अपनाएं। यदि व्यक्ति किसी भी प्रकार की दवा जैसे डिप्रेशन की दवा का सेवन कर रहे हैं तो इस प्रकार की दवाएं कामेच्छा को कम करते हैं ऐसे में डॉक्टर से सलाह लेते हैं . इन दवाओं के सेवन से होने वाले प्रभाव को कम करें जिससे कामेच्छा या उत्तेजना प्रभावित ना हो।

23. टेस्टोस्टेरोन प्रतिस्थापन (रिप्लेसमेंट) थेरेपी

एंड्रोजन और प्रोजेस्ट्रोन तथा अन्य आवश्यक हारमोंस काम इच्छा के लिए आवश्यक होते हैं यदि इन सब हारमोंस में किसी भी प्रकार की गड़बड़ी हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लेकर ब्लड टेस्ट करवाएं और यदि हारमोंस की कमी की पुष्टि होती है तो इसके लिए डॉक्टर के द्वारा दी जाने वाली दवाओं का सेवन करें तथा एंड्रोजन और टेस्टोस्टेरोन को अपने शरीर में बढ़ाने का इलाज करें.

किसी अच्छे सेक्सोलॉजिस्ट डॉक्टर से मिलकर इस विषय में उससे जानकारी लें ऐसे बहुत सारे गुप्त रोग विशेषज्ञ डॉक्टर हमारे आसपास शहरों में है जो इसके इलाज के लिए जाने जाते हैं।

24. उत्तेजना बढ़ाने वाली दवाई ना खाएं

आजकल बाजार में बहुत सारी दवाई ऐसी उपलब्ध है जो कामोत्तेजना को बढ़ा देते हैं टीवी समाचार अप अखबारों में भीम के विज्ञापन दिए जाते हैं परंतु यहां सलाह दी जाती है कि बाजार में बिकने वाली दवाएं जो उत्तेजना के लिए प्रचार की जा रही है इनको ना खाएं क्योंकि यह दवाएं मनोवैज्ञानिक असर डालती हैं जिससे शारीरिक असर भी पड़ता है तथा पल भर के सुख के लिए हमेशा के लिए समस्या बन जाती है।

महिलाओं में कामेच्छा की कमी के लक्षणों की पहचान कैसे करें ? | Symptoms of lack of libido in women

किसी भी महिला में याद उत्तेजना की कमी हो जाती है जिसके कारण वह सेक्स से दूर भागती है किसी भी महिला में उत्तेजना के कमी के निम्नलिखित कारण देखे जा सकते हैं-

  • जब महिला में उत्तेजना की कमी होने शुरू हो जाती है तो महिला का सिर दर्द होता है परंतु वह अपने पति से इस संबंध में केवल रात में शिकायत करती है अर्थात सिर दर्द का बहाना केवल रात में करती है।
  • सेक्सी के दौरान पति द्वारा पत्नी को स्पर्श करने या फोरप्ले मैं कोई उत्तेजना नहीं दिखाती है।
  • पति के द्वारा यौन इच्छा व्यक्त करने पर बहाना बनाने लगती है जैसे मुझे नींद आ रही है बेचैनी छा रही है इस तरह के बहाने बनाकर दूर हो जाती है।
  • अतिरिक्त नींद लगने लगती है जो वह बिस्तर पर आती है तो उसे तुरंत नींद महसूस होने लगती है।
  • सेक्स में उत्तेजना की कमी का प्रमुख कारण योनि में सूखापन हो सकता है ऐसे में उत्तेजना की कमी हो जाती है।
  • अक्सर संभोग करने के लिए वह पति से चिढ़ जाती है।इसके अलावा वह सेक्सी के दौरान पति से किसी भी प्रकार की प्रतिक्रिया नहीं करती है।
  • यदि पति कुछ जबरदस्ती भी करता है तब भी वह कामोत्तेजना के लिए प्रेरित नहीं हो पाती है।
  • पति द्वारा कितनी बार प्रयास किया जाए वह हर बार उससे दूर भागने का प्रयास करती है।

दांपत्य जीवन में स्त्री की उत्तेजना का कितना असर पड़ता है ? | Effect of woman’s excitement in married life

किसी भी महिला के वैवाहिक जीवन में यदि जोश की कमी पाई जाती है तो उसका वैवाहिक जीवन संकटों से गिर जाता है क्योंकि सेक्स एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से व्यक्ति नई पीढ़ी को जन्म देता है तथा सेक्स के माध्यम से ही व्यक्ति की मनोदशा और स्वास्थ्य में बदलाव होता है सेक्स व्यक्ति की शारीरिक और मानसिक संतुलन को नियंत्रित रखता है।

husband wife

हालांकि महिलाओं में कामेच्छा की कमी से कई सारी बीमारियां भी हो सकती हैं उनके ऊपर शारीरिक असर दिखाई पड़ता है तथा विवाहित जीवन बुरी तरह से प्रभावित होता है क्योंकि कभी-कभी कामोत्तेजना की कमी के कारण पति-पत्नी में नाराजगी के साथ-साथ अलगाव की स्थिति आ जाती है.

वैवाहिक जीवन में सेक्स महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जिसके कारण पति पत्नी एक दूसरे के करीब आकर अपने प्यार को मजबूत करते हैं मानसिक रूप से स्वस्थ रखते हैं और अपनी सेक्सुअल इच्छा को पूर्ण करते हैं क्योंकि पत्नी ही है कैसा विशिष्ट माध्यम है जिसके द्वारा पति की यौन इच्छाएं पूर्ण होती है।

स्त्री को उत्तेजित करने के घरेलू नुस्खे क्या हैं ? | औरतों को जोश की दवा | ladki ko garam karne ke gharelu nuskhe

ladki ko garam karne ke gharelu nuskhe महिला में उत्तेजना को मनाने के लिए घरेलू नुस्खे काफी कारगर होते हैं जब कभी भी महिला को उत्तेजना की कमी महसूस हो तब नीचे दिए गए घरेलू उपाय करके अपनी उत्तेजना को बढ़ा सकती है।

1. लहसुन

लहसुन की तासीर गर्म होती है जब कभी कामेच्छा की कमी को तो दो कलियां लहसुन की शहद के साथ भोजन करने के बाद और सेक्स करने से एक घंटा पहले खा ले लहसुन में एंटीकोगुलेंट गुण होने के कारण यौन अंगों में रक्त संचार बढ़ जाता है जिससे कामेच्छा बढ़ जाती है.

जिन महिलाओं की कामेच्छा ख़त्म हो गई है, अगर वे लहसुन का सेवन करें तो उनकी कामेच्छा जागने लगती है। लहसुन का स्वभाव गर्म होता है और इसमें एंटीकोगुलैंट गुण होता है, जो महिलाओं के यौन अंगों में रक्त संचार को बढ़ाता है और यौन रोग को दूर करता है, कामेच्छा को बढ़ाता है।

संभोग करने से पहले इसको खाने से महिलाओं में उत्तेजना इतनी ज्यादा बढ़ जाती है कि उसे रोक पाना आसान नहीं होता है .

2. अश्वगंधा

ashwgandha

अश्वगंधा महिलाओं ने स्थिति को प्रेरित करने के साथ-साथ चिंता और तनाव को भी कम कर देता है यदि महिलाओं में उत्तेजना की कमी है तो अश्वगंधा का पाउडर सेवन करने से उत्तेजना को प्रभावित करने वाले हार्मोन सक्रिय हो जाते हैं अश्वगंधा का पाउडर प्रतिदिन सुबह-शाम दूध के साथ एक चम्मच लेने से कामोत्तेजना की कमी समाप्त हो जाती है।

3. केसर

स्त्रियों में जोश यौन इच्छा शक्ति और उत्साह पैदा करने के लिए केसर को गाय के घी या दूध के साथ खाएं इससे काम इच्छा के लिए ताकत और सेक्स स्टैमिना बढ़ जाती है ऐसे में महिलाओं की सेक्स की परफॉर्मेंस अच्छी हो जाती है और पुरुष को संभोग का पूरा आनंद भी मिलता है।

4. कामोत्तेजना के लिए खाद्य पदार्थ

  1. चॉकलेट
  2. ब्लैक बेरी
  3. रास्प बेरी
  4. क्रेन बेरी
  5. नट
  6. ब्रोकली
  7. लौंग
  8. अंजीर
  9. तरबूज
  10. अंडे
  11. जीन्सेंग
  12. केसर
  13. सलाद
  14. अदरक
  15. कस्तूरी आदि जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन करने से कामेच्छा में सुधार लाया जा सकता है .

5. शतावरी (एस्परैगस)

शतावरी महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम जड़ी बूटियों में से एक है। यह महिला शरीर में यौन हार्मोन को संतुलित करता है और प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ाता है। गर्भाशय के रक्तस्राव, मासिक धर्म की समस्याओं, कमजोरी, बांझपन और अक्सर गर्भपात जैसे विकारों में भी यह फायदेमंद है। महिलाओं के मामलें में सर्वांगासन, बालासन, उत्थान पृष्ठासन, उत्कट कोणासन (गॉडेस पोज़), कपोतासन और सेतुबंधासन उपयोगी होते हैं।

6. अशोक वृक्ष की छाल

अशोक वृक्ष की छाल योनि स्राव और गर्भाशय के रक्तस्राव को नियंत्रित कर सकती है। यह हार्मोनिक स्राव को ठीक करती है और संतुलन बनाए रखती है। यह भी कामेच्छा की कमी में सिफारिश की जाती है।

औरतों को जोश की दवा | महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के लिए कुछ आयुर्वेदिक दवाएं 

  1. अशोकारिष्टम (Asokarishtam)
  2. कुमार्यासवम (Kumaryasava)
  3. सरस्वथारिष्टम (Saraswatharishtam)
  4. सुकुमारम कश्यम (Sukumaram Kashayam)
  5. चन्द्रप्रभा वाटिका (Chandraprabha vatika)
  6. सरस्वथा ग्रिथम (Saraswatha gritham)
  7. अस्वगंधादि लेह्यं (Aswagandhadi lehyam)
  8. सौभाग्य सुंडी (Sowbhagya)
point down यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.
♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

( कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया )

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन