सूर्यदेव के 12 नाम स्मरण विधि और जाप के फायदे | Surya dev ke 12 naam

सूर्यदेव के 12 नाम surya dev ke 12 naam : हेलो मित्रों नमस्कार आज मैं आप लोगों को इस लेख के माध्यम से surya dev ke 12 naam से संबंधित जानकारी प्रदान करूंगी, जिसमें मैं आप लोगों को सबसे पहले सूर्य देव के 12 नाम बताऊंगी फिर इन 12 नामों को किस समय, किस तरीके से, स्मरण करना है. उसके विषय में बताऊंगी, क्योंकि जिस तरह से कई लोगों के एक नहीं बल्कि तीन चार नाम होते हैं.

सूर्यदेव के 12 नाम surya dev ke 12 naam

उसी तरह से हर देवी देवता के एक नहीं बल्कि अनेकों नाम और रूप होते हैं, और उन सभी देवी देवताओं में से हम बात कर रहे हैं सूर्य देव की जो समस्त दुनिया को उर्जा प्रदान करने वाले देवता माने गए हैं. जिनको लेकर कई शास्त्रों में कहा जाता है. इनके एक नहीं 12 नाम है और जो व्यक्ति सुबह स्नान आदि से निवृत होने के पश्चात सूर्य देव को जल अर्पित करते समय सूर्य देव के इन 12 नामों का जाप करता है तो सूर्य देव प्रसन्न उस व्यक्ति से होते हैं और फिर भक्तों को मनोवांछित फल प्रदान करते हैं.

सूर्य देव के 12 नामों का जाप करने से कुंडली या राशि में सूर्य देव की स्थिति बलवान होती है तथा साथ पीढ़ियों तक परिवार में कोई भी मनुष्य अंधा जन्म नहीं लेता है. इसीलिए सूर्य देव को जल अर्ध करते समय इनके 12 नामों का जाप करना बहुत ही शुभ बताया गया है. इसके अलावा सूर्यदेव समस्त देवताओं में से एक ऐसे देवता है जो प्रत्यक्ष रूप से सभी को दर्शन देते हैं.

जिन्हें 1 दिन में समस्त दुनिया में बहुत से लोग जल अर्पित करते होंगे. लेकिन सूर्य देव को नियमित रूप से जल अर्पित करने के अलावा रविवार के दिन सूर्य देव की पूजा अर्चना पूरे विधि विधान के साथ करनी चाहिए क्योंकि रविवार का दिन सूर्य देव को समर्पित है. इस दिन सूर्य देव की पूरे विधि विधान के साथ पूजा अर्चना करने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं तथा जिस व्यक्ति से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं.

उस व्यक्ति के जीवन में सुख शांति , सुख, समृद्धि, ऐश्वर्य और संपन्नता की कोई कमी नहीं रह जाती है. इसीलिए आज हम इस लेख में सूर्य देव की कृपा प्राप्त करने के लिए सूर्य अर्ध करते समय सूर्य के 12 नामों को स्मरण करने के विषय में संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे.

ऐसे में अगर आप लोग भी सूर्य देव को अपने जीवन में महत्व देते हैं और सूर्य देव को रोज सुबह जल अर्पित करते हैं तो आप लोगों को सूर्य देव के 12 नाम की जानकारी होनी चाहिए नहीं तो रोज सुबह जल अर्पित करने का कोई भी लाभ नहीं मिलेगा. क्योंकि जिस तरह से किसी भी देवी देवता की पूजा अर्चना पूरे विधि विधान के साथ करने से ही शुभ फल मिलता है.


उसी तरह से सूर्य देव को जल अर्ध करते समय इन के 12 नामों का जाप करने पर ही सूर्य देव पूर्ण रूप से प्रसन्न होते हैं ऐसे में अगर आप लोग सूर्य देव के 12 नाम तथा उन नामों को किस प्रकार से स्मरण करना है इस जानकारी को विधिपूर्वक प्राप्त करना चाहते हैं तो इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें :

सूर्यदेव के 12 नाम | surya dev ke 12 naam

पंडित रामानंद शास्त्री का कहना है समस्त देवों में सूर्यदेव एक ऐसे देवता हैं जिन्हें प्रसन्न करके इनकी कृपा प्राप्त करने के लिए ना तो इन्हें कुछ चढ़ाने की आवश्यकता होती है और ना ही किसी बड़े अनुष्ठान की आवश्यकता होती है.

सूर्यदेव surya dev

सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए स्नान आदि से निवृत होने के पश्चात इन्हें जल अर्ध करते समय इनके 12 नामों का स्मरण करके सूर्यदेव को नमस्कार करने से सूर्य देव की महिमा प्राप्त की जा सकती है. शास्त्रों में सूर्य देव के 12 नाम कुछ इस प्रकार से बताए गए हैं जैसे :

  1. ॐ सूर्याय नम:।
  2. ॐ मित्राय नम:।
  3. ॐ रवये नम:।
  4. ॐ भानवे नम:।
  5. ॐ खगाय नम:।
  6. ॐ पूष्णे नम:।
  7. ॐ हिरण्यगर्भाय नम:।
  8. ॐ मारीचाय नम:।
  9. ॐ आदित्याय नम:।
  10. ॐ सावित्रे नम:।
  11. ॐ अर्काय नम:।
  12. ॐ भास्कराय नम:।

यह सूर्य देव के 12 नाम है जिन्हें सूर्य देव को जल अर्पित करके नमस्कार करते समय स्मरण किया जाता है अब आइए जानते हैं इन 12 नामों को किस प्रकार से स्मरण करना चाहिए.

सूर्य देव के 12 नामों को स्मरण करने की विधि

शुक्र बीज मंत्र के फायदे

  • अगर आप सूर्य देव को अपने जीवन में महत्व देते हैं तो सूर्य उदय से पहले उठकर मुनि स्नान करें मुनि इस नाम का मतलब 4 से 5 के समय में किया जाने वाला स्नान जो कि धार्मिक ग्रंथों में सबसे सर्वोत्तम स्नान माना गया है.
  • स्नान करने के पश्चात जब सूर्य देव के दर्शन हो तो आप पीतल के लोटे में स्वच्छ गंगा जल भर ले.
  • उसके पश्चात सूर्यदेव की तरफ मुख करके बैठ जाएं बैठने के पश्चात लौटे से सूर्य देव को जल अर्पित करें तथा जल अर्पित करते समय सूर्य देव के 12 नामों को अपने मन में स्मरण करें.
  • जब सूर्य देव के 12 नामों का स्मरण हो जाए तो आप सूर्यदेव से हाथ जोड़कर अपने शब्दों में मनोकामना पूर्ति की प्रार्थना करें.
  • उसके पश्चात जब सूर्य अस्त हो रहा हो तब आप सूर्य देव को नमन करें.
  • इस तरह से प्रतिदिन सूर्य देव को जल अर्पित करके सूर्य देव के 12 नामों को स्मरण करने से सूर्य देव प्रसन्न होते हैं और फिर उस व्यक्ति के जीवन से समस्त कष्टों का निवारण कर देते हैं.

सूर्य देव के 12 नामों को जाप करने के फायदे | Sury dev ke 12 naam ko jaap karne ke fayde

शास्त्रों में बताया गया है अगर किसी भी जातक या जातिका के ऊपर सूर्य देव की कृपा होती है तो उसके जीवन में सूर्यदेव उसके जीवन में कुछ इस प्रकार के शुभ फल प्रदान करते हैं जैसे,

1. बिगड़े हुए कार्यों को बनाएं

Hard Work

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 868 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

हस्तमैथुन की लत कैसे छोड़े : लड़कियां हस्तमैथुन कैसे करती हैं
फिल्म हीरो कैसे बन सकते हैं : ये 8 टिप्स बना देंगे आप को फ़िल्मी एक्टर | Bollywood actor kaise bane

