राहु किस राशि में उच्च का होता है ? अशुभ प्रभाव से मुक्ति के 8 उपाय और मंत्र | Rahu kis rashi me uchh ka hota hai

राहु किस राशि में उच्च का होता है Rahu kis rashi me uchh ka hota hai : हेलो मित्रों नमस्कार कैसे हैं आप सभी लोग हम उम्मीद करते हैं आप सब लोग बहुत अच्छे होंगे तो मित्रों आज हम इस लेख में बात करेंगे राहु किस राशि में उच्च होता है क्योंकि राहु किसी भी राशि का ग्रह नहीं है और ना तो स्वामी है.

राहु किस राशि में उच्च का होता है, केतु किस राशि में उच्च का होता है, राहु किस राशि में है, rahu kis rashi mein uch ka hota hai, rahu kis rashi mein ucch ka hota hai, rahu kis rashi me ucch ka hota hai, Rahu kis rashi me uchh ka hota hai, rahu uccha rashi, rahu uch rashi, rahu ucha rashi tamil, राहु उच्च का, rahu grah ki uch rashi, rahu ketu ucha rashi in tamil, राहु केतु उच्च राशि, rahu ketu uch rashi, rahu ketu ki uch rashi,

इसीलिए राहु केतु को एक छाया ग्रह माना गया है जो समय-समय पर हर एक राशि में उपस्थित होता रहता है और जब राहु केतु किसी भी राशि में उपस्थित होते हैं तो उसी ग्रह के अनुरूप उस व्यक्ति के जीवन में शुभ और अशुभ देते हैं.

इसके अलावा ज्योतिष शास्त्र में राहु केतु की कल्पना सांप से की गई है क्योंकि राहु का धड़ सांप की मुख जैसा और केतु का धड़ सांप की पूंछ जैसा होता है इसीलिए इन दोनों को आपस में मिलाकर संपूर्ण प्रकृति सांप जैसी नजर आती है. इसीलिए राहु केतु की कल्पना सांप से की गई है ऐसे में कहा गया है.

जब यह दोनों किसी भी राशि में भ्रमण करते हैं तो इनकी छाया उस ग्रह पर शुभ और अशुभ प्रभाव डालने के लिए मजबूर कर देता है. इसीलिए हर राशि के जातक जातिका को राहु और केतु के विषय में संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए क्योंकि यह दोनों रहस्यआत्मक ग्रह है जो अचानक से किसी भी राशि में प्रवेश करके शुभ और अशुभ घटनाएं घटित करते रहते हैं.

इसीलिए राहु केतु का कब किस राशि पर कैसा प्रभाव पड़ेगा कुछ पता नहीं चल पाता है ऐसे में अगर आप राहु केतु किस समय किस भाव में प्रवेश करते हैं इसकी जानकारी प्राप्त कर लेंगे तो आपके लिए बहुत ही अच्छा रहेगा.

क्योंकि तब आप यह जान पाएंगे कि राहु केतु कब आपकी राशि में प्रवेश करेगा और आपको इसके प्रवेश करने का कैसा फल मिलेगा ,ऐसे में अगर आप लोग राहु किस राशि के लिए कब शुभ और अशुभ होते हैं से संबंधित विशेष जानकारी को प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया करके इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें.


राहु किस राशि में उच्च का होता है ? | Rahu kis rashi me uchh ka hota hai ?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 3 ऐसी राशि बताई गई हैं जो राहु के लिए उच्च राशिया मानी गई है ऐसा कहां जाता है अगर राहु इन राशियों का भ्रमण या प्रवेश करता है तो उन राशियों के जातक जातिका के जीवन में किसी भी प्रकार का कोई कष्ट नहीं रह जाता है इसीलिए आइए जानते है वह कौन-कौन सी राशि है जैसे,

1. मिथुन राशि

gemini mithun rashi

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर राहु की छाया मिथुन राशि पर पड़ती है तो मिथुन राशि के जातक जातिका के जीवन में इसकी छाया का बुरा असर नहीं पड़ता है और शुभ फल प्रदान होता है .

2. कुंभ और मकर राशि

कुभ, मकर राशि के स्वामी शनि ग्रह को माना गया है और यह भी कहा जाता है कि शनि ग्रह सभी ग्रहों में सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली है इसीलिए हर ग्रह शनिदेव के अधीन चलते हैं.

kumbh aquarius rashi

ऐसे में अगर राहु की छाया कुंभ और मकर राशि पर पड़ती है तो कुंभ और मकर राशि के जातक जातिका के जीवन में राहु की छाया का बहुत ही शुभ प्रभाव पड़ता है और उनके जीवन में आने वाली अनेक बाधाएं समाप्त हो जाती हैं क्योंकि राहु भी शनिदेव का दूसरा रूप है.

3. किसी व्यक्ति की कुंडली के दसवें भाव में उच्च होता है

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बताया गया है जब राहु किसी व्यक्ति की कुंडली के दसवें भाव में उपस्थित होता है तो इस उपस्थिति से उस व्यक्ति के जीवन में शुभ प्रभाव देखने को मिलते हैं और वह व्यक्ति चौमुखी विकास को प्राप्त करता है.

mantra

यानी कि चारों तरफ से उसके जीवन में खुशियां ही खुशियां आ जाती हैं. क्योंकि जब राहु दसवें भाव में रहता है तो राजयोग बनता है और जिस व्यक्ति की कुंडली में राजयोग बनता है. वह व्यक्ति राजा के समान धनवान तथा महान बन जाता है.

4. गोचर भ्रमण के समय राहु 3, 6, 10, 11 और दसवें भाव में उच्च

ज्योतिष शास्त्र में गोचर का सीधा संबंध ग्रहों की चाल से लिया गया है जिसके साथ में राहु भी सभी राशियों में भ्रमण करता है और जब यही नवग्रह आपस में मिलकर राशियों का भ्रमण करते हैं तो उनका प्रभाव व्यक्ति के जीवन में अलग-अलग प्रकार से देखने को मिलता है.\

इसी तरह से केतु, राहु भ्रमण के दौरान कुंडली के तीसरे छठे दसवें और ग्यारहवें भाव में प्रवेश करता है तो इन राशियों को राहु की छाया से शुभ प्रभाव पड़ता है और इनके जीवन में आगमन के नए रास्ते नजर आने लगते हैं जिससे यह लोग बहुत जल्दी धनवान और समाज में मान सम्मान को प्राप्त करते हैं.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 587 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

लड़की से ऑनलाइन बात कैसे करे : अजमाए ये 7 टिप्स | How Talk to girls online in hindi
रॉयल यंत्र क्या है : Royal yantra में कैसे जीते? – What is Royal Yantra

मित्रों अब आप लोगों ने राहु किस भाव या फिर किस राशि के लिए उच्च होता है यह जान लिया होगा अब हम आप लोगों को केतु किस राशि के लिए शुभ माना गया है इसके विषय में बताएंगे क्योंकि राहु केतु दोनों ही एक दूसरे के स्वरूप है इसीलिए दोनों के विषय में जानकारी प्राप्त करना बेहतर रहेगा.

केतु किस राशि में उच्च का होता है ? |  ketu kis rashi me uchch ka hota hai ?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बताया गया है राहु केतु दोनों एक दूसरे के स्वरूप है इसीलिए जैसा राहु की छाया का प्रभाव पड़ता है उसी तरह से केतु की छाया का प्रभाव पड़ता है. लेकिन फिर भी दोनों में कुछ अंतर बताया गया है इसलिए यहां पर जानेंगे केतु किस राशि के लिए शुभ और किस राशि के लिए अशुभ हो सकता है :

1. धनु राशि के लिए शुभ

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

केतु ग्रह के लिए सबसे उच्च राशि धनु मानी गई है और धनु राशि के लिए केतु बहुत ही ज्यादा शुभ माना गया है ऐसा माना जाता है जब इसकी छाया धनु राशि पर पड़ती है तो धनु राशि के जातक जातिका के जीवन में कोई भी कष्ट नहीं रह जाता है और उन्हें हर तरफ से खुशियां प्राप्त होती हैं. क्योंकि केतु मंगल ग्रह के समान होता है.

sagittarius dhanu rashi

इसीलिए यह धनु राशि के लिए शुभ माना गया है लेकिन जब केतु मंगल की राशि वृश्चिक और मेष में प्रवेश करता है तो यह उनके लिए बहुत ही अशुभ हो जाता है और उनके जीवन में हर कार्य में बड़ी से बड़ी बाधाएं आने लगती हैं.

2. हिंदू पंचांग के दूसरे और आठवें भाव में शुभ होता है.

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सभी ग्रह आपस में मिलकर सभी राशियों का भ्रमण करते हैं तो उनके साथ में राहु और केतु भी सभी राशियों का भ्रमण करते हैं और भ्रमण के दौरान जब राहु और केतु हिंदू पंचांग के दूसरे और आठवें भाव में पहुंचते हैं तो इस भाव के अंतर्गत जो भी राशियां होती हैं.

उन राशियों पर राहु और केतु का बहुत ही शुभ प्रभाव पड़ता है और उनके जीवन में सभी कष्टों का निवारण हो जाता है तथा वह लोग धनसंपदा और ऐश्वर्या को प्राप्त कर लेते हैं लेकिन इसी के विपरीत अगर राहु और केतु हिंदू पंचांग के दूसरे और आठवें भाव को छोड़कर अन्य भाव में भ्रमण करते हैं तो उस भ्रमण के दौरान जो भी राशियां पड़ेगी उनके लिए राहु और केतु की छाया अशुभ मानी गई है.

3. गोचर भ्रमण के दौरान

जब राहु और केतु गोचर भ्रमण के दौरान 3, 6, 10, 11 भाव में पहुंचते हैं तो इस भाव के अंदर जो भी राशियां आती हैं उन राशियों के जीवन में राहु और केतु की छाया का शुभ प्रभाव पड़ता है और उनके जीवन में प्रगति के लिए बहुत सारे रास्ते खुल जाते हैं.

राशि कैसे पता करे नाम से अपनी राशि कैसे पता लगाएं राशियां कितने प्रकार की होती हैं Apni rashi janane ke liye kya kare kaise jane apni rashi

इसके विपरीत 3, 6, 10, 11 के अलावा जब राहु केतु अन्य भागों में भ्रमण करते हैं जो उन भाव में जो भी राशियां आती है उन राशियों पर राहु और केतु का बुरा प्रभाव पड़ता है और उनके जीवन में आगमन के सभी रास्ते बंद हो जाते हैं.

राहु केतु के अशुभ प्रभाव से बचने के प्रभावशाली उपाय | Rahu ketu ke ashubh prabhav se bachne ke prabhavshali upay

जैसा कि आप लोगों को ऊपर के लेख में यह जाना है कि राहु केतु किस राशि के लिए शुभ होता है और किस राशि के लिए अशुभ होता है ऐसे में अगर राहु की छाया आपकी राशि पर अशुभ प्रभाव डाल रही है तो हम यहां पर राहु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए कुछ प्रभावशाली उपाय बताएंगे.

अगर आप लोग इन उपाय को करते हैं तो उन राशियों के साथ में आपकी राशि पर भी राहु और केतु का शुभ प्रभाव पड़ेगा तो मित्रों आइए जान लेते हैं राहु और केतु को प्रसन्न करने के क्या उपाय होते हैं. राहु और केतु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए ज्योतिष शास्त्र के द्वारा कुछ इस प्रकार के उपाय बताए गए हैं जैसे :

  • अगर आप चाहते हैं कि राहु और केतु की छाया का प्रभाव आपके जीवन पर शुभ असर डाले तो इसके लिए आप अपने माथे पर चंदन का तिलक लगाएं.
  • अगर आप चाहते हैं कि राहु केतु की छाया का प्रभाव आपकी आर्थिक स्थिति पर ना पड़े तो इसके लिए सुहागन स्त्री को रसोई घर में ही भोजन करना चाहिए ऐसा करने से राहु केतु का प्रभाव आर्थिक स्थिति पर नहीं पड़ता है.
  • राहु और केतु कि अशुभ छाया से बचने के लिए हर राशि के जातक जातिका को मां सरस्वती की पूजा अर्चना और मंत्रों का जाप करना शुभ माना गया है.
  • राहु केतु के काल सर्प दोष से बचने के लिए राहु बीज मंत्र का जाप करना ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सबसे प्रभावशाली उपाय बताया गया हैं.

बीज मंत्र :

राहु बीज मंत्र

 

ऊं भ्रां भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः

का 18,000 बार जाप करें.

  • अगर राहु और केतु के प्रभाव से किसी व्यक्ति को शारीरिक कष्ट मिलता है तो इस दोष निवारण के लिए आपको सफेद गाय और सफेद कुत्ते को रोज सुबह भोजन करने से पहले रोटी खिलानी चाहिए तो राहु केतु की छाया का प्रभाव आप पर शुभ असर डालेगा.
  • अगर कोई महिला गर्भवती है और उसके जीवन में राहु केतु की छाया का अशुभ प्रभाव पड़ रहा है तो ऐसे ने बच्चे के जन्म लेने के तुरंत बाद बच्चे का कान छेद देना शुभ माना गया है ऐसा करने से बच्चे पर राहु और केतु की छाया का शुभ प्रभाव पड़ेगा.
  • ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पीपल के वृक्ष में रोज सुबह स्नान करने के पश्चात जल चढ़ाने से राहु और केतु की छाया का बुरा असर नहीं पड़ता है.
  • रोज शाम को घर की चौखट पर हल्दी से वास्तविक चिन्ह बनाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाए, ऐसा करने से राहु और केतु कि अशुभ छाया का प्रभाव आपके जीवन में नहीं पड़ेगा.

FAQ : राहु किस राशि में उच्च का होता है ?

FAQ title

FAQ description

निष्कर्ष

मित्रों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख में राहु किस राशि में उच्च का होता है इसके विषय में संपूर्ण जानकारी देने की पूरी कोशिश की है जिसमें हमने आप लोगों को खास करके राहु किस राशि के लिए शुभ और किस राशि के लिए अशुभ होता है इसके विषय में बताया है साथ में राहु के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए कुछ शास्त्री द्वारा बताए गए प्रभावशाली उपाय की जानकारी भी प्रदान की है .

osir news

अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक ध्यानपूर्वक से पढ़ा होगा तो आप लोगों को राहु और केतु दोनों से संबंधित विशेष जानकारी प्राप्त हो गई होगी तो हमारे प्रिय मित्रों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी और यह लेख आप लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

घर में अमरूद का पेड़ शुभ या अशुभ : जाने अमरुद के पेड़ लगाने की लाभ और नुक्सान | Amrud ka ped shubh ya ashubh : अमरुद के पेड़ के फायदे
लड़कियों की कौन सी चीज लड़कों को पसंद आती है | लड़कियां लड़कों में क्या देखती है
एक अच्छे लड़के की पहचान कैसे करें ? होंगी ये 11 खूबियाँ | Ek achhe ladke ki pahchan kaise kare
कलयुग में सबसे बड़ा देवता कौन है ? करे 5 देवताओ की पूजा | Kalyug ka sabse bada devta kaun hai ?
सोयाबीन की दाल खाने के क्या फायदे हैं ? What are the benefits of eating soybean lentils?
★ सम्बंधित लेख ★