मां कात्यायनी महा यंत्र और मंत्र क्या है ? पूंजा विधि और कात्‍यायनी महा यंत्र की स्‍थापना कैसे करे ? Katyayani Yantra

Katyayani Yantra kya hai ? देवी कात्यायनी दुर्गा का छठा अवतार होता है जिसमें देवी कात्यायनी की असीम शक्तियां समाहित हैं जिन लोगों के जीवन में  विशेष प्रकार की परेशानियां और कठिनाइयां बनी रहती हैं उन लोगों को कात्यायनी महामंत्र की पूजा करने से सभी प्रकार की परेशानियों का निवारण हो जाता है | Katyayani Yantra ki puja vidhi ki puran jankari !!

मां कात्यायनी दुर्गा मां की छठी सख्त के रूप में नवरात्रि के दिनों में पूजा होती है मां कात्यानी मन की शक्ति की देवी हैं इनकी आराधना करने से इंसान की सभी प्रकार की परेशानियां दूर हो जाती हैं |

मां कात्यायनी शेर पर सवार रहती हैं ऐसा माना जाता है कि महर्षि कात्यायन के यहां जन्म होने के कारण इनका नाम कात्यायनी पड़ा । मां कात्यानी ऋषि कात्यायन की तपस्या से प्रसन्न होकर स्वयं पुत्री रूप में जन्म लेकर उनकी इच्छाओं की पूर्ति किया था इसीलिए कात्यायनी यंत्र की पूजा करने से सभी प्रकार की इच्छाएं पूर्ण हो जाती हैं।

, कात्यायनी माता का मंत्र, कात्यायनी महामाये , महायोगिन्यधीश्वरी नन्दगोपसुतं देवी, पति मे कुरु ते नमः meaning, कात्यायनी माता की पूजा विधि, कात्यायनी मंत्र का अर्थ, कात्यायनी गायत्री मंत्र, कात्यायनी मंत्र का विनियोग, कात्यायनी मंत्र जप संख्या, कात्यायनी माता की कथा, कात्यायनी माता की पूजा विधि, कात्यायनी मंत्र, कात्यायनी महामाए महायोगिन्यधीश्वरि मंत्र, कात्यायनी मंत्र का अर्थ, कन्या विवाह मंत्र, कात्यायनी गायत्री मंत्र, कात्यायनी माता की कथा, कात्यायनी मंत्र का विनियोग, कात्यायनी महामाये , महायोगिन्यधीश्वरी नन्दगोपसुतं देवी, पति मे कुरु ते नमः, कात्यायनी माता की पूजा विधि, कात्यायनी मंत्र का अर्थ, कात्यायनी माता की कथा, कात्यायनी मंत्र का विनियोग, कात्यायनी गायत्री मंत्र, कात्यायनी मंत्र जप संख्या, कन्या विवाह मंत्र, कात्यायनी महामाये , महायोगिन्यधीश्वरी नन्दगोपसुतं देवी, पति मे कुरु ते नमः, कात्यायनी मंत्र जप विधि, कात्यायनी मंत्र का अर्थ, कात्यायनी बीज मंत्र, कात्यायनी माता की कथा, कात्यायनी मंत्र का विनियोग, कन्या विवाह मंत्र, कात्यायनी गायत्री मंत्र,

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा उपासना आराधना करके व्यक्ति को अर्थ धर्म काम और मोक्ष बड़ी आसानी से प्राप्त हो जाते हैं तथा रोग शोक संताप और भय नष्ट हो जाते हैं प्रमुख रूप से ऐसा माना जाता है कि माता कात्यायनी की पूजा करने से वैवाहिक समस्याएं समाप्त हो जाती हैं |

क्योंकि इनकी पूजा करने से भगवान बृहस्पति प्रसन्न हो जाते हैं और विवाह का योग बना कर वाहवाही समस्याएं दूर करते हैं जिससे जीवन में सुख शांति बनी रहती है।

कात्यायनी यंत्र के लाभ क्या क्या है ? What are the benefits of Katyayani Yantra?

मां कात्यायनी यंत्र की स्थापना करने से जीवन की सभी प्रकार की कठिनाइयां दूर होने के साथ-साथ प्रेम संबंध भी प्रगाढ़ होते हैं विवाहित जीवन में सभी प्रकार की परेशानियां दूर हो जाती हैं यदि किसी का विवाह देर से हो रहा है |

तो इस मां कात्यायनी यंत्र की स्थापना करने से वैवाहिक समस्या दूर हो जाती है आदर्श जीवनसाथी पाने के लिए मां कात्यायनी पूजा अर्चना साधना करने से इच्छा पूर्ण हो जाती हैं |

यह भी पढ़े :

 

मां कात्यायनी यंत्र की स्थापना जिस जगह पर की जाती है वह स्थान पवित्र हो जाता है और घर में सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती हैं तथा सभी प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं | मां कात्यायनी के इस यंत्र से वैवाहिक जीवन की सभी बाधाएं दूर हो जाती हैं ।

कात्‍यायनी महा यंत्र की स्‍थापना के लिए मंत्र क्या है ? What is the mantra for setting up the Katyayani Maha Yantra?

‘ऊं ऐं ह्रीं क्‍लीं आम् काम् कात्‍यायने नम:’

का जाप करें

कात्‍यायनी महा यंत्र की कैसे करें पूजा ? How to worship Katyayani Maha Mantra?

मां कात्यायनी के इस यंत्र को अपने घर में स्थापित करने के लिए इसे पूर्व दिशा में धूप और दीप जलाकर स्थापित करें |

कात्यायनी देवी की कृपा पाने के लिए तथा सभी प्रकार को दूर करने के लिए यंत्र पर गंगाजल छिड़क कर घी का दिया प्रतिदिन जलाएं।

पूजा विधि: नवरात्रि के छठे दिन यानि कि षष्‍ठी को स्‍नान कर लाल या पीले रंग के वस्‍त्र पहनें। सबसे पहले घर के पूजा स्‍थान या मंदिर में देवी कात्‍यायनी की मूर्ति अथवा तस्वीर स्‍थापित करें। अब गंगाजल से छिड़काव कर शुद्धिकरण करें और मां की प्रतिमा के आगे दीपक रखें।

अब हाथ में फूल लेकर मां को प्रणाम कर उनका ध्‍यान करें। इसके बाद उन्‍हें पीले फूल, कच्‍ची हल्‍दी की गांठ और शहद अर्पित करें। धूप-दीपक से मां की आरती उतारें। आरती के बाद सभी में प्रसाद वितरित कर स्‍वयं भी ग्रहण करें।

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *