कुलदेवी की खोज और प्रसन्न करने के आसान उपाय और सम्पूर्ण आरती | kuldevi ki khoj

कुलदेवी की खोज Kuldevi ki khoj: हेलो दोस्तों नमस्कार आज हम आप लोगों को कुलदेवी की खोज बताएंगे अगर आप जानना चाहते हैं कि कुलदेवी की खोज कैसे करें और कुलदेवी की स्थापना कैसे की जाती है उनको प्रसन्न कैसे करें तो आज हम आप लोगों को बताएंगे कुछ लोग तो कुलदेवी के बारे में नहीं जानते हैं इसीलिए उन्हें पता ना होने के कारण हो सकते हैं.

कुलदेवी की खोज,, kuldevi ki aarti,, kuldevi khodiyar maa,, kuldevi ki kahani,, kuldevi kaise pahchane,, kuldevi ki photo,, gahlot ki kuldevi,, khodiyar maa kuldevi,, कुलदेवी की खोज कैसे करे,, kuldevi ki puja,, kuldevi ki pooja,, kuldevi ki puja vidhi,, rathoro ki kuldevi,, rathore ki kuldevi,, kuldevi of rathore,, rathoda ki kuldevi,, solanki ki kuldevi,, tanwaro ki kuldevi,, mata ki kuldevi,, yadavo ki kuldevi,, kuldevi of khatri,, kothari ki kuldevi,, kuldevi maiya ki aarti,, kuldevi nagnechi mata ki aarti,, कुलदेवी की आरती,, कुलदेवी की खोज कैसे करे ,, कुलदेवी की खोज,, कुलदेवी की स्थापना कैसे करे,, कुलदेवी की स्थापना कैसे करें,, कुलदेवी को कैसे प्रसन्न करे,, कुलदेवी को कैसे प्रसन्न करें,, कुलदेवी की पूजा किस दिन करनी चाहिए,, कुलदेवी की आरती,, कुलदेवी नागणेची माता की आरती,, कुलदेवी जमवाय माता की आरती,, कुलदेवी बाण माता की आरती,, कुलदेवी चामुंडा माता की आरती,, जय माँ कुलदेवी की आरती,, kuldevi ki aarti,, kuldevi aarti,, kuldevi mata ki aarti,, kuldevi ki puja kaise karni chahie,, kuldevi ki puja kaise karte hain,, kuldevi ki puja kaise hoti hai,, kuldevi ki puja kaise ki jaati hai,, kuldevi ki puja kaise kare,, kuldevi ko kaise prasann karen,, kuldevi ko prasan kaise kare,, kuldevta ko kaise prasann karen,, kuldevi ko khush kaise kare,, kuldevi ko prasan karne ke upay,, kuldevi ko prasan karne ka upay,, kuldevi ko kaise pahchane,, kuldevi ko kaise manaye,, kuldevi ki sthapna kaise karen,, kuldevi ki sthapna,, kuldevi ki puja kaise kare,, kuldevi kaise pahchane,, kuldevi ki puja kaise ki jaati hai,, kuldevi ki pooja kaise kare,, kuldevi ko kaise pahchane,, kuldevi ki puja kaise karen,, kuldevi aarti,, kuldevi mata ki aarti,, kuldevi maa aarti,, kuldevi ni aarti,, kuldevi mata ji ki aarti,, list of kuldevi as per gotra,,

जैसे ही वर्षों से परिवार के साथ नहीं रह रहे हैं और कुलदेवी को नहीं जानते हैं उनकी पूजा नहीं कर पाते हैं इसकी वजह से उनके घर में कई समस्याएं उत्पन्न होती हैं इसीलिए आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से कुलदेवी कौन है और कुलदेवी की खोज कैसे करें इसके बारे में बताएंगे.

