सपूर्ण महालक्ष्मी व्रत कथा : लक्ष्मी जी की आरती और पूजन सामग्री फ्री pdf डाऊनलोड | Mahalaxmi vrat katha pdf

Mahalaxmi vrat katha : प्रणाम गुरुजनों आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से mahalaxmi vrat katha के बारे में बताएंगे और यह भी बताएंगे कि महालक्ष्मी की पूजा कैसे की जाती है ऐसा माना जाता है कि जहां एक तरफ इस समय शुभ कार्य वर्जित होते हैं.

वहीं पर दूसरी तरफ इसी दौरान पढ़ने वाली अष्टमी की दिन देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है इसे गज लक्ष्मी व्रत कहा जाता है जो भी व्यक्ति इस दिन सोना खरीदता है उसका बहुत ही बड़ा महत्व होता है ऐसा माना जाता है कि इस दिन जो व्यक्ति सोना खरीदता है उसका सोना 8 गुना बढ़ जाता है.

महालक्ष्मी व्रत पूजा विधि ,, Mahalaxmi vrat puja vidhi,, महालक्ष्मी व्रत पूजा विधि,, महालक्ष्मी व्रत पूजन विधि,, महालक्ष्मी व्रत की पूजा विधि,, महालक्ष्मी व्रत कथा पूजा विधि,, महालक्ष्मी व्रत कथा पूजन विधि,, महालक्ष्मी व्रत के नियम ,, महालक्ष्मी व्रत के नियम,, महालक्ष्मी व्रत कथा ,, महालक्ष्मी व्रत कथा,, महालक्ष्मी व्रत कथा pdf,, महालक्ष्मी व्रत कथा ऐरावत हाथी वाली,, महालक्ष्मी व्रत कथा विधि,, महालक्ष्मी व्रत कथा हिंदी में,, महालक्ष्मी व्रत कथा मराठी,, महालक्ष्मी व्रत कथा pdf in marathi,, महालक्ष्मी व्रत कथा गुरुवार की कहानी,, महालक्ष्मी व्रत कथा हाथी पूजा,, महालक्ष्मी व्रत कथा का महत्व,, महालक्ष्मी व्रत का महत्व ,, महालक्ष्मी व्रत का महत्व,, महालक्ष्मी जी आरती,, महालक्ष्मी जी आरती ,, महालक्ष्मी जी की आरती,, महालक्ष्मी जी की आरती सुनाओ,, महालक्ष्मी जी की आरती हिंदी में,, महालक्ष्मी जी की आरती लिरिक्स,, महालक्ष्मी जी की आरती सुनाइए,, महालक्ष्मी जी की आरती पीडीएफ,, महालक्ष्मी जी की आरती इमेज,, महालक्ष्मी जी का आरती,, mahalaxmi ji ki aarti bhajan,, mahalaxmi ji ki aarti bataiye,, mahalaxmi ji ki aarti geet,, mahalaxmi ji ki aarti video,, mahalaxmi ji ki aarti bhejo,, mahalaxmi ji ki aarti chahie,, mahalaxmi ji ki aarti marathi,, mahalaxmi ji ki aarti song,, Mahalaxmi Ji Aarti,, mahalaxmi vrat ka mahatva,, mahalaxmi ka vrat kab hai,, mahalaxmi vrat karne ki vidhi,, mahalaxmi vrat ke bare mein,, mahalaxmi ka vrat,, mahalaxmi vrat kab ka hai,, mahalaxmi vrat kaise karte hain,, mahalaxmi vrat katha kab hai,, mahalaxmi ka vrat kaise karen,, mahalaxmi ka vrat kaise karte hain,, mahalaxmi vrat ki samagri,, mahalaxmi vrat katha gujarati,, mahalaxmi vrat ki vidhi in hindi,, mahalaxmi vrat katha in hindi,, Mahalaxmi vrat mahatv,, mahalaxmi vrat katha bataiye,, mahalaxmi vrat katha book,, mahalaxmi vrat katha kannada,, mahalaxmi vrat katha 2020,, मार्गशीर्ष महालक्ष्मी व्रत कथा मराठी pdf download,, महालक्ष्मी व्रत कथा ऐरावत हाथी वाली pdf download,, mahalaxmi vrat katha in english,, mahalaxmi vrat katha hindi,, मार्गशीर्ष महालक्ष्मी व्रत कथा hindi pdf,, मार्गशीर्ष महालक्ष्मी व्रत कथा hindi,, मार्गशीर्ष महालक्ष्मी व्रत कथा हिंदी पुस्तक,, महालक्ष्मी व्रत कथा इन हिंदी pdf,, mahalaxmi vrat katha sunayen,, महालक्ष्मी व्रत कथा की कहानी,, महालक्ष्मी व्रत की कथा,, महालक्ष्मी व्रत की कथा सुनाइए,, महालक्ष्मी व्रत की कथा सुनाई,, महालक्ष्मी व्रत की कथा बताएं,, महालक्ष्मी व्रत की कथा सुनना है,, mahalaxmi vrat katha ki kahani,, Mahalaxmi vrat katha,, mahalaxmi vrat ke niyam,, mahalaxmi vrat niyam,, mahalaxmi vrat ki samagri,, mahalaxmi vrat ke bare mein,, mahalaxmi vrat karne ki vidhi,, mahalaxmi ke vrat ki vidhi,, mahalaxmi vrat kaise rakhte hain,, mahalaxmi vrat ka udyapan,, Mahalaxmi vrat niyam,, mahalaxmi vrat pujan vidhi,, mahalaxmi vrat puja vidhi,, mahalaxmi vrat katha pujan vidhi,, mahalaxmi vrat ki vidhi bataiye,, mahalaxmi vrat pooja vidhi in marathi,, mahalaxmi vrat ki puja vidhi,, mahalaxmi vrat vidhi in hindi,, mahalaxmi vrat vidhi in marathi,,

महालक्ष्मी व्रत के साथ-साथ हाथी की पूजा भी करते हैं महालक्ष्मी व्रत भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष से शुरू होता है और इसकी समाप्ति अश्विन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को समाप्त होता है. 16 दिनों की व्रत में जो भी व्यक्ति मां लक्ष्मी की पूजा सुबह और शाम श्रद्धा पूर्वक उनकी पूजा-अर्चना करता है उस व्यक्ति के जीवन में कभी भी धन सब संपत्ति सुख और समृद्धि की कोई कमी नहीं होती है अगर आप भी अपने जीवन में धन संपत्ति और सुख समृद्धि की कमी नहीं होने देना चाहते हैं.

तो महालक्ष्मी व्रत कथा तथा महालक्ष्मी का पूजन अवश्य करें तो चलिए आज आप लोगों को सबसे mahalaxmi vrat katha के बारे में बताएंगे उसके बाद उनकी पूजा कैसे की जाती है या अभी बताएंगे अगर आपको महालक्ष्मी व्रत कथा सुनना चाहते हैं और उनकी पूजा के बारे में विशेष चीजें प्राप्त करना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

laxmi vrat katha pdf

महालक्ष्मी की कहानी

 

महालक्ष्मी की कहानी एक गांव में एक गरीब ब्राह्मण रहता था वह ब्राह्मण पति दिन नियमित रूप से भगवान विष्णु की पूजा करता था भगवान विष्णु उसकी भक्ति से प्रसन्न होकर उस ब्राह्मण को दर्शन दिए दर्शन देने के बाद भगवान विष्णु ने कहा अपनी मनोकामना मांगो ब्राह्मण ने लक्ष्मी जी का निवास अपने घर में मांगने की इच्छा की यह सुनकर भगवान विष्णु ने लक्ष्मी की प्राप्ति का सरल मार्ग ब्राह्मण को।

