जाने आपको बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए ? | Bache paida karne ke liye kitni baar karna chahiye

बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए | Bache paida karne ke liye kitni baar karna chahiye : दोस्तों मनुष्य के जीवन में एक संतान का होना अत्यधिक महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि जब कोई भी व्यक्ति वैवाहिक संबंध में बंद कर पति पत्नी के रूप में नई जिंदगी की शुरुआत करता है तो उसकी एक इच्छा होती है कि उसके जीवन में एक संतान जन्म ले जिससे उसके आंगन में संतान रूपी फूल महके और घर आंगन में खुशियां आएं। एक पुत्र प्राप्ति के लिए नव दंपत्ति के मन में सवाल आता है कि बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए।

बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए Bache paida karne ke liye kitni baar karna chahiye

दोस्तों एक पति पत्नी के रूप में इंसान संतान की प्राप्ति के लिए भोग करता है. क्योंकि यही वह माध्यम है जिससे नई संतान का जन्म होता है. लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि भोग मात्र एक बार करके संतान प्राप्त हो जाए। हां यह बात सत्य है कि कई लोगों को पहली बार में ही संतान प्राप्ति हो जाती है. लेकिन कुछ लोगों को कई बार स्त्री के साथ संबंध बनाने के बावजूद भी संतान प्राप्ति नहीं होती है।

कुछ नए अध्ययन से पता चला है कि कई व्यक्ति संतान प्राप्ति के लिए शुरुआती दिनों में लगभग 1 महीने में 13 से 14 बार स्त्री से सहवास करते हैं। परंतु इसके बाद भी लोगों को संतान सुख की प्राप्ति नहीं हो पाती है। कई सर्वे इस बात को बताते हैं कि कुछ लोग स्त्री की प्रेगनेंसी को लेकर शुरुआत के दिनों में प्रतिदिन भोग करते हैं। फिर भी उन्हें बच्चे नहीं होते हैं ऐसे में बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए आइए हम इस संबंध में बताते हैं।

बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए ? | Bache paida karne ke liye kitni baar karna chahiye ?

दोस्तों अब बात आती है कि बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए अर्थात एक संतान उत्पत्ति के लिए हमें अपने जीवन में कितनी बार भोग की प्रक्रिया से गुजरना है और कितनी बार नहीं क्योंकि महिला की प्रेगनेंसी कई बार करने से नहीं होती है. बल्कि यहां पर हमें विज्ञान के माध्यम से यह समझना आवश्यक है कि संतान कैसे होती है ? जब हम इस बात को समझ पाएंगे, तब स्वयं में यह बात समझ में आ जाएगी कि बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए ?

love

यदि कोई महिला गर्भधारण करना चाहती है तो पति और पत्नी दोनों को इस बात को समझना जरूरी है कि हमें भोग कब करना चाहिए कितनी बार करना चाहिए और किन किन बातों का ध्यान रखना चाहिए जब इन तरीकों को हम समझ जाते हैं तो हमारी यह समझ में आता है कि बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए ? दोस्तों अध्ययनों से पता चलता है क्या लगभग 40% लोग कंसीव करने के लिए मानसिक रूप से दबाव महसूस करते हैं.


उन्हें प्रेगनेंसी को लेकर एक असंभव भी डर लगा रहता है और तनावग्रस्त रहते हैं वह यह समझते हैं कि गर्भधारण प्रक्रिया एक बड़ी मेहनत होती हैं जिसकी वजह से भी तनाव महसूस करते हैं लेकिन जहां पति और पत्नी की चाहत संतान की होती है वहां पर इन बातों से तनाव महसूस नहीं करना चाहिए बल्कि कंसीव करने के लिए हमें भोग की प्रक्रिया से गुजरना होता है।

बच्चा पैदा करने के लिए ध्यान देने योग्य बातें

गर्भधारण के लिए कुछ बातों को ध्यान देना जरूरी है कंसीव करने के लिए या बच्चा पैदा करने के लिए हम जितनी बार चाहे उतनी बार कर सकते हैं परंतु हम कितनी बार भी भोग करें बच्चा होना तभी संभव है जब नीचे दी जा रही बातें स्पष्ट रूप से समझ पाएंगे।

1. मासिक का समय से होना

missing period

एक महिला गर्भधारण तभी कर सकती है जब उसके अंदर हर महीने होने वाला मासिक सही समय पर और सही तरीके से होता है, मासिक आने के बाद महिला के लिए 1 सप्ताह बहुत महत्वपूर्ण होता है. क्योंकि इसी सप्ताह में प्रेगनेंसी के अवसर अधिक होते हैं। जब महिला में मासिक आता है तो लगभग 4 दिन रजोधर्म होता है और उसके बाद अगले 5 से 6 दिन एक ओवुलेशन का समय होता है यही वह समय होता है जब भोग करने से प्रेग्नेंसी के चांस बढ़ जाते हैं।

2. ओवुलेशन का समय

महिलाओं में हर महीने मासिक होता है. जिसका चक्र 28 दिन पर दोहराता है और लगभग 4 दिन रजोनिवृत्ति होती है. उसके बाद अगले 5 से 6 दिन और ओवुलेशन का समय होता है. यह समय फर्टाइल विंडो का समय होता है। महिला में यह समय अभी लेट होने से 2 या 3 दिन पहले शुरू होता है और यही वह समय होता है, जब एक महिला के लिए गर्भधारण का उचित अवसर होता है. रजोधर्म होने के बाद ओवुलेशन का समय होता है, तो नियमित रूप से भोग की क्रिया से गुजरने पर गर्भधारण की क्षमता अधिक होती है.

क्योंकि इस दौरान स्त्री के गर्भाशय से अंडाणु का उत्सर्जन होता है जो फेलोपियन ट्यूब से होता हुआ नीचे आता है जहां पर लगभग 12 से 24 घंटे तक रहता है इसी दौरान यदि हम भोग करते हैं तो पुरुष के द्वारा स्पर्म अंडाणु तक पहुंच जाता है और उसे फर्टिलाइज करके गर्व की क्षमता को बढ़ा देता है। सेक्सोलॉजिस्ट डॉक्टर और विशेषज्ञों का मानना है कि जो महिला लगभग हर दूसरे दिन भोग करती है उसने कंसीव करने की संभावनाएं अधिक होती है सभी महिलाओं में पीरियड का समय अलग-अलग होता है तथा ओवुलेशन भी उसके पीरियड के अनुसार ही होता है.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 806 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

गोरा होने की सबसे अच्छी क्रीम का नाम और ग्लो की क्रीम | Gora hone ki sabse achhi cream
पन्ना रत्न के फायदे और नुकसान , धारण विधि और शुभ मुहूर्त | benefits of panna stone in hindi

ऐसे में जब भी पीरियड के बाद ओवुलेशन समय आता है तो लगभग प्रतिदिन बच्चे पैदा करने के लिए भोग करना चाहिए यदि प्रतिदिन संभव ना हो सके तो दूसरे दिन अवश्य करना चाहिए जिससे गर्भधारण की संभावना अधिक रहती है। महिला और पुरुष दोनों को ओवुलेशन समूह पर ध्यान देना चाहिए. क्योंकि पीरियड खत्म होने के बाद अगले 5 से 6 दिन तक ओवुलेशन समय होता है और इसी दौरान अंडाणु निषेचन करके गर्भ धारण कर सकती हैं।

बच्चे ना पैदा होने के कारण | Bache na paida hone ke karan

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

दोस्तों अब हम आइए आपको बच्चा ना पैदा होने के कारण के बारे में बताएंगे क्योंकि जब किसी भी नव दंपति को कई वर्ष तक बच्चे नहीं प्राप्त होते हैं तो कुछ कारण इस प्रकार से हो सकते हैं

1. महिला में अंडाणु का ना बनना

sperium veery sperm

कई बार महिलाओं में देखा गया है कि मासिक सही समय से आता है और उनके अंदर पीरियड आने के बाद ओवुलेशन सही से नहीं हो पाता है, जिसकी वजह से गर्भधारण नहीं हो पाता है. ऐसे में महिलाओं की जांच करना अनिवार्य होता है. जिसके लिए आप मेडिकल का सहारा ले सकते हैं. क्योंकि मेडिकल रिसर्च ही सही से इसका निदान कर पाते हैं.

2. मासिक में उतार-चढ़ाव

कई बार महिलाओं में मासिक के उतार-चढ़ाव के के कारण भी गर्भधारण करने में दिक्कत आती है, कुछ महिलाओं में शारीरिक कमजोरी या अन्य कई दिक्कतों की वजह से मासिक समय से पहले या समय के बाद प्रारंभ होता है. जिसकी वजह से अंडाणु सही से विकसित नहीं हो पाते हैं और गर्भधारण नहीं हो पाता है.

3. पुरुष में शुक्राणु की संख्या और गुणवत्ता में कमी

जिस प्रकार से महिलाओं में शुक्राणुओं की गुणवत्ता में कमी होती है उसी प्रकार से पुरुषों के शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता में कमी हो सकती है जो महिला के अंदर गर्भधारण को बाधित करता है. माना जाता है कि यदि पुरुष में 20,00,000 से कम शुक्राणुओं का उत्पादन एक बार में होता है, तो महिला में प्रेग्नेंसी के चांस नहीं रहते हैं. ऐसे में पुरुषों को अपने शुक्राणुओं की संख्या और गुणवत्ता की जांच कराना अनिवार्य होता है.

4. नशीली दवाओं का सेवन

medicine capsule dva tablets

बहुत सी महिलाएं और पुरुष नशा की आधी होती हैं. जिसकी वजह से गर्भधारण करने में समस्याएं उत्पन्न होती हैं, कुछ महिलाएं बीड़ी, सिगरेट, पान मसाला आदि का सेवन करती हैं. जिसकी वजह से गर्भाशय पर असर पड़ता है. इसीलिए कई बार गर्भधारण करने के बावजूद भी गर्भपात हो जाता है. इस तरह की समस्याएं महिलाओं को बच्चा पैदा करने में दिक्कत करती हैं.

5. गर्भाशय का छोटा होना

बहुत सी महिलाओं में गर्भाशय का मुंह छोटा होता है. जिसकी वजह से भी गर्भधारण नहीं हो पाता है. ऐसे में बच्चा होने में कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. इन सभी समस्याओं में गर्भाशय का मुंह छोटा होना भी बच्चे ना पैदा होने का कारण बनता है.

6. मोटापा या शारीरिक कमजोरी

motapa obesity pet ki naap

बहुत सी महिलाओं में मोटापा अधिक हो जाने के कारण भी गर्भधारण करने में समस्याएं उत्पन्न होती हैं. इसके अलावा यदि महिलाएं शारीरिक रूप से कमजोर होती हैं. तब भी गर्भधारण करने में समस्याएं आती हैं.

osir news

निष्कर्ष

बच्चे पैदा करने के लिए कितनी बार करना चाहिए जिसको बच्चा पैदा करने के लिए कितनी बार करने से कोई मतलब नहीं है बल्कि उपरोक्त कारण यदि आपके अंदर हैं तो गर्भधारण नहीं हो सकता है आप बच्चा पैदा करने के लिए चाहे जितनी बार करें. दूसरी तरफ हम महिला के साथ भोग कितनी बार भी करें यह आवश्यक नहीं है कि आवश्यकता से अधिक बार भोग करने से बच्चे का जन्म हो सकता है बल्कि उचित और सही समय पर ही भोग करने से बच्चे पैदा हो सकते हैं.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

सपने में दूध से भरा बर्तन और दूध को पीते हुए देखना का मतलब क्या होता है : सपने में दूध देखना स्वप्न अर्थ
जादू क्या है ? भ्रमजाल या इंद्रजाल का सच ! What is magic ?
10 टिप्स : नाराज गर्लफ्रेंड को कैसे मनाए, Girlfriend के गुस्से को कैसे ख़त्म करे – Gf ko kaise manaye
सपने में लैट्रिन पर पैर रखना का मतलब जाने : धन लाभ और बनेंगे बिगड़े काम | Sapne me latrine par pair rakhna
पुत्र प्राप्ति मंत्र : गुणवान संतान की प्राप्ति के लिए 3 मंत्र एवं 5 अचूक उपाय – Putra prapti mantra
★ सम्बंधित लेख ★