सूर्य देव के रथ में सात घोड़े होते हैं जिन्हें फुर्ती और ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है, जो मनुष्य को यह प्रेरणा देते हैं कि हर मनुष्य को कर्म करते रहना चाहिए और आगे बढ़ते रहना चाहिए फल अपने आप मिल जाएगा इसीलिए जो मनुष्य सूर्य देव को जल अर्ध करते समय इन के 12 नामों का स्मरण करता है तो उस व्यक्ति के सभी बिगड़े हुए कार्य बन जाते हैं तथा आगमन के नए रास्ते नजर आने लगते हैं

2. कुंडली में नकारात्मक ग्रहो का प्रभाव कम हो जाता है

अक्सर करके जब किसी व्यक्ति की कुंडली में उसकी राशि का स्वामी यानी कि ग्रह कमजोर हो जाता है तो उस राशि के जातक और जाति का के जीवन में चारों तरफ से कष्ट और तमाम तरह की परेशानियां आ जाती हैं जिनसे छुटकारा पाने के लिए ग्रह को बहुत ही पूजा अर्चना के बाद प्रसन्न किया जाता है .

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

लेकिन शास्त्रों का कहना है अगर कुंडली में किसी कारण से ग्रह कमजोर होकर आपके जीवन में अशुभ प्रभाव डाल रहा है तो उसके अशुभ प्रभाव से बचने के लिए उस जातक जातिका को रोज सुबह सूर्य उदय से पहले स्नान करके सूर्य देव को जल अर्ध करते समय सूर्य देव के 12 नामों का पूरी श्रद्धा के साथ स्मरण करें तो उनकी कुंडली में उनकी राशि का स्वामी उच्च भाव में प्रवेश करके शुभ फल प्रदान करेगा .

3. घर में सुख शांति लाए

house home

सूर्य देव को इस पृथ्वी पर रहने वाले समस्त जीव जंतु और मनुष्य को सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने वाले प्रमुख देवता का दर्जा दिया गया है इसीलिए शास्त्रों में सूर्य देव को लेकर ऐसा कहा गया है अगर कोई भी व्यक्ति सूर्य देव को सुबह स्नान आदि निवृत्त होने के पश्चात पीतल के लोटे से जल अर्पित करते समय सूर्य देव के 12 नामों का पूरी श्रद्धा के साथ स्मरण करते हैं तो उस व्यक्ति के घर में जीवन में हमेशा सुख शांति बनी रहती है तथा उस व्यक्ति के घर में कभी भी पैसों की तंगी नहीं आती है ना तो कोई व्यक्ति कभी बीमार पड़ता है.

4. बुद्धि, विद्या और दिव्यता प्राप्त होती हैं.

अगर किसी भी व्यक्ति को मानसिक तनाव की समस्या रहती है या फिर उसे ज्ञान अर्जित करने में परेशानी होती है तो ज्योतिष शास्त्र में ऐसा बताया गया है कि रोज सुबह सूर्य देव को जल अर्पित करते समय सूर्य देव के 12 नामों का स्मरण अब मन ही मन करने से व्यक्ति को बुद्धि विदा और दिव्यता प्राप्त होती है.

क्योंकि सूर्य देव को नियमित रूप से जल अर्पित करते समय उन के 12 नामों का स्मरण करने से शरीर में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती रहती है और फिर एक समय ऐसा आता है कि व्यक्ति को बुद्धि विदा और दिव्यता प्राप्त हो जाती है.

5. आत्मा का शुद्धिकरण होता है.

जैसा कि आप लोगों ने खुद महसूस किया होगा जब आप किसी भी देवी देवता की पूजा अर्चना करते होंगे उस समय बहुत अच्छा महसूस होता है क्योंकि उस समय व्यक्ति के अंदर सकारात्मक शक्तियों का वास होता है तब व्यक्ति के अंदर किसी भी प्रकार का कोई लालच भय या फिर किसी भी प्रकार का मैल नहीं रह जाता है पूरी तरह से व्यक्ति ईश्वर की भक्ति में लीन रहता है. तब यह दुनिया बहुत खूबसूरत लगती है.

clouds-Soul aatma

इसी तरह से जब कोई भी व्यक्ति नियमित रूप से सूर्य देव को जल अर्पित करके सूर्य देव के 12 नामों का स्मरण करता है तो उस व्यक्ति की आत्मा का शुद्धिकरण हो जाता है फिर उस व्यक्ति के अंदर कभी भी नकारात्मक शक्तियां प्रवेश नहीं कर पाएंगे और जब किसी व्यक्ति के अंदर नकारात्मक शक्तियां ही नहीं प्रवेश करेंगी, तो वह व्यक्ति जीवन में कभी भी कोई गलत काम नहीं करेगा और फिर अपने मनुष्य जन्म को सफल और साकार बना लेगा.

इसीलिए सूर्य देव को जल अर्पण करने की कई सारे फायदे प्राप्त होते हैं.

FAQ : Surya dev ke 12 naam

सूर्य देव पर कब जल नहीं चढ़ाना चाहिए ?

जब सूर्य देव की समस्त किरणें विशाल रूप धारण करने तथा अधिक धूप होने लगें तब भूलकर भी सूर्य देव को जल नहीं चढ़ाना चाहिए.

सूर्य देव को किस समय जल अर्पित करना शुभ माना गया है ?

शास्त्रों के अनुसार सुबह 4 बजे उठकर हर मनुष्य को मुनि स्नान करना चाहिए उसके पश्चात 5 ,6 बजे के बीच में सूर्य देव को जल अर्पित करना चाहिए यह समय सूर्य देव को जल अर्पित करने का बहुत ही शुभ समय माना गया है.

सूर्य देव को जल अर्पित करते समय जल में क्या डालना चाहिए ?

सूर्य देव को प्रातः काल जल अर्पित करते समय जल में अक्षत, फूल और थोड़ी सी हल्दी डालनी चाहिए ऐसा करने से ज्ञान, विद्या, बल की प्राप्ति होती है.

निष्कर्ष

तो मित्रों जैसा कि आज हमने इस लेख में आप सभी लोगों को surya dev ke 12 naam से संबंधित जानकारी प्रदान की है जिसमें हमने आप लोगों को सूर्य देव के 12 नाम और इन नामों को किस समय, किस तरीके से, स्मरण में लेना है इन सब के विषय में विधिवत जानकारी प्रदान की है.

ऐसे में अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को सूर्य देव के 12 नामों से संबंधित सारी जानकारी विस्तार पूर्वक से मिल गई होगी.

osir news

अगर आप लोग भी सूर्य देव को अपने जीवन में महत्व देते हैं तो यह लेख आपके लिए बहुत उपयोगी साबित हो सकता है तो दोस्तों हम उम्मीद कर करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी और उपयोगी भी साबित हुई होगी.

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

(फुल गाइड-1) कोई भी दुकान / शॉप कैसे खोले / स्टार्ट करे ? How to start a Shop in hindi ?
बाधाओं को हरने वाले सर्व कार्य सिद्धि गणेश मंत्र जाप विधि | Sarva karya siddhi ganesh mantra
Hoga Toga 3D क्या है – 3D में देखे करे फ्री डाउनलोड, उपयोग और फायदे जाने | hogatoga 3d : Hoga Toga 3D apk download
नींबू से शत्रु का नाश करने का महामंत्र और 5 आसान उपाय | Nimbu se shatru ka Nash
स्त्री को आकर्षित कैसे करें : 14 तरीको से बनाये उसे अपना दीवाना | Stri ko vash me kaise kare
★ सम्बंधित लेख ★