पूजा पाठ के नियम : इन 4 कामों के बिना पूजा व्यर्थ और पूजा में सफलता के मंत्र | Puja path ke niyam

Pooja path ke niyam : पूजा पाठ के नियम हे दोस्तों नमस्कार आज हम आप लोगों को पूजा पाठ के नियम बताएंगे और बताएंगे कि नित्य पूजा करने से कौन से लाभ होते है. इसके अलावा और भी कई ऐसी चीजें बताएंगे जिनको जानने के बाद आपको रोज पूजा करने में कभी भी कोई भी दिक्कत या अड़चन नहीं आएगी और आपको उस पूजा का फल भी प्राप्त होगा पूजा पाठ से जहां व्यक्ति को आत्मा की सुख और शांति प्राप्त होती है वहीं इससे भगवान का आशीर्वाद भी मिलता है.

पूजा पाठ के नियम, पूजा पाठ के नियम बताएं, chhath puja ke niyam aur vidhi, pooja path ke niyam, puja path ke niyam, chhath puja ke niyam, chhath puja ka niyam, pooja ke niyam in hindi, puja paath ki vidhi, पूजा पाठ के नियम, पूजा पाठ के नियम बताएं, chhath puja ke niyam aur vidhi, pooja path ke niyam, puja path ke niyam, chhath puja ke niyam, chhath puja ka niyam, pooja ke niyam in hindi, puja paath ki vidhi, niyam bataiye, puja ke niyam bataiye, puja paath ke bare mein bataen, puja paath ke bare mein bataiye, puja paath ke bare mein batao, puja paath ke bare mein, पूजा कैसे करें ?, पूजा कैसे करें घर में, पूजा कैसे करें, पूजा कैसे करें बताइए, तुलसी पूजा कैसे करें, लक्ष्मी पूजा कैसे करें, भैरव पूजा कैसे करें, पितृ पूजा कैसे करें, जन्माष्टमी पूजा कैसे करें, pooja kaise karni chahiye, pooja kaise karna chahiye, pooja kaise kare, pooja kaise karte hai, puja kaise karni chahiye, pooja kaise kare ghar mein, पूजा कैसे करें घर में, पूजा कैसे करें, पूजा कैसे करें बताइए, तुलसी पूजा कैसे करें, लक्ष्मी पूजा कैसे करें, भैरव पूजा कैसे करें, पितृ पूजा कैसे करें, जन्माष्टमी पूजा कैसे करें, pooja kaise karni chahiye, pooja kaise karna chahiye, pooja kaise kare, pooja kaise karte hai, puja kaise karni chahiye, pooja kaise kare ghar mein, puja kaise ho, pooja kaise ki jati hai, puja kaise kare jata hai, puja kaise karna chahiye, pooja kaise shuru kare, puja kaise karen, puja kaise vidhanam, puja kaise kare, पूजा पाठ का अर्थ, पूजा-पाठ का मतलब क्या है, puja ka arth kya hota hai, puja ka arth kya hai, pooja ka arth kya hota hai, pooja paath in english, pooja ka kya arth hai, pooja naam ka arth kya hota hai, नित्य पूजा पाठ करने के नियम, नित्य पूजा विधि मंत्र सहित PDF, नित्य पूजा क्यों और कैसे, मंदिर में पूजा करने के नियम, सरल पूजा विधि, नित्य पूजा पाठ मंत्र PDF Download, घर में पूजा करने की विधि, नित्य पूजा में बोले जाने वाले मंत्र, नित्य पूजा में बोले जाने वाले श्लोक, puja karne ke niyam, aarti karne ke niyam, puja karne ka niyam, niyam bataiye, puja karne ka niyam bataiye, nitya puja karne ki vidhi, karne ka niyam, नित्य पूजा पाठ करने के नियम, puja karne ke niyam, aarti karne ke niyam, puja karne ka niyam, niyam bataiye, puja karne ka niyam bataiye, nitya puja karne ki vidhi, karne ka niyam, puja karne ke niyam bataye, lakshmi puja karne ka niyam, hanuman ji ki puja karne ke niyam, पूजा करने के नियम, पूजा करने के नियम क्या है, पूजा करने के नियम बताइए, पूजा करने के कुछ नियम, नित्य पूजा विधि मंत्र सहित PDF, नित्य पूजा में बोले जाने वाले मंत्र, सरल पूजा विधि, पूजन विधि मंत्र सहित, घर में पूजा करने की विधि, प्रातःकाल पूजा, नित्य पूजा में बोले जाने वाले श्लोक, सम्पूर्ण पूजा विधि PDF, मंदिर में पूजा करने के नियम, पूजा करने की विधि, सुबह पूजा करने के फायदे, घर में पूजा करने की विधि बताइए, पूजा करने की विधि और मंत्र, पूजा के बाद क्या करना चाहिए, शाम को पूजा करने का समय, पूजा करने का मंत्र, पूजा के बाद क्या करना चाहिए, शाम को पूजा करने का समय, पूजा सफल होने के संकेत, मंदिर में पूजा करने के नियम, खाना खाने के बाद पूजा करना चाहिए या नहीं, क्या दोपहर में पूजा करनी चाहिए, रोजाना पूजा करने की विधि, कलयुग में कौन से भगवान की पूजा करनी चाहिए, puja karne ke tarike, pooja karne ke niyam, puja karne ka time, bank ke niyam in hindi, puja karne ki vidhi, puja karne ke liye, puja karne ka samay, puja karne ke fayde, ghar mein puja karne ke niyam, been ka niyam, yoga karne ka niyam, puja karne ki vidhi in hindi,

