सम्पूर्ण खाटू श्याम पूजा विधि ,आरती,प्रिय भोग और 10 मंत्र | Khatu shyam puja vidhi

खाटू श्याम पूजा विधि Khatu shyam puja vidhi : हेलो दोस्तों नमस्कार आज मैं आप लोगों को इस लेख के माध्यम से खाटू श्याम पूजा विधि बताऊंगी, क्योंकि कई प्रकार के धार्मिक ग्रंथों और पौराणिक कथाओं में खाटू श्याम बाबा की महिमा को लेकर ऐसी मान्यता प्राप्त है कि खाटू श्याम बाबा के दर्शन मात्र से श्रद्धालु भक्तों के समस्त कष्टों का निवारण हो जाता है.

खाटू श्याम पूजा विधि Khatu shyam puja vidhi

इसीलिए हर साल कार्तिक मास के शुक्ल की एकादशी तिथि को खाटू श्याम बाबा के जन्म उत्सव पर राजस्थान के सीकर जिले में बने खाटू श्याम बाबा के विशाल मंदिर पर हर साल मेला लगता है जहां पर करोड़ों की संख्या में खाटू श्याम बाबा के भक्त आ कर इनके दर्शन करते हैं और इनके जन्म कुंड में स्नान करके अपने जन्मों जन्मांतर के पापों से मुक्ति प्राप्त करते हैं.

खाटू बाबा की इसी महिमा को देखते हुए आज मैं इस लेख में आप सभी लोगों को खाटू बाबा की संपूर्ण पूजा विधि बताऊंगी जिसे आप अपने घर पर करके ही खाटू बाबा की कृपा प्राप्त कर सकते हैं. क्योंकि खाटू बाबा हर स्थान पर उपस्थित रहते हैं बस खाटू बाबा को सच्चे दिल से पुकारने की आवश्यकता होती है .

ऐसे में अगर आप भी खाटू बाबा की कृपा प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको खाटू बाबा की पूजा पूरे विधि विधान के साथ करनी होगी और खाटू बाबा की संपूर्ण पूजा विधि क्या होती है ? इसकी जानकारी के लिए आप इस लेख को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़ें, तो आइए जान लेते हैं खाटू श्याम बाबा की संपूर्ण पूजा विधि क्या होती है.

खाटू श्याम पूजा विधि | Khatu shyam puja vidhi

खाटू श्याम बाबा की पूजा के लिए भक्त के मन में खाटू श्याम के प्रति प्रेम श्रद्धा और अटूट विश्वास से बढ़कर और कोई पूजा विधि नहीं है लेकिन फिर भी जो लोग खाटू श्याम बाबा की नित्य पूजा करके अपना मन भक्ति की ओर प्रेरित करना चाहते हैं तो उन लोगों के लिए मैं यहां पर खाटू श्याम बाबा की कई प्रकार के धार्मिक ग्रंथों और पौराणिक कथाओं में बताई गई सबसे सरल पूजन विधि बता रही हूं, जो कुछ इस प्रकार की है जैसे :

Khatu Shyam

  1. सबसे पहले आप सूर्य उदय से पहले उठकर घर की अच्छे से साफ सफाई करें और फिर खुद स्नान आदि से निवृत होकर स्वच्छ कपड़े धारण कर ले.
  2. उसके पश्चात पूजा की सभी सामग्री इकट्ठा कर ले जैसे फल, फूल, अक्षत, कच्चा दूध, अगरबत्ती, धूप बत्ती ,कपूर, गाय का देसी घी, इत्यादि सामग्री तैयार कर ले.
  3. उसके बाद अपने घर के किसी शांत वातावरण में खाटू श्याम बाबा की चौकी सजाए.
  4. चौकी सजाने के लिए आप जिस स्थान पर चौकी बनाना चाहते हैं उस स्थान पर गंगाजल छिड़क कर उस जगह को पवित्र करें.
  5. उसके बाद उस स्थान पर लाल रंग की चादर बिछाए.
  6. चौकी सजाने के बाद आप चौकी पर पूजा की सभी सामग्री रख ले.
  7. उसके बाद खाटू श्याम की प्रतिमा को पंचामृत से अभिषेक करके उन्हें स्वच्छ जल से स्नान कराने के पश्चात उनके शरीर के पानी को किसी स्वच्छ कपड़े से पोंछ दें, खाटू श्याम को स्नान कराने के पश्चात उन्हें स्वच्छ वस्त्र धारण कराकर उनके लिए सजाई गई चौकी पर इन्हें विराजमान कर दें.
  8. उसके बाद खाटू श्याम के सामने फल फूल लड्डू पेड़ा खीर हलवा यह सब कुछ अर्पित करें.
  9. फिर गाय के देसी घी का दीपक जला कर खाटू श्याम की प्रतिमा के सामने प्रवाजलित करें.
  10. दीपक जलाने के बाद आप खाटू श्याम बाबा की प्रतिमा के सामने धूपबत्ती अगरबत्ती जलाएं.
  11. उसके पश्चात खाटू श्याम बाबा को माखन, खीर हलवा लड्डू बर्फी आपसे जो हो सके आप उस चीज का भोग लगाएं.
  12. भोग लगाने के बाद आप कपूर जलाकर खाटू श्याम बाबा की आरती करें.

खाटू श्याम बाबा की आरती | Khatu shyam baba ki aarti

खाटू श्याम

ॐ जय श्री श्याम हरे,
बाबा जय श्री श्याम हरे।
खाटू धाम विराजत,
अनुपम रूप धरे॥

ॐ जय श्री श्याम हरे…॥
रतन जड़ित सिंहासन,
सिर पर चंवर ढुरे ।
तन केसरिया बागो,
कुण्डल श्रवण पड़े ॥

ॐ जय श्री श्याम हरे…॥
गल पुष्पों की माला,
सिर पार मुकुट धरे ।
खेवत धूप अग्नि पर,
दीपक ज्योति जले ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

मोदक खीर चूरमा,
सुवरण थाल भरे ।
सेवक भोग लगावत,
सेवा नित्य करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

झांझ कटोरा और घडियावल,
शंख मृदंग घुरे ।
भक्त आरती गावे,
जय-जयकार करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

जो ध्यावे फल पावे,
सब दुःख से उबरे ।
सेवक जन निज मुख से,
श्री श्याम-श्याम उचरे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

श्री श्याम बिहारी जी की आरती,
जो कोई नर गावे ।
कहत भक्त-जन,
मनवांछित फल पावे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

जय श्री श्याम हरे,
बाबा जी श्री श्याम हरे ।
निज भक्तों के तुमने,
पूरण काज करे ॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥

ॐ जय श्री श्याम हरे,
बाबा जय श्री श्याम हरे।
खाटू धाम विराजत,
अनुपम रूप धरे॥
ॐ जय श्री श्याम हरे…॥
श्री श्याम विनती: हाथ जोड़ विनती करू तो सुनियो चित्त लगाये!

खाटू श्याम बाबा की आरती करने के पश्चात आप उस आरती का धुआं अपने घर के चारों तरफ फैला दें तथा घर के सभी सदस्य को आरती लेने के लिए कहे और खुद भी आरती लें आरती लेने के पश्चात आप फिर से उस आरती को खाटू बाबा की प्रतिमा के सामने रख दें.

इतनी प्रक्रिया करने के बाद खाटू बाबा की पूजा विधिवत रूप से संपन्न हो जाएगी इसके बाद आप खाटू श्याम बाबा से हाथ जोड़कर क्षमा याचना मांगे और उसके पश्चात अपने समस्त मनोकामना को अपने शब्दों में खाटू श्याम बाबा के सामने प्रस्तुत करें.

खाटू श्याम बाबा की पूजा में कहे जाने वाले मंत्र | khatu shyam baba ke mantra

खाटू बाबा के कई प्रकार के मंत्र प्रचलित हैं जिन्हें पूजा करने के पश्चात आसन लगाकर जाप करने से खाटू श्याम बाबा के भक्तों की समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं वह मंत्र कुछ इस प्रकार से बताए गए हैं जैसे :

खाटू श्याम

ॐ श्याम देवाय नमः

ॐ मोर्वये नमः

ॐ मोर्वी नंदनाय नमः

ॐ शीशदानेश्वराय नमः

ॐ खाटूनाथाय नमः

ॐ सुहृदयाय नमो नमः

ॐ महाधनुर्धर वीरबर्बरीकाय नमः

ॐ श्याम शरणं ममः

ॐ श्याम देवाय बर्बरीकाय हरये परमात्मने, प्रणतः क्लेशनाथाय सुहृदयाय नमो नमः

ॐ मोर्वी नंदनाय विदमहे श्याम देवाय धीमहि तन्नो बर्बरीक प्रचोदयात्

खाटू श्याम बाबा की पूजा के पश्चात आसन लगाकर इन मंत्रों में से किसी एक मंत्र को 180 बार जाप करने से खाटू श्याम बाबा अवश्य प्रसन्न होते हैं.

खाटू श्याम बाबा का सबसे प्रिय भोग

milk

कई प्रकार के धार्मिक ग्रंथों में व्याख्या की गई है कि खाटू श्याम बाबा को भोग के रूप में कच्चा दूध बहुत ज्यादा पसंद है क्योंकि खाटू श्याम बाबा कलयुग अवतारी श्री कृष्ण के रूप में ही प्रसिद्ध है और श्रीकृष्ण को बचपन से ही माखन पसंद था इसलिए खाटू श्याम बाबा को भी माखन और कच्चा दूध बेहद प्रिय है. दूध के अलावा आप खाटू श्याम बाबा को खीर हलवा बर्फी पेड़ा, पंच भोग काजू, किशमिश, छुहारा, बादाम, मिश्री का बना हुआ भोग लगा सकते हैं.

FAQ : खाटू श्याम पूजा विधि

खाटू श्याम बाबा का मेला कब लगता है ?

खाटू श्याम बाबा का मेला होली के दिन लगता है.

खाटू श्याम बाबा का मंदिर कहां बना है ?

खाटू श्याम बाबा का मंदिर राजस्थान के सीकर जिले में बना है.

खाटू श्याम बाबा को सप्ताह का कौन सा दिन समर्पित है ?

खाटू श्याम बाबा को सप्ताह का गुरुवार का दिन समर्पित है गुरुवार के दिन खाटू श्याम बाबा की विधि पूर्वक पूजा अर्चना करने से खाटू श्याम अपने भक्तों के समस्त कष्ट अपने ऊपर उतार लेते हैं और अपने भक्तों की समस्त मनोकामनाएं पूर्ण करते हैं

निष्कर्ष

तो मित्रों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख के माध्यम से खाटू श्याम पूजा विधि जानकारी प्रदान की है जिसमें हमने खाटू श्याम बाबा की पूजा किस प्रकार से करनी चाहिए इसके विषय में संपूर्ण जानकारी प्रदान की है अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को खाटू श्याम बाबा पूजा विधि की जानकारी अच्छे से प्राप्त हो गई होगी .

ऐसे में अगर आप लोग भी खाटू श्याम बाबा की प्रतिदिन पूजा करना चाहते हैं तो इस लेख में बताइ खाटू श्याम बाबा की पूजन विधि आपके लिए सर्वोत्तम साबित होगी, तो दोस्तों हम उम्मीद करते हैं आप लोगों को हमारे द्वारा बताई गई जानकारी पसंद आई होगी.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *