शनि बीज मंत्र जाप के 7 लाभ, शुभ समय और जाप विधि | shani beej mantra benefit

शनि बीज मंत्र के लाभ shani beej mantra benefit : हेलो मित्रों नमस्कार आज हम आप लोगों को इस लेख के माध्यम से shani beej mantra benefits in hindi के विषय में बताने वाले है क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा बताया गया है अगर शनिदेव किसी व्यक्ति से प्रसन्न हो जाते हैं तो उसे राजा के समान धनवान बना देते हैं और अगर किसी व्यक्ति से रुष्ट हो जाते हैं तो उसे राजा से महा गरीब बना देते हैं.

शनि बीज मंत्र के लाभ shani beej mantra benefit

क्योंकि शनि देव धीमी चाल चलने वाला ग्रह है जो धीरे-धीरे करके अपने शुभ और अशुभ प्रभाव व्यक्तियों के जीवन पर छोड़ता है और जिस तरह से शनिदेव के शुभ और अशुभ प्रभाव व्यक्ति के जीवन पर धीरे-धीरे अपना असर छोड़ते हैं. इसी तरह से शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए कई दिनों तक इनकी पूजा-अर्चना विधि विधान के साथ करनी पड़ती है.

तब जाकर शनिदेव प्रसन्न होते हैं और आपके जीवन में शुभ फल प्रदान करते हैं. लेकिन हम यहां पर शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए और अपने भाग्य में शुभ फल पाने के लिए शनि देव के बीज मंत्र के विषय में बताएंगे. इस बीज मंत्र को लेकर ज्योतिष शास्त्र और वेद पुराणों में ऐसा माना गया है कि इस मंत्र से शनिदेव की साढ़ेसाती का बुरा असर खत्म हो जाता है.

जिससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं और आपके जीवन में सभी शुभ कार्य होते रहते हैं. ऐसे में अगर आप पर भी शनिदेव की साढ़ेसाती चल रही है और आपके जीवन में सब कुछ बुरा ही बुरा हो रहा है, तो आज हम आप लोगों को इस लेख में शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए शनि बीज मंत्र के विषय में बताएंगे जिससे सभी कार्य सफल और शुभ होते हैं .

ऐसे में अगर आप लोग शनि बीज मंत्र की जानकारी को प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें क्योंकि आज हम इस लेख में शनि बीज मंत्र के अलावा इस मंत्र को जाप करने का शुभ समय, विधि और इस मंत्र को जाप करने के फायदे बताएंगे जिससे आप शनिदेव को प्रसन्न कर पाएंगे तो मित्रो आइए हम बिना देर किए हुए जान लेते हैं शनि बीज मंत्र क्या होता है.

शनि देवता कौन है ? | Shani devta kaun hai ?

ज्योतिष मान्यता के अनुसार शनि देव सूर्य भगवान के पुत्र हैं और दक्ष माता शनि देव की माता जी हैं. शनि देव नवग्रहों में से सातवें स्थान पर विराजमान है शनि देव कुंभ और मकर राशि के प्रमुख देवता माने गए हैं. लेकिन शनिदेव सभी राशियों का भ्रमण करते हैं और हर एक राशि में 30 महीने तक निवास करते हैं.


क्योंकि शनि देव को धीमी चाल से चलने वाला ग्रह माना गया है जिसकी वजह से एक ही राशी में भ्रमण करते करते इन्हें काफी ज्यादा समय लग जाता है लेकिन इसी धीमी चाल की वजह से यह मनुष्य के अच्छे और बुरे कर्म की पहचान करके उसी आधार पर उसे शुभ और अशुभ फल प्रदान करते हैं.

Shani Dev

इसीलिए हर कोई शनिदेव को सच्चे दिल से नहीं बल्कि इनके डर की वजह से पूजता है. क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा माना गया है कि जिस व्यक्ति पर शनि की साढ़ेसाती चल रही हो उसके जीवन में कभी कोई कार्य शुभ नहीं होता है. इसके लिए उसे सतत प्रयास करके शनिदेव को प्रसन्न करना होता है.

तब जाकर शनिदेव प्रसन्न होकर उसके जीवन में सभी बिगड़े कार्य बनाते हैं. शनि देवता सभी ग्रहों के जज साहब माने गए हैं शनिदेव का वर्ण कृष्ण है और ए गिद्ध की सवारी करते हैं कहने का सीधा तात्पर्य शनि देव न्याय के राजा हैं. यह व्यक्ति को उसके कर्म के अनुसार ही फल देते हैं.

इसीलिए अगर आप अच्छे कर्म कर रहे हैं, तो आपको शनिदेव से घबराने की आवश्यकता नहीं है. लेकिन फिर भी कुछ परिस्थितियां आ जाती हैं जिनके चलते शनिदेव नाराज हो जाते हैं और हमारा भाग्य खराब हो जाता है इसीलिए हम यहां पर शनि बीज मंत्र के विषय में बताएंगे :

शनि बीज मंत्र के लाभ | shani beej mantra benefits hindi

यहां पर हम शनि बीज मंत्र के विषय में बताएंगे जिसके जाप से शनि देवता प्रसन्न होकर सबके जीवन में शुभ फल प्रदान करते हैं इसीलिए आप लोग इस मंत्र की विधि विधान पूर्वक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को ध्यान पूर्वक अवश्य पढ़ें.

शनि बीज मंत्र

ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः
ॐ शं शनैश्चराय नमः।।

शनि बीज मंत्र जाप करने का दिन और समय

shani dev

शनि बीज मंत्र जाप करने के लिए सबसे शुभ समय शनिवार का है क्योंकि शनिवार के दिन शनि भगवान को अर्पित है इस दिन सिर्फ और सिर्फ शनिदेव की पूजा करनी चाहिए इसीलिए आप शनि बीज मंत्र जाप के लिए शनिवार की सुबह और सूर्यास्त के पश्चात शनि बीज मंत्र का जाप कर सकते हैं यह समय मंत्र जाप के लिए बहुत ही शुभ समय माना गया है.

शनि बीज मंत्र जाप करने की विधि

  1. शनिवार के दिन सूर्य उदय से पहले उठकर घर की अच्छे से साफ सफाई करें और फिर खुद भी स्नान आदि से निवृत होकर काले वस्त्र धारण करें फिर ऐसे स्थान पर जहां पर ज्यादा शोर ना हो या फिर कोई ज्यादा आता-जाता ना हो वहां पर साफ सफाई करके एक लकड़ी का पटरा रखकर उस पर काला या लाल कपड़ा बिछाकर शनि देव की फोटो या फिर काली मूर्ति स्थापित करें.
  2. मूर्ति स्थापित करने के बाद आप शनि बीज मंत्र जाप के लिए शनि देव बाबा की फोटो या मूर्ति के सामने सरसों तेल का दीपक जलाएं और शनि देव को सिंदूर का तिलक लगाएं और हाथ जोड़कर शनिदेव से यह प्रार्थना करें कि हे प्रभु मैंने आपके मंत्र जाप की प्रक्रिया पूरी करने का जो संकल्प लिया है इसे पूरा करने में हमारी सहायता करना .
  3. फिर शनि देवता की मूर्ति के सामने आसन लगाकर रुद्राक्ष माला को लेकर शनि बीज मंत्र जाप करने की प्रक्रिया शुरू करें.
  4. शनिदेव को पूरी तरह से प्रसन्न करने के लिए शनि देव बीज मंत्र का जाप 23000 बार करना शुभ माना गया है.
  5. ऐसे में शनि देव के बीज मंत्र का जाप करने में काफी दिन लग सकते हैं इसीलिए आप 1 दिन में शनि देव बीज मंत्र का जाप एक माला जाप अवश्य करें और हर दिन सरसों के तेल का दीपक अवश्य जलाएं.
  6. इस तरह से हर रोज रुद्राक्ष माला की एक प्रक्रिया पूरी करके शनिदेव इस मंत्र को हर रोज करते रहे जब आपके 23000 बार मंत्र जाप प्रक्रिया पूरी हो जाए तो आप शनि देव की मूर्ति को बहते हुए पानी में विसर्जित कर दें और मंत्र जाप करते समय सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप मंत्र जाप करते समय पूरी श्रद्धा और भक्ति के साथ मंत्र का जाप करें.
  7. क्योंकि शनि बीज मंत्र का जाप करते समय कई नकारात्मक शक्तियां आपको परेशान करने की कोशिश करेंगी जिनसे आप मंत्र जाप की प्रक्रिया छोड़ सकते हैं. इसीलिए आप श्रद्धा और भक्ति पूर्वक अपने मन को केंद्रित करके शनि बीज मंत्र का जाप करें. ताकि आपको नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव ना नजर आए और आप अपने मंत्र जाप की प्रक्रिया को पूरी कर सकें.
  8. इस तरह इस मंत्र का जाप करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं और फिर आपकी हर मनोकामना की पूर्ति करते हैं अब आइए जानते हैं शनि देव मंत्र जाप के क्या-क्या फायदे होते हैं