महालक्ष्मी पूजा सामग्री

महालक्ष्मी का पूजन करने के लिए आपको कुछ सामग्री की आवश्यकता होती है तो उसमें आपको अगरबत्ती , कपूर , फूल , दूब , इत्र , रोली , गुलाल, अमीर , अक्षत , लॉन्ग , इलायची , बादाम , पान सुपारी , कलावा , मेहंदी , हल्दी , बिछिया , वस्त्र , मौसम का फल फूल , पंचामृत , मेवा का प्रसाद और सोलह सिंगार लेकर मां लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए।


महालक्ष्मी व्रत पूजा विधि | Mahalaxmi vrat puja vidhi

  1. अगर आप माता लक्ष्मी की पूजा करना चाहते हैं और उनका व्रत रखना चाहते हैं तो उसके लिए आपको उसकी पूजा विधि जानने की आवश्यकता होती है माता लक्ष्मी का व्रत करने के लिए आपको सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर सभी कार्यों से और स्नानादि से संपन्न होकर साफ-सुथरे वस्त्र धारण करके।
  2. उसके बाद माता लक्ष्मी की चौकी को अच्छे तरीके से सजा लेना है और उस चौकी पर महालक्ष्मी की मूर्ति स्थापित कर देना है जैसी कि आप महालक्ष्मी की मूर्ति को स्थापित कर देते हैं उसके बाद आपको पंचामृत से महालक्ष्मी का स्नान करवाना है।
  3. उसके बाद महालक्ष्मी को सिंदूर कुमकुम आदि लगाकर धूप , दीप को जला दें।
  4. उसके बाद माता रानी को फूल की माला अर्पित करें और माता रानी का सोलह सिंगार करके उनकी सारी सामग्री अर्पित करें।
  5. एक पान में लौंग, बताशा, 1 रुपए, छोटी इलायची रखकर चढ़ा अर्पित करें.
  6. उसके बाद माता रानी को भोग लगाएं।
  7. फिर उसके बाद महालक्ष्मी की व्रत कथा को पढ़ें या फिर अपने फोन में वीडियो चलाकर उसे सुने जैसे ही आप की व्रत कथा समाप्त हो जाती है उसके बाद में आपको महालक्ष्मी की आरती पढ़ना है आरती पढ़ने के बाद अपनी मनोकामना की पूर्ति के लिए महालक्ष्मी से प्रार्थना करना है।

महालक्ष्मी व्रत कथा | Mahalaxmi vrat katha pdf

इस लिंक से आप महालक्ष्मी व्रत कथा | Mahalaxmi vrat katha आसानी से डाऊनलोड कर सकते है :

महालक्ष्मी व्रत पूजा विधि PDF | Mahalaxmi vrat puja vidhi PDF Download link

महालक्ष्मी व्रत के नियम | Mahalaxmi vrat niyam

 

  1. अगर आप महालक्ष्मी का व्रत रखते हैं तो आपको रोज 16 दिन तक हर सुबह देवी लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए और देवी लक्ष्मी के 8 रूपों की पूजा करनी चाहिए।
  2. जब आप महालक्ष्मी की पूजा करते हैं तो आपको उसके बाद 16 दूर्वा घास को एक साथ बांधकर रख देना है उसके बाद इसे पानी में डुबोकर रख दें थोड़ी देर बाद इसे अपने पूरे शरीर में लगा ले जैसे ही पूजा समाप्त हो जाती है उसके बाद आपको महालक्ष्मी व्रत कथा का पाठ अवश्य करना है।
  3. व्रत के दौरान जो लोग मांस मदिरा का सेवन नहीं करते हैं उनके लिए जागृत बहुत फलदाई होता है 16 दिन की अवधि में मांस मदिरा का सेवन बिल्कुल भी नहीं करना चाहिए।
  4. फिर आखरी दिन आपको कलश की पूजा करना है आपका वह कलश पानी से और कुछ सिक्के और कुछ अक्षतों से भरा होता है। और उस कलर्स पर आपको एक आम का पत्ता रखना है और उसके ऊपर नारियल रखा जाता है।
  5. उस कलश पर हल्दी कुमकुम चंदन लगा कर रख दिया जाता है और उस कलश पर एक नया कपड़ा का टुकड़ा बांध दिया जाता है।