अगर आप कुलदेवी का पता लगाना चाहते हैं तथा उनकी स्थापना अपने घर में करना चाहते है और उन्हें प्रसन्न करने का तरीका जानना चाहते हैं तो इस संपूर्ण जानकारी को प्राप्त करने के लिए हमारे इस लेख में अंत तक बने क्योंकि आज हम आप लोगों को इन्हीं सारे विषयों के बारे में बताने वाले हैं।

कुलदेवी की खोज कैसे करे ? | Kuldevi ki khoj kaise kare ? 

अगर आप यह जानना चाहते हैं कि कुलदेवी की खोज कैसे करें तो आज हमने आप लोगों को इसके बारे में नीचे विस्तार से बताया है इसको पढ़ने के बाद आप कुलदेवी की सारी जानकारी प्राप्त कर लेंगे।

कुलदेवी की स्थापना कैसे करे ? | Kuldevi ki sthapna kaise karen

अगर आप अपने कुलदेवी को को अपने घर में स्थापित करना चाहते हैं तो सुबह के समय स्नान आदि से संपन्न होने के बाद उनकी तस्वीर अपने घर के मंदिर में स्थापित करें उसके बाद उन्हें देसी घी का दीपक जलाएं धूप दीप दिखाएं तथा कपूर जलाएं यह सभी प्रक्रिया करने के बाद प्रसाद का भोग लगाएं।

कुलदेवी


भोग लगाने के बाद उन्हें चंदन और चावल का टीका अर्पित करें ध्यान रहे कि चावल टूटे नहीं होने चाहिए उसके बाद उन्हें शुद्ध पुष्प अर्पित करें इसी प्रकार रोज सुबह और शाम को उनकी पूजा-अर्चना करनी है और उनसे हाथ जोड़कर क्षमा प्रार्थना करनी है।

कुलदेवी की खोज करने के लिए ग्यारह मंगलवार करे यह प्रयोग

अगर आप कुलदेवी की खोज करना चाहते हैं तो आपको मंगलवार के दिन यह 11 उपाय करना चाहिए क्या प्रयोग शुरू करने से पहले आपको शुक्ल पक्ष में मंगलवार के दिन या उपाय करना है सबसे पहले आपको स्नानादि से संपन्न हो जाना है उसके बाद एक साबुत , सुपारी लेकर उसे स्नान कराएं और उसे एक पाटे पर स्थापित कर दें।

अब आप प्रार्थना

उसके बाद अब उनसे प्रार्थना करें उनसे कहें की यह “हमारे कुल गोत्र के देवता” आप कौन हैं और कहां से आए हैं इसके बारे में मुझे बिल्कुल भी नहीं पता है इसीलिए आज हम आपको इस सुपारी में आपका आवाहन करता हूं” इस चीज को आप तीन बार बोले और सुपारी की पंचोंपचार पूजा करें और घर के मंदिर में उसे स्थापित कर दे।

रात के समय प्रार्थना करे ?

उसके बाद अब रात के समय आपको यह प्रार्थना करनी है कि यह “हमारे कुल गोत्र के कुलदेवता” आप कौन हो मैं आपको जानना चाहता हूं कृपया आप मेरे सपने में आए और मुझे मार्गदर्शन प्रदान करें इस प्रार्थना को करें करने के बाद सुपारी को अपने तकिए के नीचे रखा लें।

ग्यारह मंगलवार निरंतर प्रयोग करे ?

  1. उसके बाद 11 मंगलवार तक आपको यह क्रिया करनी है सबसे पहले आपको मंगलवार के दिन उपवास रखना है अगर आप इस उपवास को रखते हैं और यह क्रिया करते हैं तो आप के कुलदेवता या कुलदेवी आपको अपने सपने में मार्गदर्शन दिखाते हैं वह अपने स्थान के बारे में भी बताते हैं।
  2. जिस भी मंगलवार के दिन आप इस प्रक्रिया को करते हैं उस दिन आपको स्नान आदि से संपन्न होने के बाद शुद्ध वस्त्र धारण करें ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए मांस मदिरा का सेवन ना करें श्रद्धा पूर्वक उनकी पूजा-अर्चना करें अगर आप यह प्रक्रिया करते हैं तो आपके वर्ष से भूली हुई कुलदेवी की समस्या का हल होगा उसके बाद में आपको आपके कुलदेवी की जानकारी मिल जाएगी।
  3. जैसे ही आपको आपके कुलदेवी की जानकारी मिल जाती है उसके बाद उनकी अपने घर के मंदिर में स्थापना करने स्थापना करने के लिए नीचे बिंदु को अवश्य पढ़ें कि कैसे उनकी स्थापना की जाती है।