शास्त्रों में पूजा पाठ करने के कई तरह के नियम बताए गए हैं। जिसका अनुसरण करने पर जीवन सफल और शांति पूर्वक बीतेगा तो चलिए आज हम आप लोगों को बताते हैं कि पूजा पाठ के नियम कौन-कौन से हैं पूजा कैसे करें पूजा पाठ का अर्थ क्या होता है पूजा करने से पहले कौन सा मंत्र बोला जाता है इन सारे विषयों पर चर्चा करेंगे और आपको इन सारे विषयों की जानकारी प्रदान करें अगर आपको पूजा पाठ करने के नियम नहीं पता है तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़ सकते हैं और जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

पूजा कैसे करें ?

सुबह पूजा करना बहुत ही शुभ माना जाता है सुबह 4 अभी उठे अपना कार्य करें उसके बाद स्नान करें सूर्य देव को जल चढ़ाएं और उसके बाद तुलसी में जल चढ़ाएं और अपने मंदिर में पूजा करने जाएं सबसे पहले सभी देवी देवताओं को स्नान कराएं.

उसके बाद भगवान को रोली लगाएं फूल चढ़ाएं भोग लगाएं और धूप दीप करते हुए पंच देवता की पूजा करें उसके बाद कुल देवता की पूजा करें. उसके बाद अपने पूर्वजों की पूजा करें और आरती कर ले रोज की पूजा ऐसे ही करनी चाहिए।

पूजा पाठ का अर्थ

पूजा पाठ सरकार को कहते हैं अच्छा काम दुनिया में जितने भी अच्छे काम है वह सब पूजा है अगर आप कभी भी किसी व्यक्ति को खाना खिलाते हैं या फिर किसी भी प्रकार की उसकी मदद करते हैं तो वह एक प्रकार की पूजा ही है।

पूजा पाठ के नियम | Puja path ke niyam

  1. पूजा जितना ज्यादा करें उतना ही कम है और जितनी कम करें उतनी ही ज्यादा है कोई भी जरूरी नहीं है आपको जितना टाइम मिले आप उतना ही टाइम दें लेकिन रोज पूजा जरूर करें रोज भगवान के सामने दीपक जलाएं भगवान का नाम जरूर ले अगर आप चलते फिरते भगवान का नाम लेते हैं तो भगवान उनकी भी सुनते हैं और उनको भी हमेशा शुभ फल प्राप्त होता है।
  2. रोज सुबह शाम भगवान के सामने दीपक जलाएं और भोग लगाएं और किसी एक मंत्र का जाप करें और क्षमा याचना कर ले तो इसका बहुत अधिक सकारात्मक प्रभाव हमारे जीवन पर पड़ता है।
  3. हमें पंच देवता की पूजा सबसे पहले करनी चाहिए फिर श्री गणेश जी की पूजा कोई भी पूजा करने से पहले श्री गणेश की पूजा की जाती है तो पूजा स्वीकार हो जाती है और मां दुर्गा की पूजा अंत में की जाती है क्योंकि वह जगत जननी है जगदंबा और परम शक्ति इसीलिए उनकी पूजा सबसे अंत में की जाती है।
  4. हमें कुछ देवता और पूर्वज की भी पूजा करनी चाहिए और वायु देवता को भी जरूर याद करना चाहिए हमें पंचोपचार से पूजा करनी चाहिए पंचोपचार का अर्थ होता है सबसे पहले भगवान को स्नान कराएं फिर धूप दीप चंदन चढ़ाएं फूल चढ़ाएं और भोग चढ़ाएं यह होते हैं
  5. पंचोपचार से पूजा करने का मतलब पंचू चाल से पूजा करने के बाद हमें आरती जरूर करनी चाहिए।
  6. उसके बाद क्षमा याचना जरूर करनी चाहिए और सबसे बड़ी बात आप जब भी भोग लगाएं तो उसमें तुलसी की पत्ती जरूर डालें क्योंकि कहा जाता है कि जब तुलसी ना डाली जाए तो भगवान हो ग्रहण नहीं करते हैं.
  7. शिव जी गणेश जी भैरव जी को तुलसी नहीं चलानी चाहिए बिना स्नान करें तुलसी को नहीं छूना या तोड़ना चाहिए रविवार एकादशी द्वादशी तेरस तथा संध्या काल में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए।

पूजा करने से पहले कौन सा मंत्र बोलना चाहिए ?

गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वती। नर्मदे सिन्धु कावेरी जले अस्मिन् सन्निधिम् कुरु।। आदित्यस्य नमस्कारं ये कुर्वन्ति दिने दिने


आरती के बाद कौन सा मंत्र बोला जाता है ?

कर्पूरगौरं करुणावतारं संसारसारं भुजगेन्द्रहारम्। सदा वसन्तं हृदयारविन्दे भवं भवानी सहितं नमामि।।

पूजा पाठ के अंत में 4 काम जरूर करें | pooja karne ke baad kya karna chahiye

जब आप नित्य पूजा करते हैं तो अंत में पूजा में उठने से पहले आपको यह 4 काम जरूर करने चाहिए जब आप रोज पूजा पाठ कर लेते हैं तो आपको यह 4 काम जरूर करना चाहिए इन 4 कामों के बिना पूजा संपन्न नहीं होंगी :

1. प्रदक्षिणा

प्रदक्षिणा सदैव अपने दाहिने हाथ से प्रारंभ करें प्रदक्षिणा समस्त 10 दिशाओं को साक्षी मानकर के प्रदक्षिणा के द्वारा समस्त कर्मों का फल अपने अंदर समाहित कर लेती है उसे प्रदक्षिणा कहते हैं। आप किसी भी देवी देवता की पूजा करते हैं तो आपको प्रदक्षिणा जरूर करनी चाहिए शास्त्र कहता है श्री दुर्गा जी की 1 प्रदक्षिणा , श्री गणेश भगवान की 3 प्रदक्षिणा , भगवान विष्णु की 4 प्रदक्षिणा , सूर्य भगवान की 7 प्रदक्षिणा, शंकर भगवान की आधी प्रदक्षिणा, अपने देवी-देवताओं की तीन प्रदक्षिणा जरूर कर लेनी चाहिए।

मंत्र

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

यानि कानि च पापानि जन्मांतर कृतानि च। तानि सवार्णि नश्यन्तु प्रदक्षिणा पदे-पदे।।

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 896 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

परीक्षा की तैयारी कैसे करें ? प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करें Exam ki tayari kaise kare
पुराने से पुराना धातु रोग ठीक करने के 10 घरेलू नुस्खे | पुराने से पुराना धातु रोग का इलाज : Purane se purana dhat rog ka ilaj

2. क्षमाप्रार्थना

भले ही आपने कितने भी विधि विधानओं से पूजा की हो फिर भी कहीं ना कहीं कोई ना कोई छोटी सी त्रुटि पूजा में रह ही जाती है इसीलिए भगवान से क्षमा प्रार्थना जरूर करनी चाहिए कि कहीं पर भी कोई भी पूजा में कमी रह गई हो तो हे भगवान मुझे क्षमा करना ।

मंत्र

आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम्. पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर

3. साष्टांग प्रणाम

जब आप पूजा पाठ पूरी कर लेते हो तो उसके बाद आपको लेट कर साष्टांग होकर प्रणाम करना चाहिए । अच्छी तरह से लेटकर अपने पूर्ण आठ अंग भगवान को समर्पित करने चाहिए। लेकिन स्त्रियों को बस घुटनों के बल बैठकर भगवान को प्रणाम करना चाहिए।

4. समर्पण

आप पूजा कर लेते हो तब आप अपनी समस्त पूजा सर्वांग पूजा भगवान को समर्पित कर दीजिए।

FAQ : पूजा पाठ के नियम

पूजा पाठ करने से क्या फायदा ?

पूजा पाठ करने से आपके सारे बिगड़े काम बन जाएंगे और आपके घर में सुख शांति का माहौल बना रहेगा और आप कभी भी दुखी नहीं रहेंगे

ज्यादा पूजा पाठ करने से क्या होता है?

ज्यादा पूजा करने से हमें सुख शांति और धन की प्रप्ति होती है और भगवन का आशीर्वाद मिलता है आपके सारे कम अच्छे होते है.

भगवान दुःख क्यों देते हैं?

भगवान कभी दुःख नहीं देते है भगवान हमेशा सुख ही देते हैं अब इंसान ये समझते है कि भगवान हमें दुख देते है भगवान कभी भी किसी को दुःख नहीं देते है.

निष्कर्ष

दोस्तों जैसा कि आज हमने आप लोगों को बताया कि पूजा पाठ के नियम क्या है तो आप लोगों को यह आर्टिकल पढ़ने के बाद समझ में आ गया होगा कि पूजा पाठ करने के नियम कौन-कौन से हो सकते हैं अगर आप लोग इन नियमों को अपनाते हैं.

osir news

तो आप रोज की पूजा बहुत अच्छी तरीके से और विधि विधान पूर्वक कर सकते हैं अगर आप इन नियमों को अपनाते हैं तो आपकी जिंदगी में बहुत कुछ अच्छा भी हो सकता है तो आप इन नियमों को जरूर अपनाएं .

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

पुत्र प्राप्ति के लिए घरेलू उपाय : संतान प्राप्ति मंत्र और आसान घरेलू उपाय | Putra prapti ke gharelu upay
कपूर पर नाम लिखकर वशीकरण कैसे करे ? kapoor se vashikaran kaise kiya jata hai
बेटे होने के लक्षण 3 mahine में दिखते है ये 13 लक्षण खुद देख के जान जाओगे | Bete hone ke lakshan 3 mahine
5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे जान कर चौक जायेंगे : 5 mukhi rudraksha ke fayde | 5 mukhi rudraksha benefits in hindi
बिना बताये दारू की लत छुडवाने वाली 3 रामबाण दवाइयां : शराबी को बिना बताये खिला दे | शराबी को बिना बताये शराब छुड़ाने की दवा
★ सम्बंधित लेख ★