शनि बीज मंत्र के लाभ | Shani beej mantra benefits hindi

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर कोई जातक जातिका शनि बीज मंत्र का जाप शुभ समय और पूरे विधि विधान के साथ अपने मन को केंद्रित करके करती हैं तो उसके जीवन में कुछ इस प्रकार के शुभ प्रभाव देखने को मिलते हैं जैसे,

1. शनि भगवान को प्रसन्न करें

शनिदेव

 

शनि बीज मंत्र का उच्चारण करने का सबसे पहला फायदा जो है वह यह है कि इस मंत्र के जाप से शनि देवता प्रसन्न होते हैं और जब शनि देवता किसी जातक जातिका पर प्रसन्न होंगे तो सामान्य सी बात है. उसके जीवन में हर कार्य शुभ होंगे और वह सभी क्षेत्र में प्रगति हासिल करेगा. इसीलिए शनि बीज मंत्र का जाप भाग्य उदय करने का सबसे शुभ और फल दायक मंत्र माना गया है.

2. सुख संपत्ति मोक्ष दिलाएं

तंत्र मंत्र शास्त्र के अनुसार बताया गया है अगर कोई भी जातक जातिका शनि बीज मंत्र का उच्चारण 23000 बार करता है तो वह व्यक्ति सुख संपत्ति और मोक्ष को प्राप्त करता है क्योंकि शनि देवता न्याय करने वाले देवता हैं जो व्यक्ति को उसके कर्म के आधार पर शुभ और अशुभ फल देते हैं .

लेकिन मनुष्य का जन्म पाने के बाद मनुष्य से कोई न कोई गलती अवश्य हो जाती है इसीलिए अगर आप उस गलती का पश्चाताप करना चाहते हैं तो इसके लिए आप शनि बीज मंत्र का उच्चारण करें और फिर शनिदेव आपको क्षमा प्रदान करेंगे तथा आपके जीवन में सभी प्रकार के कष्ट अपने ऊपर ले लेंगे तथा आपको सुख संपदा मोक्ष प्रदान करेंगे जिससे आपका मनुष्य जन्म सफल हो जाएगा.

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 582 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

दुकान खोलने के टॉप बिजनेस आईडिया जिन्हें कोई भी खोल सकता है | Top business ideas of opening a shop
संपूर्ण महाकाली धन प्राप्ति मंत्र एवं कष्ट निवारण मंत्र विधि और लाभ | महाकाली धन प्राप्ति मंत्र : Maa kali dhan prapti mantra

3. कुंभ और मकर राशि का भाग्य चमकाएं

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार पूरी 12 राशियां बताई गई हैं और 12 राशियों में हर राशि का अपना अपना स्वामी होता है इसी तरह से कुंभ और मकर राशि के प्रमुख स्वामी शनि देव माने गए हैं ऐसे में जब कुंभ और मकर राशि की कुंडली में शनि देव कमजोर हो जाते हैं तो उनके जीवन में बहुत ही अशुभ प्रभाव पड़ते हैं.

kumbh aquarius rashi

जिसकी वजह से कुंभ राशि के जातक जाति का सतत प्रयास के बाद भी अपने जीवन में आगे नहीं बढ़ पाते हैं. ऐसे में अगर वह लोग शनि बीज मंत्र का नियमित रूप से उच्चारण करते हैं, तो शनि देव इनकी कुंडली के उच्च भाव में प्रवेश करके इनकी आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाते हैं और इन्हें हर प्रकार की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं.

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

क्योंकि हर गुरु अपने शिष्य को बाहर से जरूर डराता धमकता है लेकिन अंदर से वह उसे मजबूत बनाने की कोशिश करता है इसी तरह से शनि देव कुंभ और मकर राशि के स्वामी हैं और यह अपने जातक को हर प्रकार से सुख और वैभव प्रदान करते हैं.

4. सपनों को साकार करता है

मनुष्य का जन्म लेने के पश्चात हर मनुष्य के अंदर कई तरह की इच्छाएं पनपती रहती हैं और हर इच्छाओं की पूर्ति करना संभव नहीं होता है लेकिन तंत्र मंत्र शास्त्र के अनुसार ऐसा माना गया है अगर कोई जातक जातिका सच्चे मन से शनि बीज मंत्र का जाप करता है तो उसके हर प्रकार के सपने साकार होते हैं जैसे बहुत से बच्चे दिन-रात पढ़ाई करते हैं ताकि उन्हें कोई अच्छा सा पद प्राप्त हो सके और वह हर क्षेत्र में अपनी पहचान बना सके.

ऐसे में अगर वह लोग नियमित रूप से इस मंत्र का जाप करेंगे तो बहुत जल्द ही उन्हें किसी सरकारी पद पर नौकरी अवश्य मिलेगी. इसके अलावा अगर आप अपने रिश्ते में मजबूती लाना चाहते हैं तो भी यह मंत्र बहुत ज्यादा फायदा करेगा क्योंकि शनि देवता प्रेम के अर्थ को बहुत अच्छे से समझते हैं.

इसीलिए वह आपके प्रेम को आप से अवश्य मिलाएंगे, साथ में शनि देवता वैवाहिक जीवन के रिश्ते को भी मजबूत बनाने में काफी ज्यादा सहायक होते हैं इसीलिए हर व्यक्ति को शनि बीज मंत्र का जाप 1 दिन में रुद्राक्ष माला की एक प्रक्रिया पूरी करके अवश्य करना चाहिए .

5. निसंतान को संतान प्रदान करें

जिस सुहागन महिला को मां बनने का सुख नहीं प्राप्त होता है तो समाज में उसे हर व्यक्ति से तरह-तरह के ताने सुनने पड़ते हैं तथा अपने घर में एक छोटे नन्हे मुन्ने बच्चे की किलकारियां सुनने के लिए रोना पड़ता है.

baby

ऐसे में अगर आपको मां बनने का सुख नहीं प्राप्त हो रहा है, आपने तमाम दवा करा ली तमाम इलाज कराया, फिर भी आपको कोई फायदा नहीं है, तो आप हर शनिवार को शनिदेव के मंदिर पर सरसों के तेल का दीपक जलाएं, और 1 दिन में रुद्राक्ष माला की एक प्रक्रिया पूरी करके शनि बीज मंत्र का जाप करें, तो यकीन मानिए 1 महीने के अंदर यह मंत्र और शनि की सच्चे मन से भक्ति करने का फल आपको अवश्य मिलेगा और आप मां बनने का सुख प्राप्त कर पाएगी.

लेकिन करुणामाई शब्दों से आपको शनिदेव से प्रार्थना करनी होगी हे प्रभु मेरी सूनी गोद भर दो मैं हमेशा आपकी पूजा अर्चना करूंगी और आपका यह एहसान कभी नहीं भूलूंगा ऐसी प्रार्थना करना और फिर देखना शनिदेव आपकी करुणामई पुकार अवश्य सुनेंगे.

6. शारीरिक कष्टों से मुक्ति दिलाएं

अगर किसी भी मनुष्य को किसी भी प्रकार का शारीरिक कष्ट है तो तंत्र मंत्र शास्त्र के अनुसार बताया गया है कि उस व्यक्ति को शारीरिक कष्ट से मुक्ति पाने के लिए 23 हजार बार शनि बीज मंत्र का जाप करना चाहिए और हर शनिवार को शनि मंदिर पर सरसों के तेल का दीपक जलाना चाहिए.

ऐसा नियमित 1 महीने तक करने से शरीर के हर प्रकार के कष्टों से मुक्ति मिल जाती है और मनुष्य का मानसिक विकास भी होता है ऐसे में अगर आपको कोई रोग है या फिर कोई पीड़ा है तो आप शनि बीज मंत्र का जाप करके उस पीड़ा से मुक्ति पा सकते हैं.

7. प्रगति के नए रास्ते दिखाएं

कई बार बहुत से लोगों के जीवन में सब कुछ ठीक चलते हुए भी कुछ ठीक नहीं चलता है क्योंकि उनका दिमाग की नहीं काम करता है कि मैं कौन सा काम करूं तो मैं अपनी लाइफ में आगे बढ़ सकूं, या फिर कई बार ऐसा होता है कि कोई एक काम शुरू करो और उस काम में आपको किसी भी प्रकार का फायदा नहीं मिलता है, तो फिर बहुत ज्यादा निराश भावना महसूस होने लगती है.

फिर दिमाग काम ही नहीं करता है कि क्या काम करें क्या ना करें और प्रगति का कोई भी रास्ता नजर नहीं आता है. ऐसे में अगर आप भी किसी काम को लेकर परेशान रहते हैं आपको लाइफ में आगे बढ़ने के लिए कोई भी रास्ता नजर नहीं आ रहा है तो इसके लिए आप हर रोज शनि बीज मंत्र का सच्चे मन से जाप करें, तो शनिदेव आपको प्रगति के लिए कई सारे रास्ते दिखाएंगे.

जिनमें से अगर आप किसी एक भी रास्ते पर चलेंगे तो आपको उस रास्ते पर चलने में आसानी महसूस होगी और आपको हर तरफ से फायदा मिलेगा.

FAQ : shani beej mantra benefit

शनि देव के मंदिर में किस चीज का दीपक जलाना चाहिए ?

शनिदेव के मंदिर पर सरसों के तेल का दीपक जलाना शुभ माना गया है.

शनि देव को सबसे प्रिय क्या है ?

शनि देव को आक के फूल सबसे प्रिय हैं इसी के साथ में शनि देव को उड़द की दाल भी बहुत पसंद है अगर कोई जातक इन दोनों को शनिवार के दिन शनि देव की मंदिर में चढ़ाता है तो शनि देव बहुत जल्दी प्रसन्न होते हैं.

शनि देव किस राशि के प्रमुख देवता है ?

शनिदेव और मकर और कुंभ राशि के प्रमुख देवता है लेकिन यह सभी राशियों का भ्रमण करते हैं और सभी राशियों को उनके अच्छे और बुरे कर्म के अनुसार फल देते हैं.

निष्कर्ष

तो हमारे प्रिय दर्शकों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से shani beej mantra benefit के विषय में जानकारी प्रदान की है जिसमें हमने आप लोगों को शनि बीज मंत्र क्या होता है ,और इस मंत्र को किस समय ,किस विधि से जाप करना चाहिए ,तथा इस मंत्र को जाप करने के कौन-कौन से फायदे होते हैं यह सब कुछ बताया है .

osir news

अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को शनि बीज मंत्र से संबंधित सारी जानकारी प्राप्त हो गई होगी तो दोस्तों अगर आपके जीवन में भी शनि की साढ़ेसाती चल रही है तो आप शनि देव के बीज मंत्र का उच्चारण करके शनि देव की महिमा प्राप्त कर सकते हैं तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी और यह लेख आप लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

अपने नाम से राशि जाने : नाम की राशी निकलना सीखे नाम राशी चार्ट | Naam se rashi kaise nikale
वीजा का फुल फॉर्म क्या होता है ? VISA कितने प्रकार का होता है ? | Visa ka matlab kya hai ?
चोर का पता कैसे लगाये ? चोर पकड़े – मंत्र और अचूक उपाय जाने ! How to find out the thief in hindi?
जाने वशीकरण के 21 आसान टोटके : वशीकरण के टोटके | vashikaran ke totke
कोख बंधन क्या होता है? कोख बंधन क्यों करवाया जाता है? Kokh bandhan ki vajah
★ सम्बंधित लेख ★