कुलदेवी को कैसे प्रसन्न करे ? | Kuldevi ko kaise prasann kare

कुलदेवी

  1. अगर आप अपनी कुलदेवी को प्रसन्न करना चाहते हैं तो हमारे बताए गए नियमों का पालन करें।
  2. कुलदेवी को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धा पूर्वक उनकी रोज पूजा अर्चना करें।
  3. जहां पर आप की कुलदेवी का स्थान है वहां जाकर उनकी पूजा करें उसके बाद दान करें भूखे लोगों को भोजन खिलाएं और वहां जाने के बाद अपने घर में साल भर या फिर 2 साल में एक हवन जरूर करवाएं अगर आप पिज्जा प्रक्रिया करते हैं तो आप की कुलदेवी मां प्रसन्न हो जाती हैं और आपको आशीर्वाद प्राप्त करती है और आपके परिवार पर अपना आशीर्वाद हमेशा बनाए रखती हैं।

कुलदेवी की पूजा किस दिन करनी चाहिए ? | Kuldevi ki puja kis din karni chahiye

कुलदेवी की पूजा आप हर रोज कर सकते हैं जिस प्रकार आप अपने घर में सभी देवी देवताओं की पूजा करते हैं उसी प्रकार आपको सुबह-शाम अपने कुलदेवी की पूजा करनी चाहिए प्रतिदिन उनके सामने घी का दीपक जलाकर उनकी पूजा करें।

कुलदेवी को हमारे कुल की गोत्र देवी माना जाता है इसीलिए उन्हें हमें रोज याद करना चाहिए और प्रतिदिन उनकी पूजा-अर्चना करनी चाहिए क्योंकि उनकी पूजा-अर्चना करने से हमारे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और देवी मां का आशीर्वाद ही प्राप्त होता है पूजा अर्चना करने से सभी प्रकार की समस्याएं दूर हो जाती है।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 744 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

बिना मेहंदी के बाल काले कैसे करें ? 6 आसान घरेलू नुस्खे | Bina mehandi ke baal kale kaise kare
रोटी के टुकड़े से नजर कैसे उतारे? | Roti ke tukde se nazar utare

कुलदेवी की आरती | Kuldevi ki aarti

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥
मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥
कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै ॥जय॥
केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी ॥जय॥
कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति ॥जय॥
शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती ॥जय॥
चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू ॥जय॥
भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी ॥जय॥
कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति ॥जय॥
श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै ॥जय॥

कुलदेवी नागणेची माता आरती | Kuldevi Nagnechi Mata Aarti

कुलदेवी

!! सेवक की सुन मेरी कुल माता, हाथ जोड़ हम तेरे द्वार खड़े !
धुप दीप नारियल ले हम, माँ नागणेचियां के चरण धरे ।।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

!! क्षत्रिय कुल राठौडो की माँ, हो खुश हम पर कृपा करे !
नागणेचियां माँ को नमन् है, कष्ठ हमारे माता दूर करे ।।

!! नाग रूप धर कर माँ, तुमने राव धुहड़ को आदेश करे !
कलयुग में कल्याण करण को, माँ तुमने विविध रूप धरे ।।

!! कृपा द्रष्टि करो हम पर माँ, तेरी कृपा से हो वंश हरे भरे !
दोष न देख अपना लेना, अच्छे बुरे पूत हम तवरे ।।

!! बुद्धि विधाता तुम कुल माता, हम सब का उद्धार करे !
चरण शरण का लिया आसरा, तेरी कृपा से सब काज सरे ।।

!! बांह पकड़ कर आप उठावो, हम तो शरण तेरी आन पड़े !
जब भीड़ पड़े भक्तों पर, माँ नागणेचियां सहाय करे ।।

!! नागणेचियां की आरती जो गावे, माँ उसके भण्डार भरे !
दर्शन तांई जो कोई आवे, माँ उसकी मंशा पूरी करे ।।

!! कुलदेवी को जो भी ध्यावे, माँ उसके कुल में वृद्धि करे !
कलि में कष्ठ मिटेंगे सारे, माँ की जो जय जयकार करे ।।

!! राठौड़ कुळ ले विन्नति , हाथ जोड़ तेरे द्वार खडा !
धुप दीप और नारियल ले , माँ तुम्हारे चरण पडा ।।

FAQ  : कुलदेवी की खोज

कुलदेवी की खोज कैसे करे?

आप अपने कुलदेवी की खोज करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको 11 मंगलवार इसका प्रयोग करना 11 मंगलवार तक सुबह उठकर स्नान आदि से संपन्न होने के बाद एक साबुत सुपारी लेना है और उसे स्नान कराना है उसके बाद उसे एक पाटे पर स्थापित कर देना है अब उनसे प्रार्थना करना है की है हमारे कुल गोत्र देवता आप कौन हैं और कहां से आए हैं इसके बारे में मुझे नहीं पता है इसीलिए मैं इस सुपारी में आप का आवाहन करती हूं।"

कुलदेवी का क्या नाम है?

वैसे तो कुल देवी या देवता को लिया वंश के रक्षक माने जाते हैं यह घर परिवार या फिर वंश के प्रथम पूर्वज का अधिकार प्राप्त करते हैं की गिनती हमारे घर के पूर्वज सदस्यों में की जाती है इसीलिए इन्हें प्रत्येक कार्य में जरूर याद किया जाता है।

कुलदेवी को खुश कैसे करे?

अगर आप अपने कुल देवता को प्रसन्न करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको हल्दी में लिपटे पीले चावल पानी में भिगोकर अर्पण करना शुभ माना जाता है और उनकी पूजा करते समय पान के पत्ते का होना बहुत आवश्यक है अगर आप अपने कुलदेवता को पान के पत्ते अर्पित करते हैं तो उसके साथ सुपारी , लॉन्ग , इलायची और गुलकंद भी अर्पित करना है इससे आपकी कुलदेवता जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं।

निष्कर्ष

आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से कुलदेवी की खोज कैसे करें तथा गोत्र की कुलदेवी के बारे में कैसे जाने अगर आपको यह तरीका जानना है तो इस लेख को अच्छे से पढ़ लें और उनकी स्थापना कैसे की जाती है इन्हें प्रसन्न कैसे करें इनके बारे में भी बताया है पहले इनके बारे में अच्छे से पता कर ले उसके बाद इनकी स्थापना श्रद्धा पूर्वक करें.

osir news

इन को प्रसन्न करके इनका आशीर्वाद प्राप्त करें और इनसे भूल चूक हुई है तो माफी मांग ले इससे आप की कुलदेवी प्रसन्न हो जाएंगी और उनका आशीर्वाद आपके ऊपर हमेशा बना रहेगा उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित हुई होगी।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

फ्री वशीकरण : 3 अनोखे टोटके एवं लाभ व हानि | फ्री वशीकरण : Free vashikaran
कॉलेज की लड़की क्लासमेट को कैसे पटाए ? 6 Tips गर्ल को इम्प्रेस कैसे करे ? Girl impress tips hindi
खूबसूरती की तारीफ शायरी 2 लाइन : लड़की हो या लड़का होगा तुरंत फ़िदा | khubsurti ki tareef shayari 2 line
क्या वीर्य निकालने या गिराने से शरीर कमजोर हो जाता है : 4 कारण जाने | Kya virya nikalne se kamjori aati hai
टाइफाइड में परहेज : जाने टाइफाइड बुखार में क्या नहीं खाना चाहिये ? | Typhoid me parhej
★ सम्बंधित लेख ★