महालक्ष्मी व्रत कथा | Mahalaxmi vrat katha

प्राचीन काल की बात है, एक गाँव में एक ब्राह्मण रहता था। वह ब्राह्मण नियमानुसार भगवान विष्णु का पूजन प्रतिदिन करता था। उसकी भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उसे दर्शन दिये और इच्छा अनुसार वरदान देने का वचन दिया।
ब्राह्मण ने माता लक्ष्मी का वास अपने घर मे होने का वरदान मांगा।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 728 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

गर्लफ्रेंड को खुश कैसे करें ? 7 बेहतरीन टिप्स How to make your girlfriend happy?
सपने में लड़का पैदा होते हुए देखना शुभ या अशुभ और मतलब जाने | Sapne me ladka paida hote huye dekhna

ब्राह्मण के ऐसा कहने पर भगवान विष्णु ने कहा यहाँ मंदिर मैं प्रतिदिन एक स्त्री आती है और वह यहाँ गोबर के उपले थापति है। वही माता लक्ष्मी हैं, तुम उन्हें अपने घर में आमंत्रित करो। देवी लक्ष्मी के चरण तुम्हारे घर में पड़ने से तुम्हारा घर धन-धान्य से भर जाएगा।

ऐसा कहकर भगवान विष्णु अदृश्य हो गए। अब दूसरे दिन सुबह से ही ब्राह्मण देवी लक्ष्मी के इंतजार मे मंदिर के सामने बैठ गया।  जब उसने लक्ष्मी जी को गोबर के उपले थापते हुये देखा, तो उसने उन्हे अपने घर पधारने का आग्रह किया। ब्राह्मण की बात सुनकर लक्ष्मी जी समझ गयीं कि यह बात ब्राह्मण को विष्णुजी ने ही कही है। तो उन्होने ब्राह्मण को महालक्ष्मी व्रत करने की सलाह दी।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

लक्ष्मी जी ने ब्राह्मण से कहा कि तुम 16 दिनों तक महालक्ष्मी व्रत करो और व्रत के आखिरी दिन चंद्रमा का पूजन करके अर्ध्य देने से तुम्हारा व्रत पूर्ण हो जाएगा। ब्राह्मण ने भी महालक्ष्मी के कहे अनुसार व्रत किया और देवी लक्ष्मी ने भी उसकी मनोकामना पूर्ण की। उसी दिन से यह व्रत श्रद्धा से किया जाता है।

महालक्ष्मी व्रत का महत्व | Mahalaxmi vrat mahatv

हिंदू धर्म में महालक्ष्मी की पूजा को बहुत विशेष महत्व दिया जाता है जो भी व्यक्ति 16 दिन तक महालक्ष्मी का व्रत रखता है उसको कभी भी कोई दुख और धन की कमी नहीं होती है महालक्ष्मी व्रत की महिमा भगवान श्री कृष्ण के पांडवों भाइयों में सबसे बड़े भाई युधिष्ठिर को बताई गई थी जो भी व्यक्ति इस व्रत को करता है.

Mahalaxmi

उसे धन-संपत्ति और सुख सौभाग्य की प्राप्ति होती है ऐसा माना जाता है कि महालक्ष्मी का यह व्रत करने से माता लक्ष्मी जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं और उनका आशीर्वाद आपके ऊपर हमेशा बना रहता है और इस समय जो भी व्यक्ति व्रत पूजा और उपाय करता है वह शीघ्र ही असर करने लगता है।

महालक्ष्मी जी आरती | Mahalaxmi Ji Aarti

ओउम् जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।
तुमको निशिदिन सेवत, हर विष्णु विधाता।।
उमा रमा ब्रहमाणी, तुम ही जग-माता।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता।
दुर्गा रूप निरंजनि, सुख सम्पति दाता।
जो कोई तुमको ध्याता, ऋद्धि-सिद्धि पाता।
तुम पाताल निवासिनी, तुम ही शुभ दाता।
कर्म-प्रभाव प्रकाशिनि, भव निधि की त्राता।।

जिस घर में तुम रहती, सब सद्गुण आता।
सब संभव हो जाता, मन नहीं घबराता।।
तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न कोई पाता।
खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता ।।
शुभगुण मंदिर सुंदर, श्रीरोदधि-जाता।
रत्न चतुर्दश तुम बिन कोई नहीं पाता।।
महालक्ष्मी जी की आरती, जो कोई नर गाता।
उर आनंद समाता, पाप उतर जाता ।
बोलो भगवती महालक्ष्मी की जय।।

FAQ : Mahalaxmi vrat Katha

महालक्ष्मी का व्रत क्यों रखा जाता है?

महालक्ष्मी का जगत सितंबर के महीने में शनिवार के दिन रखा जाता है इस दिन को हिंदू धर्म में कन्या संक्रांति के रूप में मनाया जाता है धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ऐसा कहा गया है कि इस व्रत को करने से माता लक्ष्मी जल्द ही प्रसन्न हो जाती है और उस व्यक्ति की हर मनोकामना पूर्ण कर देती है जो व्यक्ति माता लक्ष्मी का यह व्रत रखता है माता लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है और माता लक्ष्मी का यह व्रत उन्हें प्रसन्न करने के लिए किया जाता है।

महालक्ष्मी व्रत कैसे रखें ? 

महालक्ष्मी का यह व्रत आपको पूरे विधि विधान पूर्वक करना चाहिए पूजा करने से पहले आपको एक कलश में जल भरकर रख लेना है उसमें गुलाब माला अक्षत पान सुपारी नारियल और भोग लाल रूई लगाएं और अपने हाथों में उस धागे को बांधकर महालक्ष्मी व्रत की कथा को सुनें हरे दूर्वा और सोलह अक्षत चढ़ाएं। अगर आप इस प्रकार महालक्ष्मी का व्रत रखते हैं तो आपकी हर मनोकामना पूर्ण हो जाती है।

लक्ष्मी पूजा के लिए कौन सा दिन सबसे अच्छा है?

माता लक्ष्मी का पूजन करने का सबसे अच्छा आवश्यक दीपावली के तीसरे दिन माना जाता है कार्तिक हिंदू ब्लेंडर के महीने में अमावस्या के दिन दीपावली का मुख्य अवसर होता है और उसी दिन माता लक्ष्मी की पूजा करना उचित माना जाता है और सबसे ज्यादा शुभ भी होता है।

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से महालक्ष्मी व्रत कथा | mahalaxmi vrat katha बताने का प्रयास किया है और हमने महालक्ष्मी का व्रत कैसे किया जाता है इसके बारे में भी बताया है.

osir news

अगर आपने हमारे इस लेख को अच्छे से पढ़ा होगा तो आपको माता लक्ष्मी का व्रत करना आ गया होगा और महालक्ष्मी के पूजन में कौन सी व्रत कथा कही जाती है इसके बारे में भी पता चल गया होगा उम्मीद करते हैं कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको अच्छी लगी होगी और आपके लिए उपयोगी भी साबित हुई होगी।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

पति को वश में करने के 17 आसान उपाय जाने : पति बस आप की ही मानेगा | पति को काबू कैसे करे – Pati ko vash me karne ke upay
मैजिक कैसे करते है ? वीडियो देख कर सीखे 8 आसान जादू | Magic kaise karte hain : मैजिक ट्रिक दिखाओ
लडकियों से बात करने वाले टॉप 10 App : मिलेगीं ढेर सारी लड़कियां | Ladki se baat karne wala apps
कुल वर्धक मेडिसिन कंहा से खरीदे और कंहा से मिलेगा जाने | Kulvardhak medicine kaha milega
सोया हुआ भाग्य जगाने के उपाय : 6 आसान ज्योतिष और 10 तांत्रिक उपाय | Soya bhagya jagane ke upay
★ सम्बंधित लेख ★