महिलाओं को चूड़ियाँ क्यों पहननी चाहिए? चूड़ी पहनने के नुक्सान | किस दिन कौन से रंग की चूड़ी पहने ?

Kis din kaun si chudi pahne ? chudi pahne ke fayde nuksan ? वैसे तो हमारे देश में वही महिलाएं चूड़ियां पहनती हैं जिनकी शादी हो जाती है अर्थात वे लड़कियां जिनका जीवन वैवाहिक जीवन से जुड़ा होता है ऐसे में वे महिलाएं जिनकी शादियां हो जाती हैं सुहागिन के नाम से जाने जाने लगती हैं। ऐसी महिलाओं को चूड़ियां पहनना एक श्रृंगार के रूप में माना जाता है क्योंकि हमारे समाज में सोलह श्रंगार बताए गए हैं | choodi kyu pahne ? 

इनमें से चूड़िया भी एक विवाहित महिला के लिए श्रंगार का प्रतीक माना जाता है वैसे तो हमारे समाज में शादी के बाद चूड़ियाँ सभी महिलाएं पहनती हैं लेकिन उनके पीछे कुछ लौकिक एवं पारलौकिक तथ्य भी जुड़े होते हैं जो महिलाओं के शारीरिक सौंदर्य को बढ़ाने के साथ-साथ जीवन में खुशहाली लाने सुखी जीवन जीने और दांपत्य जीवन को सुखमय बनाने के लिए विशेष स्थान रखती है।

 हरी चूड़ी पहनने के फायदे, टूटी चूड़ी का क्या करें, चूड़ियां पहनने की विधि, बिछिया किस दिन पहनना चाहिए, ख्वाब में कांच की चूड़ियां देखना, चूड़ियों का महत्व, चूड़ी टूटने के कारण, चूड़ी पहनने का आसान तरीका, चूड़ी किस दिन पहनना शुभ होता है, चूड़ी टूटने के कारण, चूड़ियां पहनने की विधि, चूड़ी डिजाइन फोटो, शंख की चूड़ियां, चूड़ियों का महत्व, काली चूड़ियां, सपने में चूड़ी टूटने का मतलब

अतः श्रंगार के अंतर्गत कांच की चूड़ियों को जब महिलाएं पहनती है तो उनका अपने अंदर एक आत्मविश्वास सुंदरता और लगाव बढ़ता है।ऐसे में चूड़ियों को पहनने के लिए कुछ ज्योतिष शास्त्र के अनुसार उपाय भी बताएं गए हैं। तथा उपयोग और उनसे होने वाले लाभों के बारे में बताया गया है।
आइए आज हम यहां अपने इस लेख के माध्यम से चूड़ियों को ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पहनने से क्या फायदा होगा और क्या नुकसान होंगे?इसके विषय में विधिवत जानकारी दे रहे हैं।

इसके साथ ही साथ यह जानकारी देंगे की कांच की चूड़ियों को किस दिन और किस रंग की चूड़ियां पहनने से महिलाओं के लिए विशेष शुभ माना जाता है।
इसके साथ ही साथ चूड़ियां पवित्रता की प्रतीक मानी गई है ।अतः शास्त्रों के अनुसार महिलाएं विशेष दिनों में चूड़ियों को धारण करती है तो उनके जीवन में सुख समृद्धि और शांति तथा दांपत्य जीवन में भी सुख प्राप्त होता है।

अब आइए यहां इस लेख के द्वारा हर दिन के हिसाब से चूड़ियों के पहनने की महत्ता को बता रहे हैं।

किस दिन कौन सी चूड़ियाँ पहननी चाहिये ? चूड़ियाँ पहनने का क्या महत्व है ?

वैसे तो महिलाएं किसी भी दिन किसी भी रंग की चूड़ियाँ पहन लेती है , हालाँकि ऐसा करने से कोई नुक्सान नहीं है किन्तु यदि एक निश्चित दिन निश्चित रंग की चूड़ियाँ पहनी जाये तो उसके कई अलग अलग तरह के लाभ मिलते है | आज हम आप को उन्ही लाभ के बारे में बताने जा रहे है जिससे आप लोग भीं उनका लाभ ले सके |

सोमवार के दिन किस रंग की चूड़ी पहननी चाहिये और उसका फायदा क्या है ?

bangles- chudiya

विवाहित महिलाओं के लिए नीले रंग की चूड़ियों को सोमवार के दिन पहनने से उनके अंदर सृजनात्मक क्षमता का विकास होता है और मानसिक रूप से अपने अंदर सबल बनती हैं।

मंगलवार के दिन कौन से रंग की चूड़ी पहननी चाहिये और उसका महत्व क्या है ? 

मंगलवार के दिन विवाहित महिलाओं को यदि किसी प्रकार की भ्रामक स्थितियां उनके मन के अंदर होती है,

 

तो उन भ्रामक स्थितियों को शांत करने के लिए लाल रंग की चूड़ियां पहनने से उनके वैवाहिक जीवन में अपने पति के लिए संतुलन बनाने के लिए कोई ना कोई उपाय ढूंढ कर हर प्रकार की परेशानियों में ढाल बनकर खड़ी हो जाती है

बुधवार के दिन कौन से रंग की चूड़ी पहननी चाहिये और उसका फायदा क्या है ?

बुधवार का दिन बुध ग्रह को शांत करने के लिए अपने जीवन में खुशियां लाने के लिए हरे रंग की चूड़ियों को पहनना विवाहित महिलाओं के लिए बहुत ही लाभकारी माना जाता है |

क्योंकि इस दिन पहनने से बुध ग्रह शांत हो जाता है और जीवन में खुशियां बनी रहती है।

bangles- green bangle

गुरुवार के दिन किस रंग की चूड़ी पहननी चाहिये और उसका फायदा ? 

यह दिन बृहस्पति गुरु से संबंधित एवं बृहस्पति ग्रह के साथ संबंध होकर गज केसरी योग बनता हैं इसीलिए विवाहित महिलाओं को गुरुवार के

bracelet- yellow bangleदिन पीले कांच की चूड़ियां पहनने से चंद्रमा और शुक्र का भी शुभ फल प्राप्त होता है इसके अलावा सफलता और सम्मान भी प्राप्त होता है।

शुक्रवार के दिन किस रंग की चूड़ी पहननी चाहिये और उसका महत्व ? 

यह दिन मां देवी के रूप में माना जाता है इसीलिए मां देवी के रूप में शुक्रवार के दिन घर से दरिद्रता दूर करने और पैसों की कमी ना आने पाए इसके लिए लाल रंग की चूड़ियां पहनना महिलाओं के लिए शुभ माना गया है |

शनिवार के दिन खुशियाँ पाने के लिए किस रंग की चूड़ी पहननी चाहिये ? 

शनिवार का दिन शनि देव के लिए माना गया है इसीलिए शनिवार के दिन विवाहित महिलाओं को नीले रंग की चूड़ियों को पहनना फलदाई माना गया है इस दिन नीले रंग की चूड़ियां पहनने से दांपत्य जीवन में खुशियां आती हैऔर जीवन सुखमय बनता है।

bangles- chudiya

 

यह तो रहे हमारे लिए शादीशुदा औरतों के दिन के हिसाब से चूड़ी पहनने के लाभ और उनसे प्राप्त होने वाले फल।
अब आइए यहां पर हम चूड़ियों को पहनने को लेकर होने वाले नुकसान के बारे में बता रहे हैं।

किस तरह की चूडियों को नहीं पहनना नही चाहिए ? | चूड़ी पहनने से क्या नुक्सान होते है ? 

शादीशुदा औरतों के लिए सोलह श्रृंगार में एक शृंगार चूड़ियों का भी होता है यह श्रंगार हाथों को सुंदर बनाने के लिए व आकर्षक दिखने के लिए महिलाएं कांच की चूड़ियों का प्रयोग करती हैं।

इसीलिए चूड़ियों को पहनने से पहले महिलाओं को यह जान लेना चाहिए कि हमें किस प्रकार की चूड़ियों को पहनने से हमारे लिए लाभ होता है और किस तरह की चूड़ियों को पहनने से हमारे लिए नुकसान होता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार महिलाओं को कुछ रंग की चूड़ियां पहनना अशुभ माना जाता है।

इसीलिए हम इस बात पर भी चर्चा करेंगे कि महिलाओं को किस दिन चूड़ियां नहीं खरीदना चाहिए और किस दिन नहीं पहनना चाहिए और किस रंग की चूड़ियां नहीं पहनना चाहिए। इस विषय को लेकर हम यहां पर कुछ विशेष बातें आपके समक्ष रख रहे हैं, जो इस प्रकार हैं।

चूड़ियां महिलाओं के लिए श्रृंगार में चार चांद लगाती हैं।इसलिए किसी महिलाओं को चूड़ियाँ खरीदने से पहले यह जान लेना आवश्यक है कि किस दिन और किस रंग की चूड़ियां नही खरीदना चाहिए।

इसलिए महिलाओं को जब चूड़ियां खरीदनी है तो मंगलवार या शनिवार का दिन ना हो क्योंकि इस दिन चूड़ियां खरीदने से उसके पति पर दुर्भाग्य के बादल मंडरा सकते हैं।
इसके अलावा शादीशुदा औरतों को चूड़ी टूटी हुई नहीं पढ़नी चाहिए क्योंकि टूटी हुई चूड़ी पहनने से भी पति की बर्बादी का कारण बन सकती है।

सुहागिन महिलाओं को सफेद व काले रंग की चूड़ियां भी नहीं पहनना चाहिए क्योंकि यह इस रंग की चूड़ियां महिलाओं के लिए अशुभ होने का संदेश देती हैं। इस रंग की चूड़ियां पहनने से उस पर नकारात्मक प्रभाव भी पड़ता है।

महिलाओं को चूड़ियाँ पहनने के लिए कौन से नियम है ? 

  1. यदि विवाहित महिला सफेद चूड़ियों को पहनती है तो सफेद चूड़ियों के साथ लाल रंग की चूड़ियां पहनना चाहिए।
  2. पहनने से पहले मां गौरी को अपनी चूड़ियां समर्पित कर देना चाहिए।
  3. विवाहित महिलाओं को कांच की या सोने की चूड़ियां ही पहनना शुभ माना जाता है।इसीलिए कांच या सोने की चूड़ियां ही पहने।
  4. चूड़ियों को  पहनने का समय प्रातः काल या संध्याकाल होता है । इसीलिए चूड़ियों को प्रातः काल या संध्या काल में ही पहनना चाहिए।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *