अपने क्रोध या गुस्से पर नियंत्रण कैसे करे ? – श्रीमद्भगवद्गीता How to control your anger in hindi

दोस्तों  क्रोध, Anger गुस्सा ये सभी हमारे अन्दर की एक ऐसी मनोवृत्ति है, जिसकी “अति” सदैव हमारे स्वास्थ्य और समाज के लिए घातक साबित होती है | क्योकि क्रोध में आया हुआ इंसान सही निर्णय नही कर पाता है, और उसी आवेश में कभी कभी वह कुछ ऐसे कदम उठा लेता है जो की उसकी पूरी जिंदगी भी बर्बाद कर देता है|

बहुत से अच्छे और प्यार से भरे रिश्ते केवल क्रोध वश ही टूट जाते है अथवा दरार आ जाती है , किन्तु कुछ परस्थितियों में क्रोध करना उचित भी है किन्तु वह परिस्थित सही है या गलत यह क्रोध आने के बाद तय करना मुश्किल हो जाता है , इसलिये क्रोध में कभी कोई कठोर निर्णय नही लेना चाहिये |

anger-apne-gusse-aur-krodh-par-niyantran-ya-kabu-kaise-kare-kya-krodh-ya-gussa-helth-ke-liye-nuksandayak-hai

इस लिए आज हम आप को बतायेंगे की श्रीमद्भगवद्गीता में श्री कृष्ण ने क्रोध के नियंत्रण के बारे में क्या बताया है , इसको जानने के बाद आप क्रोध के बारे में सही से जान और समझ पाओगे | आइये फिर जानते है की gusse aur krodh par kabu kaise paye ?

आज हम जिस विषय पर बात करेंगे वो है क्रोध | क्रोध वो भावना है जो हमारी सारे जीवन को घेरे रखता है | क्रोध को ना उम्र की मर्यादा है, और ना ही ज्ञान की | कब ,कहा और किस कारण से क्रोध पैदा हो जाये वो कोई नही जानता और जब क्रोध जन्म लेता है तब तुरंत विचार करने की शक्ति खो जाती है |

बुद्धि  पर  अंधकार छा  जाता  है | वर्षो के सम्बन्ध पलभर में टूट जाते है | सारा जीवन बिखर जाता है| किसी भी कारागार में जाकर देखिये अधिकतर अपराधी छड भर का आपराधिक दंड भुगतते  हुए दिखाई देंगे |

फिर भी हम क्रोध पर अंकुश नही लगा पाते | बार बार क्रोध ना करने का प्रण  तो लेते हैं, परन्तु बार बार क्रोध हम से हो ही जाता है |


यह क्रोध वास्तव में क्या है ? What exactly is this anger in hindi?

क्यों आता है? और क्यों अंकुश Control में नही रहता ?

उदाहरण के लिए आप एक बालक को देखिये उसे किसी वस्तु की इच्छा होती है और उस समय उसे ये नही मिलता या कोई उसे भयभीत करता है तो वो प्रतिक्रिया करता है |

बालक की प्रतिक्रिया क्रोध है |क्योकि बालक निर्बल है और निःसहाय है |बालक अपनों से बड़ों को अपने वजूद का अहसास , अपने अस्तित्व का प्रतिनिधित्व करवाने का प्रयास करता है |

क्रोध के माध्यम से बड़े होनें पर भी हम क्या ऐसा नही करते? क्या क्रोध हमारे भीतर    बैठे बालक का प्रतिभाव नही जानता अर्थात क्या क्रोध वास्तव में केवल बालक जैसा व्यवहार नही करता ? जब हमारे अहंकार को घाव होता है वो वह ऐसा ही व्यवहार करता है |

इस जानकारी को सही से समझने
और नई जानकारी को अपने ई-मेल पर प्राप्त करने के लिये OSir.in की अभी मुफ्त सदस्यता ले !

हम नये लेख आप को सीधा ई-मेल कर देंगे !
(हम आप का मेल किसी के साथ भी शेयर नहीं करते है यह गोपनीय रहता है )

▼▼ यंहा अपना ई-मेल डाले ▼▼

Join 809 other subscribers

★ सम्बंधित लेख ★
☘ पढ़े थोड़ा हटके ☘

आठवें महीने में लड़के के लक्षण : गर्भ में लड़का होने के 12 संकेत जाने | Ladka hone ke lakshan
दुनिया की 6 सबसे रहस्यमय स्थान कौन से है जाने ! Duniya ke sabse rahasyamayi jagah?

emotions-of-enger-krodh-kaise-aata-hai-gusse-me-chehra-kaise-badal-jata-hai

जब भय लगता है, जब कोई वस्तु हमें प्रप्त नही होती,  तब हमें क्रोध आता है |  ठीक किसी बालक की भांति हम जानते है कि आईने के सामने खड़े होकर मुंह बनाने का खेल बालको को शोभा देता है बड़ो को नही |

( यह लेख आप OSir.in वेबसाइट पर पढ़ रहे है अधिक जानकारी के लिए OSir.in पर जाये  )

फिर भी हम बालक की भांति क्रोध करना बंद नही करते | हम अनुभव से जानते है , दूसरो को देख कर बता सकते है, कि क्रोध से कभी कुछ प्राप्त नही होता |

यह भी पढ़े :

सम्मान हो , सम्पति हो, प्रेम हो या सुरक्षा ही क्यों न हो ,  क्रोध से नही मिलता है |  मिलता है तो प्रयासों से कार्य करने से विधिपूर्वक विचार करने से मनुष्य मात्र अपनी आदतों से जीता रहता है|

क्रोध में मनुष्य यह जनता है की वह स्वयं का नाश कर रहा है , पर थोडा सा कारण मिलते ही हमारे भीतर का बालक क्रोध कर बैठता है अर्थात क्रोध वास्तव में और कुछ भी नही , हमारी बुधि स्वरूप  बालक का नाम है |

जैसे ही हम इतना स्मरण में रखे की हम बालक नही , बालक जैसा व्यवहार  हमें शोभा नही देता वैसे ही क्रोध स्वयं ही बंद हो जाता है | क्या ये सत्य नही इसपे विचार और मनन अवश्य कीजियेगा|

यद्यपि क्रोध आते ही आप कुछ समय के लिए रुक कर अपने अन्दर झांक कर अपने बालक को देखे जो की क्रोध से भर गया है , अगले ही पल क्रोध को स्वयं ही नष्ट कर देता है |

osir news

क्रोध आने के बाद कुछ देर रुकना सदैव हितकर शाबित होता है ! इसलिये उस पर काबू करने की जगह उसके आने पर बस थोड़ी देर के लिए स्वयं को रोक ले और अपने उस स्वभाव को देखे क्रोध अपने आप ही शांत हो जायेगा | राधे – राधे 🙂

यदि आपको हमारे द्वारा दी गयी यह जानकारी पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों और परिचितों एवं Whats App और फेसबुक मित्रो के साथ नीचे दी गई बटन के माध्यम से अवश्य शेयर करे जिससे वह भी इसके बारे में जान सके और इसका लाभ पाये .

क्योकि आप का एक शेयर किसी की पूरी जिंदगी को बदल सकता हैंऔर इसे अधिक से अधिक लोगो तक पहुचाने में हमारी मदद करे.

अधिक जानकरी के लिए मुख्य पेज पर जाये : कुछ नया सीखने की जादुई दुनिया

♦ हम से जुड़े ♦
फेसबुक पेज ★ लाइक करे ★
TeleGram चैनल से जुड़े ➤
 कुछ पूछना है?  टेलीग्राम ग्रुप पर पूछे
YouTube चैनल अभी विडियो देखे
यदि आप हमारी कोई नई पोस्ट छोड़ना नही चाहते है तो हमारा फेसबुक पेज को अवश्य लाइक कर ले , यदि आप हमारी वीडियो देखना चाहते है तो हमारा youtube चैनल अवश्य सब्सक्राइब कर ले . यदि आप के मन में हमारे लिये कोई सुझाव या जानकारी है या फिर आप इस वेबसाइट पर अपना प्रचार करना चाहते है तो हमारे संपर्क बाक्स में डाल दे हम जल्द से जल्द उस पर प्रतिक्रिया करेंगे . हमारे ब्लॉग OSir.in को पढ़ने और दोस्तों में शेयर करने के लिए आप का सह्रदय धन्यवाद !
 जादू सीखे   काला जादू सीखे 
पैसे कमाना सीखे  प्यार और रिलेशन 
☘ पढ़े थोडा हटके ☘

मंगल दोष के लक्षण और उपाय प्रकार,फायदे और नुकसान सम्पूर्ण जानकारी | Mangal dosh ke lakshan aur upay
रेड लाइट एरिया : फेमस एरिया का नाम, फ़ोन नंबर और पता | Red light aria
अरेंज मैरिज और लव मैरिज में क्या अंतर है ? What is the difference between arranged marriage and love marriage?
तीन पत्ती गेम खेलने का तरीका: तीन पत्ती पैसे वाला गेम कैसे खेला जाता है?
गर्लफ्रेंड GF की याद आए तो क्या करे ? लड़की दोस्त की याद आने पर क्या करें ? What to do if you miss your girlfriend?
★ सम्बंधित लेख ★