मृत आत्मा को शरीर में ट्रान्सफर कैसे करे ? श्मशान घाट में आत्मा को कैसे वश में करे ?

Aatma ka transfer kaise hota hai ? यह एक गुप्त साधना है जिसको श्मशान घाट में जागृत किया जाता है। साधना में साधक को मंत्र जाप करके उस वक्त का आवाहन करना होता है जिसके माध्यम से श्मशान घाट में मृत आत्मा को दूसरे शरीर में परिवर्तित किया जाता है | mare insan ko kaise jinda kare ? 



साधक को अपने आज्ञा चक्र के द्वारा प्रेतात्मा, बेताल, भैरवी, कपालिनी, कंकाल, चांडाल, जिन्ना, चुड़ैल, मृत आत्मा आदि दिखाई देती है इस साधना को मंत्रों द्वारा सिद्ध किया जाता है जिसके बाद मृत आत्माओं को दूसरे शरीर में डालने का कार्य किया जाता है।

साधक साधना से अपने आज्ञा चक्र से उनको बंद आंखों से देखते हैं और जिसकी शक्ति चाहनी होती है उसे गुरु के आदेश पर श्मशान में जागृत करता है और उसे बुलाता है। जिस शक्ति का साधक आवाहन करता है वह शमशान में आकर साधक को वचन देती है।

जब आत्मा ट्रांसफर करने की साधना पूरी हो जाए तो गुरु को समसान ने सुला देना होता है अर्थात गुरु को शांत करना पड़ता है उसके बाद साधक उसे आज्ञा लेकर श्मशान से बाहर साथ साथ जाना होता है यह प्रक्रिया 15 से 20 मिनट में गुण हो जाती है। श्मशान में आत्मा का दूसरी शरीर में परिवर्तन करने का कार्य केवल श्मशान में ही होता है।

♦ लेटेस्ट जानकारी के लिए हम से जुड़े ♦
WhatsApp ग्रुप पर जुड़े 
WhatsApp पर जुड़े 
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
Google News पर जुड़े 

आत्मा कहां से आती है, जब आत्मा किसी के शरीर में प्रवेश करती है तो विक्टिम की खुद की आत्मा कहां जाती है?, आत्मा गर्भ में कैसे आती है, आत्माओं के दो प्रकार शरीर आत्मा और स्वतंत्र आत्मा के रूप में स्वीकार किया है, शरीर छोड़ने के बाद आत्मा कहां जाती है, आत्मा शरीर कैसे छोड़ती है, आत्मा शरीर में कब प्रवेश करती है, आत्मा से बात करने का तरीका, आत्मा से बात करने वाली मशीन, आत्मा क्या है, आत्मा से बात करने वाली मशीन, अपनी आत्मा को कैसे देखे, आत्मा से बात करने का तरीका, आत्मा को मोक्ष कब मिलता है, आत्मा को शांति, ऊपरी हवा का सबसे बेस्ट इलाज, मृत्यु के बाद आत्मा कितने दिन धरती पर रहती है, अपनी आत्मा को कैसे देखे, शरीर से जान कैसे निकलती है, जीवन से मुक्ति पाने का उपाय, अकाल मृत्यु के बाद क्या होता है,

आत्मा का परिवर्तन करते समय कई भयानक दृश्य दिखाई देते ही इस दौरान आपको डरना नहीं चाहिए अन्यथा के लिए खतरा हो सकता है। शमसान के अलावा यह साधना आत्मा परिवर्तन का काम अन्य कहीं नहीं हो सकता है।


यदि कोई करना भी चाहता है तो केवल आज्ञा चक्र में दर्शन करा सकता है। श्मशान के अलावा से कहीं भी करने का प्रयास न करें जिसे दिव्य अलौकिक शक्तियां आपके जीवन भर काम करती रहेगी। इस तरह से आप जब भी उसे याद करेंगे तो आत्मा हाथ के साथ दर्शन देगी और आपके सभी कार्य करती रहेगी।

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

यह भी पढ़े :

मृत आत्माओं को ट्रांसफर करके उनसे क्या कार्य कराये जा सकते है ? What is the work with transfer spirits?

  • जब भी कोई कार्य आप को करना हो तो श्मशान में जाकर आत्मा को मदिरा, मांस, कलेजी आदि का भोग लगाएं जिससे आसुरी शक्ति तुरंत कार्य करती है।
  • आत्मा का ट्रांसफर अमावस्या की अर्ध रात को शनिवार को 9:00 से 10:00 बजे तथा मंगलवार को 8:00 बजे श्मशान में जाकर करना चाहिए।
  • जब आत्मा को ट्रांसफर करना हो तो उसे ट्रांसफर करने के बाद जो भी बात करनी है वही पर कर ले। इसका कभी ही गलत प्रयोग ना करें जो भी वचन लेना है ले कर वापस चले आए |
  • साधना करने के बाद किसी भी प्रकार की वशीभूत पिशाचिनी, अप्सरा आदि से बचन लेकर साधक अपने साथ ले जा सकता है सभी प्रकार की
  • शक्तियां पत्नी प्रेमिका के रूप में आपका कार्य करती है। यह शक्तियां साधक की आत्मा को आज्ञा चक्र से बाहर निकलकर प्रेम प्रणय करती हैं।
  • परंतु ध्यान रहे साधक कामवासना में नहीं डूबना चाहिए बल्कि अच्छे कार्य में प्रयोग करना चाहिए।

आत्मा ट्रांसफर करने के लिये कौन-कौन सी सामग्री चाहिये  ? What material will be used to transfer the soul?

आत्मा ट्रांसफर करने के लिए कम से कम 11 मीटर कुशासन दो निर मिहि की जड़ जिसे साधक आसन की नीचे रखे और एक गले में पहन ले, काले पत्थर 11 शाम खा दिया शराब की बोतल दो रंग सिंदूर, पर दक्षिण दिशा लोबान पंचमुखी आज सामग्री लेकर मंत्र उच्चारण करना होता है।

  1. यह सभी सामग्री साधना के सॉन्ग दौरान समर्पित करना होता है | जिसे साधना से सिद्ध हो जाती है।
  2. यह लेख केवल सामान्य जानकारी है। इसे अच्छे गुरु के साथ ही करें जिसे किसी भी प्रकार की हानि ना हो।

-: चेतावनी disclaimer :-

सभी तांत्रिक साधनाएं एवं क्रियाएँ सिर्फ जानकारी के उद्देश्य से दी गई हैं, किसी के ऊपर दुरुपयोग न करें एवं साधना किसी गुरु के सानिध्य (संपर्क) में ही करे अन्यथा इसमें त्रुटि से होने वाले किसी भी नुकसान के जिम्मेदार आप स्वयं होंगे |

हमारी वेबसाइट OSir.in का उदेश्य अंधविश्वास को बढ़ावा देना नही है, किन्तु आप तक वह अमूल्य और अब तक अज्ञात जानकारी पहुचाना है, जो Magic (जादू)  या Paranormal (परालौकिक) से सम्बन्ध रखती है , इस जानकारी से होने वाले प्रभाव या दुष्प्रभाव के लिए हमारी वेबसाइट की कोई जिम्मेदारी नही होगी , कृपया-कोई भी कदम लेने से पहले अपने स्वा-विवेक का प्रयोग करे !  

osir news
यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
कोई सलाह देना है या हम से संपर्क करना है ? अभी तुरंत अपनी बात कहे !
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले .

यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !

 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन