शुभ-लाभ धन प्राप्ति हेतु शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए ? | Shukrawar ke din kya kharidna chahiye

शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए Shukrawar ke din kya kharidna chahiye : हेलो दोस्तों नमस्कार आज मैं आप लोगों के लिए लेकर आई हूं एक बहुत ही खास टॉपिक जिसमें मैं बताने वाली हूं शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए, यानी कि शुक्रवार के दिन क्या खरीदने से घर में बरकत आती है.

शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए Shukrawar ke din kya kharidna chahiye

क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सप्ताह में 7 दिन होते हैं और यह सातों दिन अलग-अलग देवी-देवताओं को प्राप्त है और इन्हीं 7 दिनों को ध्यान में रखते हुए हर व्यक्ति को प्रत्येक दिन और शुभ समय के अनुसार देवी देवता की पूजा अर्चना करना शुभ बताया गया है और इन्हीं 7 दिनों में से शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी को समर्पित है इसीलिए हर जातक जातिका को यह जानना बेहद आवश्यक है कि शुक्रवार के दिन क्या खरीदने से घर में सुख शांति आती है.

क्योंकि माता लक्ष्मी को धनसंपदा और ऐश्वर्य प्रदान करने वाली देवी मानी गई है इसीलिए माता लक्ष्मी को खुश रखना बेहद आवश्यक बताया गया है क्योंकि जब माता लक्ष्मी किसी भी जातक या जातिका के किसी अशुभ कार्य से रुष्ट हो जाती हैं तो वह उनके घर से निकल जाती हैं और फिर उस घर में धीरे धीरे करके दरिद्रता तथा पैसों की तंगी आने लगती हैं.

जिसके चलते उस घर के व्यक्ति अन्य समस्याओं में इस कदर से घिर जाते है कि वह दोबारा अपनी स्थिति को पहले जैसा नहीं बना पाते है. ऐसे में कई ज्योतिष और ब्राह्मण लोगों का कहना होता है कि माता लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए उनकी विधिवत पूजा करना शुभ बताया गया है.

लेकिन इसी के साथ में मैं आपको बता देना चाहती हूं कि किसी भी देवी देवता को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा-अर्चना करने के साथ-साथ यह जानना जरूरी होता है कि उस दिन क्या खरीदना शुभ, और क्या खरीदना शुभ माना जाता है.

क्योंकि किसी भी व्यक्ति से किसी भी प्रकार का आदान प्रदान करने से व्यक्ति के जीवन पर बहुत ही गहरा प्रभाव पड़ता है और इस अशुभ प्रभाव की छाया को पूजा-पाठ या तंत्र मंत्र से नहीं ठीक किया जा सकता है क्योंकि किसी भी देवी देवता की पूजा अर्चना करते समय जातक या जातिका से कोई न कोई छोटी मोटी भूल अवश्य हो जाती है.

इसीलिए आज मैं इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए इस लेख में बताऊंगी शुक्रवार के दिन कौन सी वस्तु, कैसे, किस समय, खरीदना ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुभ माना गया है. ताकि आप लोग शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए, क्या नहीं खरीदना चाहिए.

इसकी जानकारी के साथ-साथ शुक्रवार के दिन शुभ और अशुभ समय की भी पहचान कर पाए ,ऐसे में अगर आप लोग इस जानकारी को पूरी तरह से प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया करके इस लेख को अंत तक ध्यान पूर्वक अवश्य पढ़ें.

शुक्रवार का दिन किस देवी को समर्पित है ? | Shukrawar ka din kis devi ko samarpit hai

शुक्रवार का दिन देवी के रूप में माता लक्ष्मी को समर्पित है जो खासतौर से वैभव, धन, दौलत ,प्रदान करने का कारक मानी गई है ,और देवताओं के रूप में शुक्रवार का दिन शुक्र देव यानी कि शुक्र ग्रह को समर्पित है इसीलिए हर हर जातक जातिका को शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी और शुक्र ग्रह को ध्यान में रखते हुए किसी भी प्रकार की वस्तुओं का आदान प्रदान करना चाहिए खास करके कन्या और वृषभ राशि वालों को इस दिन विशेष ध्यान देकर कोई भी वस्तु खरीदना और बेचना चाहिए.

Ganesh Lakshmi

क्योंकि कन्या और वृषभ राशि के स्वामी शुक्र देवता है जो सुख, शांति ,धन, सौभाग्य, ऐश्वर्य, प्रदान करने वाले है ऐसे में अगर शुक्र देव रुष्ट हो जाते हैं तो फिर आपके जीवन में चारों तरफ से कष्ट आ जाएंगे इसीलिए हर व्यक्ति को अपनी राशि स्वामी और हर देवी देवताओं को समर्पित दिन को ध्यान में रखते हुए कोई भी वस्तु लेना देना चाहिए.

शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए ? | Shukrawar ke din kya kharidna chahiye ?

तो मित्रों ऊपर के लेख में हमने शुक्रवार के दिन से संबंधित विशेष जानकारी प्रदान कर दी है अब आइए जानते हैं शुक्रवार के दिन क्या खरीदने से घर में बरकत आती है यानि कि माता लक्ष्मी खुश रहती हैं. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसी वस्तुएं बताई गई है जिन्हें शुक्रवार के दिन खरीदने से उस वस्त्र के साथ-साथ माता लक्ष्मी भी घर में निवास करती हैं जैसे,

1. सिंगार की वस्तु खरीदें

शॉपिंग करना हर किसी को पसंद होता है लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अगर सही समय और सही दिन और उस दिन को प्राप्त करने वाले देवी देवता को ध्यान में रखते हुए कोई भी वस्तु खरीदी जाती है तो उस वस्तु की खरीदारी से घर में नई ऊर्जा की प्राप्ति होती है.

सोने का कड़ा पहनने के फायदे, तर्जनी अंगुली में सोना पहनने के फायदे, sone ki ring pahnne ke fayde, sona pahanane ke fayde,

इसीलिए ज्योतिष के अनुसार ऐसा माना गया है कि शुक्रवार के दिन सूर्य उदय के पश्चात से लेकर सूर्य अस्त होने के पहले अगर कोई भी सुहागन महिला अपने श्रृंगार के लिए कोई भी वस्त्र खरीदती है तो उसके लिए यह सामान खरीदना बेहद शुभ माना गया है.

क्योंकि श्रृंगार की वस्त्र माता लक्ष्मी को प्रसन्न करती है ऐसे में आप माता रानी को प्रसन्न करने के लिए शुक्रवार के दिन सिंदूर, बिंदी, लिपस्टिक, काजल ,पैरों में पहनने के लिए ,और कोई लाल साड़ी यह सब कुछ खरीद सकती है.

2. मीठी चीजें

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ऐसा बताया गया है शुक्रवार के दिन अगर कोई भी जातक या जातिका चीनी या फिर कोई भी मीठी खाने वाली चीज खरीदते है तो इससे माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं क्योंकि माता लक्ष्मी को मीठी चीज बहुत पसंद होती है खास करके इस दिन आप किसी को भी भूल कर अपने घर से किसी को भी चीनी का दान ना करें.

Barfi

क्योंकि चीनी का संबंध शुक्र देव और चंद्र से है ऐसे में अगर आप किसी को शुक्रवार के दिन चीनी या चीनी से बनी कोई भी वस्त्र दान में देते हैं तो इससे शुक्र ग्रह कमजोर हो जाता है और फिर आपके जीवन में भौतिक सुख संपदा में कमी आने लगेगी इसीलिए भूल कर भी चीनी और चीनी से बनी कोई वस्तु किसी को दान न करें बल्कि इस दिन आप जितना हो सके मीठी खाने वाली चीजें बनाएं और खरीदे तो आपके लिए बेहतर रहेगा.

3. पूजा की सामग्री खरीदे

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुक्रवार के दिन हर जातक जातिका को, खास करके सुहागन महिला को स्नान आदि से निवृत होकर माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना पूरे विधि विधान से करनी चाहिए ,क्योंकि यह दिन माता लक्ष्मी को समर्पित है इसीलिए इस दिन आप माता रानी की पूजा करने के साथ-साथ मार्केट से पूजा से संबंधित कोई भी सामग्री खरीदे तो यह आपके लिए बहुत ही शुभ दायक होगा.

क्योंकि शुक्रवार के दिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार माता रानी के लिए लाल चुनरी ,या फिर आरती के लिए थाल ,जैसी कोई वस्तु खरीदने से माता रानी प्रसन्न होती हैं और आपका व्रत सफल होता है तथा आपके जीवन में आगमन के नए रास्ते नजर आने लगते हैं इसलिए शुक्रवार के दिन पूजा से संबंधित कोई भी सामग्री खरीदना ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बेहद शुभ बताया गया है.

4. तुलसी का पौधा

वैसे तो आज के समय में हर एक घर में तुलसी का पौधा उपलब्ध रहता है लेकिन अगर सही दिन और सही समय पर तुलसी का पौधा खरीद कर घर में लगाया जाता है तो ज्योतिष शास्त्र के अनुसार घर में बरकत आती है. क्योंकि तुलसी का पौधा माता लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है जिसकी नियमित रूप से पूजा करने से घर में माता लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है.

तुलसी

इसीलिए आप शुक्रवार के दिन तुलसी का पौधा खरीद कर उसे अपने घर के किसी स्वच्छ स्थान पर लगाएं और रोज सुबह तुलसी के पौधे में स्नान आदि से निवृत होकर जल चढ़ाएं तथा शाम को सोने से पहले तुलसी के पेड़ के पास घी का दीपक जलाएं ऐसा करने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और फिर आपके घर में बरकत आने लगती है.

5. कमल का फूल

कई महान विद्वानों का कहना है कि कमल के फूल के बिना माता लक्ष्मी की पूजा अधूरी मानी जाती है क्योंकि पुराणों के अनुसार मां लक्ष्मी का एक नाम कमला या कमलासना भी है. जिसका मतलब होता है.

कमल के उपर विराजमान होने वाली ऐसे में अगर कोई भी व्यक्ति माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना कितनी भी विधि-विधान और श्रद्धा के साथ करता हो और उसने पूजा में कमल का फूल नहीं चढ़ाया है तो वह पूजा अधूरी मानी जाती है. खास करके शुक्रवार के दिन माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना सामग्री में कमल का फूल होना अति आवश्यक और शुभ माना गया है.

क्योंकि माता रानी को पूजन की सारी सामग्री में सबसे प्रिय कमल का फूल ही लगता है इसीलिए आप शुक्रवार के दिन जब भी माता लक्ष्मी की पूजा करें तो आप कमल का फूल खरीद कर माता लक्ष्मी के मंदिर में अवश्य रखें या फिर अगर आपके आसपास कमल का फूल है, तो आप स्नान आदि से निवृत होकर कमल के फूल को हाथ जोड़कर तोड़कर माता लक्ष्मी के मंदिर में समर्पित कर दें. इस दिन माता लक्ष्मी को कमल का फूल चढ़ाने से माता लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं .

तो मित्र अब आप लोगों ने जाना शुक्रवार के दिन क्या खरीदने से माता रानी प्रसन्न होती है अब आइए जानते हैं शुक्रवार के दिन क्या नहीं करना चाहिए.

शुक्रवार के दिन क्या करने से माता लक्ष्मी रूष्ट हो जाती है ?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर व्यक्ति को शुक्रवार के दिन किसी भी कार्य को बहुत ही सावधानी पूर्वक ध्यान से करना चाहिए. क्योंकि इस दिन माता लक्ष्मी आपके किसी भी अशुभ कार्य या फिर कार्य को करने का शुभ समय होने की वजह से रुष्ट हो सकती हैं.

lakshmi

इसीलिए आइए जानते हैं शुक्रवार के दिन किस कार्य को किस समय में करना बेहद शुभ माना गया है. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुक्रवार के दिन कुछ इस प्रकार के कार्य करना बहुत अशुभ माना गया है. जैसे :

1. सूर्यास्त के समय घर में झाड़ू लगाना

शास्त्रों के अनुसार कुछ ऐसे कार्य बताए गए हैं जिन्हें सूर्य अस्त के समय करना बहुत ही अशुभ माना गया है जिसमें से खासतौर से शुक्रवार के दिन घर में झाड़ू नहीं लगाना चाहिए क्योंकि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी को समर्पित है.

eye goggles

इसीलिए घर के बुजुर्ग लोगों को कहना होता है कि शुक्रवार के दिन सूर्यास्त के समय घर में झाड़ू लगाने से घर की सकारात्मक ऊर्जा घर से बाहर निकल जाती है और घर में नकारात्मक शक्तियों का प्रवेश हो जाता है और फिर धीरे-धीरे घर में दरिद्रता और गरीबी आने लगती है इसीलिए सूर्यास्त के समय घर में झाड़ू लगाना अशुभ कार्य माना गया है.

2. सूर्यास्त के समय सुहागिन महिला का सिंगार करना

बाल हर सुहागन महिला और कुंवारी लड़कियों की खूबसूरती का अहम हिस्सा होते हैं इसलिए इनकी देखभाल करना अति आवश्यक होता है लेकिन ज्योतिष शास्त्र और बुजुर्ग लोगों के अनुसार ऐसा कहा गया है.

अगर कोई भी महिला सूर्यास्त के समय या फिर सूर्य अस्त के बाद अपने बालों में कंघी करती है और श्रृंगार करती है तो ऐसा करने से उसके घर में और उसके वैवाहिक जीवन में नकारात्मक शक्तियों का प्रवेश हो जाता है और फिर पति पत्नी के बीच संबंध बिगड़ जाते हैं इसी के साथ में घर में दरिद्रता आने लगती है इसीलिए सूर्यास्त के समय खास करके शुक्रवार की रात को सुहागन महिला को बालों में कंघी और श्रंगार आदि नहीं करना चाहिए.

3. प्रातः काल और संध्या काल को किसी को धन देना

money purse

कई विद्वानों तथा घर के बुजुर्ग लोगों का मानना है कि प्रातः काल और संध्या काल में किसी भी जातक या जातिका को अपने घर से पैसे नहीं देना चाहिए क्योंकि इस समय अगर आप अपने घर से किसी भी व्यक्ति को पैसे देते हैं, तो आपके घर की लक्ष्मी आपसे रुष्ट होकर उस व्यक्ति के घर में चली जाती है और फिर धीरे-धीरे आपके घर में पैसों की तंगी आने लगेगी और फिर आप कभी भी इस समस्या से बाहर नहीं निकाल पाएंगे. क्योंकि लक्ष्मी मां को मनाना इतना आसान नहीं होता है इसीलिए आप पैसों का लेनदेन समय को ध्यान में रखकर ही करें तो आपके जीवन के लिए बेहतर रहेगा.

4. किसी को भी कटु वचन बोलना

कई महान विद्वनो का कहना है अगर कोई भी व्यक्ति अपने परिवार वालों को या फिर किसी व्यक्ति को कटु वचन बोलता है तो उसके द्वारा बोले गए कटु वचन कुछ समय पश्चात एक सच्ची घटना में परिवर्तित होते दिखाई देने लगते हैं. क्योंकि सूर्यास्त एक ऐसा समय है जिस समय प्राकृतिक में परिवर्तन होता है और प्राकृतिक में परिवर्तन होने के साथ-साथ मनुष्य के शरीर मन और इच्छा में परिवर्तन होता है और इस समय व्यक्ति के मस्तिष्क का द्वार खुला रहता है.

ऐसे में अगर व्यक्ति जो भी सोचता है कहता है तो उसे प्राकृतिक ग्रहण करती रहती हैं और फिर प्राकृतिक जो कुछ भी संध्या काल में आपके द्वारा बोले गए शब्द आकांक्षाएं इन सब को ग्रहण करती है अगले दिन या कुछ समय पश्चात प्राकृतिक आपके लिए वैसा ही करती है.

इसीलिए संध्याकाल में किसी भी व्यक्ति को कटु वचन नहीं बोलना चाहिए और ना तो अपने मन में किसी भी व्यक्ति के प्रति कोई गलत भावना लानी चाहिए खास करके ऐसे समय में आपको ईश्वर का भजन करना चाहिए क्योंकि संध्याकाल में कोई भी अशुभ कार्य करने से प्रकृति पर बहुत ही बुरा असर पड़ता है.

5. घर के मुख्य द्वार पर कूड़े का ढेर लगाना

घर के बुजुर्ग लोगों का कहना है कि अगर घर की साफ सफाई करने के पश्चात निकले हुए कूड़े को घर के मुख्य द्वार पर ढेर बनाकर लगा दिया जाता है तो उस घर में कभी भी उन्नति नहीं हो पाती है और फिर उस घर में धीरे-धीरे दरिद्रता आने लगती है.

कूड़े dust

क्योंकि घर के मुख्य द्वार पर कूड़े का ढेर लगाना अर्थात अपने घर में अशुद्धियों को न्योता देना माना गया है इसीलिए घर के मुख्य द्वार पर कूड़े का ढेर लगाना घर में नकारात्मक शक्तियों का प्रवेश होना माना गया है ऐसे में किसी भी जातक को अपने घर के मुख्य द्वार पर कूड़े का ढेर नहीं लगाना चाहिए और घर की अच्छे से साफ सफाई रखना चाहिए, कपड़े इत्यादि का फैलाव इधर-उधर नहीं करना चाहिए ऐसा करने से माता लक्ष्मी रुष्ट हो जाती है और आपके घर से चली जाती हैं ऐसे में आपको इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए अपनी दैनिक दिनचर्या व्यतीत करने चाहिए.

FAQ : शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए

शारीरिक रोगों से छुटकारा पाने के लिए किस देवता की पूजा करनी चाहिए ?

अगर किसी भी जातक या जातिका को शारीरिक पीड़ा या किसी भी प्रकार का कष्ट है और तमाम इलाज के बाद भी उसे कोई फायदा नहीं मिल रहा है तो उसे अपनी राशि के स्वामी की पूजा अर्चना करनी चाहिए और ज्योतिष के द्वारा बताए गए सभी उपाय अपनाने चाहिए क्योंकि जब किसी भी व्यक्ति की राशि का स्वामी कमजोर हो जाता है तो उस व्यक्ति के जीवन में हर कार्य शुभ होता है.

माता लक्ष्मी के साथ किस देव की पूजा करना शुभ माना गया है ?

माता रानी लक्ष्मी के साथ साथ भगवान विष्णु की पूजा करना बेहद शुभ बताया गया है क्योंकि माता लक्ष्मी विष्णु भगवान की अर्धांगिनी है इसीलिए विष्णु की पूजा करना माता लक्ष्मी की पूजा करना जैसा ही माना जाता है.

शुक्रवार को क्या करने से धन प्राप्ति होती है ?

शुक्रवार के दिन घर की सुहागन स्त्री को स्नान आदि से निवृत होकर पूरी श्रद्धा के साथ माता लक्ष्मी की पूजा अर्चना करना चाहिए तथा माता रानी की आरती के पश्चात घर के सभी लोगों को आरती कराना चाहिए उसके पश्चात मंदिर में रखे गंगाजल से पूरे घर में छिड़काव करना चाहिए ऐसा करने से घर की नकारात्मक शक्तियों का प्रभाव कम हो जाता है और घर में धीरे-धीरे खुशहाली और धन आने लगता है.

निष्कर्ष

तो मित्रों जैसा कि आज हमने आप लोगों को इस लेख में शुक्रवार के दिन क्या खरीदना चाहिए इसके विषय में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने की पूरी कोशिश की है जिसमें हमने आप लोगों को शुक्रवार के दिन कौन सी वस्तु किस समय, किस तरीके से खरीदना चाहिए इसकी जानकारी के साथ-साथ शुक्रवार के दिन कौन सा कार्य करना शुभ अशुभ माना गया है यह जानकारी भी प्रदान की है.

ऐसे में अगर आप लोगों ने इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़ा होगा तो आप लोगों को शुक्रवार के दिन से संबंधित खरीदारी और शुभ अशुभ कार्यों के विषय में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो गई होगी तो मित्रो मैं उम्मीद करती हूं आप लोगों को हमारे द्वारा बताइ गई जानकारी पसंद आई होगी और यह लेख आप लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ होगा.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *